Monday, June 14, 2021
Home इतिहास नीलम संजीव रेड्डी : भारत के एकमात्र निर्विरोध चुने गए राष्ट्रपति।

नीलम संजीव रेड्डी : भारत के एकमात्र निर्विरोध चुने गए राष्ट्रपति।

नीलम संजीव रेड्डी एक ऐसे राष्ट्रपति थे, जिन्होंने आजादी से पहले भी देश हित में काम किया और आजादी के बाद भी देश के लिए काम किया।

एक भारतीय राजनीतिज्ञ, स्वतंत्रता कार्यकर्ता और भारत में छठे राष्ट्रपति, नीलम संजीव रेड्डी का जन्म आज ही के दिन यानी 19 मई 1913 को आंध्र प्रदेश के अनंतपुर जिले के इलुरी नामक गांव में हुआ था। उनकी प्रारंभिक शिक्षा हाई स्कूल अडयार, मद्रास से पूरी हुई और आगे की पढ़ाई के लिए उन्होंने आर्ट्स कॉलेज अनंतपुर में दाखिला लिया था।

यह वह समय था, जब पूरा भारत स्वतंत्रता की अपनी लड़ाई लड़ रहा था। प्रत्येक युवा वर्ग मानों स्वतंत्रता संग्राम में कूद पड़ने को तत्पर था और मात्र 18 वर्ष की आयु में ही नीलम संजीव रेड्डी भी अपनी पढ़ाई छोड़ कर देश में चल रहे स्वतंत्रता आंदोलन में कूद पड़े थे। 

भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन में नीलम संजीव रेड्डी (Neelam Sanjeeva Reddy) की भूमिका एक युवा नेता के रूप में शुरू हुई थी। शुरू में वह एक छात्र सत्याग्रह से जुड़े थे और गांधी से प्रभावित होकर, छात्र जीवन में ही उन्होंने अपना पहला सत्याग्रह किया था। बीस वर्ष की उम्र तक नीलम संजीव रेड्डी राजनीति में काफी सक्रिय हो चुके थे और सन 1936 में पहली बार आंध्र प्रदेश कांग्रेस (Congress) समिति के सामान्य सचिव के रूप में निर्वाचित हुए थे। जिसे APPCC के नाम से भी जाना जाता था। यह उस समय भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस की एक स्थानीय शाखा थी और नीलम संजीव रेड्डी ने अगले दस वर्षों तक APPCC के सचिव के रूप में कार्य किया था।

1940 के दशक में शुरुआती दिनों में गांधी (Mahatma Gandhi) जी एक नेतृत्व में कांग्रेस पार्टी ने “भारत छोड़ो आंदोलन” शुरू किया था। यह उस समय का राष्ट्रव्यापी आंदोलन था, जिसका एकमात्र उद्देश्य अंग्रेजों को भारत से बाहर निकालना था और देश के सबसे बड़े आंदोलन में नीलम संजीव रेड्डी ने अपनी सक्रिय भागीदारी निभाई थी। हालांकि यह आंदोलन शांतिपूर्ण विरोध के रूप में शुरू हुआ था। लेकिन फिर भी ब्रिटिश सरकार ने अपनी दमनकारी नीति के तहत कई कांग्रेस नेताओं को जेल में डाल दिया था। 

राजनीतिक जीवन!

President
नीलम संजीव रेड्डी आज भी एकमात्र ऐसे राष्ट्रपति हैं, जो निर्विरोध चुने गए थे| (Wikimedia Commons)

आंदोलन का हिस्सा होने के कारण 1940 – 45 के बीच नीलम संजीव रेड्डी कई बार जेल गए थे। जेल से निकलने के बाद नीलम संजीव रेड्डी ने अपना ध्यान राजनीति की ओर अग्रसर किया और 1946 में मद्रास सभा के लिए चुने गए। बाद में मद्रास से ही भारतीय संविधान सभा के सदस्य के रूप में भी उनका चुनाव किया गया था।

उसके बाद 1951 में उन्होंने आंध्र प्रदेश के अध्यक्ष पद के लिए चुनाव लड़ा और जीत भी हासिल की थी। 1953 में जब आंध्र प्रदेश राज्य का गठन हुआ था, तो नीलम संजीव रेड्डी यहां के पहले उपमुख्यमंत्री बने थे। देखते ही देखते 1956 में आंध्र प्रदेश राज्य के पहले मुख्यमंत्री का पद भी उन्होंने ही संभाला था। लेकिन कुछ कारणों के चलते 1962 में नीलम संजीव रेड्डी ने कांग्रेस के अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया था। एक सीएम के रूप में नीलम संजीव रेड्डी का कार्यकाल काफी प्रभावशाली रहा था। 

यह भी पढ़ें :- Jamsetji Tata Death Anniversary 2021: “भारतीय उद्योग के जनक”

1975 में जब तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने देश में आपातकाल की घोषणा कर दी थी। तब जयप्रकाश नारायण की अध्यक्षता में जनता पार्टी बनाने के लिए कई विपक्षी दलों को एक साथ लाया गया था। नीलम संजीव रेड्डी को भी आमंत्रित किया गया और उन्होंने अपना पूरा समर्थन दिया था। 1977 में जब राष्ट्रपति पद के लिए चुनाव की घोषणा हुई तब नीलम संजीव रेड्डी ने राष्ट्रपति पद के लिए चुनाव लड़ा था और वह उस समय भारत के निर्विरोध छठे राष्ट्रपति के रूप में चुने गए थे। जिस समय रेड्डी, राष्ट्रपति बने थे, वह मात्र 64 वर्ष के थे और भारत के सबसे कम उम्र के राष्ट्रपति बने थे। 

नीलम संजीव रेड्डी आज भी एकमात्र ऐसे राष्ट्रपति हैं, जो निर्विरोध चुने गए थे। नीलम संजीव रेड्डी का राजनीतिक जीवन काफी प्रभावशाली रहा था। एक आम चेहरे से, देश के लोकप्रिय नेता बने थे रेड्डी। नीलम संजीव रेड्डी एक ऐसे राष्ट्रपति भी थे, जिन्होंने आजादी से पहले भी देश हित में काम किया और आजादी के बाद भी देश के लिए काम किया।
(देश और दुनिया की महत्वपूर्ण खबरों की अपडेट के लिए न्यूज़ग्राम हिन्दी के सोशल मीडिया पेज को लाइक और फॉलो करें! Facebook and Twitter)

POST AUTHOR

जुड़े रहें

7,623FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी