Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
होम

क्या आसान है हिन्दू धर्म का मजाक उड़ाना?

अज्ञानता के कारण लोग अपने गौरवशाली धर्म को नहीं समझ पा रहे हैं। जिस वजह से वह इस धर्म का बनाने से भी पीछे नहीं हट रहे हैं।

गणेश जी की मूर्ती (unsplash)

हिंदुस्तान एक ऐसा देश है जहां विभिन्न धर्मो के लोग रहते है। हर एक धर्म की अपनी अलग मान्यताएँ भी है। किसी भी धर्म को सामान नज़रिये से देखा जाना चाहिए, लेकिन क्या ऐसा होता है? मेरे लिए इसका उत्तर है नहीं। हिंदुस्तान में अनेक धर्म तो है लेकिन हिन्दू धर्म का खास तौर पर मज़ाक बनाया जाता है। ऐसा क्यों है कि सनातन धर्म का मज़ाक बनाना आसान है। इसके पीछे बहुत से कारण है, इस आर्टिकल में इन्ही कुछ कारणों पर रोशनी डाली गई है।

जागरूकता की कमी- आज का युवा सोशल मीडिया में इतना खोया हुआ है कि उसे मालूम ही नहीं है कि उनका धर्म कितना गौरवशाली है। जब किसी धर्म का युवा ही जागरूक नहीं होगा तो उस धर्म का प्रचार कौन करेगा। ज्यादातर हिन्दू युवाओं को मालूम तक नहीं है कि वेद कितने प्रकार के होते हैं, हमारे धर्म में कितने उपनिषद है, भगवत गीता में कितने श्लोक है। इस अज्ञानता की वजह से कोई भी आकर कुछ भी हिन्दू धर्म के बारे में बुरा कह जाता है और लोग उसी को सच मान लेते है। लोगों में अपने धर्म के बारे में जानने की इच्छा ही नहीं है।


पहले के समय में गुरुकुल हुआ करते थे, जो एक-एक करके समाप्त होते गए जिसकी वजह से लोग अपनी ही संस्कृति के बारे में जान नहीं पाए। आजकल लोग भी शास्त्रों को पढ़ने से कतराते है। वर्तमान काल में हिन्दू देवी देवताओं का मजाक उड़ाने का प्रचलन चल रहा है। कोई भी आकर हिन्दू धर्म का मज़ाक उड़ा कर चला जाता है और अज्ञानी लोग उस पर तालियां मारते हैं। इन लोगो ने अपने ही धर्म का मज़ाक बना कर रख दिया हैं। कॉमेडी और फिल्मों के माध्यम से लगातार धर्म को टारगेट किया जा रहा है। और हैरान करने वाली बात यह है कि उस धर्म के लोग आंख बंद करके उसे यूँ ही जाने देते हैं।

जिन फिल्मों में सच्चाई के अलावा सब कुछ दिखा दिया जाता है उसे ही लोग सच मन लेते है। फिर बिना अपने धर्म को पढ़े उसकी निंदा करते है। वैसे तो भारत एक सेकुलर देश है, जिसका मतलब है सभी धर्म एक सामान है। लेकिन सच्चाई यह नहीं है, हिंदुओं के कार्यक्रमों को लगातार निशाना बनाया जा रहा है। चाहे कोई भी त्यौहार हो हर एक त्यौहार के लिए प्रोपेगेंडा चलाया जाता है। दिवाली पर प्रदुषण, होली पर पानी और मिठाईयों से मोटापे जैसे बहुत सारे उदाहरण है।

यह भी पढ़ेंः युवाओं को कैसे प्रभावित कर रहा है नशा?

