Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

“रेत माफियाओं” से लोहा लेने से नहीं कतराती है यह महिला।

महिला वन अधिकारी इन माफियाओं के लिए एक चुनौती सी बन गई हैं। वह दिन रात अपनी ड्यूटी निभाती हैं और रेत माफियाओं से लौहा लेने से बिल्कुल नहीं डरती हैं।

इन माफियाओं को रोकना बेहद जरूरी हो गया था और इस दिशा में एक महिला वन अधिकारी इन माफियाओं के लिए एक चुनौती सी बन गई हैं। (सांकेतिक चित्र, Pexels)

मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के मुरैना जिले में वन विभाग की टीम पर रेत माफियाओं का हमला मानों आम बात हो गई है। ये रेत माफिया अपने अवैध कारोबारों को अंजाम तक पहुंचाने के लिए किसी भी हद तक जाने को तैयार रहते हैं। ऐसे में इन माफियाओं को रोकना बेहद जरूरी हो गया था और इस दिशा में एक महिला वन अधिकारी इन माफियाओं के लिए एक चुनौती सी बन गई हैं। 

एसडीओ के पद पर कार्यरत और एक महिला वन अधिकारी श्रद्धा पांडे (lady forest officer Shraddha Pandey) इन माफियाओं के खिलाफ बेखौफ अपनी ड्यूटी निभा रही हैं। अपनी काबिलियत और सूझ – बुझ से इन्होनें रेत माफियाओं के नाक मे दम कर रखा है। हालांकि उनका एक डेढ़ साल का बेटा भी है। जिसे वह अपने घर और अपने नौकर के भरोसे छोड़कर आती हैं और दिन रात अपनी ड्यूटी निभाती हैं। वह रेत माफियाओं से लौहा लेने से बिल्कुल नहीं डरती हैं। यही वजह है कि आज उन अवैध रेत माफियाओं में श्रद्धा पांडे का डर बैठा हुआ है। 


आपको बता दें कि वन विभाग की टीम पर हमले की शुरुआत आज से डेढ़ महीने पहले यानी 24 अप्रैल को आरटीओ कैरियर व वन चौकी के बीच सोलंकी पेट्रोल पंप के पास हुआ था। उस वक्त अवैध रेत के ट्रैक्टर ट्रॉली को पकड़ लिया गया था। जिसके बाद ट्रैक्टर पर सवार एक माफिया ने कट्टा निकाल एसडीओ श्रद्धा पांडे की गाड़ी पर हमला किया था। 

मध्य प्रदेश में रेत माफिया हर उस आदमी को उसकी आवाज को बेदर्दी से कुचल देता है जो इनके कारोबार में रुकावट पैदा करते हैं। (सांकेतिक चित्र, Wikimedia Commons)

इसके बाद दूसरा हमला 22 मई को रजिस्ट्रा ऑफिस के पास हुआ था। इस हमले में ट्रैक्टर सवार ने श्रद्धा पांडे पर फिर एक बार हमला कर उन पर ट्रैक्टर चढ़ाने का प्रयास किया था। हालांकि वह बच गई थीं। इसके बाद लगातार 8 बार उन रेत माफियाओं ने वन विभाग की टीम और श्रद्धा पांडे पर हमला किया। लेकिन श्रद्धा पांडे ने साहस के साथ उन लोगों को सामना किया|

यह भी पढ़ें :- जम्मू-कश्मीर में कुछ बड़ा करने की योजना बना रहा है केंद्र?

रेत माफियाओं की दहशत से पूरा मध्य प्रदेश ही परेशान है। वन कर्मियों पर हमला कर अपने अवैध रेत के ट्रैक्टर्स को अलग – अलग जगह पहुंचाना इन माफियाओं का धंधा हो गया है। मध्य प्रदेश में रेत माफिया हर उस आदमी को उसकी आवाज को बेदर्दी से कुचल देता है जो इनके कारोबार में रुकावट पैदा करते हैं। अब तक न जाने कितने मासूम लोगों को इन माफियाओं ने मौत के घाट उतार दिया है। ऐसे में एक महिला वन अधिकारी द्वारा इन माफियाओं के अंदर खोफ पैदा करना अपने आप में एक मिसाल कायम करती है। 

