Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
मनोरंजन

कंगना ने लॉन्च किया फिल्म 'धाकड़' का पोस्टर

मैंने जो कुछ भी किया है वह 'धाकड़' है। अपने घर से भागने से लेकर अब तक मैं सभी 'धाकड़' चीजें करती रहती हूं : कंगना रनौत

कंगना ने लॉन्च किया फिल्म 'धाकड़' का पोस्टर [Wikimedia Commons]

अपने तीखे अंदाज और रोमांचक किरदारों के लिए अक्सर सुर्ख़ियों में रहने वाली कंगना रनौत ने मंगलवार को एक कार्यक्रम में फिल्म 'धाकड़' के पोस्टर को व्यक्तिगत रूप से लॉन्च किया और पत्रकारों के प्रश्नों का जवाब दिया।

बॉलीवुड में अपने संघर्षों के बारे में बताते हुए कंगना ने कहा कि मुझे लगता है कि मैंने जो कुछ भी किया है वह 'धाकड़' है। अपने घर से भागने से लेकर अब तक मैं सभी 'धाकड़' चीजें करती रहती हूं। अब मैं यह 'धाकड़' फिल्म कर रही हूं और मुझे उम्मीद है कि दर्शक इसे पसंद करेंगे।


इसपर जब एक पत्रकार ने उनकी तुलना अर्नोल्ड श्वार्जऩेगर से की तो कंगना ने इसकी प्रशंसा की और उन्होंने बड़ी चतुराई से इसका जवाब भी दिया।

फिल्म धाकड़ के बारे में बताते हुए कंगना ने कहा की यह बॉलीवुड की पहली महिला केंद्रित जासूसी थ्रिलर है। वह आभारी हैं कि उन्हें अपनी फिल्मों में रोमांचक किरदार निभाने को मिले। कंगना ने कहा ,'' मैं इसे लेकर वास्तव में खुश हूं। मैं खुद को भाग्यशाली मानती हूं कि मैं एक ऐसे चरित्र को चित्रित करने में सक्षम हूं जो अच्छे एक्शन दृश्य करता है। मैं अपने निर्देशक रजनीश घई को धन्यवाद देती हूं जिन्होंने मुझ पर विश्वास किया और मुझे यह मौका दिया।'''

यह भी पढ़ें : अनुष्का ने अपनी बहादुर और साहसी दिखने का श्रेय अपनी बेटी वामिका को दिया

दरअसल फिल्म में कंगना एजेंट अग्नि की भूमिका में दिखेंगी जो बाल तस्करी और महिलाओं के शोषण के दोहरे खतरे का सामना करती है। फिल्म की ख़ास बात यह है की इसमें स्टंट एक अंतर्राष्ट्रीय टीम द्वारा डिजाइन किए गए हैं। साथ ही पुरस्कार विजेता जापानी छायाकार टेटसुओ नागाटा ने कैमरावर्क किया है जो कई हॉलीवुड एक्शन फिल्मों में काम कर चुके। (आईएएनएस )

Input: IANS; Edited By: Manisha Singh

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें!

Popular

बांग्लादेश में आए दिन हिंदुओं के ऊपर हो रहे अत्याचार की ख़बरें आती रहती हैं। बांग्लादेश में कुल 1 करोड़ 20 लाख हिन्दू रहते हैं। जब भी कोई हिन्दू त्यौहार आता है , कट्टरपंथी अपना असली चेहरा दिखाना शुरू कर देते हैं। इस बार भी नवरात्रि आते ही हिंदुओं के साथ मार पीट , हिन्दू देवी देवताओं की मूर्तियां तोड़ देने जैसी हिंसा शुरू हो गयी। कट्टरपंथी पुलिस तक से नहीं डरते। पुलिस के सामने ही पूजा पंडालों में तोड़ फोड़ की घटनाएं हो रही थी जिसे रोक पाने में पुलिस भी असमर्थ थी। मजबूरन पुलिस को कई जगह फायरिंग करनी पड़ी जिसके बाद उपद्रवियों और पुलिस में झड़प हो गयी। इस झड़प में कई जानें चली गयीं और कई घायल हुए।

