Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

हम समाज में लैंगिक विभाजन को पाटने का संकल्प लेते हैं- Smriti Irani

राष्ट्रीय बालिका दिवस के अवसर पर श्रीमती स्मृति जुबिन ईरानी ने देशवासियों से देश की बेटियों की सराहना करने और उनकी उपलब्धियों का जश्न मनाकर उन्हें प्रोत्साहित करने और एक समावेशी निर्माण के लिए लिंग विभाजन को पाटने और समान समाज का संकल्प लेने का आह्वान किया।

महिला बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी (Wikimedia Commons)

जैसा कि राष्ट्र ने 24 जनवरी को राष्ट्रीय बालिका दिवस(National Girl Child Day) मनाया, केंद्रीय महिला एवं बाल विकास मंत्री(Union Minister of Women and Child Development) श्रीमती स्मृति जुबिन ईरानी(Smriti Zubin Irani) ने देशवासियों से देश की बेटियों की सराहना करने और उनकी उपलब्धियों का जश्न मनाकर उन्हें प्रोत्साहित करने और एक समावेशी निर्माण के लिए लिंग विभाजन को पाटने और समान समाज का संकल्प लेने का आह्वान किया।

"शिक्षित करें, प्रोत्साहित करें, सशक्त करें! आज का दिन हमारी लड़कियों को समान अवसर प्रदान करने के लिए अपनी प्रतिबद्धता को नवीनीकृत करने का दिन है। राष्ट्रीय बालिका दिवस पर, जैसा कि हम अपनी बेटियों की उपलब्धियों का जश्न मनाते हैं, हम एक समावेशी और समान समाज के निर्माण के लिए लिंग भेद को पाटने का संकल्प लेते हैं”, ईरानी ने अपने ट्वीट संदेश में कहा।


smriti irani, ministry of women and child development महिला बाल विकास मंत्रालय (Wikimedia Commons)

यह भी पढ़ें- गणतंत्र दिवस समारोह में प्रधानमंत्री Narendra Modi ने उत्तराखंड की टोपी और मणिपुर की स्टोल पहन बटोरी सुर्खियां

भारत की लड़कियों को समर्थन और अवसर प्रदान करने के उद्देश्य से हर साल 24 जनवरी को देश में राष्ट्रीय बालिका दिवस मनाया जाता है। इसका उद्देश्य बालिकाओं के अधिकारों के बारे में जागरूकता को बढ़ावा देना और बालिका शिक्षा और उनके स्वास्थ्य और पोषण के महत्व के बारे में जागरूकता बढ़ाना और समाज में लड़कियों के जीवन को बेहतर बनाने के लिए समाज में लड़कियों की स्थिति को बढ़ावा देना है। राष्ट्रीय बालिका दिवस की शुरुआत पहली बार 2008 में महिला एवं बाल विकास मंत्रालय द्वारा की गई थी।

Input-IANS; Edited By-Saksham Nagar

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें!

Popular

माता अन्नपूर्णा की पूजा करते यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ।(Twitter, Yogi Adityanath)

लगभग 108 वर्षों के वनवास के बाद आज माँ अन्नपूर्णा(Goddess Annapurna) की प्राचीन मूर्ति काशी पहुंच गई। विश्वनाथ मंदिर परिसर में गाड़ी से पहुंची मूर्ति को गाड़ी से उतारकर पालकी पर रखा गया। यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ(Yogi Adityanath) ने वैदिक मंत्रोचारण के साथ मूर्ति की आगवानी की। सीएम ने स्वयं पालकी उठाई और उसे स्थापना स्थल तक पहुंचाया। मूर्ति को विश्वनाथ मंदिर के ईशान कोण में स्थापित किया गया है। मुख्यमंत्री योगी के हाथों मूर्ति की प्राण प्रतिष्ठा कराई गई। कनाडा से काशी पहुंची माता अन्नपूर्णा की प्राचीन मूर्ति को बाबा विश्वनाथ के विशेष रजत सिंहासन पर विश्वनाथ धाम में प्रवेश कराया गया।

