Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
ज़रूर पढ़ें

कोविड के दौर में छात्रों को चिड़चिड़ापन, बेचैनी और घबराहट से बचाने की पहल

कोरोना महामारी पूरे विश्व समुदाय के लिए एक चुनौतीपूर्ण समय है। शिक्षा के क्षेत्र में जहां एक तरफ छात्र-छात्राएं दूरस्थ शिक्षा के 'फिर से सामान्य' का पालन कर रहे हैं, वहीं दूसरी ओर उनमें चिड़चिड़ापन, बेचैनी और घबराहट भी बढ़ गई है।

घर में अधिक रहने के कारण बच्चे इन दिनों काफी परेशान है । ( Pixabay )

कोरोना महामारी पूरे विश्व समुदाय के लिए एक चुनौतीपूर्ण समय है। शिक्षा के क्षेत्र में जहां एक तरफ छात्र-छात्राएं दूरस्थ शिक्षा के ‘फिर से सामान्य’ का पालन कर रहे हैं, वहीं दूसरी ओर उनमें चिड़चिड़ापन, बेचैनी और घबराहट भी बढ़ गई है। ऐसे में खास तौर पर किशोरावस्था के छात्रों को मानसिक तौर पर तनाव मुक्त बनाए रखने के लिए शिक्षा मंत्रालय प्रयास कर रहा है। छात्रों को मानसिक तनाव से उबरने के लिए शिक्षा मंत्रालय ने कोविड-19 के दौरान और उसके बाद छात्रों, शिक्षकों और उनके परिवारों के लिए मनोवैज्ञानिक एवं अन्य मानसिक स्वास्थ्य पेशेवरों द्वारा संपर्क परामर्श एवं मार्गदर्शन के लिए इंटरएक्टिव ऑनलाइन चैट प्लेटफॉर्म भी शुरू किए हैं। शिक्षा मंत्रालय ने मनोदर्पण नामक एक पहल भी की है। इसमें कोविड महामारी के दौरान और उसके बाद छात्रों शिक्षकों और उनके परिवारों के मानसिक स्वास्थ्य और भावनात्मक कल्याण के लिए मनोवैज्ञानिक सहायता दी जा रही है।

केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ ने छात्रों के लिए शुरू गई विभिन्न योजनाओं जैसे निष्ठा व मनोदर्पण के बारे में बताते हुए कहा, “इन उद्देश्यों को मनोदर्पण पहल के विस्तार के रूप में शामिल किया है। यह पूरे भारत में छात्रों, शिक्षकों और परिवारों को मनोवैज्ञानिक सहायता प्रदान करने में प्रधानमंत्री के आत्मनिर्भर भारत अभियान का एक हिस्सा है। यह सामाजिक-भावनात्मक भलाई के तत्वों से भी जुड़ा हुआ है जैसा कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति, 2020 में भी निहित है।” इसके अलावा भिन्न-भिन्न योजनाओं जैसे ‘डिजिटल इंडिया’, ‘फिट इंडिया’ और ‘स्किल इंडिया’ के द्वारा भी छात्रों को यथोचित सहायता दी जा रही है।

यह भी पढ़ें : हैदराबाद : भारत की वैक्सीन राजधानी


किशोरों के लिए क्या है आवश्यक ?

केंद्रीय शिक्षा मंत्री ने कहा, “किशोरावस्था एक ऐसा समय होता है, जब हमारे बच्चे यह समझना शुरू करते हैं कि वह कौन है और क्या बनना चाहते हैं। बच्चे कुछ कर दिखाने के जुनून के साथ अपनी एक पहचान बनाने का प्रयास करते हैं। किशोरावस्था में करियर के विकल्प ढूंढना, सार्थक संबंध बनाने और बनाए रखने के लिए प्रयास, तकनीकी विकास के साथ आगे बढ़ने का कौशल व व्यवहार जैसी अन्य चीजें विकसित होती हैं। इसलिए एक राष्ट्र के रूप में उनकी राय और सिफारिशों को सुनना और समझना हमारा कर्तव्य है।”

