Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
टेक्नोलॉजी

ओप्पो फाइन्ड एन 5जी नाम से नया स्मार्टफोन लॉन्च कर सकता है : रिपोर्ट

ओप्पो कथित तौर पर जल्द ही अपना पहला फोल्डेबल स्मार्टफोन लॉन्च करने की योजना बना रहा है जिसे फाइन्ड एन 5जी कहा जा सकता है।

ओप्पो कथित तौर पर जल्द ही अपना पहला फोल्डेबल स्मार्टफोन लॉन्च करने की योजना बना रहा है। [Wikimedia Commons]

ओप्पो (Oppo) कथित तौर पर जल्द ही अपना पहला फोल्डेबल स्मार्टफोन लॉन्च करने की योजना बना रहा है। अब एक नई रिपोर्ट में दावा किया गया है कि हैंडसेट को फाइन्ड एन 5जी कहा जा सकता है। टिपस्टर डिजिटल चैट स्टेशन के अनुसार, आगामी फोल्डेबल स्मार्टफोन का नाम फाइन्ड एन 5जी होगा। इसमें एक रोटेटिंग कैमरा मॉड्यूल भी हो सकता है जो उपयोगकर्ताओं को मुख्य सेंसर का उपयोग करके उच्च-गुणवत्ता वाली सेल्फी क्लिक करने की अनुमति देगा।

ऐसा कहा जा रहा है कि यह फोन 7.8 से 8.0 इंच की ओएलईडी स्क्रीन 2के रिजॉल्यूशन और 120हट्र्ज की रेफ्रेश रेट के साथ है। डिवाइस में साइड-माउंटेड फिंगरप्रिंट रीडर होने की संभावना है। हुड के तहत, यह स्नैपड्रैगन 888 मोबाइल प्लेटफॉर्म द्वारा संचालित होगा।


foldable phone, OPPO, smartphone, 5G ऐसा कहा जा रहा है कि ओप्पो का यह फोल्डेबल फोन 7.8 से 8.0 इंच की ओएलईडी स्क्रीन 2के रिजॉल्यूशन और 120हट्र्ज की रेफ्रेश रेट के साथ है। [Wikimedia Commons]

रिपोर्ट के अनुसार, डिवाइस के कलरओएस 12 के साथ प्रीइंस्टॉल्ड आने की उम्मीद है, लेकिन यह स्पष्ट नहीं है कि इसमें लेटेस्ट एंड्रॉइड 12 होगा या पिछले साल का एंड्रॉइड 11।

कैमरा डिपार्टमेंट में, डिवाइस में पीछे की तरफ सोनी आईएमएक्स766 50-मेगापिक्सल का प्राइमरी कैमरा हो सकता है।

यह भी पढ़ें : मस्क ने कर्मचारियों से टेस्ला वाहनों की डिलीवरी की लागत में कटौती करने का आग्रह किया है

इसके अलावा, डिवाइस 4,500 एमएएच की बैटरी द्वारा संचालित होगा और इसमें 65 वॉट फास्ट चार्जिग तकनीक का सपोर्ट होगा।

फोल्डेबल स्मार्टफोन के अलावा चीनी कंपनी नेक्स्ट-जेनरेशन ओप्पो (Oppo) रेनो7 सीरीज के स्मार्टफोन भी लॉन्च करने की तैयारी कर रही है। (आईएएनएस)

Input: IANS ; Edited By: Manisha Singh

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें!

Popular

मध्य प्रदेश के रायसेन में क्रिस्चियन मिशनरी गैंग का पर्दाफाश।(सांकेतिक चित्र, Pixabay)

राष्ट्रिय बाल अधिकार संरक्षण आयोग ने मध्य प्रदेश के रायसेन में एक कथित धर्मांतरण गैंग का पर्दाफाश करने का दावा किया है। एनसीपीसीआर के अध्यक्ष प्रियंक कानूनगो के नेतृत्व में हुए ऑपरेशन में एनसीपीसीआर के एक प्रतिनिधिमंडल ने रायसेन के एक गाँव में औचक निरिक्षण के दौरान पाया की गाँव के एक छात्रावास में जबरन लड़कियों का धर्म परिवर्तन कराया जा रहा है।

