Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

त्रिपुरा में बन रही अगरबत्तियों से मिला 'मेक इन इंडिया' को बढ़ावा

अगरबत्ती उपयोग पर त्रिपुरा अपने खोए हुए गौरव को वापस पाने का संभव कोशिश कर रहा है, जिसे पहले वियतनाम और चीन द्वारा नियंत्रण किया जा रहा था।

अगरबत्ती उपयोग पर त्रिपुरा अपने खोए हुए गौरव को वापस पाने का संभव कोशिश कर रहा है। (Unsplash)

अगरबत्ती उपयोग पर त्रिपुरा अपने खोए हुए गौरव को वापस पाने का संभव कोशिश कर रहा है, जिसे पहले वियतनाम और चीन द्वारा नियंत्रण किया जा रहा था। त्रिपुरा इंडस्ट्रियल विकास निगम के अधिकारियों के अनुसार राज्य में बांस की छड़ियों का उत्पादन में भारी गिरावट आई है 2010 में 29,000 मीट्रिक टन से गिरकर 2017 में 1,241 मीट्रिक टन हो गया था, क्योंकि भारत कि प्रतिवर्ष 70,000 (96 प्रतिशत) मीट्रिक टन गोल बास की छड़ियां (46प्रतिशत) वियतनाम और (47 प्रतिशत) चीन द्वारापूरी की जा रही थी।

टीआईडीसी के एक वरिष्ठ अधिकारी ने आईएएनएस को बताया कि 2019 में, केंद्र सरकार ने सीमा शुल्क 25 प्रतिशत बढ़ा दिया और बांस के उत्पादों को प्रतिबंधित सूची में शामिल कर दिया गया, जिससे दूसरे देशों के लिए समस्या उत्पन्न हुई। वर्तमान में, पूर्वोत्तर राज्य 2,500 मीट्रिक टन बांस की छड़ें पैदा कर रहा है और आने वाले कुछ वर्षों में उत्पादन (12,000 मीट्रिक टन) पढ़कर हो जाएगा, क्योंकि आधुनिक मशीनों के साथ 14 और नई बांस की छड़ें निर्माण इकाइयां जल्द ही पूरे राज्य में आ जाएंगी।उन्होंने कहा, पहले त्रिपुरा के कारीगर हाथ से बांस की छड़ें बनाते थे ,परंतु कुछ साल पहले सरकार ने उनकी अनुकूल मशीन खरीदने में सहायता की।


यह भी पढ़ें : लोकतंत्र ने कैसे एक चाय वाले को बनाया पीएम

टीआईडीसी के अधिकारी ने कहा कि पिछले साल 15 अगस्त को त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देब द्वारा 'मुख्यमंत्री अगरबत्ती आत्मानबीर मिशन' की शुरूआत के साथ बांस की लकड़ी निर्माण उद्योग का कायाकल्प किया गया था। मिशन ने प्रधान मंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम, स्वाबलंबन योजना और राष्ट्रीय बांस मिशन के विभिन्न क्षेत्रों और प्रावधानों को शामिल किया था।अधिकारी ने कहा की केंद्र के फैसले से त्रिपुरा को अपने अगरबत्ती उद्योग को पुनर्जीवित करने में काफी मदद मिली है। "30 और बांस की छड़ें निर्माण इकाइयों को प्रत्येक के लिए 25 लाख रुपये की सब्सिडी के साथ अनुमोदित किया गया है, त्रिपुरा जल्द ही पूरे बाजार के कम से कम 60 प्रतिशत पर कब्जा करने की उम्मीद कर रहा है।

