Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

यात्रा प्रतिबंध के जरिये नहीं रुकेगा ओमिक्रॉन वैरिएंट!

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने चेतावनी दी है कि सिर्फ तमाम देशों में यात्रा प्रतिबंधों के जरिये दुनिया भर में कोविड-19 और ओमिक्रॉन वैरिएंट के प्रसार को रोकना संभव नहीं है, इसके लिए हमें व्यापक इंतजाम करने होंगे।

ओमिक्रॉन वैरिएंट(प्रतीकात्मक,File Photo)

हाल ही में बोत्सवाना और दक्षिण अफ्रीका(South Africa) से उत्पन्न कोविड के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन(Omicron Variant) का पता चला है, जो कि बहुत घातक बताया जा रहा है। दुनिया में इस वैरिएंट का पता लगने के बाद विश्व और भारत के तमाम नेता यात्रा प्रतिबंध(travel restrictions)की बात करने लगे हैं। लेकिन डब्ल्यूएचओ(W.H.O.) ने यात्रा प्रतिबंध पर एक बयान सामने आया है, जो इन सभी स्थितियों पर विराम लगा सकता है।

दरअसल, विश्व स्वास्थ्य संगठन (W.H.O.) ने चेतावनी दी है कि सिर्फ तमाम देशों में यात्रा प्रतिबंधों के जरिये दुनिया भर में कोविड-19 और ओमिक्रॉन वैरिएंट(Omicron Variant) के प्रसार को रोकना संभव नहीं है, इसके लिए हमें व्यापक इंतजाम करने होंगे। बता दें कि दर्जनों देशों ने पहले ही इस तरह के प्रतिबंध लगा दिए हैं। हालांकि ओमिक्रॉन को डब्ल्यूएचओ ने "वैरिएंट ऑफ कंसर्न" करार दिया है, डब्ल्यूएचओ ने मंगलवार को कहा कि यात्रा प्रतिबंध केवल जीवन और आजीविका पर बोझ डालेगा।"


who, omicron variant ,South Africa विश्व स्वास्थ्य संगठन (Pixabay)


समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, पिछले हफ्ते दक्षिण अफ्रीका द्वारा ओमिक्रॉन वैरिएंट(Omicron Variant)को सबसे पहले डब्ल्यूएचओ(W.H.O.) को सूचित किया गया था। अब तक, कई देशों के राज्यों में ओमिक्रॉन वैरिएंट के मामलों की पुष्टि हुई है। दर्जनों देशों ने पहले ही यात्रा पर कड़ा पहा लगा दिया है, वहीं, कुछ देशों ने उड़ानें भी निलंबित कर दी हैं।

अपको बता दें, मंगलवार को ओमिक्रॉन वैरिएंट(Omicron Variants) पर डब्ल्यूएचओ(W.H.O.) के महानिदेशक ट्रेडोस एडनॉम घेबियस(Tredos Adhanom Ghebreyesus) ने बोत्सवाना और दक्षिण अफ्रीका(South Africa) को इस वैरिएंट का इतनी तेजी से पता लगाने और रिपोर्ट करने के लिए धन्यवाद दिया। उन्होंने अन्य देशों से अंतरराष्ट्रीय स्वास्थ्य नियमों को ध्यान में रखते हुए जोखिम-घटाने के उपाये खोजने का आग्रह किया है।

यह भी पढ़े - जाने सभी आईपीएल टीमों के रिटेन खिलाड़ियों के नाम

इसके अलावा, डब्ल्यूएचओ(W.H.O.) ने सलाह दी कि जो लोग अस्वस्थ हैं, जिन्हें कोविड-19 रोग विकसित होने का खतरा है, जिनमें 60 वर्ष या उससे अधिक उम्र के लोग हृदय रोग, कैंसर और मधुमेह जैसी कॉमरेडिडिटी वाले लोग शामिल हैं, उन्हें अपनी यात्राएं स्थगित कर देनी चाहिए।

input : आईएएनएस ; Edited by Lakshya Gupta

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें/


Popular

ह्रदय रोग और उच्च रक्तचाप के कारण से होने वाली बीमारियों से अनजान। (pixabay)

एक हैरान कर देने वाले सर्वे के अनुसार, भारत में हृदय रोग के 50 प्रतिशत से अधिक रोगी केवल आपातकालीन स्थिति में ही चिकित्सकीय सलाह लेते हैं, जिससे पता चलता है कि लोगों के बीच हृदय रोग की जागरूकता ना के बराबर है। एनसीआरबी की रिपोर्ट के पिछले चार वर्षों के तुलना मे पता चला है कि 18 से 30 वर्ष के आयु वर्ग में दिल के दौरे के कारण होने वाली मौतों में बढ़ौती हुई है,जो 2016 में 1,940 से बढ़कर पिछले वर्ष के दौरान 2,381 हो गई है। 45-60 आयु वर्ग में, मृत्यु दर 2016 में 8,862 से बढ़कर पिछले वर्ष के दौरान 11,042 हो गई। 60 से अधिक आयु वर्ग में, 2016 में 4,275 की तुलना में पिछले साल 6,612 लोगों की मृत्यु हुई।

"भारत में गैर-संचारी रोग" शीर्षक वाली सर्वेक्षण रिपोर्ट में देश में गैर-संचारी रोगों (एनसीडी) के बढ़ते मामलों का विश्लेषण करने के लिए 21 राज्यों में 2,33,672 लोगों और 673 सार्वजनिक स्वास्थ्य कार्यालयों को शामिल किया गया। यह शीर्ष व्यापार निकाय एसोचैम द्वारा दिल्ली स्थित थिंक टैंक थॉट आर्ब्रिटेज रिसर्च इंस्टीट्यूट के साथ संयुक्त रूप से आयोजित किया गया था। एक सर्वेक्षण में पाया गया कि 36-45 वर्ष की आयु से हृदय रोगी वाले लोगों का जोखिम काफी बढ़ गया है। फिर भी 70 प्रतिशत से ज्यादा लोगों ने माना है कि उन्हें एक वर्ष की पीड़ा के बाद निदान किया गया था। हृदय रोग (सीवीडी) और उच्च रक्तचाप से पीड़ित 40 प्रतिशत से अधिक उत्तरदाताओं ने माना है कि उन्हें तीन साल से अधिक समय से अपनी हृदय संबंधित बीमारियों के बारे में पता नहीं था, जबकि लगभग 10 प्रतिशत लोगों ने कहा है कि वह किसी भी प्रकार के उपचार की मांग नहीं कर रहे।

Keep Reading Show less