Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×

कई वर्षों से टीम को सेवा दे रहे हैं श्रीधर(Wikimedia commons)

भारतीय टीम के फील्डिंग कोच रामाकृष्णन श्रीधर जिनका टीम के साथ टी20 विश्व कप आखिरी दौरा है, उन्होंने राष्ट्रीय टीम की सेवा करने का मौका देने के लिए भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) को धन्यवाद दिया। आपको बता दें श्रीधर का कार्यकाल टी20 विश्व कप के बाद खत्म हो रहा है। फील्डिंग कोच ने इंस्टाग्राम के जरिए अपने विचार प्रकट किए।





श्रीधर ने इंस्टाग्राम पर लिखा, "अब जब मैं भारतीय क्रिकेट टीम के फील्डिंग कोच के रूप में अपने अंतिम दौरे पर हूं तो मैं बीसीसीआई को 2014 से 2021 तक टीम की सेवा करने का अवसर देने के लिए धन्यवाद देता हूं। मुझे विश्वास है कि मैंने अपना काम जुनून, ईमानदारी, प्रतिबद्धता और अपनी सर्वश्रेष्ठ क्षमताओं के साथ पूरा किया है।"इसके अलावा श्रीधर ने कोच रवि शास्त्री को भी धन्यवाद देते हुए कहा ,"शास्त्री को विशेष रूप से धन्यवाद जो एक प्रेरणास्रोत्र लीडर हैं। मैं भाग्यशाली हूं जिसे प्रतिभाशाली क्रिकेटरों के साथ काम करने और इन्हें कोचिंग देने का मौका मिला। मैंने रिश्तों को बढ़ावा दिया और यादें बनाईं जिन्हें मैं जीवन भर संजो कर रखूंगा।"


यह भी पढ़े: सुनील छेत्री ने तोड़ा पेले का रिकॉर्ड

आपको बता दें मुख्य कोच रवि शास्त्री का भी कार्यकाल t20 विश्व कप के बाद खत्म हो जाएगा जिस कारण बीसीसीआई ने मुख्य कोच के पद के लिए आवेदन मंगाए हैं जिसकी डेडलाइन 26 अक्टूबर है।Input आईएएनएस

Popular

जेईई एडवांस 2021 की परीक्षा 3 जुलाई को कंप्यूटर आधारित टेस्ट मोड में आयोजित की जाएगी। कोरोना महामारी के मद्देनजर इस साल आईआईटी में प्रवेश के लिए 75 प्रतिशत की पात्रता वाले मानदंड हटाए जाएंगे। आईआईटी में किसी भी कार्यक्रम में प्रवेश के लिए पात्रता मानदंड, बारहवीं कक्षा या (समकक्ष) बोर्ड परीक्षाओं में किया गया प्रदर्शन होगा। उम्मीदवार को जिन विषयों के साथ बारहवीं कक्षा उत्तीर्ण करना आवश्यक है, उनमें भौतिक विज्ञान, रसायन विज्ञान, गणित, एक भाषा और उपरोक्त चार के अलावा कोई अन्य विषय शामिल है।

Keep Reading Show less
धनंजय कुमार ने अपनी बटी को जेईई की परीक्षा दिलवाने के लिए 300 किलोमीटर का सफर तय किया।(सांकेतिक तस्वीर, Pixabay)

एक किसान ने अपनी बटी को जेईई की परीक्षा दिलवाने के लिए नालंदा से रांची तक 300 किलोमीटर का सफर मोटरसाइकिल से तय किया। बिहार के नालंदा जिले में रहने वाले धनंजय कुमार ने 12 घंटे में 300 किलोमीटर की यात्रा की और यह सुनिश्चित किया कि वह झारखंड के रांची तुपुडाना में अपनी बेटी को मंगलवार को जेईई परीक्षा दिलवाने समय पर पहुंच सके।

कोविड-19 के चलते, बिहार और झारखंड के बीच कोई बस सेवा नहीं चल रही है। इसे देखते हुए धनंजय कुमार ने सोमवार तड़के नालंदा जिले से अपनी यात्रा शुरू की थी। वह आठ घंटे में बोकारो पहुंच गए और फिर वहां से 135 किलोमीटर की यात्रा कर सोमवार दोपहर रांची पहुंच गए।

Keep Reading Show less
डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक, केन्द्रीय शिक्षा मंत्री(फ़ाइल फोटो, PIB)

जेईई और एनईईटी (नीट) परीक्षा के आयोजन पर मचे घमासान के बीच केंद्रीय शिक्षा मंत्री डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक ने स्पष्ट किया है कि मंत्रालय द्वारा इन दोनों परीक्षाओं के सुरक्षित संचालन के लिए पूरी तैयारियां कर ली गयी है और सरकार परीक्षा आयोजन के लिए कृत संकल्प है। डॉ निशंक ने कहा कि वो प्रतिभाशाली विद्यार्थियों के जीवन में शून्य शैक्षणिक वर्ष नहीं चाहते। उन्होंने कहा कठिनाईयां आती हैं पर जीवन को आगे बढ़ना है, और हम अपने विद्यार्थियों के उज्जवल भविष्य निर्माण के प्रति अत्यंत सजग हैं। बता दें कि जेईई मेन 2020 और नीट, जिसे पहले अप्रैल-मई के लिए निर्धारित किया गया था, स्थगित कर दिया गया था और अब सितंबर में आयोजित किया जा रहा है।

डॉ. निशंक ने बताया कि उन्हें पिछले कुछ दिनों से देश भर के अभिभावकों, शिक्षाविदों, विद्यार्थियों के असंख्य मेल मिल रहे हैं जिनमें माता-पिता और छात्रों ने निवेदन किया है कि वे परीक्षा देना चाहते हैं, वे पिछले वर्षों से परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं और किसी भी सूरत में शून्य वर्ष नहीं चाहते। अपनी अपील में डॉ. निशंक ने सभी छात्रों से अनुरोध किया कि वे पूरी मेहनत से परीक्षा दें और परीक्षा केंद्रों की सुरक्षा के बारे में चिंता न करें।

Keep reading... Show less