इस मौके पर सीएम योगी आदित्यनाथ(Yogi Adityanath) ने कहा की आज 108 वर्ष बाद अगर माँ अन्नपूर्णा की मूर्ति अगर काशी(Kashi) वापस आई है तो इसका पूरा श्रेय हमारे देश के यशस्वी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी(Narendra Modi) को जाता है। पहले भारत की मूर्तियां तस्करी के माध्यम से दुनियाभर में भेज दी जाती थी लेकिन आज उन्हें ढूंढ-ढूंढ कर भारत लाया जा रहा है।

Keep Reading Show less

कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो (Wikimedia Commons )

भारतीय मूल की अनीता आनंद (Anita Anand) बनीं कनाडा की पहली हिंदू कैबिनेट मंत्री और देश की दूसरी महिला रक्षा मंत्री। वह भारतीय मूल के कनाडाई नागरिक हरजीत सज्जन की जगह लेंगी। प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो ने मंगलवार को अपने नए मंत्रिमंडल की घोषणा की है, जिसमें अनीता आनंद को देश की रक्षा मंत्री और सज्जन को अंतर्राष्ट्रीय मामलों का मंत्री बनाया गया है।ट्रूडो ने कनाडाई सेना में यौन दुराचार के आरोपों को दूर करने में विफल रहने के लिए हरजीत सज्जन को पदावनत कर दिया।

एक अन्य ब्रैम्पटन वेस्ट से 32 वर्षीय सांसद कमल खेड़ा, जो भारतीय-कनाडाई महिला हैं, ने भी वरिष्ठ नागरिकों के लिए मंत्री के रूप में शपथ ली। अब ट्रूडो कैबिनेट में भारतीय-कनाडाई महिला मंत्रियों की संख्या तीन हो गई है।

Keep Reading Show less

 सुप्रसिद्ध साहित्यकार एवं भारत के शिक्षामंत्री डॉ. रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ को उनके उत्कृष्ट लेखन और साहित्य के लिए हिंदी राइटर्स गिल्ड कनाडा द्वारा अंतर्राष्ट्रीय सम्मान कनाडा साहित्य गौरव से सम्मानित किया गया। इससे पहले उन्हें वातायन अंतर्राष्ट्रीय शिखर सम्मान से भी सम्मानित किया जा चुका है। वर्चुअल माध्यम से भारत एवं विश्व के 52 से अधिक देशों के प्रसिद्ध साहित्यकारों और हिंदी प्रेमियों तथा शिक्षाविदों की उपस्थिति में राजभवन में उन्हें यह सम्मान उत्तराखंड की राज्यपाल बेबी रानी मौर्य के हाथों से प्रदान किया गया।

डॉ. निशंक को बधाई देते हुए राज्यपाल ने कहा, “भारत के शिक्षा मंत्री डॉ. निशंक एक मूर्धन्य कवि, लेखक, पत्रकार और लोकप्रिय राजनेता हैं। विधायक, सांसद, मुख्यमंत्री और केंद्रीय मंत्री रहते हुए भी आपने साहित्य सेवा के प्रति अपना समर्पण सिद्ध किया है। डॉ. निशंक का बहुमुखी व्यक्तित्व ही है जो कि साहित्य सेवा के साथ ही राजनीति एवं समाजसेवा में भी एक साथ सक्रिय है।” राज्यपाल ने कहा कि हिंदी को बच्चों तथा युवाओं के मध्य लोकप्रिय बनाना महत्वपूर्ण है। डॉ. निशंक द्वारा लाई गई भारत की नई शिक्षा नीति में भी मातृभाषा में शिक्षा को महत्व दिया गया है।

यह भी पढ़ें : झांसी का Strawberry festival लाएगा किसानों के लिए मुनाफा

Keep reading... Show less