Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

दो हजार के चालान पर लोगों का अपना अपना मत- कोई सन्तुष्ट तो कोई असंतुष्ट

दिल्ली में कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए दिल्ली सरकार ने फैसला लिया है कि मास्क न पहनने वालों पर 500 रुपये की जगह अब 2000 का चालान काटा जाएगा।

त्योहारों की वजह से दिल्ली में कोरोना के मामलों में लगातार बढ़ोतरी हो रही है। (Unsplash)

दिल्ली में कोरोना के मामले बढ़ते जा रहे हैं और इस बढ़ते संक्रमण को देखते हुए दिल्ली सरकार ने लोगों पर सख्ती बरतना शुरू कर दी है। सरकार ने फैसला लिया है कि मास्क न पहनने वालों पर 500 रुपये की जगह अब 2000 का चालान काटा जाएगा। जिसको लेकर लोगों की अलग अलग प्रतिक्रियाएं सामने आ रही हैं। इनमें कुछ लोग सरकार के फैसले से सन्तुष्ट हैं, तो कुछ असंतुष्ट। दिल्ली के कनॉट प्लेस, जनपथ, खान मार्केट ये वो बाजार हैं, जहां हर वक्त हजारों की संख्या में लोगों की आवाजाही बनी रहती है।

चाणक्यपुरी एसडीएम गीता ग्रोवर ने आईएएनएस को बताया, “हम लोगों के पास अभी तक कोई आदेश नहीं आया है, हम आदेश का इंतजार कर रहे हैं। आदेश आने के बाद ही हम इन नियमों को लागू करेंगे। हमारी 10 से अधिक टीमें लोगों को जागरूक करने का काम कर रही हैं।”


“कनॉट प्लेस, खान मार्केट, पालिका बाजार और जनपथ मार्केट में नुक्कड़ नाटक व अन्य तरीकों से लोगों को जागरूक करने का अभियान चलाया जा रहा है।”

यह भी पढ़ें – जानिए दिल्ली में किस तरह ‘स्मॉग’ पहुंचा सकता है आंखों को नुकसान

दरअसल दिल्ली पुलिस की तरफ से भी लोगों के फिलहाल 500 रुपये के ही चालान किए जा रहे हैं।

“दिल्ली पुलिस को सरकार की तरफ से 2000 रुपये के चालान काटने का जब नोटिफिकेशन मिल जाएगा, पुलिस 2000 का चालान काटना शुरू कर देगी।”

हालांकि कनॉट प्लेस में घूमने आए लोग और मार्केट में जो लोग दुकान चला रहे हैं, उनके इस फैसले पर अलग अलग विचार हैं।

दिल्ली निवासी विशाल बाजपेयी ने बताया, “लोगों को शुरूआत में काफी समस्याएं आएंगी, लेकिन बाद में चालान का जो डर होगा, उससे फायदा होगा। लोगों को सीखने को भी मिलेगा कि ज्यादा से ज्यादा मास्क लगाया जाए।”

दिल्ली में लॉकडाउन ना करने और मास्क पहनने पर ज़ोर दिया जा रहा है। (Unsplash)

कनॉट प्लेस मार्केट में एक ऑटो चालक ने बताया, “2 हजार रुपये का चालान काटना फिर भी ठीक है, लेकिन लॉकडाउन नहीं लगना चाहिए। जिस व्यक्ति का चालान कटेगा, उस वक्त सिर्फ वही भरेगा लेकिन लॉकडाउन लगने से हर कोई परेशान होगा।”

कनॉट प्लेस में दुकानदार मनोज ने बताया, “अगर कोई व्यक्ति काम करने के लिए बाहर निकलता है, तो वह 2000 कहां से लेकर आएगा, जिनके पास पैसा होगा ही नहीं वो कहां से इतना महंगा चालान भरेंगे। सरकार को इस बारे में सोचना चाहिए, कोरोना समय में हर किसी की आर्थिक स्थिति भी खराब हो चुकी है।”

यह भी पढ़ें – दिल्ली की गलियों में सोशल डिस्टेंसिंग का सरेआम बन रहा तमाशा

मार्केट में पान की दुकान चला रहे कुलदीप मिश्रा ने बताया, “2000 का चालान काटना बिल्कुल सही है, लेकिन जो लोग खाने पीने के लिए बाहर निकलते हैं, उनको तो छूट देनी चाहिए क्योंकि अगर कोई कुछ खाएगा तो वह अपना मास्क नीचे जरूर करेगा। ऐसे में कोई उनकी तस्वीर खींचकर और चालान कर देगा तो इससे लोग परेशान हो जाएंगे।”

खान मार्केट ट्रेडर्स एसोसिएशन के अध्यक्ष संजीव मेहरा ने आईएएनएस को बताया, “मुख्यमंत्री के साथ दिल्ली के अन्य एसोसिएशन की बातचीत हुई। इस बातचीत के दौरान मुख्यमंत्री ने हम लोगों से कहा कि मैं लॉकडाउन नहीं लगाना चाहता हूं, लेकिन आप सभी लोगों का सहयोग चाहिए। आप सभी एसोसिएशन के मेंबर्स बाजारों में नियमों का पालन कराना सुनिश्चित करें और एक समय के अंतराल पर बाजार को सैनिटाइज भी कराएं।” (आईएएनएस)

Popular

उत्तर प्रदेश में ठाकुरों ने योगी आदित्यनाथ के भाजपा सरकार की बागडोर संभालने के साथ जाति के गौरव का अनुभव किया है। ( wikimedia Commons )

