Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
होम

कोविड के दौर में छात्रों को चिड़चिड़ापन, बेचैनी और घबराहट से बचाने की पहल

कोरोना महामारी पूरे विश्व समुदाय के लिए एक चुनौतीपूर्ण समय है। शिक्षा के क्षेत्र में जहां एक तरफ छात्र-छात्राएं दूरस्थ शिक्षा के 'फिर से सामान्य' का पालन कर रहे हैं, वहीं दूसरी ओर उनमें चिड़चिड़ापन, बेचैनी और घबराहट भी बढ़ गई है।

घर में अधिक रहने के कारण बच्चे इन दिनों काफी परेशान है । ( Pixabay )

कोरोना महामारी पूरे विश्व समुदाय के लिए एक चुनौतीपूर्ण समय है। शिक्षा के क्षेत्र में जहां एक तरफ छात्र-छात्राएं दूरस्थ शिक्षा के ‘फिर से सामान्य’ का पालन कर रहे हैं, वहीं दूसरी ओर उनमें चिड़चिड़ापन, बेचैनी और घबराहट भी बढ़ गई है। ऐसे में खास तौर पर किशोरावस्था के छात्रों को मानसिक तौर पर तनाव मुक्त बनाए रखने के लिए शिक्षा मंत्रालय प्रयास कर रहा है। छात्रों को मानसिक तनाव से उबरने के लिए शिक्षा मंत्रालय ने कोविड-19 के दौरान और उसके बाद छात्रों, शिक्षकों और उनके परिवारों के लिए मनोवैज्ञानिक एवं अन्य मानसिक स्वास्थ्य पेशेवरों द्वारा संपर्क परामर्श एवं मार्गदर्शन के लिए इंटरएक्टिव ऑनलाइन चैट प्लेटफॉर्म भी शुरू किए हैं। शिक्षा मंत्रालय ने मनोदर्पण नामक एक पहल भी की है। इसमें कोविड महामारी के दौरान और उसके बाद छात्रों शिक्षकों और उनके परिवारों के मानसिक स्वास्थ्य और भावनात्मक कल्याण के लिए मनोवैज्ञानिक सहायता दी जा रही है।

केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ ने छात्रों के लिए शुरू गई विभिन्न योजनाओं जैसे निष्ठा व मनोदर्पण के बारे में बताते हुए कहा, “इन उद्देश्यों को मनोदर्पण पहल के विस्तार के रूप में शामिल किया है। यह पूरे भारत में छात्रों, शिक्षकों और परिवारों को मनोवैज्ञानिक सहायता प्रदान करने में प्रधानमंत्री के आत्मनिर्भर भारत अभियान का एक हिस्सा है। यह सामाजिक-भावनात्मक भलाई के तत्वों से भी जुड़ा हुआ है जैसा कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति, 2020 में भी निहित है।” इसके अलावा भिन्न-भिन्न योजनाओं जैसे ‘डिजिटल इंडिया’, ‘फिट इंडिया’ और ‘स्किल इंडिया’ के द्वारा भी छात्रों को यथोचित सहायता दी जा रही है।

यह भी पढ़ें : हैदराबाद : भारत की वैक्सीन राजधानी


किशोरों के लिए क्या है आवश्यक ?

केंद्रीय शिक्षा मंत्री ने कहा, “किशोरावस्था एक ऐसा समय होता है, जब हमारे बच्चे यह समझना शुरू करते हैं कि वह कौन है और क्या बनना चाहते हैं। बच्चे कुछ कर दिखाने के जुनून के साथ अपनी एक पहचान बनाने का प्रयास करते हैं। किशोरावस्था में करियर के विकल्प ढूंढना, सार्थक संबंध बनाने और बनाए रखने के लिए प्रयास, तकनीकी विकास के साथ आगे बढ़ने का कौशल व व्यवहार जैसी अन्य चीजें विकसित होती हैं। इसलिए एक राष्ट्र के रूप में उनकी राय और सिफारिशों को सुनना और समझना हमारा कर्तव्य है।”

उन्होंने आगे कहा कि किशोरों के लिए यह आवश्यक है कि वह 21वीं सदी के कौशल को विकसित करें, जिसमें तीन मुख्य कौशल शामिल हों। शिक्षण कौशल यानी नए ज्ञान के अधिग्रहण करने के लिए आवश्यक कौशल, जीवन कौशल यानि रोजमर्रा की जिंदगी को सफलतापूर्वक आगे बढ़ाने के लिए आवश्यक कौशल व साक्षरता कौशल यानी जो पढ़ने, मीडिया और डिजिटल संसाधनों के नए ज्ञान को बनाने और प्राप्त करने में मदद करता है। उन्होंने कहा, “मेरा मानना है कि अंतर्राष्ट्रीय किशोर सम्मेलन भी लैंगिक संवेदनशीलता, पारिवारिक संबंध और संचार, मीडिया साक्षरता जैसे अन्य किशोर संबंधी समझ को सुविधाजनक बनाने का प्रयास करेगा।”

केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल । ( PIB )


नई शिक्षा नीति

नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति में किशोरों के लिए दिए गए प्रावधानों के बारे में निशंक ने कहा, “यह शिक्षा नीति कैपिसिटी बिल्डिंग पर फोकस करती है। कैपिसिटी बिल्डिंग से नेशन बिल्डिंग का फार्मूला ही है जो हमें सशक्त बनाएगा। चाहे छात्रों की कैपिसिटी बिल्डिंग हो या फिर शिक्षकों की या फिर संस्थानों की सभी का साथ लिए बिना व सभी को विस्तार दिए बिना नेशन बिल्डिंग का काम संभव नहीं है।”


