सोहन लाल पाठक-एक गुमनाम स्वतंत्रता सैनानी

0
39
सोहन लाल पाठक (Wikimedia Commons)

भारत की आज़ादी की लड़ाई में जहां गाँधी जैसे लोगों ने अहिंसा की राह पर चलकर देश के स्वतंत्रता आंदोलन में अहम भूमिका निभाई तो वहीं दूसरी ओर कई ऐसे युवा स्वतंत्रता सैनानी थे जिन्होंने भारत को आज़ाद कराने के लिए अहिंसा से अलग माध्यम चुन लिया। इन्ही लोगों में से एक थे सोहन लाल पाठक(Sohan Lal Pathak)। सोहन लाल पाठक के बलिदान को उतना नहीं बताया जाता जितना की मंगल पांडेय(Mangal Pandey) और भगत सिंह(Bhagat Singh) के बलिदान को।

सोहन लाल पाठक का जन्म 7 जनवरी 1883 को पट्टी, जिला अमृतसर के एक गरीब ब्राह्मण श्री चंदा राम के घर हुआ था। एक मेधावी छात्र होने के नाते, सोहन लाल जी ने स्थानीय स्कूल में रहते हुए कई बार छात्रवृत्ति और पुरस्कार जीते। लेकिन मिडिल की परीक्षा पास करने और सिंचाई विभाग में नौकरी हासिल करने के बाद उन्होंने अपनी पढ़ाई छोड़ दी। थोड़े समय के बाद उन्होंने यह सेवा छोड़ दी और लाहौर के नॉर्मल ट्रेनिंग स्कूल में दाखिला लिया। कोर्स पूरा करने पर उन्होंने एक स्कूली शिक्षक के रूप में काम करना शुरू कर दिया।

सोहन लाल पाठक जी के लाहौर प्रवास के दौरान, उनका भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के प्रति मजबूत झुकाव था। 1905-07 के क्रांतिकारी विद्रोह ने गहरा प्रभाव डाला और उन्होंने प्रधानाध्यापक द्वारा लाला लाजपत राय और अन्य राष्ट्रवादी नेताओं के साथ अपने संपर्क तोड़ने के आदेश के विरोध में अपनी नौकरी से इस्तीफा दे दिया। तत्पश्चात लाजपत राय के अधीन कार्यरत उर्दू पत्रिका वंदे मातरम के संयुक्त संपादक बने। साथ ही, वह उन कक्षाओं में शामिल हो गए, जिन्हें लाला हरदयाल ने लाहौर में भारतीय युवाओं को क्रांति की आग में झोंकने के लिए शुरू किया था।

यह भी पढ़ें- शिवाजी का दूसरा सूरत आक्रमण-एक अमर गाथा

सोहन लाल पाठक ने अपनी गतिविधियों का क्षेत्र बर्मा स्थानांतरित कर दिया। तुरंत ही इस खतरनाक क्रांतिकारी की गिरफ्तारी के लिए तलाश शुरू कर दी गई। उस पर हाथ रखना इतना आसान नहीं था, क्योंकि वह स्थानीय भाषा जानता था और देशी लोगों के वेश में देश में स्वतंत्र रूप से घूमता था। अंत में सरकार अगस्त 1915 में मेम्यो (बर्मा) में उन्हें गिरफ्तार करने में सफल रही। मुकदमे के दौरान उन्हें मांडले के किले में हिरासत में लिया गया था। अदालत ने उसे दोषी करार दिया और मौत की सजा सुनाई। 10 फरवरी 1916 को उनकी मृत्यु फाँसी पर हुई। एक और महान स्वतंत्रता सेनानी जो उनके साथ फाँसी पर शहीद हुए , वे थे हरनाम सिंह सहरी।

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें!

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here