Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
दुनिया

भारत :द्विपक्षीय संबंधों पर डाल सकता है असर​ , चीन का नया सीमा कानून चिंता का विषय

भारत नेकहा कि भूमि सीमा कानून लाने के चीन के ताजा एकतरफा फैसले का सीमा प्रबंधन पर मौजूदा द्विपक्षीय व्यवस्थाओं पर असर पड़ सकता हैं।

भारत ने कहा कि चीन का नया सीमा कानून चिंता का विषय(pixabay)

भारत ने बुधवार को कहा कि भूमि सीमा कानून (लैंड बाउंड्री लॉ) लाने के चीन के ताजा एकतरफा फैसले का सीमा प्रबंधन पर मौजूदा द्विपक्षीय व्यवस्थाओं पर असर पड़ सकता है। चीन के भूमि सीमा कानून पर मीडिया के सवालों के जवाब में, विदेश मंत्रालय (एमईए) के आधिकारिक प्रवक्ता अरिंदम बागची ने कहा, "हमें यह जानकारी है कि चीन ने 23 अक्टूबर को नया भूमि सीमा कानून पारित किया है। इस कानून में अन्य बातों के अलावा यह कहा गया है कि भूमि सीमा मामलों पर चीन दूसरे देशों के साथ किए या संयुक्त रूप से स्वीकार किए समझौतों का पालन करेगा। इसमें सीमावर्ती क्षेत्रों में जिलों के पुनर्गठन के प्रावधान भी हैं।"

उन्होंने आगे कहा कि भारत और चीन ने सीमा संबंधी प्रश्नों का अभी तक समाधान नहीं निकाला है और दोनों पक्षों ने समानता पर आधारित विचार विमर्श के आधार पर निष्पक्ष, व्यावहारिक और एक दूसरे को स्वीकार्य समाधान निकालने पर सहमति व्यक्त की है।

INDIA चीन के नए भूमि सीमा नियम को भारतीय विदेश मंत्रालय ने एकतरफा फैसला करार दीया।(Pixabay )




उन्होंने कहा कि दोनों पक्ष वास्तविक नियंत्रण रेखा पर अमन और शांति बनाए रखने के लिए कई द्विपक्षीय समझौते, प्रोटोकॉल और व्यवस्थाएं कर चुके हैं।

चीन के नए भूमि सीमा नियम को भारतीय विदेश मंत्रालय ने एकतरफा फैसला करार देते हुए कहा कि एक ऐसा कानून लाने का चीन का एकतरफा निर्णय, जो सीमा प्रबंधन के साथ-साथ सीमा से संबंधित मुद्दों पर हमारी मौजूदा द्विपक्षीय व्यवस्थाओं पर प्रभाव डाल सकता है, हमारे लिए चिंता का विषय है।

मंत्रालय ने कहा कि इस तरह के एकतरफा कदम का उन व्यवस्थाओं पर कोई असर नहीं पड़ेगा, जिन पर दोनों पक्ष पहले ही सहमत हो चुके हैं, फिर चाहे वह सीमा से संबंधित मामलों पर हो या भारत-चीन सीमा क्षेत्रों में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) पर शांति बनाए रखने के लिए हो।

विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा, "हम उम्मीद करते हैं कि चीन इस कानून के बहाने ऐसे कदम उठाने से बचेगा, जो भारत और चीन के बीच सीमा क्षेत्रों में स्थिति को एकतरफा रूप से बदल सकते हैं और तनाव पैदा कर सकते हैं।"

यह भी पढ़ें:भारतीय मूल की अनीता आनंद बनीं कनाडा की पहली हिंदू कैबिनेट मंत्री

उन्होंने कहा, "इसके अलावा, इस नए कानून का पारित होना हमारे विचार में 1963 के तथाकथित चीन पाकिस्तान 'सीमा समझौते' को कोई वैधता प्रदान नहीं करता है, जिसे भारत सरकार ने हमेशा से ही एक अवैध और अमान्य समझौता करार दिया है।"(आईएएनएस-PS)

Popular

कैट ने अमेज़न पर लगाया हेरा फेरी का आरोप [ Wikimedia Commons]

कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने अमेज़न पर हेरा फेरी कर भारत के घरेलू छोटे निर्माताओं और व्यापारियों को खत्म करने का आरोप लगाया है और इस मामले में तत्काल सीबीआई जांच की मांग की है।

