Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

जाने भारत के पहले प्रदूषण मुक्त एयरपोर्ट को जिसका प्रधानमंत्री ने किया है शिलान्यास​

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को गौतमबुद्धनगर जिले में प्रदेश के पांचवे अंतर्राष्ट्रीय एयरपोर्ट का शिलान्यास किया। नोएडा का यह ग्रीन फील्ड एयरपोर्ट भारत का पहला प्रदूषण मुक्त एयरपोर्ट होगा। यह एयरपोर्ट एशिया का सबसे बड़ा और दुनिया का चौथा सबसे बड़ा इंटरनेशनल एयरपोर्ट होगा।

एशिया का सबसे बड़ा एयरपोर्ट होगा जेवर एयरपोर्ट। (Twitter)

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव(Uttar Pradesh Assembly Elections) से पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी लगातार प्रदेश का दौरा कर जनता को सौगातें दे रहे हैं इसी सौगात के क्रम मे गौतमबुद्धनगर के जेवर एयरपोर्ट(Jevar Airport) का नंबर भी आ गया। जेवर में उत्तर प्रदेश खासकर पश्चिमी उत्तर प्रदेश की जनता को बड़ी सौगात देते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी(Narendra Modi) ने गुरुवार को गौतमबुद्धनगर जिले में प्रदेश के पांचवे अंतर्राष्ट्रीय एयरपोर्ट का शिलान्यास किया। नोएडा(Noida) का यह ग्रीन फील्ड एयरपोर्ट भारत का पहला प्रदूषण मुक्त एयरपोर्ट होगा। आज हम आपको इसी एयरपोर्ट की विशेषता के बारे में बताएंगे -

क्या है जेवर एयरपोर्ट की विशेषता?


नोएडा(Noida) का यह अंतर्राष्ट्रीय एयरपोर्ट(international airport) एशिया का सबसे बड़ा और दुनिया का चौथा सबसे बड़ा इंटरनेशनल एयरपोर्ट होगा और इसी के साथ भारत में उत्तर प्रदेश पांच अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डों वाला पहला और अकेला राज्य बन गया है। यह भारत का पहला ऐसा हवाई अड्डा(Airport) होगा, जहां उत्सर्जन शुद्ध रूप से शून्य होगा। हवाई अड्डे ने एक ऐसा समर्पित भूखंड चिह्न्ति किया है, जहां परियोजना स्थल से हटाये जाने वाले वृक्षों को लगाया जायेगा। इस तरह उसे जंगलमय पार्क का रूप दिया जायेगा। यहां के सभी मूल जंतुओं की सुरक्षा करने के साथ-साथ हवाई अड्डे के विकास के दौरान प्रकृति का पूरा ध्यान रखा जायेगा।

राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र(NCR) दिल्ली में यह दूसरा अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा होगा। इससे इंदिरा गांधी इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर दबाव को कम करने में भी मदद मिलेगी। दरअसल, इस इलाके में पिछले 30-35 वर्षों से इस तरह के एक अंतर्राष्ट्रीय एयरपोर्ट की मांग की जा रही थी। यह हवाई अड्डा उत्तरी भारत के लिये लॉजिस्टिक्स का द्वार भी बनेगा क्योंकि पहली बार भारत में एकीकृत मल्टी मॉडल कार्गो केंद्र के रूप में किसी हवाई अड्डे को बनाया जा रहा है। समर्पित कार्गो टर्मिनल(cargo terminal) की क्षमता 20 लाख मीट्रिक टन होगी, जिसे बढ़ाकर 80 लाख मीट्रिक टन कर दिया जायेगा।

कितनी लागत में तैयार हो रहा है जेवर एयरपोर्ट?

नोएडा अंतर्राष्ट्रीय एयरपोर्ट(Noida International Airport) के प्रथम चरण का विकास 10,050 करोड़ रुपये से अधिक की लागत से किया जा रहा है हालांकि इस एयरपोर्ट के निर्माण में 34 से 35 हजार करोड़ रुपए की लागत आने की संभावना है। यह 1300 हेक्टेयर से अधिक क्षेत्र में फैला है। पहले चरण का निर्माण हो जाने के बाद हवाई अड्डे की क्षमता वार्षिक रूप से 1.2 करोड़ यात्रियों की सेवा करने की हो जायेगी। ज्यूरिख एयरपोर्ट इंटरनेशनल एजी(Zurich Airport International AG) द्वारा इसका निर्माण किया जा रहा है। पहले चरण का मैदानी काम, यानी भू-अधिग्रहण और प्रभावित परिवारों का पुनर्वास पूरा किया जा चुका है। इसकी वजह से 1 लाख से अधिक लोगों को नौकरी एवं रोजगार के अवसर भी मिलेंगे। साथ ही इस इलाके के विकास की वजह से 5 लाख लोगों को स्वरोजगार के अवसर मिलने की भी संभावना है।

