Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
खेल

श्रीजेश : पीटी ऊषा को दौड़ते देख प्रेरित हुआ करता था

भारतीय हॉकी टीम के गोलकीपर पीआर श्रीजेश ने कहा है कि ओलंपिक खेलना हमेशा से उनका सपना रहा है और वह अपने बचपन के दिनों मे धाविका पीटी ऊषा को दौड़ते देख प्रेरित हुआ करते थे।

भारतीय हॉकी टीम के गोलकीपर पीआर श्रीजेश(instagram , Sreejesh Parattu Raveendran)

 भारतीय हॉकी टीम के गोलकीपर पीआर श्रीजेश ने कहा है कि ओलंपिक खेलना हमेशा से उनका सपना रहा है और वह अपने बचपन के दिनों मे धाविका पीटी ऊषा को दौड़ते देख प्रेरित हुआ करते थे। हाकी टीम के साथ टोक्यो पहुंच चुके श्रीजेश ने यह भी कहा कि कहा कि वह ओलंपिक में भारत का प्रतिनिधित्व करने का सपना देखते हुए बड़े हुए हैं। विश्व के टॉप गोलकीपरों में शुमार केरल निवासी श्रीजेश ने कहा, मेरी शुरूआती ओलंपिक स्मृति पीटी उषा की थी और क्योंकि मैं केरल से आता हूं, हर घर उसका नाम जानता था और हम सब जानते हैं कि वह ओलंपिक में पदक जीतने के कितने करीब आ गई थी। हॉकी में, मैंने धनराज पिल्लै को देखा और बारीकी से उनके करियर का अनुसरण किया।

हालांकि श्रीजेश ने 2006 में अंतरराष्ट्रीय हॉकी में पदार्पण किया था, लेकिन उन्हें ओलंपिक में भारत का प्रतिनिधित्व करने के लिए छह साल और इंतजार करना पड़ा।


श्रीजेश ने कहा, दुर्भाग्य से, हम 2008 में बीजिंग के लिए क्वालीफाई नहीं कर पाए और हॉकी उन दिनों वास्तविक मंदी का सामना कर रही थी। लेकिन चीजें बेहतर हुईं। 2008 और 2012 के बीच, पहला बड़ा लक्ष्य लंदन ओलंपिक के लिए क्वालीफाई करना था। हालांकि हमारा प्रदर्शन निराशाजनक रहा। वहां, कोर ग्रुप में बने रहने वाले खिलाड़ी जानते थे कि हमें स्तर को ऊंचा करना होगा और एशिया में एक प्रमुख टीम बनने पर ध्यान केंद्रित करना होगा।”

भारत की दिग्धागज विका पीटी ऊषा(wikimedia commons)

ओलंपिक में भारत के लिए तीसरी बार हिस्सा लेने जा रहे गोलकीपर ने कहा, हमने 2014 के एशियाई खेलों और रियो ओलंपिक के लिए सीधी योग्यता हासिल करने का लक्ष्य रखा था और हम इसे हासिल करने में सफल रहे थे।

श्रीजेश ने कहा कि ओलंपिक के लिए टोक्यो पहुंचने के बाद टीम में शामिल खिलाड़ियों में जबरदस्त उत्साह है और वह अब मैचों के लिए इंतजार नहीं कर सकती।

श्रीजेश ने कहा, यह वह क्षण है जिसका हम सभी इंतजार कर रहे थे। हम मैचों के साथ आगे बढ़ने और अपना सर्वश्रेष्ठ देने और मैच-दर-मैच अपनी गति बनाने के लिए इंतजार नहीं कर सकते।”

श्रीजेश मानते हैं कि इस बार मुकाबला काफी करीबी होगा क्योंकि इस बार कोई भी सम्भावित विजेता की भविष्यवाणी करता नहीं दिख रहा है।

बकौल श्रीजेश, “मुझे लगता है कि कोई भी इस बार किसी भी टीम की भविष्यवाणी नहीं कर सकता है। सिर्फ इसलिए कि हमने पिछले 15 महीनों में एक-दूसरे को खेलते हुए नहीं देखा है। बहुत सारे आश्चर्य भी हो सकते हैं और हम इसके लिए मानसिक रूप से तैयार हैं।

ग्रुप-ए में पूल की गई भारतीय पुरुष टीम 24 जुलाई को न्यूजीलैंड के खिलाफ अपने अभियान की शुरूआत करेगी।

यह भी पढ़े : बायो-बबल पर कुलदीप यादव ने माना, बिना खेले इसमें रहना काफी मुश्किल .

