Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
राजनीति

कुछ राजनितिक पार्टियां और संगठन आंबेडकर के लिए "गलत सम्मान" दिखाते हैं- मायावती

बसपा सुप्रीमो मायावती ने सोमवार को एक कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए अन्य राजनितिक पार्टियों पर दलितों के लिए "गलत सम्मान" दिखने का आरोप लगाया है।

मायावती (Wikimedia Commons)

5 राज्यों के चुनाव जैसे-जैसे पास आ रहे हैं वैसे-वैसे राजनितिक दल चुनाव जीतने के लिए अपनी-अपनी रणनीति बना रहे हैं। सोमवार को नंबर बसपा(Bahujan Samaaj Party) अध्यक्ष मायावती का था जिन्होंने दलितों का मुद्दा उठाकर अपना पारम्परिक वोटबैंक साधने की कोशिश की।

देश के संविधान के निर्माता बाबासाहेब अंबेडकर(Bhimrao Ambedkar) की 65वीं पुण्यतिथि पर पत्रकारों से बात करते हुए उन्होंने दो अन्य राज्यों में विधानसभा चुनावों के लिए अपनी पार्टी की योजनाओं को भी साझा किया।


उन्होंने कहा, "उत्तराखंड में, बसपा अपने दम पर और पंजाब में शिरोमणि अकाली दल के साथ गठबंधन में सभी सीटों पर चुनाव लड़ेगी," उन्होंने विश्वास जताया कि उनकी पार्टी उत्तराखंड में बेहतर प्रदर्शन करेगी और पंजाब में एक मजबूत गठबंधन सरकार बनाएगी।

बीआर अंबेडकर को श्रद्धांजलि देते हुए उन्होंने कहा कि उन्होंने कई कठिनाइयों का सामना किया, लेकिन अपना पूरा जीवन दलित और वंचित वर्गों को अपने पैरों पर खड़ा करने के लिए समर्पित कर दिया।

उन्होंने आरोप लगाया कि देश में ऐसी कई संकीर्ण और जातिवादी मानसिकता वाली पार्टियां और संगठन हैं जिन्होंने हमेशा अंबेडकर के लिए "गलत सम्मान"(False Respect) दिखाते हुए मानवीय दृष्टिकोण का विरोध किया है। उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री ने भाजपा और अन्य दलों पर दलितों को संविधान में निहित उनके कानूनी अधिकारों का पूरा लाभ नहीं देने का आरोप लगाया।

mayawati, bahujan samaaj party, votebank politics मायावती की पार्टी 2014 के लोकसभा चुनाव के बाद देश के अन्य चुनावों में अब तक ज़्यादा अच्छा प्रदर्शन नहीं किया है फिर भी मायावती आगामी पांच राज्यों के चुनावों में अच्छा प्रदर्शन करने दम भर रही हैं। (Wikimedia Commons)

मायावती ने बिना नाम लिए हुए भीम आर्मी के प्रमुख व आजाद समाज पार्टी के मुखिया चन्द्रशेखर(Chandrashekhar) पर हमला बोला और कहा कि सड़कों पर उतरने से नहीं सत्ता परिवर्तन से संविधान बचेगा। उन्होने कहा कि संविधान के अनुसार सरकारें नहीं चलने का एकमात्र उपाय उन्हें सत्ता से बाहर कर देना है। तभी आप संविधान के अनुसार काम कर सकते हैं। सड़कों पर आने से काम नहीं चलेगा, सत्ता बदलने से काम नहीं चलेगा। सत्ता परिवर्तन होगा तो संविधान की रक्षा होगी। बाबासाहेब अंबेडकर के विरोधी लोग सत्ता में हैं तो हम क्या कर लेंगे।

उन्होंने अखिलेश यादव के नेतृत्व वाली समाजवादी पार्टी पर भी हमला बोलते हुए कहा, "लोग जानते हैं कि उनके शासनकाल में गुंडागर्दी और माफिया चरम पर थे।"
उन्होंने सत्तारूढ़ भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा कि पार्टी के दावों के विपरीत, राज्य में कमजोर वर्गों के खिलाफ हर रोज अत्याचार की खबरें आती हैं।
उन्होंने कहा कि बाबासाहेब अम्बेडकर ने "इन वर्गों को कानूनी अधिकार दिए, लेकिन केंद्र और राज्य सरकारों की जातिवादी मानसिकता के कारण, उन्हें इन अधिकारों का पूरा लाभ नहीं मिल सका"।

उन्होंने कहा, "बसपा का मुख्य लक्ष्य अंबेडकर के समतामूलक समाज के विचार और स्वाभिमान के अभियान को आगे बढ़ाना है और इसे कम करके नहीं आंका जाना चाहिए। यह कारवां न रुकने वाला है और न झुकने वाला है।"

यह भी पढ़ें- अलर्ट पर अयोध्या!

