Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×

कोविड महामारी की मार के बाद सरकार ने छह स्तंभों की पहचान की है जो भारतीय अर्थव्यवस्था को नया आधार देंगे। ये स्तंभ हैं – स्वास्थ्य, पूंजी और बुनियादी ढांचे, समावेशी विकास, मानव संसाधन, नवाचार और न्यूनतम सरकार और अधिकतम शासन। केंद्रीय बजट 2021-22 को सोमवार को पेश करते हुए वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि बजट इन छह स्तंभों पर आधारित है।


स्वास्थ्य के बुनियादी ढांचे में निवेश में पर्याप्त वृद्धि हुई है जो बढ़कर 2.23 लाख करोड़ रुपये हो गया है, जो कि पहले से 137 प्रतिशत ज्यादा है। वित्तमंत्री ने घोषणा की कि एक नई केंद्रीय योजना– ‘पीएम आत्मनिर्भर स्वस्थ स्वस्थ भारत योजना’ 64,180 करोड़ रुपये के परिव्यय के साथ छह सालों के लिए शुरू की जाएगी।

टीकों के लिए, 35,000 करोड़ रुपये का प्रावधान रखा गया है। न्यूमोनिया रोधी वैक्सीन, जो कि भारत में निर्मित उत्पाद है, इसे पूरे देश में लागू किया जाएगा, जिसका उद्देश्य सालाना 50,000 बच्चों की मौतों को रोकना है। बजट में जल आपूर्ति और स्वच्छ भारत मिशन के संपूर्ण कवरेज पर भी जोर दिया गया है।

बजट में स्वास्थय पर ध्यान दिया गया है।(Pixabay)

वित्तमंत्री ने घोषणा की कि जल जीवन मिशन (शहरी) को सभी 4,378 शहरी स्थानीय निकायों में 2.86 करोड़ घरेलू नल कनेक्शनों के साथ 500 ‘अमृत’ शहरों में लॉन्च किया जाएगा। इसे 2.87 लाख करोड़ रुपये के परिव्यय (आउटले) के साथ 5 वर्षों में लागू किया जाएगा। इसके अलावा, शहरी स्वच्छ भारत मिशन 2021-2026 तक पांच वर्षों में कुल 1.41 लाख करोड़ रुपये के वित्तीय आवंटन के साथ लागू किया जाएगा।

भौतिक और वित्तीय पूंजी और बुनियादी ढांचे के दूसरे स्तंभ में कई प्रमुख क्षेत्र हैं, जिनमें आत्मानिभर भारत-उत्पादन लिंक्ड प्रोत्साहन योजना शामिल है। सीतारमण ने कहा कि विनिर्माण को बढ़ावा देने के लिए, 13 क्षेत्रों के लिए एक आत्मनिर्भर भारत के लिए पीएलआई योजना की घोषणा की गई है। इसके लिए, सरकार ने लगभग 1.97 लाख करोड़ रुपये के व्यय का लक्ष्य रखा है।

कपड़ा उद्योग को विश्व स्तर पर प्रतिस्पर्धी बनाने के लिए निवेश को आकर्षित करने और रोजगार को बढ़ावा देने के लिए, पीएलआई योजना के अलावा मेगा इन्वेस्टमेंट टेक्सटाइल्स पार्क की एक नई योजना शुरू की जाएगी। यह निर्यात में भारत को वैश्विक चैंपियन बनाने के लिए विश्वस्तर के बुनियादी ढांचे का निर्माण करेगा। इस योजना के एक हिस्से के रूप में, तीन वर्षों में 7 टेक्सटाइल पार्क स्थापित किए जाएंगे।

सीतारमण ने कहा कि बुनियादी ढांचे के लिए दीर्घकालिक ऋण वित्तपोषण की आवश्यकता है। एक पेशेवर रूप से प्रबंधित ‘विकास वित्तीय संस्थान’ (डीएफआई) बुनियादी ढांचे के वित्तपोषण के लिए प्रदाता, प्रवर्तक और उत्प्रेरक के रूप में कार्य करना आवश्यक है। डीएफआई स्थापित करने के लिए एक विधेयक पेश किया जाएगा। सरकार ने इस संस्था को भुनाने के लिए 20,000 करोड़ रुपये दिए हैं और इसे तीन वर्षों में 5 लाख करोड़ रुपये तक ले जाने का लक्ष्य है।

सीतारमण ने सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय के लिए 1.18 लाख करोड़ रुपये का बढ़ा हुआ परिव्यय भी दिया है, जिसमें से 1.08 लाख करोड़ रुपये पूंजी के लिए है, जो अब तक का सबसे अधिक है।

अधिक सड़कें और सुचारु परिवहन पर ध्यान दिया गया है।(Pixabay)

