एक लाख छात्रों की स्टडी भारतीय भाषाओं को समझने के लिए होगी।

0
12
एक लाख छात्रों की स्टडी (Pixabay)

Ministry Of Education {शिक्षा मंत्रालय} छात्रों के सीखने की स्थिति पर एक खास स्टडी कर रहा है। यह स्टडी एनसीईआरटी की मदद से सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में की जाएगी। इसका उद्देश्य 22 भारतीय भाषाओं में छात्रों की समझ के साथ पढ़ने से संबंधित मानक स्थापित करना है। इस अध्ययन में कक्षा 3 तक के लगभग 10 हजार स्कूलों के 1 लाख छात्रों के भाग लेने की उम्मीद है। केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय के मुताबिक यह अध्ययन दुनिया में अपनी तरह का पहला अध्ययन है।

Ministry Of Education का कहना है कि कक्षा-3 के अंत होने पर छात्रों के सीखने की स्थिति के बारे में सीधी जानकारी हासिल करने के लिए यह आधारभूत शिक्षण अध्ययन (फाउंडेशनल लनिर्ंग स्टडी) कराया जा रहा है। एनसीईआरटी द्वारा सभी राज्यों और केन्द्र- शासित प्रदेशों में 26 मार्च तक सैंपल के आधार पर स्कूलों में यह फाउंडेशनल लनिर्ंग स्टडी कराई जाएगी।

आधारभूत शिक्षण अध्ययन के विशिष्ट उद्देश्य इस प्रकार है :-
निपुण भारत मिशन के लिए एक आधार तैयार करने के लिए कक्षा-3 के छात्रों की बुनियादी शिक्षा का व्यापक पैमाने पर मूल्यांकन करना
इस अध्ययन के तहत मूल्यांकन की जा रही प्रत्येक भाषा के लिए समझ के साथ धाराप्रवाह पठन में प्रवीणता संबंधी मानक स्थापित करना

सतत विकास लक्ष्य (एसडीजी)4.1.1 के लिए डेटा प्रदान करना (बुनियादी साक्षरता और संख्यात्मकता के पहलुओं को शामिल करते हुए)

केंद्रीय शिक्षा मंत्रालय ने कहा कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 इस बात पर प्रकाश डालती है कि पढ़ने और लिखने की क्षमता सीखने का एक आवश्यक आधार है। साथ ही संख्याओं का बुनियादी उपयोग करने की क्षमता भी सीखने की एक अनिवार्य शर्त है। बाद के वर्षों में विद्यार्थियों के सीखने से जुड़े अनुभवों को और अधिक सार्थक बनाने तथा उन्हें ज्ञान को आत्मसात करने की क्षमता प्रदान करने के लिए आधारभूत वर्षों में उनके सीखने संबंधी उपलब्धि पर ध्यान केंद्रित करना जरूरी है।

यह भी पढ़ें :अमजद अयूब मिर्जा पर पाकिस्तान के अत्याचार का असली सच

मंत्रालय का मानना है कि सीखने के भले ही विविध आयाम हो सकते हैं, लेकिन समझ के साथ पढ़ने, बुनियादी संख्यात्मक अवधारणाओं (जैसे संख्याएं, पैटर्न इत्यादि) को लिखने और समझने की बुनियादी क्षमता आधारभूत स्तर पर सीखने के मूल लक्ष्यों से जुड़ी हुई हैं।
शिक्षा मंत्रालय (एमओई) ने बुनियादी शिक्षा के क्षेत्र को राष्ट्रीय स्तर पर मजबूत करने की दिशा में एक रोडमैप प्रदान करने के उद्देश्य से समझ और संख्यात्मकता के साथ पढ़ने में प्रवीणता के लिए राष्ट्रीय पहल (निपुण – भारत) मिशन शुरू किया है।

आधारभूत शिक्षण अध्ययन (फाउंडेशनल लनिर्ंग स्टडी) कक्षा-3 के स्तर पर बच्चों के लिए विभिन्न भारतीय भाषाओं में समझ के साथ पढ़ने से संबंधित मानक स्थापित करने में समर्थ होगा। यह अध्ययन उम्र के हिसाब से ज्ञात और अज्ञात पाठ को एक निश्चित गति से, सटीक रूप से और समझ के साथ एवं मूलभूत संख्यात्मक कौशल को पढ़ने की क्षमता का आकलन करेगा।

–आईएएनएस{NM}

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here