Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
टेक्नोलॉजी

'संभावित रूप से हानिकारक' कंटेंट की विजिबिलिटी को कम करेगा इंस्टाग्राम

मेटा के स्वामित्व वाला फोटो-शेयरिंग प्लेटफॉर्म इंस्टाग्राम अपने ऐप में 'संभावित रूप से हानिकारक' कंटेंट को कम दिखाई देने के लिए नए कदम उठा रहा है।

'संभावित रूप से हानिकारक' कंटेंट की विजिबिलिटी को कम करेगा इंस्टाग्राम (Wikimedia Commons)

मेटा(Meta) के स्वामित्व वाला फोटो-शेयरिंग प्लेटफॉर्म इंस्टाग्राम (Instagram) अपने ऐप में 'संभावित रूप से हानिकारक' कंटेंट को कम दिखाई देने के लिए नए कदम उठा रहा है। एनगैजेट की रिपोर्ट के अनुसार, कंपनी ने कहा कि यूजर्स के फीड और स्टोरीज में पोस्ट करने के तरीके को सशक्त करने वाला एल्गोरिदम अब ऐसे कंटेंट को प्राथमिकता देगा, जिसमें 'बदमाशी, अभद्र भाषा या हिंसा भड़काने वाली सामग्री हो सकती है।'

इंस्टाग्राम के नियम पहले से ही इस प्रकार की अधिकांश सामग्री को प्रतिबंधित करते हैं, जबकि परिवर्तन सीमा रेखा पोस्ट या कंटेंट को प्रभावित कर सकता है जो अभी तक ऐप के मॉडरेटर तक नहीं पहुंची है। कंपनी ने एक अपडेट में बताया, "यह समझने के लिए कि क्या कोई चीज हमारे नियमों को तोड़ सकती है, हम चीजों को देखेंगे जैसे कि कैप्शन एक कैप्शन के समान है जो पहले हमारे नियमों को तोड़ता था।"


Instagram, Meta, Social Media, \u0907\u0902\u0938\u094d\u091f\u093e\u0917\u094d\u0930\u093e\u092e, \u092e\u0947\u091f\u093e 'संभावित रूप से हानिकारक' कंटेंट की विजिबिलिटी को कम करेगा इंस्टाग्राम (Wikimedia Commons)


अब तक, इंस्टाग्राम ने ऐप के सार्वजनिक-सामना वाले हिस्सों से संभावित आपत्तिजनक कंटेंट को छिपाने की कोशिश की है, जैसे कि एक्सप्लोर लेकिन यह नहीं बदला है कि इस प्रकार की सामग्री पोस्ट करने वाले खातों का पालन करने वाले यूजर्स के लिए यह कैसा दिखता है। लेटेस्ट परिवर्तन का अर्थ है कि 'समान' वाली पोस्ट जिन्हें पहले हटा दिया गया है, वे विजिटर्स को भी बहुत कम दिखाई देंगी। मेटा के एक प्रवक्ता ने पुष्टि की कि 'संभावित रूप से हानिकारक' पोस्ट अभी भी अंतत: हटाए जा सकते हैं यदि पोस्ट अपने सामुदायिक दिशानिर्देशों को तोड़ती है।

यह भी पढ़ें - नेताजी के पास था भारत की वित्तीय और आर्थिक मजबूती का एक विजन : डॉ. अनीता बोस फाफ

अपडेट 2020 में इसी तरह के बदलाव का अनुसरण करता है जब इंस्टाग्राम ने डाउन-रैंकिंग अकाउंट शुरू किया, जिसमें गलत सूचना साझा की गई थी, जिसे फैक्ट-चेकर्स ने खारिज कर दिया था। इस बदलाव के विपरीत, हालांकि, इंस्टाग्राम ने कहा कि लेटेस्ट नीति केवल व्यक्तिगत पोस्ट को प्रभावित करेगी और 'कुल खातों को नहीं'। (आईएएनएस - AS)

Popular

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री, योगी आदित्यनाथ औ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी(Image: Wikimedia Commons)

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी(Narendra Modi) शनिवार को उत्तर प्रदेश(UP) को रोड कनेक्टिविटी का एक और बड़ा तोहफा दिया। उन्होंने यूपी के सबसे लम्बे 594 किमी के गंगा एक्सप्रेसवे(Ganga Express Way) का शाहजहांपुर(Shahjahanpur) में रिमोट की बटन दबाकर शिलान्यास किया। यहां प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि आज पूरे यूपी की जनता कह रही है यूपी प्लस योगी, बहुत हैं उपयोगी। उन्होंने कहा कि इतने बड़े यूपी को चलाने के लिए जिस दम-खम की जरूरत है, जितने दमदार काम की जरूरत है, डबल इंजन की सरकार वो करने का काम कर रही है।