Popular

झांसी की रानी लक्ष्मीबाई, एक श्रेष्ठ वीरांगना को यह देश कोटी – कोटी नमन करता है। (Wikimedia Commons)

भारतीय मध्ययुगीन इतिहास जहां अनेक वीर पुरुषों के वीरतापूर्ण कार्यों से भरा पड़ा है। वहीं स्त्री जाति के वीरतापूर्ण कार्यकलापों से यह अक्सर अछूता रहा है। सर्वत्र नारी को दयनीय, लाचार और मानसिक रूप से दास प्रवृति को ही दिखाया गया है। उस काल में यह गौरव से कम नहीं की रानी लक्ष्मीबाई ने भारतीय नारियों की इस दासतापूर्ण मानसिकता को ध्वस्त कर दिखाया था। इसलिए आज भी रानी लक्ष्मीबाई का नाम गर्व से लिया जाता है। एक ऐसी महिला स्वतंत्रता सेनानी जिन्होंने अंग्रजों से लोहा लिया था| आज उनके द्वारा किए गए संघर्ष सभी भारतीयों के हृदय में एक नवीन उत्साह का संचार कर देता है।

आइए आज उनके द्वारा देश की आन-बान-शान को बचाने के लिए किए गए संघर्ष को याद करें। उस युद्ध की बात करें जब उनकी तलवार ने अंग्रेजों के छक्के छुड़ा दिए थे और अंग्रजों के रक्त से अपने अस्तित्व को पूरा किया था।

Keep Reading Show less

चंदा बंद सत्याग्रह जिसे No List No Donation के नाम से भी जाना जाता है। (File Photo)

सत्याग्रह का सामन्य अर्थ होता है "सत्य का आग्रह।" सर्वप्रथम इसका प्रयोग महात्मा गांधी द्वारा किया गया था। उन्होंने भारत में कई आंदोलन चलाए, जिनमें चंपारण, बारदोली, खेड़ा सत्याग्रह आदि प्रमुख। हैं। सत्याग्रह स्वराज प्राप्त करने और सामाजिक संघर्षों को मिटाने का एक नैतिक और राजनीतिक अस्त्र है। आज हम ऐसे ही एक सत्याग्रह की बात करेंगे जिसे गांधी जी से प्रेणा लेकर शुरू किया गया था।

"चंदा बंद सत्याग्रह" जिसे No List No Donation के नाम से भी जाना जाता है। यह आम आदमी पार्टी के विरुद्ध एक अमरीकी डॉक्टर वह NRI सेल के सह-संयोजक डॉ. मुनीश रायजादा द्वारा साल 2016 में शुरू किया गया था। डॉ. मुनीश जब आम आदमी पार्टी से जुड़े थे, तब उन्हें पार्टी के NRI सेल का सह-संयोजक नियुक्त किया गया था।

Keep Reading Show less

आपको बता दें कि मालाबार (केरल में स्थित है) हिन्दू नरसंहार को इतिहास से पूरी तरह मिटा दिया गया।

मोपला हिंदु नरसंहार या मालाबार विद्रोह 100 साल पहले 20 अगस्त 1921 को शुरू हुई एक ऐसी घटना थी, जिसमें निर्दयतापूर्वक सैकड़ों हिन्दू महिला, पुरुष और बच्चों की हत्या कर दी गई थी। महिलाओं का बलात्कार किया गया था। बड़े पैमाने पर हिन्दुओं को जबरन इस्लाम धर्म में परिवर्तित करा दिया गया था।

आपको बता दें कि मालाबार (केरल में स्थित है) हिन्दू नरसंहार को इतिहास से पूरी तरह मिटा दिया गया। आज हम मोपला हिन्दू नरसंहार, 1921 में हिन्दुओं के साथ हुई उसी दर्दनाक घटना की बात करेंगे। आपको बताएंगे की कैसे मोपला हिन्दू नरसंहार (Mopla Hindu Genocide) के खलनायकों को अंग्रेजों से लोहा लेने वाले नायकों के रूप में चिन्हित कर दिया गया।

Keep reading... Show less