वितरण कंपनियों की स्थिति पर गंभीर चिंता व्यक्त करते हुए वित्तमंत्री ने पांच वर्षो में 3.05 लाख करोड़ रुपये के परिव्यय के साथ परिणाम-आधारित बिजली वितरण क्षेत्र योजना शुरू करने का प्रस्ताव रखा। यह योजना बुनियादी ढांचे के निर्माण के लिए डिस्कॉम को सहायता देगी, जिसमें प्री-पेड स्मार्ट मीटरिंग और फीडर सेपरेशन, सिस्टम का अपग्रेडेशन आदि शामिल है।

वित्तीय पूंजी के लिए, सीतारमण ने सेबी अधिनियम, 1992, डिपॉजिटरी अधिनियम, 1996, प्रतिभूति संविदा (विनियमन) अधिनियम, 1956 और सरकारी प्रतिभूति अधिनियम, 2007 के प्रावधानों को तर्कसंगत एकल प्रतिभूति बाजार संहिता में तब्दील करने का प्रस्ताव दिया।

एफडीआई के लिए एक अहम फैसले में, वित्तमंत्री ने बीमा अधिनियम, 1938 में संशोधन कर एफडीआई सीमा को 49 प्रतिशत से बढ़ाकर 74 प्रतिशत करने का प्रस्ताव दिया और विदेशी स्वामित्व और सुरक्षा उपायों के साथ नियंत्रण की अनुमति दी। इसके तहत, बोर्ड में अधिकांश निदेशक और प्रमुख प्रबंधन व्यक्ति भारतीय होंगे, जिनमें कम से कम 50 प्रतिशत स्वतंत्र निदेशक होंगे और मुनाफे का एक अंश अलग से रखा जाएगा।

विनिवेश पर, वित्तमंत्री ने कहा कि बीपीसीएल, एयर इंडिया, शिपिंग कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया, कंटेनर कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया, आईडीबीआई बैंक, बीईएमएल, पवन हंस और नीलाचलस्पत निगम लिमिटेड में विनिवेश 2021-22 तक पूरे हो जाएंगे। आईडीबीआई बैंक के अलावा, सरकार ने 2021-22 में दो सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों और एक बीमा कंपनी के निजीकरण का प्रस्ताव रखा है।

2021-22 में, सरकार एलआईसी में आईपीओ लाएगी, जिसके लिए बजट सत्र में ही संशोधन किए जाएंगे।

समावेशी विकास के लिए एस्पिरेशनल इंडिया के स्तंभ के तहत, वित्तमंत्री ने कृषि और संबद्ध क्षेत्रों, किसानों के कल्याण और ग्रामीण भारत, प्रवासी श्रमिकों और वित्तीय समावेश को कवर करने की घोषणा की।

किसानों को पर्याप्त ऋण देने के लिए, सरकार ने कृषि ऋण लक्ष्य को बढ़ाकर 16.5 लाख करोड़ रुपये कर दिया है। इसी तरह, रूरल इन्फ्रास्ट्रक्च र डेवलपमेंट फंड का आवंटन 30,000 करोड़ रुपये से बढ़ाकर 40,000 करोड़ रुपये कर दिया गया है।

यह बजट किसानों के हित में बताया जा रहा है।(फाइल फोटो)

वित्तमंत्री ने कहा कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति के तहत 15,000 से अधिक स्कूलों का उन्नयन किया जाएगा।

नवाचार और अनुसंधान एवं विकास (आरएंडडी) में वित्तमंत्री ने कहा कि 2019 के अपने बजट भाषण में उन्होंने राष्ट्रीय अनुसंधान फाउंडेशन की घोषणा की थी और कहा था कि परिव्यय पांच वर्षों में 50,000 करोड़ रुपये का होगा, जो यह सुनिश्चित करेगा कि देश के समग्र अनुसंधान पारिस्थितिकी तंत्र को और मजबूत किया जाए।

यह भी पढ़ें: Union Budget 2021: बजट से फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया व्यापार मंडल नाखुश

न्यूनतम सरकार, अधिकतम शासन (मिनिमम गर्वनमेंट, मैक्सिमम गवर्नेस) पर, वित्तमंत्री ने न्यायाधिकरण (ट्राइब्यूनल) में सुधार लाने के लिए कई कदम उठाने का प्रस्ताव रखा और इसके अलावा न्यायाधिकरणों के कामकाज को तर्कसंगत बनाने के लिए और उपाय करने का प्रस्ताव दिया।(आईएएनएस)

Popular

प्रमुख हिंदू नेता और श्री नारायण धर्म परिपालन योगम के महासचिव वेल्लापल्ली नतेसन (wikimedia commons)

