Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
इतिहास

भारत की अमर वीरांगना ‘हाड़ी रानी’!

आज हम एक ऐसी वीरांगना की गाथा को पढ़ेंगे जिन्होंने अपने पति को प्रेम बंधन से मुक्त करने के लिए स्वम का शीश रणभूमि में निशानी के तौर पर भेजा था।

हाड़ी रानी की वीरता को आज भी एक मिसाल के रूप में सुनाया जाता है।(फाइल फोटो)

‘भारत’ एक ऐसा देश है जहाँ महिलाओं को माँ दुर्गा के शक्ति के रूप में पूजा जाता है, जहाँ वीरांगनाओं ने अपने शौर्य के झंडे गाड़े हैं। उसी वीर भूमि भारत की एक और वीरांगना की गाथा आपके सामने लाया हूँ, जिन्होंने अपने पति को अपनी सौंदर्य से मोह भंग न हो, इसलिए अपना शीश रणभूमि में निशानी के तौर पर भिजवा दिया था। इन वीरांगना का नाम है ‘हाड़ी रानी’। जिनकी गाथा को आज भी एक शौर्य प्रतीक के रूप में सुनाया जाता है।

हाड़ी रानी बूंदी रियासत के हाड़ा सरदार की बेटी थीं, जिनका विवाह मेवाड़ के सलूम्बर ठिकाने के रावल रतन सिंह चूंडावत से हुआ था। रावल चूंडावत से महज एक सप्ताह ही विवाह को हुआ था, और इसी बीच रावल को राणा राज सिंह का मुग़ल शासक औरंगज़ेब के खिलाफ युद्धभूमि में उतरने का फरमान मिला। इस समय रानी के हाथों में लगी मेहंदी का रंग भी नहीं सूखा था, विवाह के प्रेम को पूर्ण रूप से भी नहीं जिया था और रावल को युद्ध भूमि में उतरने का पत्र प्राप्त हुआ। 


राणा राज सिंह ने पत्र में लिखा था कि “हे वीर! अविलंब अपनी सैन्य टुकड़ी को लेकर औरंगजेब की सेना को रोको। मुसलमान सेना उसकी(औरंगजेब) सहायता को आगे बढ़ रही है। इस समय औरंगजेब को मैं घेरे हुए हूं। उसकी सहायता को बढ़ रही फौज को कुछ समय के लिए उलझाकर रखना है ताकि वह शीघ्र ही आगे न बढ़ सके। तुम इस कार्य को बड़ी कुशलता से कर सकते हो। यह एक खतरनाक काम है और जान की बाजी भी लगानी पड़ सकती है। किन्तु, मुझे तुम पर भरोसा है।”

रावल का मन विचलित हो उठा था, किन्तु ‘कर्तव्य आगे भावनाओं का कोई महत्व नहीं’ यह बात भी हाड़ी रानी को भलीभांति ज्ञात थी। जिस वजह से रानी ने रावल को उनके कर्तव्य और देश भक्ति के भावनाओं को ज्ञात कराते हुए युद्धभूमि में उतरने की ऊर्जा भरी।

रावल रतन सिंह को औरंगज़ेब पर आक्रमण के लिए राणा राज सिंह सिंह फरमान मिला। (काल्पनिक चित्र, Unsplash)

रावल रतन सिंह युद्ध भूमि के लिए कूंच कर चुके थे, किन्तु उनका मन अब भी पत्नी मोह से नहीं हट पा रहा था और इसलिए वह बार-बार हाड़ी रानी को याद कर रहे थे। इसी बीच रावल ने अपने विश्वसनीय दूत को रानी की एक निशानी लाने के लिए पुनः महल भेजा। जब हाड़ी रानी ने दूत से उसके आने का कारण पूछा, तब रानी समझ गईं कि रावल मेरे प्रेम मोह से नहीं हट पाए हैं। किन्तु, युद्ध भूमि में प्रेम और मोह दोनों दुश्मन से भी ज्यादा खतरनाक होते हैं। इसलिए रानी ने वह कदम उठाया जिसकी न तो रावल ने कल्पना की थी और न ही निशानी लेने आए दूत ने। रानी ने दूत से कहा कि मैं तुम्हे एक ऐसी निशानी सौंप रही हूँ, जो रावल तक सजे थाल में जाए और साथ ही एक खत भी दे रही हूँ। इतना कहते ही हाड़ी रानी ने खत लिखा और खत लिखने के तत्पश्चात ही अपने तलवार से अपने ही हाथों खुद का सर धड़ से अलग कर दिया और राजा को प्रेम बंधनों से मुक्त कर दिया। 