इस दौरान प्रधानमंत्र (Narendra Modi) ने कहा कि कुछ दल ऐसे हैं जिन्हें देश की विरासत और विकास दोनों से दिक्कत है। इन लोगों को बाबा विश्वनाथ का धाम बनने से, राम मंदिर से, गंगा जी की सफाई से दिक्कत है। यही लोग सेना की कार्रवाई पर सवाल उठाते हैं, भारतीय वैज्ञानिकों की कोरोना वैक्सीन पर सवाल उठाते हैं। सरकार जब सही नीयत के साथ काम करती है तो क्या परिणाम आते हैं ये यूपी(UP) ने बीते कुछ सालों में अनुभव किया है। पहले लोग कहते थे कि दीया बरे तो घर लौट आओ, क्योंकि सूरज डूबता था तो कट्टा लहराने वाले सड़कों पर आ धमकते थे। प्रधानमंत्री(Narendra Modi) ने कहा "ये कट्टा चला गया और इसे जाना ही था। बेटियों की सुरक्षा पर आए दिन सवाल उठते रहते थे उनका स्कूल जाना भी मुश्किल था। व्यापारी कारोबारी सुबह निकलता था तो परिवार को चिंता होती थी, कब कहां दंगा हो जाए आगजनी हो जाए कोई नहीं कह सकता था।"

Keep Reading Show less

पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में तृणमूल कांग्रेस द्वारा बीजेपी से ज्यादा धन खर्चा किया गया है। (Wikimedia commons )

अपको याद होगा पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव(west bengal assembly elections) के समय तृणमूल कांग्रेस के नेताओं और खुद मुख्यमंत्री ने आरोप लगाया था कि भाजपा मतदाताओं को प्रभावित करने के लिए धन और बाहुबल का इस्तेमाल कर रही है। लेकिन वास्तविक सच्चाई कुछ और ही है जिसके बारे में आज हम आपको बताएंगे -

भाजपा(BJP) पर इस बात को लेकर काफी आरोप लगे कि उसने पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी के नेतृत्व वाली तृणमूल कांग्रेस को गद्दी से हटाने के लिए भारी संख्या में धन खर्च किया है, लेकिन आंकड़ों से पता चला है कि सत्ताधारी दल ने राज्य में इस साल की शुरूआत में हुए विधानसभा चुनाव में और अधिक पैसा खर्च किया है।

राजनीतिक दलों द्वारा चुनाव आयोग(election commission)को सौंपी गई एक व्यय रिपोर्ट के अनुसार, माकपा का 32.64 करोड़ रुपये का चुनावी खर्च था, तो कांग्रेस के पास केवल 26.45 करोड़ रुपये थे। दिलचस्प बात यह है कि कांग्रेस ने पश्चिम बंगाल में केवल 4.6 करोड़ रुपये खर्च किए वही भाजपा ने विधानसभा चुनावों में 151.18 करोड़ रुपये खर्च किए थे, जबकि सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस ने अपने राष्ट्रीय प्रतिद्वंद्वी को पार करते हुए 154.28 करोड़ रुपये खर्च किए थे। अब आप लोग समझ गए होंगे कि ममता दीदी ने किस तरह खेला किया है।

Keep Reading Show less

अमेरिकी कांग्रेस प्रतिनिधिमंडल से मिलते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी। (PIB-Twitter)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी(P.M Narendra Modi) ने शनिवार को अमेरिकी कांग्रेस के प्रतिनिधिमंडल से मुलाकात की और द्विपक्षीय संबंधों को बढ़ाने और आतंकवाद, जलवायु परिवर्तन और महत्वपूर्ण प्रौद्योगिकियों जैसे समकालीन वैश्विक मुद्दों पर सहयोग को मजबूत करने की संभावनाओं पर विचारों का आदान-प्रदान किया।

प्रधानमंत्री कार्यालय(PMO) द्वारा जारी एक बयान के अनुसार, सीनेटर जॉन कॉर्निन के नेतृत्व में प्रतिनिधिमंडल में सीनेटर माइकल क्रैपो, सीनेटर थॉमस ट्यूबरविले, सीनेटर माइकल ली, कांग्रेसी टोनी गोंजालेस और कांग्रेसी जॉन केविन एलीजी सीनियर शामिल थे। बता दें, सीनेटर कॉर्निन भारत और भारतीय-अमेरिकियों पर सीनेट कॉकस के सह-संस्थापक और सह-अध्यक्ष हैं।

Keep reading... Show less