Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
संस्कृति

Republic Day 2022 के मौके पर राजपथ पर होगा उत्तराखंड की सांस्कृतिक विरासत का प्रदर्शन

बीते साल 2021 में उत्तराखंड की झांकी केदारखंड के मॉडल को स्वीकृति मिली थी। राजपथ पर निकली 'केदारखण्ड की झांकी,' देश में तीसरे स्थान पर रही थी

गणतंत्र दिवस के मौके पर राजपथ पर निकलने वाली झांकी में देवभूमि की झांकी का चयन हुआ है।(IANS)

गणतंत्र दिवस के मौके पर राजपथ पर निकलने वाली झांकी में देवभूमि की झांकी का चयन हुआ है। इस बार गणतंत्र दिवस के मौके पर राजपथ पर होने वाली परेड में मोक्षधाम भगवान बदरीविशाल, विश्वप्रसिद्ध टिहरी डैम, हेमकुंड साहिब, ऐतिहासिक डोबरा चांठी पुल से सजी देवभूमि उत्तराखंड की झांकी गणतंत्र दिवस राजपथ पर नजर आएगी। 73वें गणतंत्र दिवस में शामिल की गई इस झांकी में बदरीनाथ मंदिर, विश्वप्रसिद्ध टिहरी डैम, हेमकुंड साहिब,ऐतिहासिक डोबरा चांठी पुल की भव्यता एवं दिव्यता को दशार्या जाएगा।

बीते साल 2021 में उत्तराखंड की झांकी केदारखंड के मॉडल को स्वीकृति मिली थी। राजपथ पर निकली 'केदारखण्ड की झांकी,' देश में तीसरे स्थान पर रही थी। उत्तराखंड को पहली बार झांकी को लेकर पुरस्कार मिला था। राजपथ में केदारखंड की थीम पर निकली उत्तराखंड राज्य की झांकी को काफी सराहा गया था।


Republic day, Uttarakhand, Rajpath, \u0909\u0924\u094d\u0924\u0930\u093e\u0916\u0902\u0921, \u0917\u0923\u0924\u0902\u0924\u094d\u0930 \u0926\u093f\u0935\u0938 गणतंत्र दिवस के मौके पर राजपथ पर निकलने वाली झांकी में देवभूमि की झांकी का चयन हुआ है।(Wikimedia Commons)

इस बार 12 राज्यों में से देवभूमि की झांकी का चयन हुआ है, जो समस्त प्रदेश वासियों के लिए गौरव की बात है। इस तरह राज्य गठन के बाद अब 13वीं बार उत्तराखंड की झांकी राजपथ पर होने वाली परेड का हिस्सा बनेगी।

यह भी पढ़ें - कोरोना महामारी में डोलो गोली की हुई रिकॉर्ड तोड़ बिक्री

पर्यटन सचिव श्री दिलीप जावलकर ने कहा कि आस्था का प्रतीक बदरीनाथ मंदिर, हेमकुंड साहिब, विश्वप्रसिद्ध टिहरी डैम और ऐतिहासिक डोबरा चांठी पुल अपने में उत्तराखंड की संस्कृति को समेटे हुए है। गणतंत्र दिवस के मौके पर राजपथ पर इनकी झांकी निकलना हम सबके लिए गौरव की बात है। इसके माध्यम से देश भर के लोग उत्तराखंड की भव्यता और दिव्यता से भी रूबरू होने के साथ सांस्कृतिक विरासत का प्रदर्शन किया जाएगा। (आईएएनएस-AS)

Popular

ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह, हेलीकॉप्टर दुर्घटना में इकलौते सर्वाइवर थे लेकिन उन्होंने भी दम तोड़ दिया है। (File Photo)

8 दिसंबर को एक सैन्य हेलिकॉप्टर दुर्घटना में घायल हुए ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह ने दम तोड़ दिया। तमिलनाडु के कुन्नूर में हेलिकॉप्टर दुर्घटना में चीफ ऑफ स्टाफ जनरल बिपिन रावत, उनकी पत्नी मधुलिका रावत और 11 अन्य सशस्त्र कर्मियों की मौत हो गई थी। बता दें,ग्रुप कैप्टन को हाल ही में राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद द्वारा असाधारण वीरता के कार्य के लिए शौर्य चक्र से सम्मानित किया गया था।

भारतीय वायु सेना ने बुधवार को एक बयान जारी कर कहा, "भारतीय वायुसेना को बहादुर ग्रुप कैप्टन वरुण सिंह के निधन की सूचना देते हुए गहरा दुख हुआ है, जिन्होंने आज सुबह दुर्घटना में घायल होने के कारण दम तोड़ दिया। आईएएफ गंभीर संवेदना व्यक्त करता है और शोक संतप्त परिवार के साथ खड़ा है।"

Keep Reading Show less

अमित शाह, केंद्रीय गृहमंत्री (Wikimedia commons)

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह (Amit Shah) ने सोमवार को कहा कि केंद्र नागालैंड (Nagaland) में उभरती स्थिति पर कड़ी नजर रखे हुए है और व्यापक हिंसा के बाद मोन जिले में शांति सुनिश्चित करने के लिए आवश्यक उपाय किए जा रहे हैं।

बता दें की नागालैंड में ये स्थिति सेना की एक 'गलत' छापेमारी के कारण बन गयी है, जिसमें 14 नागरिक और एक सैनिक मारा गया है। राज्य में हड़कंप मचने के बाद अधिकारियों ने प्रभावित क्षेत्रों में एहतियाती उपायों के रूप में निषेधाज्ञा लागू कर दी है।

Keep Reading Show less

भारतीय सेना को अगले साल तक मिल सकती है नई पैटर्न वाली यूनिफार्म।(Wikimedia Commons)

सेना(Army) ने अगले साल से अधिकारियों और पुरुषों के लिए एक नया डिजिटल पैटर्न(Digital Pattern) लड़ाकू वर्दी पेश करने का फैसला किया है। सेना एक नई नियमित वर्दी पर भी काम कर रही है, जो अब इस्तेमाल होने वाले जैतून से काफी अलग होगी। रक्षा प्रतिष्ठान के सूत्रों ने एक समाचार वेबसाइट को बताया कि नई लड़ाकू वर्दी, जो जैतून और मिट्टी सहित रंगों का मिश्रण होगी, को सेना मुख्यालय द्वारा अंतिम रूप दिया गया है और इसे राष्ट्रीय राजधानी में 15 जनवरी, 2022 को सेना दिवस परेड में प्रदर्शित किया जाएगा।

औपचारिक रूप से छलावरण या युद्ध पोशाक वर्दी(War Dress Uniform) के रूप में जाना जाता है, वे युद्ध के लिए मानक वर्दी हैं। ये वर्दी या तो मोनोक्रोम में होती है, जैसे कि हरे या भूरे रंग के रंगों में पृष्ठभूमि के साथ मिश्रण करने के लिए या भारतीय नौसेना(Indian Navy) और कुछ केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बलों की तरह एक विघटनकारी पैटर्न में। सूत्रों ने कहा कि नई वर्दी का कार्यान्वयन, जिसे दुनिया भर की प्रमुख सेनाओं द्वारा पहनी जाने वाली विभिन्न वर्दी पर केंद्रित एक अध्ययन के बाद शॉर्टलिस्ट किया गया है, अगले साल ही शुरू किया जाएगा और यह अधिकारियों और पुरुषों दोनों को पूरा करेगा।

Keep reading... Show less