एनसीपीसीआर ने अपनी जाँच के दौरान पाया की अनुसूचित जनजाति 15-20 हिन्दू लड़कियां छात्रावास में ठहरी थी। इन सभी को शिक्षा देने के नाम पर ईसाई मिशनरी छात्रावास में रखा गया था।

Keep Reading Show less

ईसाई मिशनरियां कर रही गैर कानूनी ढंग से धर्म परिवर्तन (Pixabay)

कर्नाटक में पिछड़ा वर्ग एवं अल्पसंख्यक कल्याण समिति ने बुधवार को विकास सौध में हुई बैठक में अधिकारियों को राज्य में कार्यरत आधिकारिक और नॉन आफिशियल ईसाई मिशनरियों का सर्वेक्षण करने का आदेश दिया है। गलत तरीके से धर्मान्तरण कराए जाने के कई शिकायत आने के बाद से यह फैसला लिया गया है।

इस बैठक में भाजपा विधायक गूलीहट्टी शेखर, पुत्तरंगा सेट्टी, बी.एम. फारूक, विरुपक्षप्पा बेल्लारी, अशोक नाइक समेत अन्य कुछ नेताओं ने भाग लिया और इस मामले पर चर्चा की। चर्चा में समिति के सदस्यों ने राज्य में सक्रिय गैर-सरकारी मिशनरियों पर चर्चा करने के बाद धर्मांतरण करने वालों से सरकारी सुविधाएं वापस लेने का सुझाव दिया है। भाजपा विधायक गूलीहट्टी शेखर ने कहा "उपलब्ध प्रारंभिक जानकारी के अनुसार, राज्य में चल रहे 40 प्रतिशत चर्च अनौपचारिक हैं। इस संबंध में आंकड़े जुटाए जा रहे हैं।''

Keep Reading Show less

फ्रांस के पादरीयों का काला कारनामा आया सामने!

अपनी तथाकथित आधुनिकता के कारण भारत की गरीब जनता का धर्मांतरण कराने वाले पादरीयों की सच्चाई आज सामने आ गई है। जिसकी शुरुआत फ्रांस से हुई है। फ्रांस में कैथोलिक चर्च में जांच के लिए एक स्वतंत्र आयोग गठित किया गया था, अब आप लोगों के मन में यह प्रश्न यह उठ रहा होगा ,किस चीज की जांच के लिए और क्यों यह आयोग बना? दरअसल फ्रांस में बर्नार्ड प्रीनैट नाम का एक पादरी हुआ करता था जिसने कई बच्चियों के साथ यौन शोषण किया ,जब यह खबर फैल गई तो इन्हीं के जैसे कई और पादरीयों को पकड़ने के लिए एक स्वतंत्र आयोग की मांग उठने लगी। जिसके बाद एक स्वतंत्र आयोग जांच के लिए बना। जिसकी रिपोर्ट 5 अक्टूबर 2021 को आई। यह रिपोर्ट 2500 पन्नों की है जो यह बताती है, उन सफेद वस्त्र पहनने वालों का चरित्र कितना मैला है। इस रिपोर्ट से यह पता चला है कि साल 1950 के बाद से लेकर 2020 तक चर्च के भीतर पादरि, अधिकारी व अन्य लोगों ने मिलकर लगभग चार लाख बच्चों का यौन शोषण किया है।

जांच करने वाले आयोग ने एक बयान में कहा है, "इतने सारे जीवन बर्बाद होते देख हम शर्मिंदा और नाराज हैं हम जानते हैं कि पीड़ितों से माफी की आशा भी करने में अभी एक लंबा समय लगेगा"। इस रिपोर्ट पर पोप फ्रांसिस ने कहा है कि वह यह जानकर बहुत आहत हैं और पीड़ितों के प्रति दुख का भाव है साथ ही उन्होंने पीड़ितों की हिम्मत की सराहना भी की है। पोप फ्रांसिस के बयान से साफ समझ आ रहा है कि वह इस घटना से पल्ला झाड़ना चाहते हैं! इसके अलावा एक प्रश्न और,यह सब जो घटनाएं होती रही क्या उसके बारे में जरा सी भी भनक पोप फ्रांसिस को नहीं हुई होगी? फिर तो यह वही बात हो गई कि रेनकोट पहनकर बाथरूम में नहाना।

Keep reading... Show less