Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
दुनिया

शोधकर्ताओं ने की अल्जाइमर रोग के कारण की पहचान

शोधकर्ताओं ने 'ब्लड-टू-ब्रेन पाथवे' की पहचान की है जो अल्जाइमर रोग का कारण बन सकता है।

अल्जाइमर रोग एक मानसिक विकार है। (unsplash)

ऑस्ट्रेलिया के शोधकर्ताओं ने एक अभूतपूर्व अध्ययन में 'ब्लड-टू-ब्रेन पाथवे' की पहचान की है जो अल्जाइमर रोग का कारण बन सकता है। कर्टिन विश्वविद्यालय जो कि ऑस्ट्रेलिया के पर्थ शहर में है, वहाँ माउस मॉडल पर परीक्षण किया गया था, इससे पता चला कि अल्जाइमर रोग का एक संभावित कारण विषाक्त प्रोटीन को ले जाने वाले वसा वाले कणों के रक्त से मस्तिष्क में रिसाव था।

कर्टिन हेल्थ इनोवेशन रिसर्च इंस्टीट्यूट के निदेशक प्रमुख जांचकर्ता प्रोफेसर जॉन मामो ने कहा "जबकि हम पहले जानते थे कि अल्जाइमर रोग से पीड़ित लोगों की पहचान विशेषता बीटा-एमिलॉयड नामक मस्तिष्क के भीतर जहरीले प्रोटीन जमा का प्रगतिशील संचय था, शोधकर्ताओं को यह नहीं पता था कि एमिलॉयड कहां से उत्पन्न हुआ, या यह मस्तिष्क में क्यों जमा हुआ," शोध से पता चलता है कि अल्जाइमर रोग से पीड़ित लोगों के दिमाग में जहरीले प्रोटीन बनते हैं, जो रक्त में वसा ले जाने वाले कणों से मस्तिष्क में रिसाव की संभावना रखते हैं। इसे लिपोप्रोटीन कहा जाता है।


'ब्लड-टू-ब्रेन पाथवे' महत्वपूर्ण है क्योंकि अगर हम लिपोप्रोटीन-एमाइलॉइड के रक्त के स्तर को प्रबंधित कर सकते हैं और मस्तिष्क में उनके रिसाव को रोक सकते हैं, तो हमे अल्जाइमर रोग को रोकने के लिए नए उपचार प्राप्त हो सकते है।ऐसा पिछले शोध में दिखाया गया था कि बीटा-एमिलॉइड मस्तिष्क के बाहर लिपोप्रोटीन के साथ बनाया जाता है। मामो की टीम ने माउस मॉडल द्वारा 'रक्त-से-मस्तिष्क मार्ग' का परीक्षण किया ताकि मानव अमाइलॉइड-केवल यकृत का उत्पादन किया जा सके।

यह भी पढ़ेंः युवाओं को कैसे प्रभावित कर रहा है नशा?

रिसर्च से यह मालूम होता है कि रक्त में इन जहरीले प्रोटीन का जमा होना किसी व्यक्ति के आहार और कुछ दवाओं के माध्यम से संबोधित किया जा सकता है जो विशेष रूप से लिपोप्रोटीन एमिलॉयड को लक्षित कर सकते हैं। (IANS:TS)

Popular

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को वेस्टर्न डेडिकेटेड फ्रेट कॉरिडोर (डीएफसी) के रेवाड़ी-मदार रेलखंड का लोकार्पण कर डबल स्टैक कंटेनर ट्रेन के परिचालन की शुरूआत की। हरियाणा और राजस्थान में 306 किमी लंबा यह ट्रैक गुजरात के पोर्ट्स को उत्तर भारत से जोड़ने में सहायक होगा। इस ट्रैक पर सौ किमी प्रति घंटा की गति से मालगाड़ियां चलेंगी। प्रधानमंत्री मोदी ने नए साल में देश के आगाज को अच्छा बताते हुए कहा कि आने वाला समय और शानदार, जानदार होगा। प्रधानमंत्री मोदी ने भारतीयों से न रुकने और न थमने का आह्वान करते कहा कि देश के इंफ्रास्ट्रक्च र को आधुनिक बनाने के लिए चल रहे महायज्ञ ने आज एक नई गति हासिल की है। इस वर्चुअल कार्यक्रम में हरियाणा और राजस्थान के मुख्यमंत्रियों के केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल, गजेंद्र सिंह शेखावत भी शामिल हुए।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि डेडीकेटेड फ्रेट कॉरीडोर के इस प्रोजेक्ट को 21वीं सदी में भारत के लिए गेमचेंजर के रूप में देखा जा रहा है। पांच से छह वर्षों में कड़ी मेहनत के बाद इसका एक हिस्सा हकीकत बन चुका है। पिछले दिनों भावपुर-न्यू खुर्जा सेक्शन शुरू होने से मालगाड़ियों की स्पीड 90 किमी प्रति घंटा दर्ज की गई। जिस रास्ते में सिर्फ 25 किमी प्रति घंटे की औसत स्पीड रही हो, वहां पहले से तीन गुना ज्यादा तेज गति से मालगाड़ी चलने लगी है।

Keep Reading Show less
कल्पना चावला, अंतरिक्ष यात्री (Wikimedia Commons)

अमेरिकी एयरोस्पेस और रक्षा प्रौद्योगिकी कंपनी नॉथ्रेप ग्रुमैन ने दिवंगत अंतरिक्ष यात्री कल्पना चावला के नाम पर एक स्पेसक्राफ्ट का नाम रखा है। कल्पना चावला अंतरिक्ष में जाने वाली पहली भारतीय मूल की महिला थीं। स्पेसक्राफ्ट का नाम एस.एस. कल्पना चावला रखा जाएगा, यह इंटरनेशनल स्पेस स्टेशन (आईएसएस) तक कार्गो ले जाएगा।

कंपनी ने कहा, “पूर्व अंतरिक्ष यात्री कल्पना चावला के नाम पर एनजी -14 सिग्नस स्पेसक्राफ्ट का नाम रखने को लेकर नॉथ्र्राॅप ग्रुमैन को गर्व है।”

Keep Reading Show less