उन्होंने कहा कि कुछ संगठन अपने स्वार्थ के लिए आंबेडकर के आंदोलन को कमजोर करने में लगे हैं, खासकर दलितों, आदिवासियों, पिछड़े वर्गों और अन्य हाशिए के वर्गों के वोटों को विभाजित करके, उन्होंने कहा।

Input-IANS ; Edited By- Saksham Nagar

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें

Popular

जो लोग हो चुके है कोविड संक्रमित उनके लिए काल है ओमिक्रॉन! [File Photo]

सीएनएन(CNN) की एक रिपोर्ट के अनुसार, दक्षिण अफ्रीका में शोधकर्ताओं के एक दल ने शोध किया है। उन्होने कहा है कि उन्हें कुछ सबूत मिले हैं कि जो लोग एक बार कोविड(Covid 19) से संक्रमित हो गए थे, उनकी बीटा(Beta) या डेल्टा वैरिएंट (delta variant)की तुलना में ओमिक्रॉन वैरिएंट(Omicron Variant) से दोबारा संक्रमित होने की संभावना अधिक है। साथ ही साथ यह भी कहा गया है कि अभी इतनी जल्दी निश्चित रूप से इस बारे में कुछ कहना तो जल्दबाजी होगी, मगर हाल ही में दूसरी बार के संक्रमण में वृद्धि ने उन्हें संकेत दिया है कि ओमिक्रॉन में लोगों को फिर से संक्रमित करने की अधिक संभावना है। दक्षिण अफ्रीका में शोधकर्ताओं के एक दल ने कहा कि

अपको बता दें, ओमिक्रॉन(Omicron Variant) की पहचान हाल ही में नवंबर महीने में की गई थी, लेकिन इसने विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) और अन्य वैश्विक स्वास्थ्य अधिकारियों को चिंतित कर दिया है, जिन्होंने इसके कई म्यूटेंट बनने के कारण इसे खतरनाक बताया है। इसके बारे में बताया जा रहा है कि यह अन्य वैरिएंट की तुलना में अधिक संक्रामक तो है ही, साथ ही इसमें प्रतिरक्षा प्रणाली से बचने की क्षमता भी है।

Keep Reading Show less

देश में अब तक ओमीक्रोन से संक्रमित दो मरीज मिल चुके हैं। [pixabay]

दुनिया में तेजी से फैल रहे कोरोना के नए वेरिएंट ओमीक्रोन ने अब भारत में भी दस्तक दे दी है। मामले की गंभीरता आप इस बात से समझ सकते हैं कि देश के टॉप साइंटिस्ट ने शुक्रवार को यह चेतावनी तक दे दी है कि यह वेरिएंट देश में तीसरी लहर ला सकता है। बता दें कि देश में अब तक ओमीक्रोन से संक्रमित दो मरीज मिल चुके हैं। ये दोनों मरीज कर्नाटक से हैं। इनमे से एक शख्स 66 साल का विदेशी है जो 20 नवंबर को बैंगलुरु आया था। कोरोना टेस्ट पॉजिटिव आने के बाद इसे प्राइवेट होटल में आइसोलेट कर दिया गया, जिसके बाद 27 नवंबर को ये शख्स दुबई लौट गया। वहीं 46 साल का जो दूसरा शख्स ओमिक्रॉन वेरिएंट से प्रभावित है, वो स्थानीय है और 22 नवंबर को ये पॉजिटिव पाया गया था। फिलहाल इनके संपर्क में आए लोगों के सैंपल जीनोम सिक्वेंसिंग (Genome Sequencing) के लिए भेजे गए हैं। अब आइये जानते हैं कि क्या होती है जीनोम सिक्वेंसिंग।

जीनोम सिक्वेंसिंग क्या है ?

Keep Reading Show less

हेल्थ स्टार्टअप्स ने भारत के सेकेंडरी केयर सर्जरी मार्केट का लाभ उठाया। [IANS]

हेल्थकेयर स्टार्टअप्स (Healthcare Startups) ने भारत में स्वास्थ्य देखभाल की सुविधाओं पर विशेष ध्यान देने के साथ देश में सेकेंडरी केयर सर्जरी बाजार में तेजी ला दी है। सर्जरी स्वास्थ्य देखभाल खर्च और सेकेंडरी केयर सर्जरी के साथ बढ़ते बाजार का सबसे बड़ा हिस्सा है।

प्रिस्टिन केयर, प्रैक्टो और मिरास्केयर जैसे हेल्थकेयर स्टार्टअप्स ने ऐसे तकनीकी प्लेटफॉर्म तैयार किए हैं, जो सस्ते दामों पर डॉक्टरों, ग्राहकों और अस्पतालों को जोड़ते हैं।

ये स्टार्टअप (Healthcare Startups) ऑनलाइन चिकित्सा सलाह प्रदान करते हैं और उसके बाद यदि आवश्यक हो तो देशभर के छोटे अस्पतालों में हर्निया, बवासीर, पित्त पथरी आदि जैसी बीमारियों के लिए गैर-महत्वपूर्ण न्यूनतम इनवेसिव सर्जरी की जरूरत होती है, जो महानगरों के बड़े अस्पतालों की तुलना में कम क्षमता पर चलते हैं।

प्रिस्टिन केयर (Pristyn Care), जो जनवरी 2021 से लगभग पांच गुना बढ़ चुका है, इस क्षेत्र में अग्रणी है। इसमें 80 से अधिक क्लीनिकों, 400 से अधिक साझेदार अस्पतालों और 140 से अधिक इन-हाउस सुपर स्पेशियलिटी सर्जनों का एक पारिस्थितिकी तंत्र है। यह देशभर के 22 से अधिक शहरों में काम करता है।

हाल ही में आए मिरास्केयर क्लीनिक एंड सेंटर भी उन्नत सामान्य, लेप्रोस्कोपिक सर्जरी और प्रोक्टोलॉजी में उपचार की एक सीरीज प्रदान करता है।

Memorial Hospital Central, hopitals in india, online health facilities पूरे भारत में 2,000 बड़े आकार के अस्पतालों में पहले से ही ऐसी सुविधाएं हैं। [Wikimedia Commons]

Keep reading... Show less