Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
संस्कृति

भगवान श्री विष्णु के 24 अवतार

भगवान विष्णु के उन 24 अवतार के विषय में जानिए जिन्होंने धरती पर पाप का नाश हेतु अवतरण किया।

(NewsGram Hindi)

1) श्री सनकादि मुनि- सबसे पहले, सृष्टि की शुरुआत में, ब्रह्मा [कुमार] के चार अविवाहित पुत्र थे, जिन्होंने ब्रह्मचर्य के व्रत में स्थित होने के कारण परम सत्य की प्राप्ति के लिए कठोर तपस्या की थी। इनका नाम सनक, सनन्दन, सनातन और सनत्कुमार था।

2) वराह अवतार- भगवान विष्णु ने इस अवतार को वराह के रूप में लिया और इस पृथ्वी को बचाया जो समुद्र में विलीन हो गई थी और इसे समुद्र से बाहर ले आई थी। उसके बाद ही सारी सृष्टि शुरू हुई।


3) नारद अवतार-श्री हरी विष्णु के तीसरे अवतार है नारद अवतार। नारद जी धर्म के प्रचार तथा लोक कल्याण के लिए हमेशा प्रयत्नशील रहते है। इन्होंने बताया कि भक्ति से कर्म और माया के बंधन से मुक्त हुआ जा सकता है।

4) नर-नारायण-चौथे अवतार में, भगवान नर और नारायण बने, यह राजा धर्म की पत्नी के जुड़वां बेटे थे। इस प्रकार में उन्होंने इंद्रियों को नियंत्रित करने के लिए गंभीर और अनुकरणीय तपस्या की थी।

5) कपिल मुनि-भगवान विष्णु का अगला अवतार कपिल ऋषि के रूप में हुआ। इस अवतार का उद्देश्य नष्ट हो चुके सभी दिव्य ज्ञान को संकलित करना था।

6) दत्तात्रेय अवतार-धर्म ग्रंथो के अनुसार दत्तात्रेय भगवान विष्णु के अवतार है। भारत के कई हिस्सों में, उन्हें एक ऋषि और योग के शिक्षक के रूप में दर्शाया गया है।

7) यज्ञ अवतार- भगवान विष्णु के सातवें अवतार का नाम यज्ञ है। यज्ञ का जन्म स्वयंभुव मन्वंतर में हुआ था। स्वायंभुव मनु की पत्नी शतरूपा के गर्भ से आकृति का जन्म हुआ।

8) भगवान ऋषभदेव - भगवान विष्णु ने भगवान ऋषभदेव के रूप में 8वा अवतार लिया। धर्म ग्रंथो के अनुसार महाराज नाभी की कोई संतान नहीं थी। उन्होंने अपनी पत्नी के साथ यज्ञ किया जिससे प्रसन्न हो कर भगवान विष्णु ने वरदान दिया कि वह खुद तुम्हारे यहाँ पुत्र के रूप में जन्म लूँगा।

9) आदिराज पृथु- भगवान विष्णु के 9वें अवतार का नाम आदिराज प्रथु है। उन्होंने अपना जीवन भगवान की सेवा के लिए समर्पित कर दिया और लोगों को धर्म के तरीके सिखाए।

10) मत्स्य अवतार- भगवान विष्णु ने मत्स्य अवतार इस धरती को बचाने के लिए लिया। राजा सत्यवत एक दिन नदी में स्नान करते हुए जलानजली दे रहे थे। उनकी हाथों में छोटी मछली आई। राजा उसे अपने साथ ले गया। धीरे धीरे मछली बड़ी होने लगी। राजा ने उसे वास्तविक रूप में आने की प्राथना की तब विष्णु जी ने दर्शन दिए।

11) कूर्म अवतार- इस अवतार को लेकर भगवान विष्णु ने समुद्र मंथन में सहायता की थी। कूर्म अवतार को कच्छप अवतार भी कहा जाता है।

12) भगवान धन्वन्तरि- भगवान विष्णु का 12वां अवतार भगवान धन्वन्तरि का है। इनका पृथ्वी लोक में अवतरण समुद्र मंथन के समय हुआ था। इन्हें औषधियों का स्वामी भी माना गया है।

13) मोहिनी अवतार- यह अवतार भगवान विष्णु का अत्यंत सुंदर स्त्री का अवतार है। जब राक्षसों ने देवताओं के हाथ से अमृत का कलश छीन लिया था तब विष्णु जी ने यह अवतार धारण कर राक्षसों को मोहित करके उनसे अमृत ले लिया था।

