Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
मनोरंजन

राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार जीतने पर खुश हूं : बी प्राक

बी प्राक ने 67वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों में अपने गीत 'तेरी मिट्टी' के लिए बेस्ट प्लेबैक सिंगर का खिताब जीता है।

गीत 'तेरी मिट्टी' के लिए बेस्ट प्लेबैक सिंगर का खिताब जीता है।(wikimedia commons)

67वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों में कई प्रतिभाशाली लोगों को पुरस्कारों से नवाजा गया एसे में बी प्राक ने 67वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों में अपने गीत 'तेरी मिट्टी' के लिए बेस्ट प्लेबैक सिंगर का खिताब जीता है। उन्होंने और भी विजेताओं के साथ इस पल को साझा किया है ये उनके लिए खास पल रहा। गायक ने अपनी बड़ी जीत के बारे में कहा, "यह साल बहुत अच्छा रहा है। लेकिन सबसे ज्यादा यह पुरस्कार जीतने का पल खास हैं। मैं बहुत खुश हूं। मुझे लगता है कि मैं बहुत खुशनसीब हूं कि हमने एक टीम के साथ ऐसा गीत बनाया जो हमारे राष्ट्र के लिए गौरव के साथ गूंजता है।"

साथ हि वह कहते हैं कि इस पल को वह कभी नहीं भूलेंगे। "आज का दिन मेरे करियर के लिए अनमोल दिन है उन्होंने कहा। हर कलाकार चाहता है कि उसकी सराहना की जाए और राष्ट्रीय पुरस्कार से बड़ा सम्मान कोई नहीं हो सकता।"

 \u092b\u093f\u0932\u094d\u092e \u0915\u0947\u0938\u0930\u0940 2019 की फिल्म केसरी का मुख्य आकर्षण था(wikimedia commons)




आप को बता दे कि तेरी मिट्टी बी प्राक के गीत को भारत के नागरिक बहुत उल्लास के साथ गाते हैं क्योंकि यह उन्हें देश की खातिर बलिदान हुए सैनिकों की याद दिलाता है। मनोज मुंतशिर द्वारा लिखा गया गाना और अरको द्वारा रचित 2019 की फिल्म केसरी का मुख्य आकर्षण था।

यह भी पढ़ें :परेश रावल : अश्लील कॉमेडी का समर्थन नहीं किया मैंने कभी भी

67वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों की घोषणा मार्च 2021 में की गई थी। हाल ही में उनका समापन किया गया क्योंकि उन्होंने हमारे सिनेमा में प्रतिभा को सम्मानित किया और उनका जश्न मनाया। आप को बता दे किबी प्राक के अलावा, मनोज बाजपेयी, रजनीकांत, धनुष, कंगना रनौत और विजय सेतुपति जैसे बड़े फिल्म कलाकारों को भारतीय सिनेमा में उनके काम के लिए सम्मानित किया गया है।(आईएएनएस-PS)

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें!

Popular

स्विट्जरलैंड के स्वास्थ्य नियामक स्विसमेडिक ने ऑनलाइन टीके खरीदने के खतरे की चेतावनी देते हुए कहा है कि फर्जी कोरोनावायरस वैक्सीन पहले से ही इंटरनेट पर बेचे जा रहे हैं। समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, स्विसडेमिक ने मंगलवार को एक बयान में कहा कि कोरोनोवायरस के टीके की मांग बढ़ रही है, आपराधिक व्यक्ति और संगठन इंटरनेट पर नकली टीके देकर लोगों के डर का फायदा उठा रहे हैं। बयान में कहा गया, “अवैध दवाओं और टीकों और विशेष रूप से कोविड-19 टीकों से जुड़े अपराध स्वास्थ्य और आबादी के जीवन के लिए एक गंभीर खतरा पैदा कर सकते हैं।”

यह भी पढ़ें : कैपिटल हिल हमला मामले में एफबीआई के चौंकाने वाले खुलासे

Keep Reading Show less

By : महुआ वेंकटेश

जब 29 साल के अफजल आलम जब कुछ दोस्तों के साथ 30 दिसंबर, 2020 को अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) डॉट्स सेंटर में बतौर वॉलेंटियर पहुंचे, तो इस बारे में बिहार के मोतिहारी में रहने वाले उनके माता-पिता को भी इसकी जानकारी नहीं थी। आलम ने भारत में बने भारत-बायोटेक कोवैक्सिन का डोज लिया। आलम ने बताया, “चूंकि मैं एम्स में कई साल से रक्तदान कर रहा हूं, इसलिए मैं कुछ डॉक्टरों को जानता हूं और जब उन्होंने ट्रायल की बात कही, तो मैं इसका हिस्सा बन गया।”

Keep Reading Show less