Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
दुनिया

शोधकर्ताओं ने की अल्जाइमर रोग के कारण की पहचान

शोधकर्ताओं ने 'ब्लड-टू-ब्रेन पाथवे' की पहचान की है जो अल्जाइमर रोग का कारण बन सकता है।

अल्जाइमर रोग एक मानसिक विकार है। (unsplash)

ऑस्ट्रेलिया के शोधकर्ताओं ने एक अभूतपूर्व अध्ययन में 'ब्लड-टू-ब्रेन पाथवे' की पहचान की है जो अल्जाइमर रोग का कारण बन सकता है। कर्टिन विश्वविद्यालय जो कि ऑस्ट्रेलिया के पर्थ शहर में है, वहाँ माउस मॉडल पर परीक्षण किया गया था, इससे पता चला कि अल्जाइमर रोग का एक संभावित कारण विषाक्त प्रोटीन को ले जाने वाले वसा वाले कणों के रक्त से मस्तिष्क में रिसाव था।

कर्टिन हेल्थ इनोवेशन रिसर्च इंस्टीट्यूट के निदेशक प्रमुख जांचकर्ता प्रोफेसर जॉन मामो ने कहा "जबकि हम पहले जानते थे कि अल्जाइमर रोग से पीड़ित लोगों की पहचान विशेषता बीटा-एमिलॉयड नामक मस्तिष्क के भीतर जहरीले प्रोटीन जमा का प्रगतिशील संचय था, शोधकर्ताओं को यह नहीं पता था कि एमिलॉयड कहां से उत्पन्न हुआ, या यह मस्तिष्क में क्यों जमा हुआ," शोध से पता चलता है कि अल्जाइमर रोग से पीड़ित लोगों के दिमाग में जहरीले प्रोटीन बनते हैं, जो रक्त में वसा ले जाने वाले कणों से मस्तिष्क में रिसाव की संभावना रखते हैं। इसे लिपोप्रोटीन कहा जाता है।


'ब्लड-टू-ब्रेन पाथवे' महत्वपूर्ण है क्योंकि अगर हम लिपोप्रोटीन-एमाइलॉइड के रक्त के स्तर को प्रबंधित कर सकते हैं और मस्तिष्क में उनके रिसाव को रोक सकते हैं, तो हमे अल्जाइमर रोग को रोकने के लिए नए उपचार प्राप्त हो सकते है।ऐसा पिछले शोध में दिखाया गया था कि बीटा-एमिलॉइड मस्तिष्क के बाहर लिपोप्रोटीन के साथ बनाया जाता है। मामो की टीम ने माउस मॉडल द्वारा 'रक्त-से-मस्तिष्क मार्ग' का परीक्षण किया ताकि मानव अमाइलॉइड-केवल यकृत का उत्पादन किया जा सके।

यह भी पढ़ेंः युवाओं को कैसे प्रभावित कर रहा है नशा?

रिसर्च से यह मालूम होता है कि रक्त में इन जहरीले प्रोटीन का जमा होना किसी व्यक्ति के आहार और कुछ दवाओं के माध्यम से संबोधित किया जा सकता है जो विशेष रूप से लिपोप्रोटीन एमिलॉयड को लक्षित कर सकते हैं। (IANS:TS)

Popular

माता वैष्णो देवी मंदिर (Wikimedia Commons)

वैष्णो देवी तीर्थ का प्रबंधन करने वाले श्री माता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड ने शुक्रवार को कहा कि इसने देश भर में भक्तों तक माता का प्रसाद पहुंचाने के लिए होम डिलीवरी की व्यवस्था की है। माता वैष्णो देवी श्राइन के मुख्य कार्यकारी अध्यक्ष (सीईओ) रमेश कुमार जांगिड़ ने अपने ट्विटर हैंडल पर लिखा, “श्री माता वैष्णो देवी श्राइन बोर्ड की तरफ से देश में भक्तों को होम डिलीवरी के माध्यम से प्रसाद दिलाए जाने की व्यवस्था की जा रही है। इस विषय पर और जानकारी पाने व ऑर्डर करने के लिए हमारे वेबसाइट maavaishnodevi.org/ पर जाएं। आप सुबह आठ बजे से लेकर रात के आठ बजे तक 0-9906019475 पर संपर्क कर भी जानकारी ले सकते हैं।”

यह भी पढ़ें: अयोध्या को सजाने और संवारने में जुटी योगी सरकार

Keep Reading Show less
अनुच्छेद 370 हटने के बाद से जम्मू और कश्मीर क्षेत्र के बीच परस्पर संतुलन साधने की कोशिश में केंद्र सरकार जुटी है।(सांकेतिक तस्वीर, Pixabay)

मोदी सरकार की कैबिनेट ने बुधवार को जम्मू-कश्मीर को लेकर अहम फैसला लिया। अब जम्मू-कश्मीर में उर्दू और अंग्रेजी के अलावा हिंदी के साथ तीन अन्य को भी आधिकारिक भाषा बनाने को मंजूरी दी गई है। केंद्रीय कैबिनेट ने जम्मू-कश्मीर अधिकारिक भाषा बिल 2020 को मंजूरी दी है। आगामी संसद सत्र में इस बिल को पेश किया जाएगा। जिसके बाद जम्मू-कश्मीर में कुल पांच आधिकारिक भाषाएं होंगी। केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने बताया कि कैबिनेट ने जम्मू-कश्मीर के लिए राजभाषा विधेयक 2020 लाने का निर्णय लिया है। इसमें उर्दू, कश्मीरी, डोगरी, हिंदी, अंग्रेजी ऑफिशियल लैंग्वेज होंगी। उन्होंने बताया कि यह फैसला लोगों की मांग पर लिया गया है। अभी विधेयक को संसद में पेश किया जाएगा। इसलिए बाद में इस बारे में ज्यादा जानकारी मिलेगी।

यह भी पढ़ें: एनआईए ने ‘लव जिहाद’ मामले में ज़ाकिर नाइक को बनाया आरोपी

Keep Reading Show less
पूर्व अंतरराष्ट्रीय क्रिकेटर सुरेश रैना। (Instagram, Suresh Raina)

भारतीय टीम के पूर्व क्रिकेटर सुरेश रैना जम्मू एवं कश्मीर में वंचित बच्चों को सीखने का मौका देकर, वहां क्रिकेट को बढ़ावा देना चाहते हैं। रैना ने जम्मू एवं कश्मीर के डीजीपी दिलबाग सिंह को पत्र लिखा है, जिसमें उन्होंने कहा है कि वह खेल को कुछ वापस देना चाहते हैं।

उन्होंने लिखा, “मैंने 15 साल अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट में अपनी पहचान बनाई है और इसलिए मैं अपने अनुभव और योग्यता अगली पीढ़ी को देना चाहता हूं।”

Keep reading... Show less