Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
दुनिया

शोधकर्ताओं ने की अल्जाइमर रोग के कारण की पहचान

शोधकर्ताओं ने 'ब्लड-टू-ब्रेन पाथवे' की पहचान की है जो अल्जाइमर रोग का कारण बन सकता है।

अल्जाइमर रोग एक मानसिक विकार है। (unsplash)

ऑस्ट्रेलिया के शोधकर्ताओं ने एक अभूतपूर्व अध्ययन में 'ब्लड-टू-ब्रेन पाथवे' की पहचान की है जो अल्जाइमर रोग का कारण बन सकता है। कर्टिन विश्वविद्यालय जो कि ऑस्ट्रेलिया के पर्थ शहर में है, वहाँ माउस मॉडल पर परीक्षण किया गया था, इससे पता चला कि अल्जाइमर रोग का एक संभावित कारण विषाक्त प्रोटीन को ले जाने वाले वसा वाले कणों के रक्त से मस्तिष्क में रिसाव था।

कर्टिन हेल्थ इनोवेशन रिसर्च इंस्टीट्यूट के निदेशक प्रमुख जांचकर्ता प्रोफेसर जॉन मामो ने कहा "जबकि हम पहले जानते थे कि अल्जाइमर रोग से पीड़ित लोगों की पहचान विशेषता बीटा-एमिलॉयड नामक मस्तिष्क के भीतर जहरीले प्रोटीन जमा का प्रगतिशील संचय था, शोधकर्ताओं को यह नहीं पता था कि एमिलॉयड कहां से उत्पन्न हुआ, या यह मस्तिष्क में क्यों जमा हुआ," शोध से पता चलता है कि अल्जाइमर रोग से पीड़ित लोगों के दिमाग में जहरीले प्रोटीन बनते हैं, जो रक्त में वसा ले जाने वाले कणों से मस्तिष्क में रिसाव की संभावना रखते हैं। इसे लिपोप्रोटीन कहा जाता है।


'ब्लड-टू-ब्रेन पाथवे' महत्वपूर्ण है क्योंकि अगर हम लिपोप्रोटीन-एमाइलॉइड के रक्त के स्तर को प्रबंधित कर सकते हैं और मस्तिष्क में उनके रिसाव को रोक सकते हैं, तो हमे अल्जाइमर रोग को रोकने के लिए नए उपचार प्राप्त हो सकते है।ऐसा पिछले शोध में दिखाया गया था कि बीटा-एमिलॉइड मस्तिष्क के बाहर लिपोप्रोटीन के साथ बनाया जाता है। मामो की टीम ने माउस मॉडल द्वारा 'रक्त-से-मस्तिष्क मार्ग' का परीक्षण किया ताकि मानव अमाइलॉइड-केवल यकृत का उत्पादन किया जा सके।

यह भी पढ़ेंः युवाओं को कैसे प्रभावित कर रहा है नशा?

रिसर्च से यह मालूम होता है कि रक्त में इन जहरीले प्रोटीन का जमा होना किसी व्यक्ति के आहार और कुछ दवाओं के माध्यम से संबोधित किया जा सकता है जो विशेष रूप से लिपोप्रोटीन एमिलॉयड को लक्षित कर सकते हैं। (IANS:TS)

Popular

अपने ही दोस्तों ने रिंकू शर्मा को जय श्री राम कहने पर मार डाला?(Pixabay)

दिल्ली के मंगोलपुरी में राम मंदिर धन संग्रह से जुड़े रिंकू शर्मा पर एक विशेष तबके के लोगों ने 10 फरवरी को घर में घुस कर हमला कर दिया, जिसके बाद रिंकू की इलाज के दौरान मृत्यु हो गई थी। इस मामले में अब तक चार आरोपी गिरफ्तार किए जा चुके हैं जिनकी पहचान मोहम्मद इस्लाम, दानिश नसीरुद्दीन, दिलशान और दिलशाद इस्लाम के रूप में हुई है। यह चारों आरोपी उन 25-30 लोगों के साथ रिंकू पर हमला करने आए थे।

हैरान करने वाली बात यह है कि आरोपी मोहम्मद इस्लाम की पत्नी जिस समय गर्भवती थी उस समय रिंकू ने ही इलाज के लिए दो बार अपना रक्त दान किया था। यह ही नहीं इस्लाम के ही भाई को जब कोरोना बीमारी ने जकड़ लिया था उस समय भी रिंकू ने उसके इलाज के लिए मदद किया था। मगर मदद करने का यह नतीजा मृत्यु होगी इसकी किसी ने कल्पना भी नहीं की होगी।

Keep Reading Show less
एएमयू का पूर्व छात्र नेता और हिन्दू पर जहर उगलने वाला लिब्रलों का चाहता शरजील उस्मानी।(फाइल फोटो)

भारत में अभिव्यक्ति की आज़ादी के नाम पर हिन्दुओं पर ज़हर उगलना आम बात हो चुकी है। AMU के पूर्व छात्र नेता शरजील उस्मानी (Sharjeel Usmani) ने 30 जनवरी 2021 को पुणे में हुए यलगार परिषद के कार्यक्रम में कुछ ऐसा ही किया। शरजील उस्मानी ने न सिर्फ हिन्दू धर्म को सड़ा हुआ कहा बल्कि युद्ध की चेतावनी भी दे दी। उस्मानी ने कहा कि “हिन्दुस्तान में हिन्दु समाज सड़ चुका है। जुनैद को चलती ट्रेन में मारते हैं, कोई बचाने नहीं आता है। ये जो लोग लिंचिंग करते हैं, कत्ल करते हैं। वह कत्ल करने के बाद अपने घर जाते होंगे तो क्या करते होंगे अपने साथ? नए तरीके से हाथ धोते होंगे, कुछ दवा मिलाकर नहाते होंगे। क्या करते हैं ये लोग? कि वापस आकर हमारे बीच खाना खाते हैं। उठते-बैठते हैं, फिल्म देखते हैं।

अगले दिन फिर किसी को पकड़ते हैं, फिर कत्ल करते हैं और आम ज़िन्दगी जीते हैं। अपने घर में मोहब्बत भी कर रहे हैं, अपने बाप का पैर भी छू रहे हैं, मंदिर में पूजा भी कर रहे हैं, फिर बाहर आकर यही करते हैं। लिंचिंग को आम बना दिया है।” शरजील उस्मानी ने यहाँ तक कहा कि “हम जंग के बीच में जी रहे हैं और मुझे भारतीय न्यायपालिका में विश्वास नहीं है। मुझे भारतीय राज्य पर विश्वास नहीं है।”

Keep Reading Show less