Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
होम

लव जिहाद ,धर्मांतरण में ईसाई सबसे आगे : सहयोगी एनडीए नेता

एनडीए के सहयोगी और भारत धर्म जन सेना के संरक्षक वेल्लापल्ली नतेसन नें एक कैथोलिक पादरी द्वारा लगाए गए आरोपों पर प्रतिक्रिया दी

प्रमुख हिंदू नेता और श्री नारायण धर्म परिपालन योगम के महासचिव वेल्लापल्ली नतेसन (wikimedia commons)

हमारे देश में लव जिहाद के जब मामले आते है , तब इस मुद्दे पर चर्चा जोर पकड़ती है और देश कई नेता और जनता अपनी-अपनी राय को वयक्त करते है । एसे में एक प्रमुख हिंदू नेता और श्री नारायण धर्म परिपालन योगम के महासचिव वेल्लापल्ली नतेसन ने सोमवार को एक बयान दिया जिसमें उन्होनें कहा कि यह मुस्लिम समुदाय नहीं बल्कि ईसाई हैं जो देश में धर्मांतरण और लव जिहाद में सबसे आगे हैं।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार एनडीए के सहयोगी और भारत धर्म जन सेना के संरक्षक वेल्लापल्ली नतेसन नें एक कैथोलिक पादरी द्वारा लगाए गए आरोपों पर प्रतिक्रिया दी , जिसमे कहा गया था हिंदू पुरुषों द्वारा ईसाई धर्म महिलाओं को लालच दिया जा रहा है। नतेसन नें पाला बिशप जोसेफ कल्लारंगट की एक टिप्पणी जो कि विवादास्पद "लव जिहाद" और "मादक जिहाद" की भी जमकर आलोचना की और यह कहा कि इस मुद्दे पर "मुस्लिम समुदाय को निशाना बनाना सही नहीं है"।


उन्होनें आगे कहा कि जब एक ईसाई महिला मुस्लिम धर्म के पक्ष में जाती है, तो अन्य समुदायों की सौ महिलाओं की शादी ईसाइयों से होती है। कोई क्यों नहीं बोल रहा है? इसके बारे में । ईसाई लोग महिलाओं से शादी कर रहे हैं। धर्म परिवर्तन में लगे देश का सबसे बड़ा समूह है, ईसाई। मुसलमान उस पैमाने पर, धर्मांतरण नहीं करते हैं। आगे बयान देते हुए उन्होनें नें कहा कि जब लव जिहाद होता है , तो इसमें केवल एक ईसाई महिला को मुस्लिम समुदाय में ले जाया जाता है। जबकि धर्मांतरण में एक पूरा परिवार ईसाई धर्म में जा रहा है।लव जिहाद और धर्मांतरण के बारे में बात करे तो , निस्संदेह ईसाई सबसे आगे हैं ।


कैथोलिक दैनिक दीपिका से जुड़े वरिष्ठ कैथोलिक पादरी रॉय कन्ननचिरा ने शनिवार को शिक्षकों को एक वीडियो संदेश में आरोप लगाया था कि कैथोलिक महिलाओं को प्रेम विवाह में फंसाने के लिए हिंदू युवाओं को रणनीतिक रूप से प्रशिक्षित किया जाता है। इसके बाद कन्ननचिरा ने माफी मांगते हुए दावा किया कि उनका इरादा किसी समुदाय धर्म को चोट पहुंचाने का नहीं था।

इन दावों ने केरल में एक बड़ी बहस छेड़ दी थी कि जब पिछले सप्ताह, कैथोलिक बिशप जोसेफ कल्लारंगट ने आरोप लगाते हुए कहा था कि गैर-मुसलमानों को लक्षित करने के लिए "लव जिहाद" के साथ-साथ "मादक जिहाद" भी है।

यह भी पढ़ें : दलित वोटों की डकैती करना कांग्रेस की पुरानी आदत : भाजपा

इन सब घटनाक्रम के बीच में , विपक्षी नेता वी डी सतीसन ने सांस्कृतिक नेताओं और कलाकारों को पत्र लिखकर केरल में सांप्रदायिक सद्भाव बनाए रखने के लिए हस्तक्षेप करने की मांग भी की है।