हिन्दू धर्म का मज़ाक उड़ाने का सिलसिला बढ़ता जा रहा है क्योंकि इस धर्म के लोगों को ज्यादा लड़ाई झगड़ा पसंद नहीं है। इन्हें बस अपने परिवार की चिंता है, इनकी संस्कृति चाहे बर्बाद हो जाए लेकिन इनका परिवार खुश रहना चाहिए। अगर ऐसा ही चलता रहा तो यह हिंदुस्तान के लिए ठीक नहीं होगा और वह दिन भी दूर नहीं होगा जब हमे अपने अस्तित्व के लिए लड़ना पड़े।

Popular

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को कहा कि पूर्वोत्तर क्षेत्र के सर्वागीण विकास से ‘आत्मनिर्भर भारत’ का लक्ष्य हासिल होगा। शिवसागर के जेरेंगा पोथार में एक विशाल जनसभा को संबोधित करते हुए मोदी ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के समय से लेकर केंद्र की वर्तमान राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (राजग) सरकार असम और पूर्वोत्तर के अन्य राज्यों के विकास को शीर्ष प्राथमिकता दे रही है।

प्रधानमंत्री ने कहा कि बात चाहे मूलभूत सुविधाओं की हो, संचार व यातायात व्यवस्था की हो, या स्वास्थ्य, शिक्षा एवं रोजगार सृजन की हो – हर क्षेत्र में केंद्र व राज्य की डबल इंजन वाली सरकारें असम के सर्वागीण विकास को आगे बढ़ा रही हैं।

Keep Reading Show less

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शुक्रवार को असम के तेजपुर विश्वविद्यालय के 18वें दीक्षांत समारोह को संबोधित करते हुए युवाओं से आत्मनिर्भर भारत के लिए कार्य करने की अपील की। प्रधानमंत्री मोदी ने नार्थ ईस्ट के विकास के लिए हो रहे प्रयासों का उल्लेख करते हुए युवाओं को संभावनाओं का लाभ उठाने के लिए प्रेरित भी किया। इस दीक्षांत समारोह में वर्ष 2020 में पास होने वाले 1,218 छात्रों को डिग्री और डिप्लोमा प्रदान करने के साथ स्नातक और स्नातकोत्तर पाठ्यक्रमों के 48 टॉपरों को स्वर्ण पदक से सम्मानित किया जाएगा। प्रधानमंत्री मोदी ने वीडियो कांफ्रेंसिंग से संबोधन में कहा, आज 1200 से ज्यादा छात्रों के लिए जीवन भर याद रहने वाला क्षण हैं। आपके शिक्षक, आपके माता पिता के लिए भी आज का दिन बहुत अहम है। सबसे बड़ी बात आज से आपके करियर के साथ तेजपुर विश्वविद्यालय का नाम हमेशा के लिए जुड़ गया है।

यह भी पढ़े : Bihar में मंत्रियों के खिलाफ आपत्तिजनक टिप्पणी की तो होगी सख्त कार्रवाई

Keep Reading Show less

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ‘आत्मनिर्भर भारत’ के आह्वान के तहत और महात्मा गांधी के प्रति सम्मान के तौर पर भाजपा की अगुवाई वाली असम सरकार जल्द ही राज्य के चतुर्थ श्रेणी के सरकारी कर्मचारियों को खादी के कपड़े मुफ्त देना शुरू करेगी। एक अधिकारी ने शनिवार को यह जानकारी दी। सीएम सचिवालय के एक अधिकारी ने कहा कि मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने शुक्रवार को अधिकारियों और संबंधित मंत्री के साथ बैठक की और असम में उत्पादित सिल्क की एक किस्म ‘एरी’ से बने खादी शर्ट, और शॉल और स्टोल इस महीने से चरणबद्ध तरीके से चतुर्थ श्रेणी के कर्मचारियों को प्रदान करने का फैसला किया।

अधिकारी ने कहा, “खादी के कपड़े पुरुष और महिला दोनों कर्मचारियों को उपहार के रूप में दिए जाएंगे और वे उन्हें अपनी आधिकारिक यूनिफार्म के रूप में इस्तेमाल करेंगे।” राज्य के सरकारी कर्मचारियों को मुफ्त खादी के कपड़े प्रदान करने की प्रक्रिया को तेज करने के लिए एक बैठक की अध्यक्षता करते हुए, मुख्यमंत्री ने कहा कि यह कदम ‘आत्मनिर्भर’ अभियान का हिस्सा है और असमिया बुनकरों को बढ़ावा देने के लिए है।

Keep reading... Show less