Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
होम

लव जिहाद ,धर्मांतरण में ईसाई सबसे आगे : सहयोगी एनडीए नेता

एनडीए के सहयोगी और भारत धर्म जन सेना के संरक्षक वेल्लापल्ली नतेसन नें एक कैथोलिक पादरी द्वारा लगाए गए आरोपों पर प्रतिक्रिया दी

प्रमुख हिंदू नेता और श्री नारायण धर्म परिपालन योगम के महासचिव वेल्लापल्ली नतेसन (wikimedia commons)

हमारे देश में लव जिहाद के जब मामले आते है , तब इस मुद्दे पर चर्चा जोर पकड़ती है और देश कई नेता और जनता अपनी-अपनी राय को वयक्त करते है । एसे में एक प्रमुख हिंदू नेता और श्री नारायण धर्म परिपालन योगम के महासचिव वेल्लापल्ली नतेसन ने सोमवार को एक बयान दिया जिसमें उन्होनें कहा कि यह मुस्लिम समुदाय नहीं बल्कि ईसाई हैं जो देश में धर्मांतरण और लव जिहाद में सबसे आगे हैं।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार एनडीए के सहयोगी और भारत धर्म जन सेना के संरक्षक वेल्लापल्ली नतेसन नें एक कैथोलिक पादरी द्वारा लगाए गए आरोपों पर प्रतिक्रिया दी , जिसमे कहा गया था हिंदू पुरुषों द्वारा ईसाई धर्म महिलाओं को लालच दिया जा रहा है। नतेसन नें पाला बिशप जोसेफ कल्लारंगट की एक टिप्पणी जो कि विवादास्पद "लव जिहाद" और "मादक जिहाद" की भी जमकर आलोचना की और यह कहा कि इस मुद्दे पर "मुस्लिम समुदाय को निशाना बनाना सही नहीं है"।


उन्होनें आगे कहा कि जब एक ईसाई महिला मुस्लिम धर्म के पक्ष में जाती है, तो अन्य समुदायों की सौ महिलाओं की शादी ईसाइयों से होती है। कोई क्यों नहीं बोल रहा है? इसके बारे में । ईसाई लोग महिलाओं से शादी कर रहे हैं। धर्म परिवर्तन में लगे देश का सबसे बड़ा समूह है, ईसाई। मुसलमान उस पैमाने पर, धर्मांतरण नहीं करते हैं। आगे बयान देते हुए उन्होनें नें कहा कि जब लव जिहाद होता है , तो इसमें केवल एक ईसाई महिला को मुस्लिम समुदाय में ले जाया जाता है। जबकि धर्मांतरण में एक पूरा परिवार ईसाई धर्म में जा रहा है।लव जिहाद और धर्मांतरण के बारे में बात करे तो , निस्संदेह ईसाई सबसे आगे हैं ।


कैथोलिक दैनिक दीपिका से जुड़े वरिष्ठ कैथोलिक पादरी रॉय कन्ननचिरा ने शनिवार को शिक्षकों को एक वीडियो संदेश में आरोप लगाया था कि कैथोलिक महिलाओं को प्रेम विवाह में फंसाने के लिए हिंदू युवाओं को रणनीतिक रूप से प्रशिक्षित किया जाता है। इसके बाद कन्ननचिरा ने माफी मांगते हुए दावा किया कि उनका इरादा किसी समुदाय धर्म को चोट पहुंचाने का नहीं था।

इन दावों ने केरल में एक बड़ी बहस छेड़ दी थी कि जब पिछले सप्ताह, कैथोलिक बिशप जोसेफ कल्लारंगट ने आरोप लगाते हुए कहा था कि गैर-मुसलमानों को लक्षित करने के लिए "लव जिहाद" के साथ-साथ "मादक जिहाद" भी है।

यह भी पढ़ें : दलित वोटों की डकैती करना कांग्रेस की पुरानी आदत : भाजपा

इन सब घटनाक्रम के बीच में , विपक्षी नेता वी डी सतीसन ने सांस्कृतिक नेताओं और कलाकारों को पत्र लिखकर केरल में सांप्रदायिक सद्भाव बनाए रखने के लिए हस्तक्षेप करने की मांग भी की है।