पत्र में लिखा था कि “स्वामी, मैं आपको अपनी अंतिम और प्रिय निशानी भेज रही हूं। आपको सभी बंधनों से मुक्त कर रही हूं। अब आप निर्भीक होकर अपने कर्तव्य का पालन करें। हमारा मिलन अब स्वर्ग में ही होगा।”

यह भी पढ़ें: यह शौर्य गाथा है शहीद वीरांगना रानी अवंतीबाई की

रावल का दूत जिस समय रानी का शीश थाल में लाया उस समय रावल सन्न रह गए। उनके लिए अपनी मृत पत्नी का शीश देख पाना अमंभव हो रहा था। उन्होंने हाड़ी रानी को ऐसा करने पर कोसा, साथ ही खुद को भी कोसा कि क्यों वह युद्ध भूमि में आए। किन्तु जब रानी द्वारा लिखे खत को रावल में पढ़ा तब उन्हें अपने कर्तव्यों का ज्ञात हुआ। उन्होंने दुश्मनों को ही इस मृत्यु का दोषी माना और घायल मगर खूंखार सिंह की भांति मुग़ल सेना पर टूट पड़े। रावल के भीतर मानों हाड़ी रानी समा गई थीं जो अपने मृत्यु का प्रतिशोध मुग़लों से ले रही थीं। अंतिम क्षण तक रावल ने मुग़लों से लोहा लिया और उन्हें पीठ दिखाकर भागने पर मजबूर कर दिया। माना जाता है कि इस लड़ाई में विजय हाड़ी रानी की हुई थी और इसलिए हाड़ी रानी के लिए यह कविता बेहद प्रसिद्ध है जिसका एक अंश है कि-

‘ चूंडावत मांगी सैनाणी, सिर काट दे दियो क्षत्राणी’ 

हाड़ी रानी के शौर्य के उपलक्ष में कई लोक-गीत और कविताएं प्रसिद्ध हैं, किन्तु आज के भावी भविष्य को न तो इस स्वर्ण इतिहास के विषय में ज्ञान है और न ही इस इतिहास को किसी भी किताबों में जगह मिली है। यही कारण है कि आज के युवाओं को मुग़लों की पुश्तें याद हैं किन्तु भारत के हिन्दू वीर-वीरांगनाओं के विषय में कोई ज्ञान नहीं।  

Popular

प्रमुख हिंदू नेता और श्री नारायण धर्म परिपालन योगम के महासचिव वेल्लापल्ली नतेसन (wikimedia commons)

हमारे देश में लव जिहाद के जब मामले आते है , तब इस मुद्दे पर चर्चा जोर पकड़ती है और देश कई नेता और जनता अपनी-अपनी राय को वयक्त करते है । एसे में एक प्रमुख हिंदू नेता और श्री नारायण धर्म परिपालन योगम के महासचिव वेल्लापल्ली नतेसन ने सोमवार को एक बयान दिया जिसमें उन्होनें कहा कि यह मुस्लिम समुदाय नहीं बल्कि ईसाई हैं जो देश में धर्मांतरण और लव जिहाद में सबसे आगे हैं।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार एनडीए के सहयोगी और भारत धर्म जन सेना के संरक्षक वेल्लापल्ली नतेसन नें एक कैथोलिक पादरी द्वारा लगाए गए आरोपों पर प्रतिक्रिया दी , जिसमे कहा गया था हिंदू पुरुषों द्वारा ईसाई धर्म महिलाओं को लालच दिया जा रहा है। नतेसन नें पाला बिशप जोसेफ कल्लारंगट की एक टिप्पणी जो कि विवादास्पद "लव जिहाद" और "मादक जिहाद" की भी जमकर आलोचना की और यह कहा कि इस मुद्दे पर "मुस्लिम समुदाय को निशाना बनाना सही नहीं है"।