Edited By: Pramil Sharma

Popular

आईएएनएस सी वोटर तिब्बत सर्वेक्षण के अनुसार, लगभग 80 प्रतिशत भारतीय स्वतंत्र तिब्बत का समर्थन करते हैं। इस सर्वेक्षण का अच्छा हिस्सा यह है कि अधिकांश भारतीय इस कारण का समर्थन करेंगे, यदि उन्हें पर्याप्त जानकारी दी जाए और वे इसके बारे में सोचना शुरू कर देंगे। इस जानकारी का बुरा हिस्सा यह है कि उन्हें वास्तव में इस बारे में सूचित करने की आवश्यकता है। इस जानकारी का सबसे बुरा हिस्सा यह है कि वस्तुत: कोई भी ऐसा नहीं कर रहा है।

2016 से भारत सरकार द्वारा हाल ही में अपनाई गई नीतियों के कारण निर्वासित तिब्बत सरकार के बारे में लोग कम जानते हैं। इसके लिए अधिक प्रयास की आवश्यकता है। भारत में लोग बेलारूस और कजाकिस्तान में चुनाव और राजनीतिक स्थिति पर चर्चा करते हैं, लेकिन वे तिब्बत के नियमित चुनाव के बारे में अस्पष्ट हैं, जिसके तहत तिब्बती अपने निर्वासित सरकार का चुनाव करते हैं।

Keep Reading Show less

हवाई अड्डे बंद होने के कारण संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) में फंसे भारतीयों में से कई सऊदी अरब और कुवैत जाने के लिए रियाद से बसें लेकर अपने गंतव्यों पर लौट आए हैं। रविवार को गल्फ न्यूज ने अपनी रिपोर्ट में कहा कि सऊदी अरब और कुवैत के लगभग 600 भारतीय प्रवासियों को पिछले महीने दोनों पड़ोसी देशों में अचानक हवाई अड्डे के बंद होने के कारण यूएई में 2 सामुदायिक समूहों ने आश्रय दिया हुआ था।

यूएई केरल मुस्लिम कल्चरल सेंटर (केएमसीसी) ने अजमान में स्वास्थ्य और रोकथाम मंत्रालय के तहत एक इमारत में करीब 350 लोगों को आश्रय दिया गया था। वहीं 250 प्रवासियों को इंडियन कल्चरल फाउंडेशन के दुबई इन्वेस्टमेंट पार्क में एक कंस्ट्रक्शन फर्म आसा ग्रुप के सहयोग से दुबई मरकज सेंटर में ठहराया गया था। फंसे हुए भारतीयों में ज्यादातर कृषि, निर्माण साइट आदि पर काम करने वाले श्रमिक हैं। इन्होंने पिछले हफ्ते से वापस जाना शुरू कर दिया था लेकिन ज्यादा किराया होने के कारण कई लोगों को फिर से अपनी किफायती टिकटें बुक करनी पड़ी। इससे इन लोगों को और देरी हुई , जिससे सामुदायिक समूहों ने बसों की व्यवस्था करने का फैसला किया ताकि इन प्रवासियों को सऊदी तक पहुंचाया जा सके।

यह भी पढ़ें : जानिए चीन में कैसे मनाया गया प्रवासी भारतीय दिवस ?

Keep Reading Show less
रूसी सरकार ने स्पुतनिक-5 वैक्सीन के निर्माण में भारत की मदद मांगी है। (सांकेतिक चित्र, Pixabay)

रूसी सरकार ने स्पुतनिक-5 वैक्सीन के निर्माण में भारत की मदद मांगी है। इसके साथ ही रूस ने वैक्सीन के तीसरे चरण के परीक्षण में भी भारत से मदद का आह्वान किया है। एक शीर्ष अधिकारी ने मंगलवार को यह जानकारी दी। रूस ने कोरोना वैक्सीन ‘स्पुतनिक-5’ का पहला बैच अपने नागरिकों के लिए जारी कर दिया है। इस वैक्सीन को गैमलेया नेशनल रिसर्च सेंटर ऑफ एपिडेमियोलॉजी एंड माइक्रोबायोलॉजी और रूसी डायरेक्ट इनवेस्टमेंट फंड (आरडीआईएफ) द्वारा विकसित किया गया है, जिसे 11 अगस्त को पंजीकृत किया गया था।

यह भी पढ़ें: कोरोना जैसी आपदा को अवसर में बदलने के लिए खुलेआम हो रही धोखाधड़ी

Keep reading... Show less