ये क्षेत्र निश्चित रूप से राज्य की अर्थव्यवस्था को बड़े पैमाने पर बढ़ावा देंगे। पहाड़ी उत्तरपूर्वी क्षेत्र में बांस को 'हरा सोना' भी कहा जाता है। त्रिपुरा और अन्य पूर्वोत्तर राज्यों में विभिन्न प्रकार के पर्यावरण के अनुकूल बांस की वस्तुएं भी बनाई जाती हैं। त्रिपुरा, मिजोरम और अन्य पूर्वोत्तर राज्य बांस की विभिन्न प्रजातियों की बहुत बड़े पैमाने पर खेती कर रहे हैं, जिसमें भारत के लगभग 28 प्रतिशत बांस के जंगल पूर्वोत्तर भारत में स्थित हैं। दुनिया भर में बांस की 1,250 प्रजातियों में से, भारत में 145 प्रजातियां हैं। भारत में बाँस के जंगल लगभग 10.03 मिलियन हेक्टेयर में फैले हुए हैं, और यह देश के कुल वन क्षेत्र का लगभग 12 प्रतिशत है।

Popular

प्रमुख हिंदू नेता और श्री नारायण धर्म परिपालन योगम के महासचिव वेल्लापल्ली नतेसन (wikimedia commons)

हमारे देश में लव जिहाद के जब मामले आते है , तब इस मुद्दे पर चर्चा जोर पकड़ती है और देश कई नेता और जनता अपनी-अपनी राय को वयक्त करते है । एसे में एक प्रमुख हिंदू नेता और श्री नारायण धर्म परिपालन योगम के महासचिव वेल्लापल्ली नतेसन ने सोमवार को एक बयान दिया जिसमें उन्होनें कहा कि यह मुस्लिम समुदाय नहीं बल्कि ईसाई हैं जो देश में धर्मांतरण और लव जिहाद में सबसे आगे हैं।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार एनडीए के सहयोगी और भारत धर्म जन सेना के संरक्षक वेल्लापल्ली नतेसन नें एक कैथोलिक पादरी द्वारा लगाए गए आरोपों पर प्रतिक्रिया दी , जिसमे कहा गया था हिंदू पुरुषों द्वारा ईसाई धर्म महिलाओं को लालच दिया जा रहा है। नतेसन नें पाला बिशप जोसेफ कल्लारंगट की एक टिप्पणी जो कि विवादास्पद "लव जिहाद" और "मादक जिहाद" की भी जमकर आलोचना की और यह कहा कि इस मुद्दे पर "मुस्लिम समुदाय को निशाना बनाना सही नहीं है"।

Keep Reading Show less
ज़ाकिर नाइक, इस्लामिक धर्म प्रचारक (Wikimedia Commons)

राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने एक हाई-प्रोफाइल ‘लव जिहाद’ मामले से संबंधित प्राथमिकी में इस्लामिक उपदेशक जाकिर नाइक और पाकिस्तान मूल के दो कट्टर प्रचारकों को आरोपी बनाया है। हाई-प्रोफाइल मामले में चेन्नई के एक व्यापारी की बेटी और बांग्लादेश के एक शीर्ष राजनेता का बेटा शामिल है, जिसका संबंध पूर्व प्रधानमंत्री खालिदा जिया की बांग्लादेश नेशनलिस्ट पार्टी (बीएनपी) से है।

एनआईए, भारतीय कारोबारी की बेटी और बांग्लादेश के राजनेता के बेटे की लंदन में हुई शादी के मामले की जांच कर रही है। जानकारी के अनुसार, भारतीय प्रवर्तन एजेंसियों द्वारा वांछित जाकिर नाइक और अमेरिका स्थित पाकिस्तानी मूल के कट्टर प्रचारकों को इस मामले में आरोपी के रूप में नामित किया गया है। लड़की के पिता ने शुरुआत में, मई में चेन्नई सेंट्रल क्राइम ब्रांच के पास शिकायत दर्ज कराई थी। उनका आरोप था कि उनकी बेटी, जो लंदन में पढ़ रही थी, वह कट्टरपंथी के संपर्क में आ गई और उसे इस्लाम धर्म अपनाने के लिए मजबूर किया गया। उन्होंने यह भी आरोप लगाया था कि उनकी बेटी को लंदन से अगवा करके कुछ बांग्लादेशियों द्वारा बांग्लादेश ले जाया गया था।

Keep Reading Show less