14) भगवान नृसिंह- इस अवतार में भगवान विष्णु का मुँह सिंह का था पर शरीर मनुष्य का था। प्रहलाद की रक्षा के लिए विष्णु जी ने भगवान नृसिंह के अवतार धारण किया था। 15) वामन अवतार - दैत्यों के राजा बलि ने तीनों लोकों पर अधिकार कर लिया था। जब एक बार बलि यज्ञ कर रहा था तब वामन जी वहाँ गए और तीन पग धरती दान में मांगी। फिर बलि ने तीन पग धरती दान में देने के संकल्प ले लिया।


Shri Krishna प्रभु श्री कृष्ण की छवि।(Pixabay)


16) भगवान हयग्रीव- भगवान विष्णु का 16वां अवतार भगवान हयग्रीव का था। जिसमें इनका मुख घोड़े का था और शरीर इंसान का था।

17) बलराम अवतार- भगवान विष्णु ने बलराम जी के।अवतार भी धारण किया था। उन्होंने रोहिणी माता जी के गर्भ से जन्म लिया था।

18) परशुराम अवतार- जब भगवान ने देखा कि राजा ब्राह्मणो के द्रोही हो गए हैं। तब भगवान विष्णु ने परशुराम जी का अवतार धारण किया था।

19) महर्षि व्यास- जब भगवान ने देखा कि लोगों की स्मरण शक्ति कम हो गई है तब उन्होंने मनुष्यों पर दया कर व्यास अवतार धारण कर 4 वेदों का निर्माण किया।

20) हंस अवतार- भगवान विष्णु ने हंस के रूप में भी अवतार लिया है। भगवान विष्णु महाहंस के रूप में प्रकट हुए और उन्होंने सनकादि मुनियों के संदेह का निवारण किया।

21) श्रीराम अवतार- भगवान विष्णु ने राम जी के रूप धारण कर रावण का वध किया और अधर्म पर धर्म की विजय की। यह एक दिव्य अवतार है।

22) श्रीकृष्ण अवतार- यह भगवान के पूर्ण अवतार है। भगवान श्री कृष्ण के अनेकों नाम है। यह अपनी कलाओं के वजह से भी प्रसिद्ध है।

23) बुद्ध अवतार- भगवान बुद्ध भजन विष्णु के ही अवतार है।

24) कल्कि अवतार- यह अवतार भगवान ने अभी लिया नहीं है लेकिन श्रीमद भागवत में इसका वर्णन किया गया है। यह अवतार कलयुग के अंत में लिया जाएगा।

Popular

पूर्वोत्तर सीमा क्षेत्र बहुत संवेदनशील हैं और उनके लिए तोड़फोड़ के ऐसे प्रयासों के बारे में जानना नितांत आवश्यक है। (Unsplash)

भारत चीन सीमा पर बसे हुए गांव चिंता का विषय हैं। हैग्लोबल काउंटर टेररिज्म काउंसिल के सलाहकार बोर्ड ने एक बड़ी सूचना देते हुए बड़ा खुलासा किया है कि चीन ने भारत के साथ अपनी सीमा पर 680 'जियाओकांग' (समृद्ध या संपन्न गांव) बनाए हैं। ये गांव भारतीय ग्रामीणों को बेहतरीन चीनी जीवन की और प्रभावित करने के लिए हैं।

कृष्ण वर्मा, ग्लोबल काउंटर टेररिज्म काउंसिल के सलाहकार बोर्ड के एक सदस्य ने आईएएनएस को बताया, " ये उनकी ओर से खुफिया मुहिम और सुरक्षा अभियान है। वे लोगों को भारत विरोधी बनाने की कोशिश कर रहे हैं। इसलिए हम अपने पुलिस कर्मियों को इन प्रयासों के बारे में अभ्यास दे रहे हैं और उन्हें उनकी हरकतों का मुकाबले का सामना करने के लिए सक्षम बना रहे हैं। चीनी सरकार के द्वारा लगभग 680 संपन्न गांव का निर्माण किया जा चुका है। जो चीन और भूटान की सीमाओं पर हैं। इस गांव में चीन के स्थानीय नागरिक भारतीयों को प्रभावित करते है कि चीनी सरकार बहुत अच्छी है। शुक्रवार को भारत सरकार के पूर्व विशेष सचिव वर्मा गुजरात के गांधीनगर में राष्ट्रीय रक्षा विश्वविद्यालय (आरआरयू) में 16 परिवीक्षाधीन उप अधीक्षकों (डीवाईएसपी) के लिए 12 दिवसीय विशेष प्रशिक्षण कार्यक्रम के समापन के अवसर पर एक कार्यक्रम में थे।