Edited By: Pramil Sharma

Popular

Pixabay

आप हरे-भरे इलाकों में रहते हैं तो आपको हृदय का रोग विकसित होने की संभावनाएं कम होती हैं।

अगर आप हरे-भरे इलाकों में रहते हैं तो आपको हृदय का रोग विकसित होने की संभावनाएं कम होती हैं। एक नए अध्ययन में यह बात सामने आई है। ईएससी कांग्रेस 2021 में प्रस्तुत किए गए निष्कर्षों से संकेत मिलता है कि पूरे अध्ययन के दौरान उच्च हरे भरे वाले ब्लॉकों के निवासियों में कम हरे भरे वाले ब्लॉकों की तुलना में किसी भी नई कार्डियोवैस्कुलर स्थितियों को विकसित करने की 16 प्रतिशत कम संभावनाएं थीं।

यूनिवर्सिटी ऑफ मियामी, अमेरिका के विलियम ऐटकेन ने कहा, "जब कोई क्षेत्र उच्च हरापन बनाए रखता है और जब हरापन बढ़ता है, तो समय के साथ हरेपन के उच्च स्तर हृदय की स्थिति और स्ट्रोक की कम दरों से जुड़े होते हैं।"

एटकेन ने कहा, "यह उल्लेखनीय था कि ये संबंध केवल पांच वर्षों में दिखाई दिए, पॉजिटिव पर्यावरणीय प्रभाव के लिए अपेक्षाकृत कम समय में।" अध्ययन के लिए, टीम में 65 वर्ष और उससे अधिक आयु के 2,43,558 यूएस मेडिकेयर लाभार्थी शामिल थे जो 2011 से 2016 तक मियामी के एक ही क्षेत्र में रहते थे।

पांच साल के अध्ययन के दौरान दिल का दौरा, आलिंद फिब्रिलेशन, दिल की विफलता, इस्केमिक हृदय रोग, उच्च रक्तचाप और स्ट्रोक / क्षणिक इस्केमिक हमले सहित नई हृदय स्थितियों की घटनाओं को प्राप्त करने के लिए मेडिकेयर रिकॉर्ड का उपयोग किया गया था।

Heart टीम ने ब्लॉक-स्तरीय हरेपन के आधार पर किसी भी नए हृदय रोग के विकास की बाधाओं और नई हृदय स्थितियों की संख्या का विश्लेषण किया। Pixabay

Keep Reading Show less

By: विवेक त्रिपाठी

आयुर्वेद की दुनिया में नीम एक बेहद महत्वपूर्ण औषधि मानी जाती है। इसका प्रयोग त्वचा संबंधी काफी बीमारियों से निजात पाने में किया जाता है। इसी को ध्यान में रखते हुए छत्रपति शाहू जी महाराज विश्वविद्यालय सीएसजेएमयू के फॉमेर्सी विभाग ने नीम के तेल से एक ऐसा ट्रांस एथोजोमल जैल विकसित करने का फार्मूला तैयार किया है, जो शरीर में पूरी तरह समा जाता है और साथ बैक्टीरिया (जीवाणु) से खोई त्वचा की चमक को लौटाने में सहायक है।

Keep Reading Show less
गर्भवती महिला (सांकेतिक चित्र, Pixabay)

आईआईटी-बीचएयू के दो पूर्व छात्रों ने गर्भवती महिलाओं की मदद के लिए एक हेल्थ ऐप विकसित किया है। डवलपर्स रवि तेजा और मयूर धुरपते ने ऐप का नाम ‘आईमम्ज’ रखा है, जिसे प्रतिष्ठित आत्मनिर्भर भारत एप नवाचार चुनौती में पूरे भारत में स्वास्थ्य वर्ग में दूसरा स्थान हासिल हुआ है।

इस ऐप में वैज्ञानिक तरीके से सप्ताह वार गर्भावस्था और भ्रूण के स्वास्थ्य के बारे में बताया जाता है, साथ ही स्वस्थ्य बच्चे और सेफ डिलिवरी के लिए अन्य उपाय भी बताए गए हैं।

Keep reading... Show less