Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
ओपिनियन

क्या किसी को चिंता नहीं?

क्या हमें यह इस तरीके को इस्तेमाल करना रोक देना चाहिए और जिन विशेषज्ञों ने चेताया था उनके तर्कों को भी सुनना चाहिए? यह सवाल महत्वपूर्ण हैं।

सामूहिक टीकाकरण पर विशेषज्ञों की चेतावनी पर ध्यान देना होगा।(Pixabay)

By: Maria Wirth

“मारिया, आप देश में चल रहे सामूहिक टीकाकरण पर अपना किसी प्रकार का विचार न बनाएं”, एक भारतीय मित्र ने मुझे सलाह दी थी। क्योंकि “आप अपनी साख को स्वयं ही खराब करेंगी और कोई आपकी सुनेगा भी नहीं।” वह शायद सही भी हैं, किन्तु क्योंकि जो हो रहा है उसकी मुझे चिंता है और मुझे लगता है कि मुझे इसपर लिखना चाहिए…


मान लीजिए कि हमारे सामने एक समस्या है और विश्वास भी है, साथ ही हमे वह तरीका भी पता है जिससे हम उस समस्या को हल कर सकते हैं। कई विशेषज्ञ ऐसे हैं जिन्होने हमारे तरीके को सटीक बताया है, किन्तु कई ऐसे भी विशेषज्ञ हैं जो यह मानते हैं कि हमारा तरीका काम और बिगाड़ सकता है। हमने उस तरीके को आजमाया और जल्द ही हालात बिगड़ने लगे। हमने अपने तरीके को और जोर देकर आजमाया, किन्तु फिर भी वह समस्या बिगड़ती चली गई।

क्या हमें यह इस तरीके को इस्तेमाल करना रोक देना चाहिए और जिन विशेषज्ञों ने चेताया था उनके तर्कों को भी सुनना चाहिए?

फिर अभी तक ऐसा नहीं हुआ है। टीवी पर आने वाले डॉक्टर एवं वैज्ञानिक, अब तक यह मानने को तैयार नहीं हैं कि मौत के आंकड़ों में वृद्धि और सामूहिक टीकाकरण में कोई संबंध भी हो सकता है। सामूहिक टीकाकरण अभियान शुरू होने के बाद एशियाई देशों में मौत के आंकड़ों में वृद्धि देखी गई है। उसके लिए आप थाईलैंड कम्बोडिया या मंगोलिया का चार्ट उठाकर देख लें।

यहाँ तक की चिली एवं तुर्की देश में जहाँ अधिकांश लोगों को टीका लगाया जा चुका है वहां भी मृत्यु दर में वृद्धि हुई है। चिली ने अपनी आबादी के 30 प्रतिशत से अधिक जनसंख्या को टीकाकरण दोनों डोज लगवा दिए हैं और 70 प्रतिशत के करीब जनसंख्या को कम से कम एक खुराक मिली है, किन्तु भी 25 अप्रेल को चिली में महामारी से मृत्यु की संख्या भारत से 7000 ज्यादा थी। तुर्की में भी, 25 प्रतिशत से अधिक जनसंख्या को कम से कम एक खुराक मिली है और लगभग 10 प्रतिशत को पूरी तरह से टीका लगाया जा चुका है। किन्तु टीकाकरण के बाद मृत्यु दर में वृद्धि हुई जो कि अभियान से पहले कम थी और भारत के संदर्भ में 5000 अधिक मौतें हुई थीं।

इजराइल को इस अभियान में सफल घोषित कर दिया गया(टीकाकरण के दुष्प्रभावों के बावजूद), कुछ समय तक अभियान शुरू होने के बाद भी पाबंदियों को जारी रखा था। इसके इलावा, सीएनबीसी, रायटर अदि मीडिया चैनलों पर यह दवा किया गया था कि कोरोना का अफ्रीकी वेरिएंट फाइजर टीके पर भी बेअसर है।

वायरोलॉजिस्ट और वैक्सीन डेवलपर गीर्ट वंडेन बॉसचे ने चेतावनी दी कि वायरस के टीकाकरण अभियान पूरा होने पर, यह वायरस अधिक खतरनाकरूप लेने में मजबूर करता है। किन्तु इन लोगों पर ही क्यों प्रश्न चिन्ह खड़ा होता। अब सवाल यह है कि क्यों इस महामारी के शुरुआत के समय दुनिया भर की मीडिया इसकी तरफ बुरी तरह आकर्षित था?