Keep Reading Show less

बड़े देशों के एक समूह ने 'नो न्यू कोल पावर कॉम्पेक्ट' की घोषणा की है।(Canva)

विदेशी कोयला बिजली वित्त को रोकने की चीन की घोषणा के बाद, श्रीलंका, चिली, डेनमार्क, फ्रांस, जर्मनी, मोंटेनेग्रो और यूके जैसे देशों के एक समूह ने 'नो न्यू कोल पावर कॉम्पेक्ट' की घोषणा की है। इसका उद्देश्य अन्य सभी देशों को नए कोयले से चलने वाले बिजली संयंत्रों के निर्माण को रोकने के लिए प्रोत्साहित करना है ताकि 1.5 डिग्री सेल्सियस के लक्ष्य तक पहुंचा जा सके। पहली बार, विकसित और विकासशील देशों का एक विविध समूह नए कोयले से चलने वाले बिजली उत्पादन को समाप्त करने के वैश्विक प्रयासों को गति देने के लिए एक साथ आया है। उनकी नई पहल के लिए हस्ताक्षरकर्ताओं को वर्ष के अंत तक कोयले से चलने वाली बिजली उत्पादन परियोजनाओं के नए निर्माण की अनुमति तुरंत बंद करने और समाप्त करने की आवश्यकता है।

ये देश अन्य सभी सरकारों से इन कदमों को उठाने और संयुक्त राष्ट्र जलवायु शिखर सम्मेलन सीओपी26 से पहले समझौते में शामिल होने का आह्वान कर रहे हैं ताकि शिखर सम्मेलन के महत्वाकांक्षी लक्ष्य को "इतिहास को कोयले की शक्ति सौंपने" में मदद मिल सके। नो न्यू कोल पावर कॉम्पेक्ट, संयुक्त राष्ट्र महासचिव के आह्वान का जवाब देता है कि इस साल नए कोयले से चलने वाली बिजली का निर्माण समाप्त करने के लिए, 1.5 डिग्री सेल्सियस लक्ष्य को पहुंच के भीतर रखने और जलवायु परिवर्तन के विनाशकारी प्रभावों से बचने के लिए पहला कदम है। साथ ही सस्ती और स्वच्छ ऊर्जा प्रदान करने के लिए सतत विकास लक्ष्य 7 को प्राप्त करना है।

एनर्जी कॉम्पैक्ट्स जीवित दस्तावेज हैं और अन्य देशों को इसमें शामिल होने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है। समूह का लक्ष्य जल्द से जल्द नए हस्ताक्षरकर्ताओं की सबसे बड़ी संख्या को इकट्ठा करना है। ऊर्जा पर संयुक्त राष्ट्र उच्च स्तरीय वार्ता 40 वर्षो में पहली बार ऊर्जा पर चर्चा करने वाला एक महासचिव के नेतृत्व वाला शिखर सम्मेलन है। यह जलवायु लक्ष्यों को आगे बढ़ाने में ऊर्जा की महत्वपूर्ण भूमिका के साथ-साथ कोविड रिकवरी प्रक्रियाओं सहित विकास प्राथमिकताओं को पहचानता है। श्रीलंका और चिली ने हाल ही में नई कोयला परियोजनाओं को रद्द करने और राजनीतिक बयान देने में नेतृत्व दिखाया है कि वे अब नई कोयला शक्ति का पीछा नहीं करेंगे। डेनमार्क, फ्रांस, जर्मनी, मोंटेनेग्रो और यूके ने अपनी पिछली कोयला परियोजनाओं को पहले ही रद्द कर दिया है और अब वे अपने शेष कोयला बिजली उत्पादन की सेवानिवृत्ति में तेजी लाने पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं।

Keep Reading Show less

भारत के प्रधानमंत्रियों नरेंद्र मोदी, ऑस्ट्रेलिया के स्कॉट मॉरिसन और जापान के योशीहिदे सुगा और अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन।(VOA)

