Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
मनोरंजन

राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार जीतने पर खुश हूं : बी प्राक

बी प्राक ने 67वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों में अपने गीत 'तेरी मिट्टी' के लिए बेस्ट प्लेबैक सिंगर का खिताब जीता है।

गीत 'तेरी मिट्टी' के लिए बेस्ट प्लेबैक सिंगर का खिताब जीता है।(wikimedia commons)

67वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों में कई प्रतिभाशाली लोगों को पुरस्कारों से नवाजा गया एसे में बी प्राक ने 67वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों में अपने गीत 'तेरी मिट्टी' के लिए बेस्ट प्लेबैक सिंगर का खिताब जीता है। उन्होंने और भी विजेताओं के साथ इस पल को साझा किया है ये उनके लिए खास पल रहा। गायक ने अपनी बड़ी जीत के बारे में कहा, "यह साल बहुत अच्छा रहा है। लेकिन सबसे ज्यादा यह पुरस्कार जीतने का पल खास हैं। मैं बहुत खुश हूं। मुझे लगता है कि मैं बहुत खुशनसीब हूं कि हमने एक टीम के साथ ऐसा गीत बनाया जो हमारे राष्ट्र के लिए गौरव के साथ गूंजता है।"

साथ हि वह कहते हैं कि इस पल को वह कभी नहीं भूलेंगे। "आज का दिन मेरे करियर के लिए अनमोल दिन है उन्होंने कहा। हर कलाकार चाहता है कि उसकी सराहना की जाए और राष्ट्रीय पुरस्कार से बड़ा सम्मान कोई नहीं हो सकता।"

 \u092b\u093f\u0932\u094d\u092e \u0915\u0947\u0938\u0930\u0940 2019 की फिल्म केसरी का मुख्य आकर्षण था(wikimedia commons)




आप को बता दे कि तेरी मिट्टी बी प्राक के गीत को भारत के नागरिक बहुत उल्लास के साथ गाते हैं क्योंकि यह उन्हें देश की खातिर बलिदान हुए सैनिकों की याद दिलाता है। मनोज मुंतशिर द्वारा लिखा गया गाना और अरको द्वारा रचित 2019 की फिल्म केसरी का मुख्य आकर्षण था।

यह भी पढ़ें :परेश रावल : अश्लील कॉमेडी का समर्थन नहीं किया मैंने कभी भी

67वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों की घोषणा मार्च 2021 में की गई थी। हाल ही में उनका समापन किया गया क्योंकि उन्होंने हमारे सिनेमा में प्रतिभा को सम्मानित किया और उनका जश्न मनाया। आप को बता दे किबी प्राक के अलावा, मनोज बाजपेयी, रजनीकांत, धनुष, कंगना रनौत और विजय सेतुपति जैसे बड़े फिल्म कलाकारों को भारतीय सिनेमा में उनके काम के लिए सम्मानित किया गया है।(आईएएनएस-PS)

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें!

Popular

बांग्लादेश में लगातार दस दिनों से जारी है हिंदुओं के खिलाफ हिंसा(twitter)

लगातार दस दिनों से जारी बांग्लादेश के हिंदुओं पर नरसंहार बंद होने का नाम नहीं ले रहा है कि इसी बीच सोशल मीडिया में एक मौलवी का बयान वायरल हो रहा है जिसने बांग्लादेश के हिंदुओं(Bangladesh Hindu) और वहां के मंदिरों की स्थिति बता दी है। आज हम आपको इसी मौलवी के बयान के बारे में बताएंगे।

हमारे पड़ोसी देश बांग्लादेश में हिंदुओं की स्थिति दिन प्रतिदिन बदतर होती जा रही है। वहां पर हिंदुओं(Bangladesh Hindu) के धार्मिक स्थल पर इस्लामिक कट्टरपंथियों द्वारा तोड़फोड़ अभी भी जारी है। इसी बीच एक बांग्लादेशी मौलवी का वीडियो वायरल हो रहा है। जो वहां के मंदिरों की स्थिति बयां कर रहा है। दरअसल, वीडियो में मौलवी कह रहा है कि हम मुसलमान हैं, हमने मूर्तियों को नष्ट करने के लिए जन्म लिया है न कि बनाने के लिए। कायरों, मैं अपने इन हाथों से चित्र या मूर्तियाँ नहीं लटकाऊँगा। आपको याद रखना चाहिए कि मैं उस समुदाय से आता हूं जहां मूर्तियों को नष्ट करने की विचारधारा हमारे खून में चलती है। यह हमारी त्वचा में मिश्रित होता है।"

Keep Reading Show less

सुकमावती सुकर्णोपुत्री इंडोनेशिया के संस्थापक राष्ट्रपति सुकर्णो और उनकी तीसरी पत्नी फातमावती की बेटी हैं। (Twitter)

आज इंडोनेशिया दुनिया का सबसे बड़ा बहुसंख्य मुस्लिम देश है। एक समय में, हिंदू धर्म का द्वीप राष्ट्र पर एक मजबूत प्रभाव था। यह पहली शताब्दी ईस्वी की शुरुआत में जावा और सुमात्रा के द्वीपों में फैल गया और 15 वीं शताब्दी तक समृद्ध हुआ। हालाँकि, इस्लाम के आगमन के बाद हिंदू धर्म कम हो गया, जिससे देश में हिंदुओं को अल्पसंख्यक बना दिया गया जो जल्द ही मुस्लिम बहुल बन गया। आज, इंडोनेशिया के हिंदू अपने पूर्वजों को विशेष रूप से राजा जयबाया और पुजारी सबदापालों की भविष्यवाणियों में विश्वास करना जारी रखते हैं।

इस साल 26 अक्टूबर को इंडोनेशिया के बाली के सिंगराजा शहर में सुकमावती सुकर्णोपुत्री औपचारिक रूप से इस्लाम से हिंदू धर्म अपना लेंगी। सुकर्णोपुत्री इंडोनेशिया के संस्थापक राष्ट्रपति सुकर्णो और उनकी तीसरी पत्नी फातमावती की बेटी हैं। वह इंडोनेशिया की 5वीं राष्ट्रपति मेगावती सोकर्णोपुत्री की बहन भी हैं। यह सुकमावती को देश के उच्च प्रोफाइल लोगों में से एक बनाता है, जो इस्लाम धर्म को छोड़ हिंदू धर्म को अपनाने के लिए तैयार हैं।

Keep Reading Show less

अमेरिका में नर्सों को अन्य सामान्य कार्यकर्ताओं की तुलना में अधिक संख्या में आत्महत्या के विचारों का अनुभव होता है। (Wikimedia Commons)

शोधकर्ताओं ने एक हैरान कर देने वाले अध्ययन ने बताया कि है कि अमेरिका में नर्सों को अन्य सामान्य कार्यकर्ताओं की तुलना में अधिक संख्या में आत्महत्या के विचारों का अनुभव होता है और जो भी यह अनुभव करता है उसे बताने की संभावना कम होती है।

अमेरिकन जर्नल ऑफ नर्सिंग में प्रकाशित निष्कर्ष बताते हैं कि जिन लोगों ने आत्महत्या के विचारों की सूचना दी थी, उन्होंने यह भी कहा कि उनके भावनात्मक मुद्दों के लिए पेशेवर मदद लेने की संभावना अन्य उत्तरदाताओं की तुलना में कम थी।

Keep reading... Show less