Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
मनोरंजन

श्रेया घोषाल : नए ट्विटर सीईओ पराग अग्रवाल मेरे 'बचपन के दोस्त' हैं

श्रेया ने अपने और नए ट्विटर सीईओ पराग अग्रवाल के बीच पुरानी चैट को खोदने वाले प्रशंसकों पर प्रतिक्रिया व्यक्त की है।

श्रेया घोषाल, गायिका [Wikimedia Commons]

श्रेया (Shreya Ghoshal) ने अपने और नए ट्विटर सीईओ पराग अग्रवाल के बीच पुरानी चैट को खोदने वाले प्रशंसकों पर प्रतिक्रिया व्यक्त की है। गायिका ने एक ट्वीट में उन्हें 'बचपन का दोस्त' कहा है। घोषाल ने अपनी स्कूली शिक्षा आठवीं कक्षा तक रावतभाटा के एटोमिक एनर्जी सेंट्रल स्कूल नंबर 4 में की, जहां वह ट्विटर के वर्तमान सीईओ पराग अग्रवाल की सहपाठी थीं।

अग्रवाल की ट्विटर के नए सीईओ के रूप में नियुक्ति के बाद 37 वर्षीय गायिका सोशल मीडिया पर ट्रेंड करने लगी थीं।

सोशल मीडिया यूजर्स को दोनों के बीच पुराना आदान-प्रदान मिला।

दूसरा अग्रवाल का एक ट्वीट है, जिसमें लिखा है, "अच्छी डीपी, क्या हाल चाल हैं। (नाइस डीपी। हाउ इज इट गोइंग)।

'चिकनी चमेली' हिटमेकर (Shreya Ghoshal) ने प्रतिक्रिया देते हुए लिखा, "अरे यार तुम लोग कितना बचपन का ट्वीट निकला रहे हो। ट्विटर अभी लॉन्च हुआ है। 10 साल पहले! हम बच्चे थे! दोस्त एक दसरे को ट्वीट नहीं करते क्या? क्या टाइम पास चल रहा है ये?"


गायिका ने अपने दोस्त को भी इस उपलब्धि पर बधाई दी थी।

यह भी पढ़ें : नस्लवाद पर अपने पुराने ट्वीट को लेकर ट्रोल हुए नए ट्विटर सीईओ पराग अग्रवाल

उन्होंने ट्वीट किया, "बधाई पराग अग्रवाल। आप पर गर्व है। हमारे लिए बड़ा दिन, इस खबर का जश्न मना रही हूं।" (आईएएनएस)

Input: IANS ; Edited By: Manisha Singh

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें!

Popular

भगवान शिव के 12 ज्योतिर्लिंग में से एक ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंग मध्यप्रदेश के खण्डवा जिले में स्थित है(wikimedia commons)

भगवान शिव के 12 ज्योतिर्लिंग में से एक ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंग मध्यप्रदेश के खण्डवा जिले में स्थित है । भगवान शिव के इस मंदिर की महिमा निराली है , ममलेश्वर और ओंकारेश्वर मंदिर के दर्शन के साथ ही ओंकार पर्वत की परिक्रमा का विशेष महत्व है। यहाँ पर नदी और घाटों के नजारे कई गुना ज्यादा सुंदर दिखाई देते हैं। यहा की यात्रा के दौरान कई प्रकार से ऐतिहासिक घाटों, प्राकृतिक खूबसूरती को संजोए पर्वत, आश्रमों, डेम, बोटिंग आदि का लुत्फ भी लिया जा सकता है। यहाँ पर भक्तजन आ कर भगवान शंकर के जयकारे लगाते है । वास्तव में यह ज्योतिर्लिंग दो मंदिरों में विभक्त है , ओंकारेश्वर मांधाता , नर्मदा नदी के मध्य द्वीप पर स्थित है। दक्षिणी तट के किनारे पर ममलेश्वर (प्राचीन नाम अमरेश्वर) मंदिर स्थापित है । ओंकारेश्वरधाम मंदिर में ओंकारेश्वर ज्योतिर्लिंग के साथ ही ममलेश्वर ज्योतिर्लिंग भी है। आप को बता दें कि इन दोनों शिवलिंगों को एक ही ज्योतिर्लिंग माना जाता है।

\u0928\u0930\u094d\u092e\u0926\u093e \u0928\u0926\u0940 ओंकारेश्वर मांधाता , नर्मदा नदी के मध्य द्वीप पर स्थित है। दक्षिणी तट के किनारे पर ममलेश्वर मंदिर स्थापित है । (wikimedia commons)

Keep Reading Show less