वंडेन बॉसचे ने चेतावनी दी कि वायरस के टीकाकरण अभियान पूरा होने पर, यह वायरस अधिक खतरनाकरूप लेने में मजबूर करता है। (Pixabay)

क्या आपको याद है कि कैसे चीन के लोगों की मरने की तस्वीरें अंधाधुन दिखाई जा रही थी? कैसे चीन के वुहान में लॉक-डाउन को लगाया गया था अस्पताल बन रहे थे? टीवी चैनलों ने एक 24 घंटे एक जैसा माहौल बना दिया था। क्या आपको बर्गामो/ इटली में सैकड़ों ताबूतों की पंक्तियाँ याद हैं? जो झूठी खबर थी। इन खबरों को किस मंशा से फैलाया गया?

सोचिए, हम रोजाना बड़े ध्यान से सुनते हैं कि देश भर में सड़क हादसों में मरने वालों की संख्या कितनी है और कितने घायल हुए। जिस वजह से हम यात्रा करने से भी डरते हैं। संयोग से, 2019 में सड़क दुर्घटनाओं में भारतीयों की मृत्यु संख्या और 2020 कोरोना से मरने वालों की संख्या एक समान है। हम सभी जीवन को नहीं बचा सकते हैं। कुछ जोखिम हमारे बीच जीवित हैं।

यह भी पढ़ें: कोरोना महामारी ने 23 करोड़ भारतीयों को गरीबी में धकेला : रिपोर्ट

कुछ और भी सवाल हैं कि क्यों कई देशों ने डॉक्टरों को कोरोक्साइक्लोरोक्वीन के साथ कोरोना का इलाज करने की अनुमति नहीं दी? अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प द्वारा किए अनुरोध के बाद भारत ने इसके निर्यात पर लगे पाबंदी को हटाने के कुछ दिनों बाद ही लेंसेट द्वारा एक लेख छापा गया कि “इस दवाई को लेने वाले मरीजों की संख्या में मृत्यु दर बढ़ा है”, लेकिन कुछ दिन बाद ही इस लेख को हटा दिया गया। क्योंकि यह खबर गलत थी, लेकिन इसने भ्रम पैदा कर दिया था।

क्यों कोरोना से होने वाली मृत्यु की परिभाषा को ‘कारण से’ नहीं जोड़ा जाता? एक मृत्यु को “कोरोना से या कोरोना के साथ” के रूप में ही गिना जाता है वह भी तब जब वह पॉजिटिव पाया जाता है, और चार हफ्ते बाद इलाज के दौरान मृत्यु हो जाती है तब। एक जर्मन डॉक्टर ने एक उदाहरण दिया: जब एक व्यक्ति को खबर मिली कि वह कोरोना पॉजिटिव है और तब वह खिड़की से बाहर भी कूद गया, तो उसे कोरोना के मृतकों में गिना जाता है।

हम सभी जीवन को नहीं बचा सकते हैं।(Pixabay)

सबसे बड़ा और सबसेमहत्वपूर्ण सवाल यह है कि क्यों विश्व स्वास्थ्य संगठन ने वर्ष 2009 में महामारी की परिभाषा में से मृत्यु और बीमार शब्द को हटा दिया था? इससे पहले, मृत और बीमार लोगों की एक बड़ी संख्या एक महामारी घोषित करने के लिए शर्त थी। 2009 से हमें यह पता है कि एक वायरस जल्दी से फैलता है। चाहे लोग मरें या बीमार हों, महामारी के लिए कोई मापदंड नहीं है। सुनने में अजीब है?

