Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
टेक्नोलॉजी

'संभावित रूप से हानिकारक' कंटेंट की विजिबिलिटी को कम करेगा इंस्टाग्राम

मेटा के स्वामित्व वाला फोटो-शेयरिंग प्लेटफॉर्म इंस्टाग्राम अपने ऐप में 'संभावित रूप से हानिकारक' कंटेंट को कम दिखाई देने के लिए नए कदम उठा रहा है।

'संभावित रूप से हानिकारक' कंटेंट की विजिबिलिटी को कम करेगा इंस्टाग्राम (Wikimedia Commons)

मेटा(Meta) के स्वामित्व वाला फोटो-शेयरिंग प्लेटफॉर्म इंस्टाग्राम (Instagram) अपने ऐप में 'संभावित रूप से हानिकारक' कंटेंट को कम दिखाई देने के लिए नए कदम उठा रहा है। एनगैजेट की रिपोर्ट के अनुसार, कंपनी ने कहा कि यूजर्स के फीड और स्टोरीज में पोस्ट करने के तरीके को सशक्त करने वाला एल्गोरिदम अब ऐसे कंटेंट को प्राथमिकता देगा, जिसमें 'बदमाशी, अभद्र भाषा या हिंसा भड़काने वाली सामग्री हो सकती है।'

इंस्टाग्राम के नियम पहले से ही इस प्रकार की अधिकांश सामग्री को प्रतिबंधित करते हैं, जबकि परिवर्तन सीमा रेखा पोस्ट या कंटेंट को प्रभावित कर सकता है जो अभी तक ऐप के मॉडरेटर तक नहीं पहुंची है। कंपनी ने एक अपडेट में बताया, "यह समझने के लिए कि क्या कोई चीज हमारे नियमों को तोड़ सकती है, हम चीजों को देखेंगे जैसे कि कैप्शन एक कैप्शन के समान है जो पहले हमारे नियमों को तोड़ता था।"


Instagram, Meta, Social Media, \u0907\u0902\u0938\u094d\u091f\u093e\u0917\u094d\u0930\u093e\u092e, \u092e\u0947\u091f\u093e 'संभावित रूप से हानिकारक' कंटेंट की विजिबिलिटी को कम करेगा इंस्टाग्राम (Wikimedia Commons)


अब तक, इंस्टाग्राम ने ऐप के सार्वजनिक-सामना वाले हिस्सों से संभावित आपत्तिजनक कंटेंट को छिपाने की कोशिश की है, जैसे कि एक्सप्लोर लेकिन यह नहीं बदला है कि इस प्रकार की सामग्री पोस्ट करने वाले खातों का पालन करने वाले यूजर्स के लिए यह कैसा दिखता है। लेटेस्ट परिवर्तन का अर्थ है कि 'समान' वाली पोस्ट जिन्हें पहले हटा दिया गया है, वे विजिटर्स को भी बहुत कम दिखाई देंगी। मेटा के एक प्रवक्ता ने पुष्टि की कि 'संभावित रूप से हानिकारक' पोस्ट अभी भी अंतत: हटाए जा सकते हैं यदि पोस्ट अपने सामुदायिक दिशानिर्देशों को तोड़ती है।

यह भी पढ़ें - नेताजी के पास था भारत की वित्तीय और आर्थिक मजबूती का एक विजन : डॉ. अनीता बोस फाफ

अपडेट 2020 में इसी तरह के बदलाव का अनुसरण करता है जब इंस्टाग्राम ने डाउन-रैंकिंग अकाउंट शुरू किया, जिसमें गलत सूचना साझा की गई थी, जिसे फैक्ट-चेकर्स ने खारिज कर दिया था। इस बदलाव के विपरीत, हालांकि, इंस्टाग्राम ने कहा कि लेटेस्ट नीति केवल व्यक्तिगत पोस्ट को प्रभावित करेगी और 'कुल खातों को नहीं'। (आईएएनएस - AS)

Popular

प्रशांत किशोर (Twitter, Prashant Kishor)

मशहूर चुनावी रणनीतिकार और कैंपेन मैनेजर प्रशांत किशोर(Prashant Kishor) ने एक बार फिर से सुर्खियों में है। वैसे भी पिछले कुछ समय से प्रशांत किशोर लगातार कांग्रेस पार्टी(Congress party) पर, एक के बाद एक विरोधी बयानबाजी कर रहे हैं। गुरुवार को एक बार फिर प्रशांत किशोर ने कहा कि जो पार्टी पिछले 10 सालों में 90 फीसदी चुनाव हार चुकी है वह विपक्ष का नेतृत्व कैसे कर सकती है, क्या पार्टी में किसी एक व्यक्ति (राहुल गांधी) का कोई दैवीय अधिकार है?