यह भी पढ़ें : गूगल ने सभी अमेरिकी कर्मचारियों को मुफ्त साप्ताहिक कोविड टेस्ट सुविधा दी

डॉ. निशंक ने कहा, “मुझे पूरा विश्वास है कि कश्मीर से कन्याकुमारी तक तथा कच्छ से अरुणाचल तक सभी छात्रों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा मिलेगी। देश का हर छात्र शिक्षित मानव संपदा के रूप में एक ताकत बनकर आत्मनिर्भर, शिक्षित और सशक्त भारत के निर्माण में एक निर्णायक भूमिका निभाएगा। इसके अलावा मुझे यह भी विश्वास है सभी के सहयोग, समन्वय, सहभागिता और नेतृत्व से हम शिक्षा नीति का सफलतापूर्वक क्रियान्वयन कर पाएंगे और भारत एक वैश्विक ज्ञान की महाशक्ति के रूप में उभरेगा।” (आईएएनएस)

Popular

बॉलीवुड अभिनेता ऋतिक रौशन।(Wikimedia Commons)

बॉलीवुड के सबसे हैंडसम एक्टर कहे जाने वाले ऋतिक रोशन अपने बेहतरीन लुक्स के अलावा कमाल के नृत्य कौशल के लिए भी अक्सर सुर्ख़ियों में रहते हैं।

सोशल मीडिया पर वे अक्सर अपने फैंस के लिए वीडियोज शेयर करते रहते हैं। हाल ही में उन्होंने अपने वर्कआउट सेशन के दौरान के वीडियो इंस्टाग्राम पर शेयर किया जो देखते ही देखते वायरल हो गया।

Keep Reading Show less

आईआईटी दिल्ली को उपहार में मिला 1 मिलियन अमरीकी डालर [ Wikimedia Commons]

आईआईटी दिल्ली के एक पूर्व छात्र डॉ मोहित एरोन ने आईआईटी दिल्ली को 1 मिलियन अमरीकी डालर उपहार के रूप में दिए हैं। उन्होंने यह राशि आईआईटी दिल्ली के कंप्यूटर विज्ञान और इंजीनियरिंग विभाग को दी है। आईआईटी दिल्ली के मुताबिक इस धन राशि का उपयोग संकाय की अनुसंधान गतिविधियों को प्रोत्साहन देने के लिए किया जाएगा। आईआईटी दिल्ली आगे भी कोशिश करेगा कि विभाग के स्नातक, परास्नातक और पीएचडी छात्र भारत और विदेशों में आयोजित कार्यशालाओं, प्रतिस्पर्धी कार्यक्रमों और सम्मेलनों में भाग ले सकें।

मोहित एरोन हाइपर-कन्वज्र्ड इन्फ्रास्ट्रक्चर के जनक कहे जाते हैं। मोहित आरोन स्केलेबल निर्माण के क्षेत्र में 15 से अधिक वर्षों के अनुभव के उद्यमी और व्यवसायी हैं। उन्होंने 2009 में न्यूटेनिक्स और 2013 में कोहेसिटी इंक की स्थापना की। बता दें की आज ये दोनों कंपनियां यूनिकॉर्न बन गई हैं।

2018 में डॉ एरोन को राइस विश्वविद्यालय से उत्कृष्ट इंजीनियरिंग पूर्व छात्र पुरस्कार मिला। इसके अगले साल यानि 2019 में उन्हें आईआईटी दिल्ली से विशिष्ट पूर्व छात्र पुरस्कार भी मिला।

Keep Reading Show less

निहंग सिखों ने दलित लखबीर सिंह की हत्या कर जारी किया था वीडियो (Wikimedia commons)

केंद्र सरकार द्वारा लाए गए तीनों कृषि कानून के विरोध में दिल्ली के बॉर्डरों पर बैठे किसान हटने का नाम नहीं ले रहे हैं। इसी बीच एक ऐसी खबर आई है जो अत्यंत शर्मनाक हैं। और उससे भी शर्मनाक यह है कि हत्या करने का वीडियो बनाया गया और उसे जारी भी किया गया। आप सबको याद होगा एक समय होता था जब आईएसआईएस जैसे आतंकी संगठन हत्या करने का वीडियो बनाकर जारी करते थे और हत्या करने की जिम्मेदारी भी लेते थे इसी तरह के कृत करने की कोशिश हमारे देश भारत में हुई है। अगर इसे अभी नहीं रोका गया तो ऐसी वारदातें और बढ़ सकती हैं।

अब आपको विस्तार से पूरी घटना बताते हैं। शुक्रवार को सिंधु बॉर्डर पर 35 साल के युवक जिसका नाम लखबीर सिंह है उसका मृत शव मिला। वह एक दलित मजदूर था। लखबीर सिंह की हत्या इतनी बर्बरता से की गई थी कि उसका एक हाथ और एक पैर कटा हुआ पाया गया और सबसे जरूरी बात यह की शव संयुक्त किसान मोर्चा के मंच के पास से मिला था। जिस कारण किसान आंदोलन और किसान नेताओ का कटघरे में खड़े होना तो तय हैं।

Keep reading... Show less