Keep Reading Show less

महंत नरेंद्र गिरि (Wikimedia Commons)

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि की सोमवार को संदिग्ध हालात में मौत हो गई। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि को बाघंबरी मठ स्थित उनके आवास पर श्रद्धांजलि दी। मुख्यमंत्री ने कहा कि दोषियों को जांच के बाद सजा दी जाएगी। उन्होंने कहा ''यह एक दुखद घटना है और इसी लिए अपने संत समाज की तरफ से, प्रदेश सरकार की ओर से उनके प्रति श्रद्धांजलि व्यक्त करने के लिए में स्वयं यहाँ उपस्थित हुआ हूँ। अखाड़ा परिषद और संत समाज की उन्होंने सेवा की है। नरेंद्र गिरि प्रयागराज के विकास को लेकर तत्पर रहते थे। साधु समाज, मठ-मंदिर की समस्याओं को लेकर उनका सहयोग प्राप्त होता था। उनके संकल्पों को पूरा करने की शक्ति उनके अनुयायियों को मिले''

योगी आदित्यनाथ ने कहा '' कुंभ के सफल आयोजन में नरेंद्र गिरि का बड़ा योगदान था। एक-एक घटना के पर्दाफाश होगा और दोषी अवश्य सजा पाएगा। मेरी अपील है सभी लोगों से की इस समय अनावश्यक बयानबाजी से बचे। जांच एजेंसी को निष्पक्ष रूप से कार्यक्रम को आगे बढ़ाने दे। और जो भी इसके लिए जिम्मेदार होगा उसको कानून की तहत कड़ी से कड़ी सजा भी दिलवाई जाएगी।

Keep Reading Show less

By: कम्मी ठाकुर, स्वतंत्र पत्रकार एवं स्तम्भकार, हरियाणा

केजरीवाल सरकार की झूठ, फरेब, धूर्तता और भ्रष्टाचार की पोल खोलता 'बोल रे दिल्ली बोल' गीतरुपी शब्दभेदी बाण एकदम सटीक निशाने पर लगा है। सुभाष, आजाद, भगतसिंह जैसे आजादी के अमर शहीद क्रांतिकारियों के नाम व चेहरों को सामने रखकर जनता को बेवकूफ बना सुशासन ईमानदारी और पारदर्शिता का सब्जबाग दिखाकर सत्ता पर काबिज हुए अरविंद केजरीवाल की आम आदमी पार्टी सरकार आज पूरी तरह से मुस्लिम तुष्टिकरण, भ्रष्टाचार, कुशासन एवं कुव्यवस्था के दल-दल में धंस चुकी है। आज केजरीवाल का चाल, चरित्र और चेहरा पूरी तरह से बेनकाब हो चुका है। दिल्ली में कोविड-19 के दौरान डॉक्टरों सहित सैकड़ों विभिन्न धर्म-संप्रदाय के मेडिकल स्टाफ के लोगों ने बतौर कोरोना योद्धा अपनी जाने गंवाई थी। लेकिन उन सब में केजरीवाल के चश्मे में केवल मुस्लिम डॉक्टर ही नजर आया, जिसके परिजनों को 'आप सरकार' ने एक करोड़ की धनराशि का चेक भेंट किया। किंतु बाकी किसी को नहीं बतौर मुख्यमंत्री यह मुस्लिम तुष्टिकरण, असंगति, पक्षपात आखिर क्यों ?

Keep reading... Show less