Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
टेक्नोलॉजी

ओप्पो फाइन्ड एन 5जी नाम से नया स्मार्टफोन लॉन्च कर सकता है : रिपोर्ट

ओप्पो कथित तौर पर जल्द ही अपना पहला फोल्डेबल स्मार्टफोन लॉन्च करने की योजना बना रहा है जिसे फाइन्ड एन 5जी कहा जा सकता है।

ओप्पो कथित तौर पर जल्द ही अपना पहला फोल्डेबल स्मार्टफोन लॉन्च करने की योजना बना रहा है। [Wikimedia Commons]

ओप्पो (Oppo) कथित तौर पर जल्द ही अपना पहला फोल्डेबल स्मार्टफोन लॉन्च करने की योजना बना रहा है। अब एक नई रिपोर्ट में दावा किया गया है कि हैंडसेट को फाइन्ड एन 5जी कहा जा सकता है। टिपस्टर डिजिटल चैट स्टेशन के अनुसार, आगामी फोल्डेबल स्मार्टफोन का नाम फाइन्ड एन 5जी होगा। इसमें एक रोटेटिंग कैमरा मॉड्यूल भी हो सकता है जो उपयोगकर्ताओं को मुख्य सेंसर का उपयोग करके उच्च-गुणवत्ता वाली सेल्फी क्लिक करने की अनुमति देगा।

ऐसा कहा जा रहा है कि यह फोन 7.8 से 8.0 इंच की ओएलईडी स्क्रीन 2के रिजॉल्यूशन और 120हट्र्ज की रेफ्रेश रेट के साथ है। डिवाइस में साइड-माउंटेड फिंगरप्रिंट रीडर होने की संभावना है। हुड के तहत, यह स्नैपड्रैगन 888 मोबाइल प्लेटफॉर्म द्वारा संचालित होगा।


foldable phone, OPPO, smartphone, 5G ऐसा कहा जा रहा है कि ओप्पो का यह फोल्डेबल फोन 7.8 से 8.0 इंच की ओएलईडी स्क्रीन 2के रिजॉल्यूशन और 120हट्र्ज की रेफ्रेश रेट के साथ है। [Wikimedia Commons]

रिपोर्ट के अनुसार, डिवाइस के कलरओएस 12 के साथ प्रीइंस्टॉल्ड आने की उम्मीद है, लेकिन यह स्पष्ट नहीं है कि इसमें लेटेस्ट एंड्रॉइड 12 होगा या पिछले साल का एंड्रॉइड 11।

कैमरा डिपार्टमेंट में, डिवाइस में पीछे की तरफ सोनी आईएमएक्स766 50-मेगापिक्सल का प्राइमरी कैमरा हो सकता है।

यह भी पढ़ें : मस्क ने कर्मचारियों से टेस्ला वाहनों की डिलीवरी की लागत में कटौती करने का आग्रह किया है

इसके अलावा, डिवाइस 4,500 एमएएच की बैटरी द्वारा संचालित होगा और इसमें 65 वॉट फास्ट चार्जिग तकनीक का सपोर्ट होगा।

फोल्डेबल स्मार्टफोन के अलावा चीनी कंपनी नेक्स्ट-जेनरेशन ओप्पो (Oppo) रेनो7 सीरीज के स्मार्टफोन भी लॉन्च करने की तैयारी कर रही है। (आईएएनएस)

Input: IANS ; Edited By: Manisha Singh

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें!

Popular

अमेरिकी कांग्रेस प्रतिनिधिमंडल से मिलते प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी। (PIB-Twitter)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी(P.M Narendra Modi) ने शनिवार को अमेरिकी कांग्रेस के प्रतिनिधिमंडल से मुलाकात की और द्विपक्षीय संबंधों को बढ़ाने और आतंकवाद, जलवायु परिवर्तन और महत्वपूर्ण प्रौद्योगिकियों जैसे समकालीन वैश्विक मुद्दों पर सहयोग को मजबूत करने की संभावनाओं पर विचारों का आदान-प्रदान किया।

प्रधानमंत्री कार्यालय(PMO) द्वारा जारी एक बयान के अनुसार, सीनेटर जॉन कॉर्निन के नेतृत्व में प्रतिनिधिमंडल में सीनेटर माइकल क्रैपो, सीनेटर थॉमस ट्यूबरविले, सीनेटर माइकल ली, कांग्रेसी टोनी गोंजालेस और कांग्रेसी जॉन केविन एलीजी सीनियर शामिल थे। बता दें, सीनेटर कॉर्निन भारत और भारतीय-अमेरिकियों पर सीनेट कॉकस के सह-संस्थापक और सह-अध्यक्ष हैं।