श्रीजेश ने टीम की रणनीति पर कहा, हमें संयम रखते हुए शुरूआती मैच में अच्छा प्रदर्शन करने की जरूरत है। एक मजबूत शुरूआत के लिए ओलंपिक जैसे टूर्नामेंट में काफी महत्वपूर्ण है। यह ग्रुप चरण में अन्य मैचों के लिए सही गति प्रदान करेगा। (आईएएनएस-PS)

Popular

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री और गोरक्षनाथ पीठाधीश्वर योगी आदित्यनाथ (VOA)

बसपा प्रमुख मायावती(Mayawati) की रविवार को टिप्पणी, गोरखनाथ मंदिर की तुलना एक "बड़े बंगले" से करने पर, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ(Yogi Adityanath) ने तत्काल प्रतिक्रिया दी, जिन्होंने उन्हें मंदिर जाने और शांति पाने के लिए आमंत्रित किया।

मुख्यमंत्री, जो मंदिर के महंत भी हैं, ने ट्विटर पर निशाना साधते हुए कहा - "बहन जी, बाबा गोरखनाथ ने गोरखपुर के गोरक्षपीठ में तपस्या की, जो ऋषियों, संतों और स्वतंत्रता सेनानियों की यादों से अंकित है। यह हिंदू देवी-देवताओं का मंदिर है। सामाजिक न्याय का यह केंद्र सबके कल्याण के लिए कार्य करता रहा है। कभी आओ, तुम्हें शांति मिलेगी, ”उन्होंने कहा।

Keep Reading Show less

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया (Wikimedia Commons)

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री(Union Health Minister) मनसुख मंडाविया(Mansukh Mandaviya) ने सोमवार को 40 लाख से अधिक लाभार्थियों के लिए स्वास्थ्य सेवाओं और टेली-परामर्श सुविधा तक आसान पहुंच प्रदान करने के उद्देश्य से एक नया सीजीएचएस वेबसाइट और मोबाइल ऐप लॉन्च किया।

टेली-परामर्श की नई प्रदान की गई सुविधा के साथ, केंद्र सरकार स्वास्थ्य योजना (Central Government Health Scheme) के लाभार्थी सीधे विशेषज्ञ की सलाह ले सकते हैं, उन्होंने कहा।

Keep Reading Show less

झारखंड के खेतों में उपजायी जा रही फसलें और यहां के किसानों की सफलता की खुशबू अब देश-दुनिया तक पहुंच रही है (Wikimedia Commons)

झारखंड(Jharkhand) के खेतों में उपजायी जा रही फसलें और यहां के किसानों की सफलता की खुशबू अब देश-दुनिया तक पहुंच रही है। ये वही किसान हैं, जो कभी खेतों में सालों भर पसीने बहाकर और अपना खून सुखाकर भी फसलों को औने-पौने भाव में बेचने को मजबूर होते थे। तकनीक की समझ और इंटरनेट के जरिए घर बैठे देश-दुनिया के कोने-कोने में संपर्क साधने की सहुलियत गांवों तक पहुंची तो किसानों की जिंदगी भी बदल रही है। सबसे सुखद पहलू यह कि बदलाव और कामयाबी की इन नई कहानियों में महिलाओं का किरदार बेहद अहम है।

हजारीबाग(Hazaribag) जिले के उग्रवाद प्रभावित चुरचू प्रखंड की सात हजार महिला किसानों के एक समूह की कहानी किसी को भी चमत्कृत कर सकती है। 2017 में यहां की दस महिला किसानों ने एक समूह बनाया और एक साथ मिलकर खेती की शुरूआत की। धीरे-धीरे इस समूह से जुड़नेवाली महिला किसानों की संख्या बढ़ती गयी और इसके बाद 2018 में चुरचू नारी ऊर्जा फार्मर प्रोड्यूसर कंपनी लिमिटेड की शुरूआत हुई।

Keep reading... Show less