दरअसल हिंसा की शुरुआत 12 और 13 अक्टूबर की रात से हुई जब कुमिला के नानुआ दीघी इलाके में एक पंडाल में क़ुरान शरीफ मिली। बताया गया की क़ुरान शरीफ हनुमान जी की मूर्ति की गोद में पायी गयी थी। अगली सुबह जैसे ही लोगों ने क़ुरान शरीफ देखा ,कई तरह की अफवाहें फैलने लगीं। कुछ ही देर में वहां भारी भीड़ इकट्ठी हो गयी जिसे काबू कर पाना पुलिस के भी बस का नहीं रहा। देखते ही देखते भीड़ ने उपद्रव मचाना शुरु कर दिया। दुर्गाष्टमी के दिन मुसलामानों की इस भीड़ ने माँ दुर्गा की मूर्तियां तोड़ी और इतने से मन नहीं भरा तो अष्टमी के दिन ही जबरन माता की मूर्ती को पास के ही तालाब में फेंक दिया। माता दुर्गा के अलावा यहाँ श्री राम ,माता सीता और लक्ष्मण सहित हनुमान जी की भी मूर्तियां रखी गयी थी और उपद्रवियों ने इन मूर्तियों को भी नुक्सान पहुँचाया।

Keep Reading Show less

बांग्लादेश के हिंदू मंदिरों को बनाया निशाना। (Wikimedia Commons)

बांग्लादेश के अल्पसंख्यक निकाय के प्रमुख ने हिंदू मंदिरों पर हमले सहित हिंसा की हालिया घटनाओं के विरोध में 23 अक्टूबर को एक दिवसीय विरोध प्रदर्शन का आह्वान किया है। पिछले तीन दिनों में हमलों में कम से कम चार लोग मारे गए हैं और 70 अन्य घायल हुए हैं। जिन हिंदू नेताओं ने पहले चटगांव में पुलिस की मौजूदगी में दुर्गा पूजा स्थल पर हमलों और तोड़फोड़ के खिलाफ आवाज उठाने के लिए देवी दुर्गा की मूर्तियों को विसर्जित करने से इनकार कर दिया था, उन्होंने आखिरकार शनिवार को मूर्तियों का विसर्जन कर दिया।

बांग्लादेश हिंदू बौद्ध ईसाई एकता परिषद (बीएचबीसीयूसी) के महासचिव एडवोकेट राणा दासगुप्ता ने कहा कि बांग्लादेश के 20 जिलों में दुर्गा पूजा के दौरान धार्मिक कट्टरपंथियों के हमलों में कम से कम चार लोग मारे गए और 70 अन्य घायल हो गए।

Keep Reading Show less

छत्तीसगढ़ पश्चिम बंगाल के अलावा भाजपा शासित राज्य मध्यप्रदेश में भी घटित हुई घटना।

नवरात्रि का पर्व समाप्त हो चुका है देश ही नहीं अपितु विदेश में भी दुर्गा विसर्जन के कार्यक्रम जगह जगह चल रहे हैं। लेकिन किसी धर्म विशेष के कुछ लोगों को यह विसर्जन रास नहीं आ रहा है। सबसे पहले हमने अपने पड़ोसी देश बांग्लादेश में देखा था कि किस तरीके एक गलत अफवाह फैलाकर नवरात्रि के पर्व में हिंदुओं का कत्लेआम किया गया जो अभी भी चालू है। अब प्रश्न उठता है बांग्लादेश में यह घटना क्यों संभव हो पाई? क्योंकि बांग्लादेश में हिंदू अल्पसंख्यक हैं। वहां पर ना बांग्लादेश की सरकार और ना ही पुलिस प्रशासन हिंदुओ की सुनते हैं, जिस कारण ऐसी दर्दनाक घटना घटित होती है।

लेकिन जब अपने भारत देश में भी ऐसी कुछ घटनाएं सामने आ रही है, जहां पर हिंदू समाज बहुसंख्यक हैं तो प्रश्न उठना स्वाभाविक है। आपको भारत में हुई कुछ घटनाएं बताते हैं। सबसे पहले ऐसी घटना छत्तीसगढ़ में देखने को मिली जहां दुर्गा विसर्जन में जा रहे हैं भक्तों पर एक तेज स्पीड से आती हुई गाड़ी रौंद कर चली गई और जिसके बाद इसका वीडियो वायरल होने के बाद पुलिस प्रशासन हरकत में आया। इस वीडियो को देखकर साफ पता चल रहा था कि यह घटना जानबूझकर करवाई गई है। इस घटना में 10 से ज्यादा लोग घायल और 1 लोग की मृत्यु होने की खबर है। इसके अलावा ऐसी घटना मध्य प्रदेश में भी देखने को मिली जहां पर बीजेपी की सरकार है। यह घटना भोपाल के बजरिया थाना क्षेत्र में हुआ जब दुर्गा विसर्जन के लिए भीड़ जमा थी इसी दौरान अचानक एक कार भीड़ में घुस गई और कार चालक ने कार को तेज रफ्तार से रिवर्स में चलाना शुरु कर दिया जिसके कारण भगदड़ मच गई और कई लोग घायल हो गए जिसमें एक बच्चा भी शामिल है।

Keep reading... Show less