मार्च 2020 में, पहले से ही कई डॉक्टरों और वैज्ञानिकों नेयूट्यूब पर बताया कि कोरोना उतना खतरनाक नहीं है, और उनमें से कई वीडियो को बाद में हटा दिया गया। भारत में पहले 5 महीनों कम मामले और मौतें हुईं, भले ही मीडिया ने स्थिति को बदतर बनाने की पूरी कोशिश की। जब मुंबई में सबसे बड़ी झुग्गी धारावी में कई लोग संक्रमित थे, तो मीडिया ने इसे एक प्रलय का दिन बताया। धारावी को बंद कर दिया गया था, और यह कोई प्रलय नहीं था। बाद में मैंने पेपर में पढ़ा, कि धारावी की 57 प्रतिशत आबादी में एंटीबॉडीज उतपन्न हो गई है। इसका मतलब कि वह वायरस की चपेट में आए किन्तु किसी को पता ही नहीं चला और साथ ही इन लोगों में प्रतिरोधक क्षमता धारावी में असम्भव डिस्टेन्सिंग आई।

तो हमें इससे क्या निष्कर्ष निकालना चाहिए? एपिडेमियोलॉजिस्ट डॉ. नॉट विटकोव्स्की का दावा है कि वायरस के प्रसार को रोकने का प्रयास जैसे लॉकडाउन और मास्क केवल महामारी को लम्बा खींचते हैं और वायरस के खतरनाक विविधीकरण को भी जन्म देते हैं।

वैज्ञानिक गीर्ट वंडन बॉश ने WHO से एक अपील की है कि वह कृपया सामूहिक टीकाकरण को तुरंत रोकें। लेकिन यूरोपीय वैज्ञानिकों ने वैक्सीन के लिए आपातकालीन उपयोग की मंजूरी के लिए यूरोपीय न्यायालय में मामले दायर किए हैं और तत्काल सुनवाई के लिए कहा है। हम यह नहीं सुनाई देता कि टीका लेने के बाद कितने लोगों की मृत्यु हुई। यूरोप में ऐसे कई हैं।

(मारिया वर्थ द्वारा अंग्रेजी लेख का मुख्य अंश, हिंदी अनुवाद शान्तनू मिश्रा द्वारा।)

Popular

भारत, अमेरिका के विशेषज्ञों ने जलवायु परिवर्तन के मुद्दे पर चर्चा की ( Pixabay )

भारत(india) और अमेरिका(America) के विशेषज्ञों ने शनिवार को कार्बन कैप्चर, यूटिलाइजेशन एंड स्टोरेज (सीसीयूएस) के माध्यम से जलवायु परिवर्तन (Environment change) से निपटने के लिए विभिन्न तकनीकों पर चर्चा करते हुए कहा कि वे 17 सतत विकास लक्ष्यों (एसडीजी) में से पांच - जलवायु कार्रवाई, स्वच्छ ताकत, उद्योग, नवाचार और बुनियादी ढांचा, खपत और उत्पादन जैसे लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए साझेदारी की है। विज्ञान विभाग के सचिव एस.चंद्रशेखर ने कहा, "सख्त जलवायु व्यवस्था के तहत हम उत्सर्जन कटौती प्रौद्योगिकियों के पोर्टफोलियो के सही संतुलन की पहचान और अपनाने का एहसास कर सकते हैं। ग्लासगो में हाल ही में संपन्न सीओपी-26 में, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के उल्लेखनीय प्रदर्शन के साथ-साथ महत्वाकांक्षाओं को सामने लाया। दुनिया में सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्थाओं में से एक होने के बावजूद हम जलवायु लक्ष्यों को पूरा करेंगे।"

विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग के कार्बन कैप्चर पर पहली कार्यशाला में अपने उद्घाटन भाषण में उन्होंने कहा, "पीएम ने हम सभी को 2070 तक शून्य कार्बन उत्सर्जन राष्ट्र बनने को कहा है।" उन्होंने सीसीयूएस के क्षेत्र में प्रौद्योगिकी के नेतृत्व वाले आरडी एंड डी की दिशा में विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग की हालिया पहलों के बारे में भी जानकारी दी।

Keep Reading Show less

वेल्लोर के इस 10 वर्षीय छात्र ने अपनी लगन से वकीलों के लिए ई-अटॉर्नी नामक एक ऐप बना डाला ( Pixabay)

