Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
टेक्नोलॉजी

ओप्पो फाइन्ड एन 5जी नाम से नया स्मार्टफोन लॉन्च कर सकता है : रिपोर्ट

ओप्पो कथित तौर पर जल्द ही अपना पहला फोल्डेबल स्मार्टफोन लॉन्च करने की योजना बना रहा है जिसे फाइन्ड एन 5जी कहा जा सकता है।

ओप्पो कथित तौर पर जल्द ही अपना पहला फोल्डेबल स्मार्टफोन लॉन्च करने की योजना बना रहा है। [Wikimedia Commons]

ओप्पो (Oppo) कथित तौर पर जल्द ही अपना पहला फोल्डेबल स्मार्टफोन लॉन्च करने की योजना बना रहा है। अब एक नई रिपोर्ट में दावा किया गया है कि हैंडसेट को फाइन्ड एन 5जी कहा जा सकता है। टिपस्टर डिजिटल चैट स्टेशन के अनुसार, आगामी फोल्डेबल स्मार्टफोन का नाम फाइन्ड एन 5जी होगा। इसमें एक रोटेटिंग कैमरा मॉड्यूल भी हो सकता है जो उपयोगकर्ताओं को मुख्य सेंसर का उपयोग करके उच्च-गुणवत्ता वाली सेल्फी क्लिक करने की अनुमति देगा।

ऐसा कहा जा रहा है कि यह फोन 7.8 से 8.0 इंच की ओएलईडी स्क्रीन 2के रिजॉल्यूशन और 120हट्र्ज की रेफ्रेश रेट के साथ है। डिवाइस में साइड-माउंटेड फिंगरप्रिंट रीडर होने की संभावना है। हुड के तहत, यह स्नैपड्रैगन 888 मोबाइल प्लेटफॉर्म द्वारा संचालित होगा।


foldable phone, OPPO, smartphone, 5G ऐसा कहा जा रहा है कि ओप्पो का यह फोल्डेबल फोन 7.8 से 8.0 इंच की ओएलईडी स्क्रीन 2के रिजॉल्यूशन और 120हट्र्ज की रेफ्रेश रेट के साथ है। [Wikimedia Commons]

रिपोर्ट के अनुसार, डिवाइस के कलरओएस 12 के साथ प्रीइंस्टॉल्ड आने की उम्मीद है, लेकिन यह स्पष्ट नहीं है कि इसमें लेटेस्ट एंड्रॉइड 12 होगा या पिछले साल का एंड्रॉइड 11।

कैमरा डिपार्टमेंट में, डिवाइस में पीछे की तरफ सोनी आईएमएक्स766 50-मेगापिक्सल का प्राइमरी कैमरा हो सकता है।

यह भी पढ़ें : मस्क ने कर्मचारियों से टेस्ला वाहनों की डिलीवरी की लागत में कटौती करने का आग्रह किया है

इसके अलावा, डिवाइस 4,500 एमएएच की बैटरी द्वारा संचालित होगा और इसमें 65 वॉट फास्ट चार्जिग तकनीक का सपोर्ट होगा।

फोल्डेबल स्मार्टफोन के अलावा चीनी कंपनी नेक्स्ट-जेनरेशन ओप्पो (Oppo) रेनो7 सीरीज के स्मार्टफोन भी लॉन्च करने की तैयारी कर रही है। (आईएएनएस)

Input: IANS ; Edited By: Manisha Singh

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें!

Popular

भूमि का पराली जलाना। (WIKIMEDIA COMMONS)

मॉनसून की वापसी की आधिकारिक तौर पर उलटी गिनती शुरू होने के साथ ही खराब वायु गुणवत्ता वाले दिनों की आशंका शुरू हो गई है। मॉनसून की वापसी होते ही, उल्टी गिनती शुरू होने के साथ खराब वायु गुणवत्ता वाले दिनों की चिंता भी शुरू हो गई है। पंजाब और हरियाणा के किसानों द्वारा 'पराली' (पराली जलाना) प्रदूषण का मूल कारण है। परंतु अब यही किसान ना केवल कृषि कचरे से कमाई , बल्कि हाइड्रोजन के उत्पादन में भी सहायता कर सकते हैं।

