Saturday, September 26, 2020
Home टेक्नोलॉजी जल्द आपके घर पर रोबोट करेंगे सामान की डिलीवरी

जल्द आपके घर पर रोबोट करेंगे सामान की डिलीवरी

ये रोबोट मशीन लर्निग का उपयोग करते हैं और 3-डी लिडार एवं कैमरों के फ्यूज डेटा का उपयोग करते हुए बाहरी दुनिया के बारे में अच्छी समझ रखते हैं।

महामारी के बीच उपभोक्ताओं की सुरक्षा चिंताओं को दूर करने के लिए ई-कॉमर्स मार्केटप्लेस स्नैपडील ने ऑटोनॉमस मोबिलिटी स्टार्टअप ओटोनॉमी आईओ द्वारा विकसित रोबोट का उपयोग करते हुए पैकेटों की अंतिम-मील डिलीवरी का परीक्षण किया है। दोनों कंपनियों ने मंगलवार को कहा कि भीड़भाड़ वाले क्षेत्रों में नेविगेट करने के लिए रोबोट विशेष आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआई) एल्गोरिदम का उपयोग करते हैं। वे फुटपाथ और स्थानीय सड़कों पर भी बड़ी आसानी से आवागमन कर सकते हैं।

ये रोबोट मशीन लर्निग का उपयोग करते हैं और 3-डी लिडार एवं कैमरों के फ्यूज डेटा का उपयोग करते हुए बाहरी दुनिया के बारे में अच्छी समझ रखते हैं।

एक बार जब डिलीवरी रोबोट दरवाजे पर आता है, तो ग्राहक को अलर्ट मिलता है। उपयोगकर्ता को भेजे गए एक यूनीक क्यूआर कोड के माध्यम से रोबोट के होल्ड एरिया को अनलॉक किया जा सकता है और ग्राहक उनके ऑर्डर को आसानी से प्राप्त कर सकते हैं।

यह भी पढ़ें: एमेजॉन एलेक्सा पर फैन्स सुन सकेंगे बिग बी की आवाज

चूंकि डिलीवरी रोबोट एक बार में कई ऑर्डर अपने साथ रख सकते हैं, इसलिए ग्राहक द्वारा उपयोग किया जाने वाला क्यूआर कोड केवल विशिष्ट पैकेज होल्ड क्षेत्र को अनलॉक करता है, जिसमें उपयोगकर्ता द्वारा दिया गया ऑर्डर होता है। यानी रोबोट के पास कई लोगों का सामान होने की स्थिति में भी क्यूआर कोड के माध्यम से हर ग्राहक के पास उसके द्वारा ऑर्डर किया गया सामान बिना किसी परेशानी के पहुंच जाएगा।

Home delivery by robot
स्नैपडील द्वारा टेस्ट किया गया रोबोट। (Twitter)

स्नैपडील के एक प्रवक्ता ने अपने एक बयान में कहा, “हम भविष्य में उन्मुख क्षमताओं को विकसित करने के लिए आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और मशीन लर्निग में भारी निवेश कर रहे हैं। रोबोट के माध्यम से डिलीवरी लॉजिस्टिक्स के विकसित भविष्य का हिस्सा है और हम इन तकनीकों का परीक्षण करने के लिए ओटोनॉमी आईओ के साथ साझेदारी करने के लिए उत्साहित हैं।”

यह पायलट परीक्षण नोएडा और गुरुग्राम में कई सोसायटी में आयोजित किया गया है।

डिलीवरी रोबोट आवासीय सोसाइटियों के प्रवेशद्वार पर तैनात किए गए थे, जिसमें डिलीवरी एजेंट ने एक क्यूआर कोड स्कैन किया और पैकेज को अंदर रखा।

सोसायटी के मानचित्र से लैस, रोबोट ने उपभोक्ता तक पहुंचने के लिए नेविगेट किया और रास्ते में पैकेट को कीटाणुरहित कर दिया।

जब भी मानव हस्तक्षेप की जरूरत हो तो उस परिस्थिति में रोबोट की निगरानी कर इसे नियंत्रण किया जा सकता है।

ऑटोनॉमी आईओ के सह-संस्थापक रितुकर विजय ने कहा, “दुकानदार की सुरक्षा और बेहतर अनुभव सुनिश्चित करने के लिए संपर्क रहित डिलीवरी समय की जरूरत है।”

विजय ने कहा कि इससे दुकानदारों और वितरण पेशेवरों की सुरक्षा चिंताओं को दूर करने में मदद मिलेगी।(आईएएनएस)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

6,022FansLike
0FollowersFollow
164FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

रियाज़ नाइकू को ‘शिक्षक’ बताने वाले मीडिया संस्थानो के ‘आतंकी सोच’ का पूरा सच

कौन है रियाज़ नायकू? कश्मीर के आतंकवादी संगठन हिजबुल मुजाहिद्दीन का आतंकी कमांडर बुरहान वाणी 2016 में ...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

“कौन दिशा में लेके चला रे बटोहिया..” के सदाबहार गायक जसपाल सिंह की कहानी

“कौन दिशा में लेके चला रे बटोहिया” इस गाने को किसने नहीं सुना होगा। अगर आप 80’ के दशक से हैं...

हाल की टिप्पणी