कोरोना के इस दौर में ऐप टेक्नॉलॉजी (App Technology) की पढ़ाई कई समस्याओं का समाधान कर रही है। ऐसा ही एक समाधान 10 वर्षीय छात्र कनिष्कर आर ने कर दिखाया है। कनिष्कर ने पेशे से वकील अपने पिता की मदद एक ऐप (App) बनाकर की। दस्तावेज संभालने में मददगार यह ऐप वकीलों और अधिवक्ताओं को अपने क्लाईंट एवं काम से संबंधित दस्तावेज संभालने में मदद करता है। 10 वर्षीय कनिष्कर का यह ऐप अब उसके पिता ही नहीं बल्कि देश के कई अन्य वकील भी इस्तेमाल कर रहे हैं और यह एक उद्यम की शक्ल ले रहा है।

कनिष्कर अपने पिता को फाईलें संभालते देखता था, जो दिन पर दिन बढ़ती चली जा रही थीं। जल्द ही वह समझ गया कि उसके पिता की तरह ही अन्य वकील भी थे, जो इसी समस्या से पीड़ित थे। इसलिए जब कनिष्कर को पाठ्यक्रम अपने कोडिंग के प्रोजेक्ट के लिए विषय चुनने का समय आया, तो उसने कुछ ऐसा बनाने का निर्णय लिया, जो उसके पिता की मदद कर सके। वेल्लोर (Vellore) के इस 10 वर्षीय छात्र ने अपनी लगन से वकीलों के लिए ई-अटॉर्नी नामक एक ऐप बना डाला। इस ऐप का मुख्य उद्देश्य वकीलों और अधिवक्ताओं को अपने क्लाईंट के एवं काम से संबंधित दस्तावेज संभालने में मदद करना है। इस ऐप द्वारा यूजर्स साईन इन करके अपने काम को नियोजित कर सकते हैं और क्लाईंट से संबंधित दस्तावेज एवं केस की अन्य जानकारी स्टोर करके रख सकते हैं। इस ऐप के माध्यम से यूजर्स सीधे क्लाईंट्स से संपर्क भी कर सकते हैं। जिन क्लाईंट्स को उनके वकील द्वारा इस ऐप की एक्सेस दी जाती है, वो भी ऐप में स्टोर किए गए अपने केस के दस्तावेज देख सकते हैं।

Keep Reading Show less

डॉ. मुनीश रायजादा ने इस वेब सीरीज़ के माध्यम से आम आदमी पार्टी में हुए भ्रस्टाचार को सामने लाने का प्रयास किया है

आम आदमी पार्टी(AAP) पंजाब के लोकसभा चुनाव में अपनी बड़ी जीत की उम्मीद कर रही है वहीं पार्टी के एक पूर्व सदस्य ने राजनैतिक शैली में वेब सीरीज़ के रूप में 'इनसाइडर अकाउंट" निकला है जिसमे दावा किया गया है कि पार्टी अपने मूल सिद्धांतों से भटक गई है। 'ट्रांसपेरेंसी : पारदर्शिता का निर्माण शिकागो में कार्यरत चंडीगढ़ के चिकित्सक डॉ.मुनीश रायज़ादा द्वारा किया गया है। यूट्यूब(Youtube) पर उपलब्ध यह वेब सीरीज़ यह दर्शाती है कि कैसे एक पार्टी पारदर्शी होने के साथ साथ व्यवस्था परिवर्तन लाने के बजाय गैर-पारदर्शी औऱ राजनीतिक आदत का हिस्सा बन गई। यह वेब सीरीज अक्टूबर 2020 में पूरी होने के बाद ओटीटी प्लेटफॉर्म एमएक्स प्लयेर पर रिलीज हुई। डॉ.मुनीश रायज़ादा के अनुसार इस वेब सीरीज़ को सकारात्मक प्रतिक्रिया मिली।

डॉ.मुनीश रायजादा ने फोन पर आईएएनएस से बात करते हुए बताया कि, " मंच इस वेब सीरीज का प्रचार यह कहकर नहीं कर रहा था कि यह एक राजनीतिक वेब सीरीज है, और मैंने सोचा कि मैं इस वेब सीरीज को बड़े पैमाने में दर्शकों तक कैसे ले जा सकता हूँ फिर मैंने यूट्यूब के बारे में सोचा।" यह वेब सीरीज यूट्यूब पर 17 जनवरी को रिलीज़ किया गया।

Keep reading... Show less