ट्रेन और सड़क माध्यम से भी जुड़ेगा जेवर एयरपोर्ट

हवाई अड्डे में ग्राउंड ट्रांस्पोर्टेशन सेंटर(Ground Transportation Center) विकसित किया जायेगा, जिसमें मल्टी मॉडल ट्रांजिट केंद्र होगा, मेट्रो और हाई स्पीड रेलवे के स्टेशन होंगे, टैक्सी, बस सेवा और निजी वाहन पार्किंग सुविधा मौजूद होगी। इस तरह हवाई अड्डा सड़क, रेल और मेट्रो से सीधे जुड़ने में सक्षम हो जायेगा। नोएडा और दिल्ली को निर्बाध मेट्रो सेवा के जरिये जोड़ा जायेगा। आसपास के सभी प्रमुख मार्ग और राजमार्ग, जैसे यमुना एक्सप्रेस-वे, वेस्टर्न पेरीफेरल एक्सप्रेस-वे, ईस्टर्न पेरीफेरल एक्सप्रेस-वे, दिल्ली-मुम्बई एक्सप्रेस-वे और इस तरह के अन्य एक्सप्रेस-वे को भी हवाई अड्डे(Jevar Airport) से जोड़े जायेंगे। हवाई अड्डे को प्रस्तावित दिल्ली-वाराणसी हाई स्पीड रेल से भी जोड़ने की योजना है, जिसके कारण दिल्ली और हवाई अड्डे के बीच का सफर मात्र 21 मिनट का हो जायेगा।

यह भी पढ़े - उत्तर प्रदेश की जनता को अब मिलेगा मुफ्त राशन का डबल डोज़

जेवर एयरपोर्ट में कब से शुरू होंगी उड़ाने?

माना जा रहा है कि अगले 3 साल में यानि 2024 तक इस एयरपोर्ट(Jevar Airport) से उड़ान सेवा शुरू हो जाएगी और इसके प्रथम चरण के पूरा हो जाने के बाद 1.2 करोड़ यात्री सालाना यहां से उड़ान भर सकेंगे। इससे पश्चिमी उत्तर प्रदेश(Western Uttar Pradesh) के गौतमबुद्धनगर, बुलन्दशहर, अलीगढ़, हापुड़, गाजियाबाद, मेरठ और एनसीआर के इलाके के आस-पास के जिलों में रहने वाले करोड़ो लोगों को फायदा होगा और साथ ही इस इलाके में व्यावसायिक एवं औद्योगिक गतिविधियों में भी तेजी आएगी।

input : आईएएनएस ; Edited by Lakshya Gupta

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें/

Popular

कानपुर में जगन्नाथ का प्राचीन मंदिर देशभर में मानसून की भविष्यवाणी के लिए जाना जाता है। (Pixabay)

भगवान जगन्नाथ का एक ऐसा मंदिर जो उत्तर प्रदेश के कानपुर जिले में स्थित है। ओडिशा और देश के अन्य हिस्सों में स्थित भगवान जगन्नाथ के मंदिरों से सबसे अलग कानपुर का यह जगन्नाथ मंदिर है, जिसका आकार गोल गुंबद जैसा है, जो किसी भी दिशा से देखने पर गुंबदाकार ही दिखाई देता है। यह मंदिर मॉनसून की भविष्यवाणी करने के लिए देश भर में प्रसिद्ध है। भगवान जगन्नाथ का यह मंदिर 'मॉनसून मंदिर' के नाम से भी जाना जाता है। इस मंदिर की स्थापना कब और किसने किया यह किसी को ज्ञात नहीं परंतु भगवान जगन्नाथ का यह मॉनसून मंदिर हजारों किसानों को अपने कृषि कार्य को समय पर शुरू करने की सहूलियत प्रदान करता है। इस मंदिर में रहस्यमय तरीके से पत्थर से टपकती जल की बूंदे कहां से आती है यह किसी को नहीं पता परंतु लोग इस चमत्कार को देखने के लिए उत्सुक रहते हैं।

कानपुर में जगन्नाथ का प्राचीन मंदिर देशभर में मॉनसून की भविष्यवाणी के लिए जाना जाता है, कहा जाता है कि भगवान की प्रतिमा के ऊपर एक चमत्कारी पत्थर लगा हुआ है जहां से जल की बूंदे टपकती हैं पूरे साल सूखे रहने वाले इस पत्र में मॉनसून शुरू होने के 7 से 15 दिन पहले यह चमत्कारी पत्थर बूंदे बरसाने लगता है। हैरानी की बात तो यह है कि जब पूरा इलाका गर्मी से जूझ रहा होता है तब मंदिर के इस पत्थर से जल की बूंदे कहां से टपकती हैं और मॉनसून शुरू होते ही बूंदों का बरसना बंद हो जाता है, जो किसी रहस्य से कम नहीं। इन बूंदों का आकार मॉनसून की गति को दर्शाता है अगर जल की बूंदे आकार में बड़ी हो तो मॉनसून के बेहतर होने का अनुमान लगाए जाते हैं और छोटी बूंद से मॉनसून में कमी को बताती हैं। आज तक कभी भी इस मंदिर की भविष्यवाणी गलत नहीं हुई। प्रदेश में लाखों किसान मौसम विभाग से ज्यादा इस मंदिर पर भरोसा करते हैं।

Keep Reading Show less