पुणे के शोधकर्ताओं द्वारा कृषि अवषेशों से हाइड्रोजन के सीधे उत्पादन के लिए एक अनोखी तकनीक विकसित की है। यह नवाचार हाइड्रोजन उपलब्धता की चुनौती पर काबू पाकर पर्यावरण के अनुकूल हाइड्रोजन ईंधन-सेल इलेक्ट्रिक वाहनों को बढ़ावा दे सकता है। भारत ने अपने राष्ट्रीय स्तर पर निर्धारित योगदान (एनडीसी) के हिस्से के रूप में विश्व समुदाय से कई कदमों का वादा किया है, भारत ग्लोबल वार्मिंग को सीमित करने के लिए कार्बन उत्सर्जन को सीमित करने के लिए कार्रवाई करेगा। इसने 2030 तक 450 गीगावॉट नवीकरणीय ऊर्जा का लक्ष्य रखा है।

Keep Reading Show less

प्रदूषण के बढ़ने से ना केवल मनुष्य परंतु पर्यावरण को भी हनी पहुंच रही है। (wikimedia commons)

गंगा को स्वच्छ करने के अभियान में सरकार कर रही है मेहनत। आए दिन प्रदूषण बढ़ता जा रहा है जिसे लेकर सरकार भी चिंतित है। प्रदूषण के बढ़ने से ना केवल मनुष्य परंतु पर्यावरण को भी हनी पहुंच रही है। गंगा नदी में प्रदूषण को कम करने के लिए सरकार प्राकृतिक तरीके अपनाने जा रही है। इसके तहत नदी में नाइट्रोजन की मात्रा को बढ़ाने वाले कारकों को नष्ट करने की कोशिश में नदी में विशेष प्रकार की मछलियां छोड़ी जाएंगी। 'नमामि गंगे' कार्यक्रम जून 2014 में 20,000 करोड़ रुपये के बजट के साथ केंद्र सरकार द्वारा एक प्रमुख कार्यक्रम के रूप में शुरू किया गया एक एकीकृत संरक्षण मिशन है।

'नमामि गंगे' योजना के तहत गंगा को प्रदूषण मुक्त करने के लिए उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा योजना बनाई है। नदियों की पारिस्थिति के तंत्र को मजबूत करने और प्रदूषण मुक्त करने के लिए सरकार गंगा में 15 लाख मछलियां छोड़ेंगी। 'नमामि गंगे' योजना के तहत गंगा में प्रदूषण को नियंत्रित करने के लिए सरकार के आदेश पर मत्स्यपालन विभाग के द्वारा गंगा में विभिन्न प्रजाति की मछलियों को छोड़ने की योजना बनाई गई है। उत्तर प्रदेश के 12 ज़िलो में ये मछलियां छोड़ी जाएँगी। 'नमामि गंगे' प्लान के तहत गंगा में मल-जल जाने से रोकने के लिए एसटीपी का निर्माण होगा। गंगा टास्क फॉर्स ,समेत गंगा को स्वच्छ और सुरक्षित करने के लिए सभी प्रयास कर रहे है, जिसमें योगी सरकार को सफलता भी मिल रही है। अब गंगा के इको सिस्टम को बरकरार रखते हुए, गंगा को साफ रखने के लिए मछलियों का इस्तेमाल होगा। सरकार 12 जिलों में 15 लाख मछलियां नदियों में छोड़ेगी। जिसमे गाजीपुर ,वाराणसी ,मिजार्पुर ,प्रयागराज ,कौशाम्बी ,प्रतापगढ़ ,कानपुर ,हरदोई ,बहराइच ,बुलंदशहर ,अमरोहा ,बिजनौर जिले शामिल है। पूर्वांचल में वाराणसी और गाजीपुर में 1.5-1.5 लाख मछलियां गंगा नदी में छोड़ी जाएंगी।

Keep Reading Show less