लगभग तीन दशकों के बाद, उत्तर प्रदेश में ठाकुरों ने योगी आदित्यनाथ के भाजपा सरकार की बागडोर संभालने के साथ जाति के गौरव का अनुभव किया है। योगी आदित्यनाथ गोरक्ष पीठ के प्रमुख भी हैं, जो एक क्षत्रिय पीठ है, इसका एक अतिरिक्त फायदा है। उत्तर प्रदेश में ठाकुर, एक शक्तिशाली समुदाय होने के बावजूद, जिसका शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में प्रभाव है, 1988 में वीर बहादुर सिंह के शासन के अंत के बाद सत्ता के गलियारों में अपनी आवाज खोजने में विफल रहे हैं। हालांकि राजनाथ सिंह 2000-2002 में मुख्यमंत्री थे, लेकिन उन्होंने अपने कार्यकाल में जानबूझकर जाति के कोण को कम करके आंका था। ठाकुर राज्य की आबादी का केवल 8 प्रतिशत हैं, लेकिन वे लगभग 50 प्रतिशत भूमि के मालिक हैं।

2017 में योगी आदित्यनाथ के मुख्यमंत्री बनने पर वह बहुत खुश थे। इस बात से इनकार नहीं किया जा सकता है कि ठाकुर समुदाय के अधिकारियों को अच्छी पोस्टिंग दी गई है, भले ही ब्राह्मण ही मुख्य सचिव जैसे उच्च पदों पर बने हुए हैं। विपक्ष ने योगी सरकार पर ठाकुर के हितों की रक्षा करने और ठाकुर अपराधियों को बचाने का आरोप लगाया है, लेकिन मुख्यमंत्री इसके बारे में अडिग हैं। योगी आदित्यनाथ, जिन्हें अधिकांश ठाकुर सम्मानपूर्वक महाराज के रूप में संबोधित करते हैं, उनको ठाकुर अधिकारों के संरक्षक के रूप में देखा जाता है।

Keep Reading Show less

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी है दुनिया के सबसे लोकप्रिय नेता ( wikimedia Commons )

अमेरिकी डेटा इंटेलिजेंस फर्म ‘द मॉर्निंग कंसल्ट’ की एक सर्वे में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अप्रूवल रेटिंग 71% दर्ज की गई है यह जानकारी 'द मॉर्निंग कंसल्ट' ने अपने ट्विटर हैंडल के जरिए साझा की है। 'द मॉर्निंग कंसल्ट' के सर्वे के मुताबिक अप्रूवल रेटिंग में प्रधानमंत्री मोदी ने अमरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन, ब्रिटिश प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन समेत दुनिया भर के 13 राष्ट्र प्रमुखों को पीछे छोड़ दिया है।

मॉर्निंग कंसल्ट’ दुनिया भर के टॉप लीडर्स की अप्रूवल रेटिंग ट्रैक करता है। मॉर्निंग कंसल्ट पॉलिटिकल इंटेलिजेंस वर्तमान में ऑस्ट्रेलिया, ब्राजील, कनाडा, फ्रांस, जर्मनी, भारत, इटली, जापान, मैक्सिको, दक्षिण कोरिया, स्पेन, यूनाइटेड किंगडम और संयुक्त राज्य अमेरिका में नेताओं की रेटिंग पर नज़र रख रही है। रेटिंग पेज को सभी 13 देशों के नवीनतम डेटा के साथ साप्ताहिक रूप से अपडेट किया जाता है।

Keep Reading Show less

अल्लू अर्जुन की नई फिल्म 'अला वैकुंठपुरमुलु' हिंदी में जल्द होगी रिलीज ( wikimedia commons )


हाल ही में रिलीज़ हुई अल्लू अर्जुन की फ़िल्म 'पुष्पा: द राइज़' को दर्शकों ने काफ़ी पसंद किया इस फ़िल्म के आने के बाद से तमिल फिल्म के अभिनेता अल्लू अर्जुन के प्रशंसकों की संख्या में काफ़ी इज़ाफ़ा हुआ है। लोग उनकी फिल्म को खूब पसंद कर रहे हैं । अब दर्शकों को अल्लू अर्जुन की नई फिल्म 'अला वैकुंठपुरमुलु' को हिंदी में रिलीज होने का इंतजार है। यह फ़िल्म भगवान विष्णु की पौराणिक कहानी से प्रेरित है।
पुष्पा की तरह फ़िल्म 'अला वैकुंठपुरमुलु' से भी दर्शक जुड़ाव महसूस करें इसके लिए मेकर्स ने इस फ़िल्म के टाइटल के मायने भी बताए।

फिल्म निर्माण कम्पनी ‘गोल्डमाइंस टेलीफिल्म्स’ ने अपने ट्विटर हैंडल पर फ़िल्म 'अला वैकुंठपुरमुलु'का मतलब बताते हुए लिखा की “अला वैकुंठपुरमुलु पोथन (मशहूर कवि जिन्होंने श्रीमद्भागवत का संस्कृत से तेलुगु में अनुवाद किया) की मशहूर पौराणिक कहानी गजेंद्र मोक्षणम की सुप्रसिद्ध पंक्ति है। भगवान विष्णु हाथियों के राजा गजेंद्र को मकरम (मगरमच्छ) से बचाने के लिए नीचे आते हैं। उसी प्रकार फिल्म में रामचंद्र के घर का नाम वैकुंठपुरम है, जहाँ बंटू (अल्लू अर्जुन) परिवार को बचाने आता है। अला वैकुंठपुरमुलू की यही खूबी है।”

Keep reading... Show less