उन्होंने आगे कहा कि किशोरों के लिए यह आवश्यक है कि वह 21वीं सदी के कौशल को विकसित करें, जिसमें तीन मुख्य कौशल शामिल हों। शिक्षण कौशल यानी नए ज्ञान के अधिग्रहण करने के लिए आवश्यक कौशल, जीवन कौशल यानि रोजमर्रा की जिंदगी को सफलतापूर्वक आगे बढ़ाने के लिए आवश्यक कौशल व साक्षरता कौशल यानी जो पढ़ने, मीडिया और डिजिटल संसाधनों के नए ज्ञान को बनाने और प्राप्त करने में मदद करता है। उन्होंने कहा, “मेरा मानना है कि अंतर्राष्ट्रीय किशोर सम्मेलन भी लैंगिक संवेदनशीलता, पारिवारिक संबंध और संचार, मीडिया साक्षरता जैसे अन्य किशोर संबंधी समझ को सुविधाजनक बनाने का प्रयास करेगा।”

केंद्रीय शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल । ( PIB )


नई शिक्षा नीति

नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति में किशोरों के लिए दिए गए प्रावधानों के बारे में निशंक ने कहा, “यह शिक्षा नीति कैपिसिटी बिल्डिंग पर फोकस करती है। कैपिसिटी बिल्डिंग से नेशन बिल्डिंग का फार्मूला ही है जो हमें सशक्त बनाएगा। चाहे छात्रों की कैपिसिटी बिल्डिंग हो या फिर शिक्षकों की या फिर संस्थानों की सभी का साथ लिए बिना व सभी को विस्तार दिए बिना नेशन बिल्डिंग का काम संभव नहीं है।”


यह भी पढ़ें : गूगल ने सभी अमेरिकी कर्मचारियों को मुफ्त साप्ताहिक कोविड टेस्ट सुविधा दी

डॉ. निशंक ने कहा, “मुझे पूरा विश्वास है कि कश्मीर से कन्याकुमारी तक तथा कच्छ से अरुणाचल तक सभी छात्रों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा मिलेगी। देश का हर छात्र शिक्षित मानव संपदा के रूप में एक ताकत बनकर आत्मनिर्भर, शिक्षित और सशक्त भारत के निर्माण में एक निर्णायक भूमिका निभाएगा। इसके अलावा मुझे यह भी विश्वास है सभी के सहयोग, समन्वय, सहभागिता और नेतृत्व से हम शिक्षा नीति का सफलतापूर्वक क्रियान्वयन कर पाएंगे और भारत एक वैश्विक ज्ञान की महाशक्ति के रूप में उभरेगा।” (आईएएनएस)

Popular

प्रमुख हिंदू नेता और श्री नारायण धर्म परिपालन योगम के महासचिव वेल्लापल्ली नतेसन (wikimedia commons)

हमारे देश में लव जिहाद के जब मामले आते है , तब इस मुद्दे पर चर्चा जोर पकड़ती है और देश कई नेता और जनता अपनी-अपनी राय को वयक्त करते है । एसे में एक प्रमुख हिंदू नेता और श्री नारायण धर्म परिपालन योगम के महासचिव वेल्लापल्ली नतेसन ने सोमवार को एक बयान दिया जिसमें उन्होनें कहा कि यह मुस्लिम समुदाय नहीं बल्कि ईसाई हैं जो देश में धर्मांतरण और लव जिहाद में सबसे आगे हैं।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार एनडीए के सहयोगी और भारत धर्म जन सेना के संरक्षक वेल्लापल्ली नतेसन नें एक कैथोलिक पादरी द्वारा लगाए गए आरोपों पर प्रतिक्रिया दी , जिसमे कहा गया था हिंदू पुरुषों द्वारा ईसाई धर्म महिलाओं को लालच दिया जा रहा है। नतेसन नें पाला बिशप जोसेफ कल्लारंगट की एक टिप्पणी जो कि विवादास्पद "लव जिहाद" और "मादक जिहाद" की भी जमकर आलोचना की और यह कहा कि इस मुद्दे पर "मुस्लिम समुदाय को निशाना बनाना सही नहीं है"।

