Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

सेना दिवस पर भारतीय सेना को  देशवासियों का  सलाम ! ​

हर वर्ष 15 जनवरी को मनाया जाता है सेना दिवस ! आज वो शुभ दिन है ! भारतीय सेना को सलाम !

15 जनवरी 1949 से हर वर्ष 15 जनवरी को मनाया जाता है सेना दिवस !

15 जनवरी को हर वर्ष सेना दिवस(Indian Army Day) के रूप में मनाया जाता है। आज वो शुभ दिन है, आज भारतीय सेना को उनके जज्बे, त्याग, बलिदान को सलाम करने का दिन है। आज के दिन भारतीय सेना दिवस पर दिल्ली के परेड ग्राउंड पर सेना दिवस परेड का आयोजन होता है। भारतीय सेना के लिए मनाए जाने वाले तमाम कार्यक्रमो में से भारतीय सेना का यह परेड सबसे महत्वपूर्ण एवं सबसे बड़ा कार्यक्रम माना जाता है। जनरल ऑफिसर कमांडिंग, हेडक्वार्टर दिल्ली की अगुवाई में परेड निकाली जाती है। आर्मी चीफ सलामी लेते हुए परेड का निरीक्षण करते हैं!

भारतीय सेना दिवस पर (INDIAN ARMY) ने भी आज ट्विटर के माध्यम से सेना दिवस के अवसर पर बधाई देते हुए कहा कि " विविध सुरक्षा चुनौतियों का सामना करने के लिए भारतीय सेना भविष्य के साथ आगे बढ़ रहा है।"



भारतीय सेना दिवस पर भारतीय सेना को उनके अनुशासन, वीरता, और बलिदान के लिए सलाम ! भरतीय सेना हमे गौरवान्वित करती हैं।

माथे तिलक लगाती हमको, वीर प्रसूता मातायें,वीर शिवा, राणा, सुभाष की, भरी पड़ी हैं गाथायें।

सरहद है महफूज हमारी, अपने वीर जवानों से,लिखते है इतिहास नया नित, जो अपने बलिदानों से।

भारतीय सेना दिवस के दिन भारत के वर्तमान राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद , उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत कई अन्य लोगों ने ट्विटर के माध्यम से भारतीय सेना को सेना दिवस की बधाई दी।

और भी पढ़ें - बिहार के ग्रामीण बुज़ुर्गों की मदद के लिए युवाओं को "श्रवण कुमार" के रूप में तैयार करेगा पटना एम्स

15 जनवरी को ही क्यों मनाया जाता है भारतीय सेना दिवस ?

आजादी के बाद देश में कई प्रशासनिक समस्याएं पैदा होने लगी और फिर स्थिति को नियंत्रित करने के लिए सेना को आगे आना पड़ा भारतीय सेना के अध्यक्ष तब भी ब्रिटिश मूल के ही हुआ करते थे। 15 जनवरी 1949 को फील्ड मार्शल के.एम करिअप्पा स्वतंत्र भारत के पहले भारतीय सेना प्रमुख बने थे। उस समय सेना में लगभग 2 लाख सैनिक थे। के.एम करियप्पा के सेना प्रमुख बनाए जाने के बाद से ही हर साल 15 जनवरी को सेना दिवस मनाया जाने लगा। 1986 में बेहतरीन सैन्य सेवाओं के लिए के एम करियप्पा को पंच-सितारा रैंक फील्ड मार्शल से सम्मानित किया गया था। आजादी के बाद भारत मे पंच-सितारा रैंक भारतीय सेनाओं में केवल तीन सैन्य अधिकारियों को मिली है-भारत के पहले सेनाध्यक्ष के एम करियप्पा, फील्ड मार्शल सैम मानेकशॉ और मार्शल ऑफ इंडियन एयर फोर्स अर्जन सिंह। फील्ड मार्शल का पद भारतीय सेना का सर्वोच्च पद है। भारतीय सेना दुनिया की तीसरी सबसे बड़ी और ताकतवर आर्मी है।

Various source; Edited by - Abhay Sharma

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें!

Popular