प्रशांत किशोर(Prashant Kishor)ने ट्वीट कर कहा, ''कांग्रेस जिस विचार और स्थान (विशेष वर्ग) का प्रतिनिधित्व करती है, वो एक मजबूत विपक्ष के लिए बेहद अहम है। लेकिन इसके लिये कांग्रेस नेतृत्व को व्यक्तिगत तौर पर कोई दैवीय अधिकार नहीं है, वो भी तब जब पार्टी पिछले 10 सालों में 90 फीसदी चुनावों में हार चुकी है। विपक्ष के नेतृत्व का फैसला लोकतांत्रिक तरीके से होना चाहिए..''

Keep Reading Show less

गोवा में इस महीने के अंत तक राकांपा और कांग्रेस के बीच गठबंधन तय हो जाएगा। (Wikimedia Commons)

जैसे-जैसे 5 राज्यों के विधानसभा चुनाव पास आ रहे हैं वैसे-वैसे जोड़-तोड़ दल-बदल और गठबंधन का दौर शुरू हो गया है। ऐसे में गोवा भी एक राज्य है जहां अगले साल की शुरुवात में चुनाव होना है, ऐसे में वहां गठबंधन का दौर शुरू हो गया है। पूर्व मुख्यमंत्री और गोवा(Goa) में राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी(Nationalist Congress Party के इकलोते विधायक चर्चिल अलेमाओ ने संवादाताओं से बातचीत करते हुए बताया की उनकी पार्टी कांग्रेस से गठबंधन पर विचार कर रही। राकांपा और कांग्रेस(Congress) महाराष्ट्र सरकार में साझेदार हैं।

गोवा में राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के इकलौते विधायक चर्चिल अलेमाओ ने गोवा में संवादाताओं से बात करते हुए कहा की गोवा में आगामी विधांनसभा चुनाव को लेकर राकांपा-कांग्रेस गठबंधन पर फैसला इस महीने के अंत तक हो सकता है। गोवा के पूर्व मुख्यमंत्री अलेमाओ ने आगे कहा की उन्होंने पश्चिम बंगाल(West Bengal) की मुख्यमंत्री और तृणमूल कांग्रेस सुप्रीमो ममता बनर्जी(Mamata Banerjee) से गठबंधन में शामिल होने का आग्रह किया हैं।

Keep Reading Show less

पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में तृणमूल कांग्रेस द्वारा बीजेपी से ज्यादा धन खर्चा किया गया है। (Wikimedia commons )

अपको याद होगा पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव(west bengal assembly elections) के समय तृणमूल कांग्रेस के नेताओं और खुद मुख्यमंत्री ने आरोप लगाया था कि भाजपा मतदाताओं को प्रभावित करने के लिए धन और बाहुबल का इस्तेमाल कर रही है। लेकिन वास्तविक सच्चाई कुछ और ही है जिसके बारे में आज हम आपको बताएंगे -

भाजपा(BJP) पर इस बात को लेकर काफी आरोप लगे कि उसने पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी के नेतृत्व वाली तृणमूल कांग्रेस को गद्दी से हटाने के लिए भारी संख्या में धन खर्च किया है, लेकिन आंकड़ों से पता चला है कि सत्ताधारी दल ने राज्य में इस साल की शुरूआत में हुए विधानसभा चुनाव में और अधिक पैसा खर्च किया है।

राजनीतिक दलों द्वारा चुनाव आयोग(election commission)को सौंपी गई एक व्यय रिपोर्ट के अनुसार, माकपा का 32.64 करोड़ रुपये का चुनावी खर्च था, तो कांग्रेस के पास केवल 26.45 करोड़ रुपये थे। दिलचस्प बात यह है कि कांग्रेस ने पश्चिम बंगाल में केवल 4.6 करोड़ रुपये खर्च किए वही भाजपा ने विधानसभा चुनावों में 151.18 करोड़ रुपये खर्च किए थे, जबकि सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस ने अपने राष्ट्रीय प्रतिद्वंद्वी को पार करते हुए 154.28 करोड़ रुपये खर्च किए थे। अब आप लोग समझ गए होंगे कि ममता दीदी ने किस तरह खेला किया है।

Keep reading... Show less