कैट ने दावा किया है कि विचाराधीन समाचार ने भी कैट द्वारा 2019 से अमेजन और फ्लिपकार्ट के खिलाफ दोहराए गए आरोपों की पुष्टि की है। साथ ही समाचार लेख ने अपने आरोपों को प्रमाणित करने के लिए अमेजन के विभिन्न आंतरिक दस्तावेजों को सामने रखा है जिसके बाद किसी भी संदेह की गुंजाईश नहीं है।

Keep Reading Show less

सीजेआई रमना आम लोगों को न्याय सुलभ कराने के मिशन पर।(Unsplash)

"आप गुस्से में चिल्लाकर अपना हक मांग मांगिए, न्यायपालिका में 50 फीसदी प्रतिनिधित्व के लिए दबाव डालिए।" प्रधान न्यायाधीश ने एक हफ्ता पहले महिला वकीलों से कहा था,

उन्होंने 21 महीने से चल रहे गतिरोध को तोड़ने के लिए मोर्चे का नेतृत्व किया और सुप्रीम कोर्ट में नौ न्यायाधीशों की नियुक्ति की सिफारिश की। वह उच्च न्यायालयों में सैकड़ों रिक्त पदों को भरने की अपनी प्रतिबद्धता के बारे में पूरे दिल से बोलते हैं।

उन्होंने जून में कहा था कि हर कुछ वर्षो में एक बार शासक को बदलने का अधिकार, अत्याचार और सार्वजनिक प्रवचन के खिलाफ गारंटी नहीं होना चाहिए, यह मानवीय गरिमा का एक अंतर्निहित पहलू है और एक उचित रूप से कार्य करने वाले लोकतंत्र के लिए आवश्यक है।
भारत के मुख्य न्यायाधीश एन.वी. रमना से, मिलिए जिनका प्रणालीगत मुद्दों पर 360-डिग्री का दृष्टिकोण है, और ऐसा लगता है कि वह लोगों को यह महसूस कराने के लिए अतिरिक्त मील जाने को तैयार हैं कि कानून और उसके संस्थान सभी के लिए हैं। जो आम लोगों के लिए न्याय तक पहुंच को प्रभावित करता है

चाहे वह किसी समारोह का मंच,कोर्ट रूम हो या रमना इस बात पर बहुत जोर देते हैं कि कमजोर और दलितों को न्याय से वंचित नहीं किया जाना चाहिए।
शनिवार को एक समारोह में उन्होंने कहा कि न्याय तक समान पहुंच प्रदान किए बिना सामाजिक-आर्थिक न्याय प्राप्त करना असंभव होगा और एक लोकतांत्रिक देश में, यह लोगों का विश्वास है जो संस्थानों को बनाए रखता है।

सुप्रीम कोर्ट कॉलेजियम में लगभग दो साल से चल रहे गतिरोध को समाप्त करने के लिए उन्होंने प्रशासनिक पक्ष का नेतृत्व किया। शीर्ष अदालत में न्यायाधीशों की नियुक्ति के संबंध में ।

Keep Reading Show less

बिहार में अब आप अगर सोशल मीडिया पर सरकार, मंत्री, सांसद, विधायक और सरकारी अधिकारियों के खिलाफ आपत्तिजनक, अभद्र एवं भ्रांतिपूर्ण टिप्प्णियां करते हैं, तो आप पर सख्त कार्रवाई की जा सकती है। बिहार पुलिस द्वारा जारी एक पत्र में कहा गया है कि ऐसी टिप्पणियां करने वालों पर सख्त कार्रवाई की जाएगी। आर्थिक अपराध इकाई के अपर पुलिस महानिदेशक नैयर हसनैन खान ने सरकार के सभी प्रधान सचिव और सचिव को एक पत्र लिखकर कहा है कि ऐसी सूचना प्रकाश में आ रही है कि व्यक्तियों, संगठनों द्वारा सोशल मीडिया के माध्यम से सरकार, मंत्रियों, सांसद, विधायक एवं सरकारी अधिकारियों के संबंध में आपत्तिजनक टिप्पणियां की जाती हैं। यह कानून के प्रतिकूल है तथा साइबर अपराध की श्रेणी में आता है।

यह भी पढ़ें : Subhas Chandra Bose Jayanti 2021: गुमनामी बाबा की पहेली अभी भी अनसुलझी

Keep reading... Show less