Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

नवजात के लिए माँ के दूध से कोविड संक्रमण का नही है कोई खतरा

भारत मे कोरोना के नए मामले तेजी से फैल रहे हैं। स्थिति को देखते हुए डॉक्टरों ने गर्भवती महिलाओं के स्वास्थ्य से सम्बंधित जानकारी साझा की है।

नवजात के लिए माँ के दूध से कोविड संक्रमण का नही है कोई खतरा ( Pixabay )


भारत मे कोरोना के नए मामले तेजी से फैल रहे हैं। स्थिति को देखते हुए डॉक्टरों ने गर्भवती महिलाओं के स्वास्थ्य से सम्बंधित जानकारी साझा की है। गर्भवती महिलाएं कैसे स्वयं के साथ साथ अपने अपने बच्चों को सुरक्षित रखें इस विषय पर डॉक्टरों ने कई सुझाव दिए हैं। उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में स्थित किंग जॉर्ज मेडिकल यूनिवर्सिटी ( केजीएमयू ) की स्त्री एवं प्रसूता रोग विशेषज्ञ डॉ.सुजाता देव का कहना है की कोरोना का नया वैरियंट तेजी से फैल रहा है लेकिन यह उतना घातक नही है। उन्होंने कहा कि कोरोना के पहली एवं दुसरी लहर के बाद गर्भवती महिलाओं में जागरूकता बढ़ी है। कोरोना के बढ़ते मामले के बीच गर्भवती महिलाओं को वैक्सीन लगाने का मुहिम जारी है। वैक्सीनेशन से गर्भवती महिलाओं को एक बड़ा सुरक्षा कवच मिला है औऱ आगे उन्होंने कहा कि नवजात के लिए माँ के दूध से कोविड के फैलने का कोई खतरा नही है।

वरिष्ठ स्त्री एवं प्रसूति रोग विशेषज्ञ डॉ. तृप्ति दुबे जो कि अपोलो हॉस्पिटल नवी मुंबई में कार्यरत है उन्होंने एक सवाल "कोविड के लक्षण है तो क्या करें" पर जवाब देते हुए कहा कि दूध पिलाने वाली मां के अलावा हर किसी को इस बात का गाँठ बांध लेना चाहिए कि संक्रमण सिर्फ ड्राप्लेट (मुंह और नाक से सांस लेने,खांसने,छीकने या थूकने के दौरान निकलने वाली छोटी-छोटी बूंदें ) से फैलता है। माँ के दूध से बच्चों में संक्रमण का खतरा महज एक अपवाद है।


Corona, newborn, omicron, helth, \u0938\u094d\u0935\u093e\u0938\u094d\u0925\u094d\u092f, कोरोना की पहली एवं दूसरी लहर के बाद टीकारण के प्रति गर्भवती महिलाओं में जागरूकता बढ़ी है ( Pixabay )

उन्होंने सलाह देते हुए कहा कि महिलाएं जो संक्रमित है और जिस कमरे में वह आइसोलेट हैं उस कमरे से अपने बच्चे को हर सम्भव अलग रखने की कोशिश करें। उन्होंने बताया कि अपने कमरे में ब्रेस्ट पंप से दूध निकालकर जो उनके बच्चे की देखभाल कर रहे उसको बच्चे को पिलाने के लिए दें। उन्होंने बताया कि दूध निकालने से पहले ब्रेस्ट पंप को बेहतर तरीके से सैनिटाइज जरूर करें।उन्होंने कहा यदि किसी महिला में संक्रमण का कोई लक्षण नही है तो कोविड प्रोटोकॉल का पालन करते हुए अपने बच्चों को अपने साथ रख सकती है। कोविड नियमों का पालन करते हुए अपने बच्चे को खुद से दो मीटर की दूरी पर रखें और हर बार दूध पिलाने से पहले अपने हाथ जरूर धुलें। हर समय सही ढंग से मास्क लगाकर रखें। विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्लूएचओ) ने भी इस बात पर जोर देते हुए कहा है कि कोरोना के दौरान भी महिलाओं को बच्चों को दूध पिलाने के लिए प्रोत्साहित करना चाहिए। यह दोनों के लिए लाभकारी है।

यह भी पढ़े - विश्व में 99 फीसद कोरोना मामलों के पीछे डेल्टा वैरिएंट- विश्व स्वास्थ्य संगठन