हमारे देश में लव जिहाद के जब मामले आते है , तब इस मुद्दे पर चर्चा जोर पकड़ती है और देश कई नेता और जनता अपनी-अपनी राय को वयक्त करते है । एसे में एक प्रमुख हिंदू नेता और श्री नारायण धर्म परिपालन योगम के महासचिव वेल्लापल्ली नतेसन ने सोमवार को एक बयान दिया जिसमें उन्होनें कहा कि यह मुस्लिम समुदाय नहीं बल्कि ईसाई हैं जो देश में धर्मांतरण और लव जिहाद में सबसे आगे हैं।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार एनडीए के सहयोगी और भारत धर्म जन सेना के संरक्षक वेल्लापल्ली नतेसन नें एक कैथोलिक पादरी द्वारा लगाए गए आरोपों पर प्रतिक्रिया दी , जिसमे कहा गया था हिंदू पुरुषों द्वारा ईसाई धर्म महिलाओं को लालच दिया जा रहा है। नतेसन नें पाला बिशप जोसेफ कल्लारंगट की एक टिप्पणी जो कि विवादास्पद "लव जिहाद" और "मादक जिहाद" की भी जमकर आलोचना की और यह कहा कि इस मुद्दे पर "मुस्लिम समुदाय को निशाना बनाना सही नहीं है"।

Keep Reading Show less

महंत नरेंद्र गिरि (Wikimedia Commons)

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि की सोमवार को संदिग्ध हालात में मौत हो गई। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि को बाघंबरी मठ स्थित उनके आवास पर श्रद्धांजलि दी। मुख्यमंत्री ने कहा कि दोषियों को जांच के बाद सजा दी जाएगी। उन्होंने कहा ''यह एक दुखद घटना है और इसी लिए अपने संत समाज की तरफ से, प्रदेश सरकार की ओर से उनके प्रति श्रद्धांजलि व्यक्त करने के लिए में स्वयं यहाँ उपस्थित हुआ हूँ। अखाड़ा परिषद और संत समाज की उन्होंने सेवा की है। नरेंद्र गिरि प्रयागराज के विकास को लेकर तत्पर रहते थे। साधु समाज, मठ-मंदिर की समस्याओं को लेकर उनका सहयोग प्राप्त होता था। उनके संकल्पों को पूरा करने की शक्ति उनके अनुयायियों को मिले''

योगी आदित्यनाथ ने कहा '' कुंभ के सफल आयोजन में नरेंद्र गिरि का बड़ा योगदान था। एक-एक घटना के पर्दाफाश होगा और दोषी अवश्य सजा पाएगा। मेरी अपील है सभी लोगों से की इस समय अनावश्यक बयानबाजी से बचे। जांच एजेंसी को निष्पक्ष रूप से कार्यक्रम को आगे बढ़ाने दे। और जो भी इसके लिए जिम्मेदार होगा उसको कानून की तहत कड़ी से कड़ी सजा भी दिलवाई जाएगी।

Keep Reading Show less

By: कम्मी ठाकुर, स्वतंत्र पत्रकार एवं स्तम्भकार, हरियाणा

केजरीवाल सरकार की झूठ, फरेब, धूर्तता और भ्रष्टाचार की पोल खोलता 'बोल रे दिल्ली बोल' गीतरुपी शब्दभेदी बाण एकदम सटीक निशाने पर लगा है। सुभाष, आजाद, भगतसिंह जैसे आजादी के अमर शहीद क्रांतिकारियों के नाम व चेहरों को सामने रखकर जनता को बेवकूफ बना सुशासन ईमानदारी और पारदर्शिता का सब्जबाग दिखाकर सत्ता पर काबिज हुए अरविंद केजरीवाल की आम आदमी पार्टी सरकार आज पूरी तरह से मुस्लिम तुष्टिकरण, भ्रष्टाचार, कुशासन एवं कुव्यवस्था के दल-दल में धंस चुकी है। आज केजरीवाल का चाल, चरित्र और चेहरा पूरी तरह से बेनकाब हो चुका है। दिल्ली में कोविड-19 के दौरान डॉक्टरों सहित सैकड़ों विभिन्न धर्म-संप्रदाय के मेडिकल स्टाफ के लोगों ने बतौर कोरोना योद्धा अपनी जाने गंवाई थी। लेकिन उन सब में केजरीवाल के चश्मे में केवल मुस्लिम डॉक्टर ही नजर आया, जिसके परिजनों को 'आप सरकार' ने एक करोड़ की धनराशि का चेक भेंट किया। किंतु बाकी किसी को नहीं बतौर मुख्यमंत्री यह मुस्लिम तुष्टिकरण, असंगति, पक्षपात आखिर क्यों ?

Keep reading... Show less