क्वाड देशों के नेताओं- अमेरिका, ऑस्ट्रेलिया, जापान और भारत ने आतंकवादी परदे के पीछे के इस्तेमाल की निंदा की है और सहयोग के खासकर प्रौद्योगिकी नए क्षेत्रों की शुरूआत करते हुए में आतंकवाद के समर्थन को समाप्त करने की मांग की है। भारत के प्रधानमंत्रियों नरेंद्र मोदी, ऑस्ट्रेलिया के स्कॉट मॉरिसन और जापान के योशीहिदे सुगा और अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन द्वारा शुक्रवार को उनके शिखर सम्मेलन के बाद अपनाए गए एक संयुक्त बयान में कहा गया है, "हम आतंकवादी प्रॉक्सी के उपयोग की निंदा करते हैं और किसी भी लॉजिस्टिकल से इनकार करने के महत्व पर जोर देते हैं। आतंकवादी समूहों को वित्तीय या सैन्य सहायता, जिसका उपयोग सीमा पार हमलों सहित आतंकवादी हमलों को शुरू करने या योजना बनाने के लिए किया जा सकता है।"

बयान का वह खंड पाकिस्तान पर लागू होता है, भले ही उसका नाम नहीं लिया गया और दूसरा, चीन का उल्लेख किए बिना, इस क्षेत्र में हिमालय से लेकर प्रशांत महासागर तक अपने कार्यों पर ध्यान दिया। नेताओं ने कहा, "एक साथ, हम स्वतंत्र, खुले, नियम-आधारित आदेश को बढ़ावा देने के लिए प्रतिबद्ध हैं, जो अंतर्राष्ट्रीय कानून में निहित है और जबरदस्ती के बिना, हिंद-प्रशांत और उसके बाहर सुरक्षा और समृद्धि को बढ़ावा देने के लिए है। हम कानून के शासन, नेविगेशन की स्वतंत्रता के लिए और ओवरफ्लाइट, विवादों का शांतिपूर्ण समाधान, लोकतांत्रिक मूल्य और राज्यों की क्षेत्रीय अखंडता के लिए खड़े हैं।"

हालांकि, उनके संयुक्त बयान में कोई विशिष्ट संयुक्त रक्षा या सुरक्षा उपाय सामने नहीं आए। इसके बजाय इसने कहा, "हम यह भी मानते हैं कि हमारा साझा भविष्य हिंद-प्रशांत में लिखा जाएगा और हम यह सुनिश्चित करने के लिए अपने प्रयासों को दोगुना करेंगे कि क्वाड क्षेत्रीय शांति, स्थिरता, सुरक्षा और समृद्धि के लिए एक ताकत है।" एक अनौपचारिक समूह के रूप में स्थायीता लाने के लिए, चारों वरिष्ठ अधिकारियों के नियमित सत्रों के अलावा वार्षिक शिखर सम्मेलन और विदेश मंत्रियों की बैठकें आयोजित करने पर सहमत हुए। नेताओं ने कहा कि वे अफगानिस्तान के प्रति राजनयिक, आर्थिक और मानवाधिकार नीतियों का समन्वय करेंगे और आतंकवाद और मानवीय सहयोग को गहरा करेंगे।

क्वाड नेताओं द्वारा प्रस्तावित अधिकांश परिभाषित कार्य क्षेत्र में सहयोग और खुद को और दूसरों की मदद करने के बारे में हैं। महामारी की वर्तमान चुनौती को सबसे आगे लेते हुए, घोषणा में कहा गया है, "कोविड -19 प्रतिक्रिया और राहत पर हमारी साझेदारी क्वाड के लिए एक ऐतिहासिक नया फोकस है।" उन्होंने नई दिल्ली द्वारा वैक्सीन निर्यात को फिर से शुरू करने और 2022 के अंत तक कम से कम एक अरब सुरक्षित और प्रभावी कोविड खुराक का उत्पादन करने वाली भारतीय कंपनी बायोलॉजिकल ई का स्वागत किया, जिसे क्वाड निवेश के माध्यम से वित्तपोषित किया गया था। भारत के विदेश सचिव हर्षवर्धन श्रृंगला ने कहा कि वैक्सीन जॉनसन एंड जॉनसन टाइप की होगी, जिसके लिए केवल एक शॉट की आवश्यकता होती है।

Keep reading... Show less