Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×

कई वर्षों से टीम को सेवा दे रहे हैं श्रीधर(Wikimedia commons)

भारतीय टीम के फील्डिंग कोच रामाकृष्णन श्रीधर जिनका टीम के साथ टी20 विश्व कप आखिरी दौरा है, उन्होंने राष्ट्रीय टीम की सेवा करने का मौका देने के लिए भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) को धन्यवाद दिया। आपको बता दें श्रीधर का कार्यकाल टी20 विश्व कप के बाद खत्म हो रहा है। फील्डिंग कोच ने इंस्टाग्राम के जरिए अपने विचार प्रकट किए।





श्रीधर ने इंस्टाग्राम पर लिखा, "अब जब मैं भारतीय क्रिकेट टीम के फील्डिंग कोच के रूप में अपने अंतिम दौरे पर हूं तो मैं बीसीसीआई को 2014 से 2021 तक टीम की सेवा करने का अवसर देने के लिए धन्यवाद देता हूं। मुझे विश्वास है कि मैंने अपना काम जुनून, ईमानदारी, प्रतिबद्धता और अपनी सर्वश्रेष्ठ क्षमताओं के साथ पूरा किया है।"इसके अलावा श्रीधर ने कोच रवि शास्त्री को भी धन्यवाद देते हुए कहा ,"शास्त्री को विशेष रूप से धन्यवाद जो एक प्रेरणास्रोत्र लीडर हैं। मैं भाग्यशाली हूं जिसे प्रतिभाशाली क्रिकेटरों के साथ काम करने और इन्हें कोचिंग देने का मौका मिला। मैंने रिश्तों को बढ़ावा दिया और यादें बनाईं जिन्हें मैं जीवन भर संजो कर रखूंगा।"


यह भी पढ़े: सुनील छेत्री ने तोड़ा पेले का रिकॉर्ड

आपको बता दें मुख्य कोच रवि शास्त्री का भी कार्यकाल t20 विश्व कप के बाद खत्म हो जाएगा जिस कारण बीसीसीआई ने मुख्य कोच के पद के लिए आवेदन मंगाए हैं जिसकी डेडलाइन 26 अक्टूबर है।Input आईएएनएस

Popular

अपने ही दोस्तों ने रिंकू शर्मा को जय श्री राम कहने पर मार डाला?(Pixabay)

दिल्ली के मंगोलपुरी में राम मंदिर धन संग्रह से जुड़े रिंकू शर्मा पर एक विशेष तबके के लोगों ने 10 फरवरी को घर में घुस कर हमला कर दिया, जिसके बाद रिंकू की इलाज के दौरान मृत्यु हो गई थी। इस मामले में अब तक चार आरोपी गिरफ्तार किए जा चुके हैं जिनकी पहचान मोहम्मद इस्लाम, दानिश नसीरुद्दीन, दिलशान और दिलशाद इस्लाम के रूप में हुई है। यह चारों आरोपी उन 25-30 लोगों के साथ रिंकू पर हमला करने आए थे।

हैरान करने वाली बात यह है कि आरोपी मोहम्मद इस्लाम की पत्नी जिस समय गर्भवती थी उस समय रिंकू ने ही इलाज के लिए दो बार अपना रक्त दान किया था। यह ही नहीं इस्लाम के ही भाई को जब कोरोना बीमारी ने जकड़ लिया था उस समय भी रिंकू ने उसके इलाज के लिए मदद किया था। मगर मदद करने का यह नतीजा मृत्यु होगी इसकी किसी ने कल्पना भी नहीं की होगी।

Keep Reading Show less