डॉ. तृप्ति दुबे ने बताया कि गर्भावस्था में महिलाओं को सांस से सम्बंधित समस्याएं अधिक होती है इस अवस्था मे गर्भवती महिलाएं सांस से संबंधी संस्तुत मेडीकेशन नही कर सकती है ऐसी महिलाओं के ईलाज में यह एक गंभीर समस्या है। उन्होंने बताया कि टिका लगवाने का सबसे बढ़िया समय गर्भावस्था के तीन महीने के बाद का होता है।

Input - IANS; Edited by Abhay Sharma

Popular

वसीम जाफर, पूर्व बल्लेबाज [Wikimedia Commons]

पूर्व बल्लेबाज वसीम जाफर को लगता है कि जोहान्सबर्ग में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ दूसरे टेस्ट में विराट कोहली (Virat Kohli) की अनुपस्थिति में केएल राहुल की जगह वरिष्ठ बल्लेबाज अजिंक्य रहाणे (Ajinkya Rahane) को टीम का नेतृत्व करना चाहिए था।

पहले टेस्ट में शानदार प्रदर्शन के बाद भारत ने दूसरा टेस्ट सात विकेट से गंवा दिया।

Keep Reading Show less

चेतेश्वर पुजारा, भारतीय बल्लेबाज [Wikimedia Commons]

भारत के बल्लेबाज चेतेश्वर पुजारा (Cheteshwar Pujara) ने गुरुवार को कहा कि दूसरे टेस्ट (India vs South Africa, 2nd Test) में दक्षिण अफ्रीका के बचे हुए आठ विकेट लेने के लिए थोड़ा धैर्य रखना होगा। उन्होंने कहा कि हान्सबर्ग के वांडरर्स में चौथे दिन दूसरे टेस्ट की स्थिति काफी हद तक 2018 जैसी ही है, जब दोनों पक्षों ने एक ही स्थान पर एक-दूसरे का सामना किया था। बता दें कि अब मैच में चार सत्र बचे हैं।

पुजारा ने कहा, मुझे लगता है कि पिछली बार की तरह पिच पर फिर हलचल देखने को मिल सकती है, लेकिन हमें थोड़ा और धैर्य रखना होगा। वहीं, हाल की सफलता हम सभी के लिए बहुत मायने रखती है, खासकर इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया में पिछले दो या तीन साल में हमने जैसा खेला है, इससे हमें एक टीम के रूप में काफी आत्मविश्वास मिला है। हमें विश्वास है कि हमारे गेंदबाज 20 विकेट ले सकते हैं। हम आज भी इसके लिए आशान्वित हैं।

Keep Reading Show less

विराट कोहली (File Photo)

भारतीय टेस्ट कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) ने बुधवार को यहां सुपरस्पोर्ट पार्क में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ चल रहे पहले टेस्ट (Test Match) में अपनी दोनों पारियों में बिना कोई शतक लगाए साल 2021 का अंत किया। 33 वर्षीय कोहली पहली पारी में 35 और दूसरी पारी में 18 रन बनाकर मार्को जेनसेन की गेंद पर आउट हो गए।

इसके साथ, कोहली ने 11 टेस्ट में 28.21 के मामूली औसत से 536 रन बनाकर 2021 का अंत किया। उन्होंने 2021 में टेस्ट क्रिकेट में सिर्फ चार अर्धशतक ही बनाए हैं।

भारतीय कप्तान ने आखिरी बार 23 नवंबर 2019 को एक अंतर्राष्ट्रीय शतक लगाया था, जहां उन्होंने ईडन गार्डन्स में बांग्लादेश के खिलाफ डे-नाइट टेस्ट में 136 रन की मैच जिताऊ पारी खेली थी।

स्टार बल्लेबाज (Virat Kohli) ने लंबे समय से अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में शतक नहीं लगाया है, क्योंकि 2020 में कोविड-19 के कारण ज्यादा मैच न होने से भी वह यह कारनामा करने से चूक गए थे।

यह भी पढ़ें : भारतीय सेना ने स्थापित किया क्वांटम लैब

विशेष रूप से 2021 कोहली के लिए एक महत्वपूर्ण वर्ष रहा है, क्योंकि उन्होंने भारत की टी20 की कप्तानी छोड़ने का फैसला किया, जिसके बाद उन्हें वनडे की कप्तानी से भी हटा दिया गया था। (आईएएनएस)

Keep reading... Show less