मौसम विभाग: चक्रवाती तूफान 'सितरांग' पश्चिम बंगाल-बांग्लादेश तटों की ओर बढ़ेगा

ओडिशा के तटीय जिलों में 24 अक्टूबर की सुबह से सिस्टम से जुड़ी बारिश की संभावना है।
मौसम विभाग: 'सितरांग' पश्चिम बंगाल-बांग्लादेश तटों की ओर
मौसम विभाग: 'सितरांग' पश्चिम बंगाल-बांग्लादेश तटों की ओरIANS

भारत मौसम विज्ञान विभाग (India Meteorological Department) ने गुरुवार को ओडिशा के लिए एक बड़ी राहत देते हुए कहा कि चक्रवाती तूफान 'सितरांग' ओडिशा तट को पार कर पश्चिम बंगाल-बांग्लादेश तटों की ओर बढ़ जाएगा। एक बुलेटिन में, आईएमडी के भुवनेश्वर केंद्र ने कहा कि गुरुवार सुबह उत्तरी अंडमान सागर (Andaman Sea) और दक्षिण अंडमान सागर और दक्षिण-पूर्व बंगाल की खाड़ी के आसपास के क्षेत्रों में एक कम दबाव का क्षेत्र बना था।

इसके पश्चिम-उत्तर-पश्चिम की ओर बढ़ने और 22 अक्टूबर के आसपास पूर्व मध्य और उससे सटे दक्षिण-पूर्व बंगाल की खाड़ी पर डिप्रेशन में और 23 अक्टूबर को डीप डिप्रेशन में केंद्रित होने की संभावना है।

इसके बाद, सिस्टम के उत्तर की ओर मुड़ने और 24 अक्टूबर तक पश्चिम-मध्य और उससे सटे पूर्वी मध्य बंगाल की खाड़ी के ऊपर एक चक्रवाती तूफान में बदलने की संभावना है। मौसम केंद्र ने कहा कि 25 अक्टूबर को ओडिशा के तट को पार करते हुए इसके धीरे-धीरे उत्तर-पूर्व की ओर बढ़ने और पश्चिम बंगाल-बांग्लादेश तटों के पास पहुंचने की संभावना है।

भारत मौसम विभाग प्रशिक्षण केंद्र
भारत मौसम विभाग प्रशिक्षण केंद्रWikimedia

मौसम विभाग ने 23 अक्टूबर की सुबह तक कोई बड़ी मौसम चेतावनी जारी नहीं की है। हालांकि, ओडिशा के तटीय जिलों में 24 अक्टूबर की सुबह से सिस्टम से जुड़ी बारिश की संभावना है।

इसके प्रभाव से 23 अक्टूबर को केंद्रपाड़ा, जगतसिंहपुर और पुरी जिलों में एक या दो स्थानों पर और बालासोर, भद्रक, केंद्रपाड़ा, जगतसिंहपुर, मयूरभंज, जाजपुर, कटक, खोरदा जिलों में एक या दो स्थानों पर और अगले दिन पुरी में भारी बारिश (7 से 11 सेमी) होगी।

चूंकि समुद्र में ऊंची लहरें उठने की संभावना है, इसलिए मछुआरों को सलाह दी जाती है कि वे 23 अक्टूबर से मध्य बंगाल की खाड़ी के गहरे समुद्र क्षेत्र में और ओडिशा तट से दूर अगली सूचना तक न जाएं। गहरे समुद्र में रहने वाले मछुआरों को 22 अक्टूबर तक तट पर लौटने की सलाह दी गई है।

आईएएनएस/RS

Related Stories

No stories found.
hindi.newsgram.com