Keep Reading Show less

रक्षा, अंतरिक्ष, असैन्य परमाणु ऊर्जा और सुरक्षा के क्षेत्रों मे साथ मिलकर काम करेंगे फ्रांस और भारत (Wikimedia commons)

हाल ही में फ्रांसीसी दूतावास द्वारा जारी एक बयान में कहा हैं कि फ्रांस के यूरोप और विदेश मामलों के मंत्री जीन-यवेस ले ड्रियन ने शुक्रवार को पेरिस में आयोजित भारत-फ्रांस रणनीतिक वार्ता के 35वें सत्र के अवसर पर भारत के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल के साथ चर्चा की। इसके साथ यह भी कहा गया है कि फ्रांसीसी विदेश मंत्री ने स्थानीय मौसम परिवर्तन के खिलाफ लड़ाई में प्राथमिकताओं का जिक्र किया। उन्होंने डोभाल के साथ जलवायु परिवर्तन के खिलाफ लड़ाई में प्राथमिकताओं पर भी चर्चा की।

जानकारी के मुताबिक फ्रांस की राजधानी की यात्रा के दौरान एनएसए डोभाल ने फ्रांस के रक्षा मंत्री फ्लोरेंस पार्ली और यूरोप और विदेश मामलों के मंत्री जीन-यवेस ले ड्रियन से मुलाकात की। बता दें फ्रांस के राष्ट्रपति इमैनुअल मैक्रों और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बीच रोम में जी-20 के मौके पर हुई पिछली बैठक के बाद यह एक अनुवर्ती बैठक थी। फ्रांसीसी मंत्री ने भारत-फ्रांसरणनीतिक साझेदारी को मजबूत करने और इसके विभिन्न पहलुओं को मजबूत करने की प्रतिबद्धता पर जोर दिया। विशेष रूप से रक्षा, अंतरिक्ष, असैन्य परमाणु ऊर्जा और सुरक्षा के क्षेत्रों को ध्यान में रखा गया।

Keep Reading Show less

प्रधानमंत्री मोदी ने वाराणसी से आत्मनिर्भर स्वस्थ भारत योजना की शुरुआत की (twitter)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी के दौरे पर थे। जहां से पीएम मोदी ने आत्मनिर्भर स्वस्थ भारत मिशन की शुरुआत। प्रधानमंत्री मोदी ने अपने संबोधन में सरकार की कई उपलब्धियों का गुणगान तो किया ही साथ में विपक्ष पर जमकर निशाना भी साधा।

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि आजादी के बाद के लंबे कालखंड में स्वास्थ्य सुविधाओं पर उतना ध्यान नहीं दिया गया, जितनी देश को जरूरत थी। देश में जिनकी लंबे समय तक सरकारें रहीं, उन्होंने देश के हेल्थकेयर सिस्टम के संपूर्ण विकास के बजाय, उसे सुविधाओं से वंचित रखा। यूपी में जिस तेजी के साथ नए मेडिकल कॉलेज खोले जा रहे हैं, उसका बहुत अच्छा प्रभाव मेडिकल की सीटों और डॉक्टरों की संख्या पर पड़ेगा। ज्यादा सीटें होने की वजह से अब गरीब माता-पिता का बच्चा भी डॉक्टर बनने का सपना देख सकेगा और उसे पूरा कर सकेगा।

मोदी ने कहा कि जो काम दशकों पहले हो जाने चाहिए, उसे अब किया जा रहा है। हम पिछले सात साल से लगातार सुधार कर रहे हैं। अब बहुत बड़े स्केल पर इस काम को करना है। इस तरह का हेल्थ सिस्टम बनता है तो रोजगार के अवसर भी पैदा होते हैं। यह मिशन आर्थिक आत्मनिर्भरता का भी माध्यम है। स्वास्थ्य सेवा पैसा कमाने का जरिया नहीं है। पहले जनता का पैसा घोटालों में जाता था। आज बड़े बड़े प्रोजेक्ट में पैसा लग रहा है। आजादी के बाद 70 साल में जितने डॉक्टर मेडिकल कॉलेज से पढ़कर निकले हैं उससे ज्यादा अगले दस साल में मिलने जा रहे हैं। जब ज्यादा डॉक्टर होंगे तो गांव गांव में डॉक्टर उपलब्ध होंगे। यही नया भारत है जहां आकांक्षाओं से बढ़ते हुए नए नए काम हो रहे हैं।

Keep reading... Show less