Keep Reading Show less

महंत नरेंद्र गिरि (Wikimedia Commons)

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि की सोमवार को संदिग्ध हालात में मौत हो गई। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि को बाघंबरी मठ स्थित उनके आवास पर श्रद्धांजलि दी। मुख्यमंत्री ने कहा कि दोषियों को जांच के बाद सजा दी जाएगी। उन्होंने कहा ''यह एक दुखद घटना है और इसी लिए अपने संत समाज की तरफ से, प्रदेश सरकार की ओर से उनके प्रति श्रद्धांजलि व्यक्त करने के लिए में स्वयं यहाँ उपस्थित हुआ हूँ। अखाड़ा परिषद और संत समाज की उन्होंने सेवा की है। नरेंद्र गिरि प्रयागराज के विकास को लेकर तत्पर रहते थे। साधु समाज, मठ-मंदिर की समस्याओं को लेकर उनका सहयोग प्राप्त होता था। उनके संकल्पों को पूरा करने की शक्ति उनके अनुयायियों को मिले''

योगी आदित्यनाथ ने कहा '' कुंभ के सफल आयोजन में नरेंद्र गिरि का बड़ा योगदान था। एक-एक घटना के पर्दाफाश होगा और दोषी अवश्य सजा पाएगा। मेरी अपील है सभी लोगों से की इस समय अनावश्यक बयानबाजी से बचे। जांच एजेंसी को निष्पक्ष रूप से कार्यक्रम को आगे बढ़ाने दे। और जो भी इसके लिए जिम्मेदार होगा उसको कानून की तहत कड़ी से कड़ी सजा भी दिलवाई जाएगी।

Keep Reading Show less

By: कम्मी ठाकुर, स्वतंत्र पत्रकार एवं स्तम्भकार, हरियाणा

केजरीवाल सरकार की झूठ, फरेब, धूर्तता और भ्रष्टाचार की पोल खोलता 'बोल रे दिल्ली बोल' गीतरुपी शब्दभेदी बाण एकदम सटीक निशाने पर लगा है। सुभाष, आजाद, भगतसिंह जैसे आजादी के अमर शहीद क्रांतिकारियों के नाम व चेहरों को सामने रखकर जनता को बेवकूफ बना सुशासन ईमानदारी और पारदर्शिता का सब्जबाग दिखाकर सत्ता पर काबिज हुए अरविंद केजरीवाल की आम आदमी पार्टी सरकार आज पूरी तरह से मुस्लिम तुष्टिकरण, भ्रष्टाचार, कुशासन एवं कुव्यवस्था के दल-दल में धंस चुकी है। आज केजरीवाल का चाल, चरित्र और चेहरा पूरी तरह से बेनकाब हो चुका है। दिल्ली में कोविड-19 के दौरान डॉक्टरों सहित सैकड़ों विभिन्न धर्म-संप्रदाय के मेडिकल स्टाफ के लोगों ने बतौर कोरोना योद्धा अपनी जाने गंवाई थी। लेकिन उन सब में केजरीवाल के चश्मे में केवल मुस्लिम डॉक्टर ही नजर आया, जिसके परिजनों को 'आप सरकार' ने एक करोड़ की धनराशि का चेक भेंट किया। किंतु बाकी किसी को नहीं बतौर मुख्यमंत्री यह मुस्लिम तुष्टिकरण, असंगति, पक्षपात आखिर क्यों ?

Keep reading... Show less