Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
राजनीति

कुछ राजनितिक पार्टियां और संगठन आंबेडकर के लिए "गलत सम्मान" दिखाते हैं- मायावती

बसपा सुप्रीमो मायावती ने सोमवार को एक कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए अन्य राजनितिक पार्टियों पर दलितों के लिए "गलत सम्मान" दिखने का आरोप लगाया है।

मायावती (Wikimedia Commons)

5 राज्यों के चुनाव जैसे-जैसे पास आ रहे हैं वैसे-वैसे राजनितिक दल चुनाव जीतने के लिए अपनी-अपनी रणनीति बना रहे हैं। सोमवार को नंबर बसपा(Bahujan Samaaj Party) अध्यक्ष मायावती का था जिन्होंने दलितों का मुद्दा उठाकर अपना पारम्परिक वोटबैंक साधने की कोशिश की।

देश के संविधान के निर्माता बाबासाहेब अंबेडकर(Bhimrao Ambedkar) की 65वीं पुण्यतिथि पर पत्रकारों से बात करते हुए उन्होंने दो अन्य राज्यों में विधानसभा चुनावों के लिए अपनी पार्टी की योजनाओं को भी साझा किया।


उन्होंने कहा, "उत्तराखंड में, बसपा अपने दम पर और पंजाब में शिरोमणि अकाली दल के साथ गठबंधन में सभी सीटों पर चुनाव लड़ेगी," उन्होंने विश्वास जताया कि उनकी पार्टी उत्तराखंड में बेहतर प्रदर्शन करेगी और पंजाब में एक मजबूत गठबंधन सरकार बनाएगी।

बीआर अंबेडकर को श्रद्धांजलि देते हुए उन्होंने कहा कि उन्होंने कई कठिनाइयों का सामना किया, लेकिन अपना पूरा जीवन दलित और वंचित वर्गों को अपने पैरों पर खड़ा करने के लिए समर्पित कर दिया।

उन्होंने आरोप लगाया कि देश में ऐसी कई संकीर्ण और जातिवादी मानसिकता वाली पार्टियां और संगठन हैं जिन्होंने हमेशा अंबेडकर के लिए "गलत सम्मान"(False Respect) दिखाते हुए मानवीय दृष्टिकोण का विरोध किया है। उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री ने भाजपा और अन्य दलों पर दलितों को संविधान में निहित उनके कानूनी अधिकारों का पूरा लाभ नहीं देने का आरोप लगाया।

mayawati, bahujan samaaj party, votebank politics मायावती की पार्टी 2014 के लोकसभा चुनाव के बाद देश के अन्य चुनावों में अब तक ज़्यादा अच्छा प्रदर्शन नहीं किया है फिर भी मायावती आगामी पांच राज्यों के चुनावों में अच्छा प्रदर्शन करने दम भर रही हैं। (Wikimedia Commons)

मायावती ने बिना नाम लिए हुए भीम आर्मी के प्रमुख व आजाद समाज पार्टी के मुखिया चन्द्रशेखर(Chandrashekhar) पर हमला बोला और कहा कि सड़कों पर उतरने से नहीं सत्ता परिवर्तन से संविधान बचेगा। उन्होने कहा कि संविधान के अनुसार सरकारें नहीं चलने का एकमात्र उपाय उन्हें सत्ता से बाहर कर देना है। तभी आप संविधान के अनुसार काम कर सकते हैं। सड़कों पर आने से काम नहीं चलेगा, सत्ता बदलने से काम नहीं चलेगा। सत्ता परिवर्तन होगा तो संविधान की रक्षा होगी। बाबासाहेब अंबेडकर के विरोधी लोग सत्ता में हैं तो हम क्या कर लेंगे।

उन्होंने अखिलेश यादव के नेतृत्व वाली समाजवादी पार्टी पर भी हमला बोलते हुए कहा, "लोग जानते हैं कि उनके शासनकाल में गुंडागर्दी और माफिया चरम पर थे।"
उन्होंने सत्तारूढ़ भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा कि पार्टी के दावों के विपरीत, राज्य में कमजोर वर्गों के खिलाफ हर रोज अत्याचार की खबरें आती हैं।
उन्होंने कहा कि बाबासाहेब अम्बेडकर ने "इन वर्गों को कानूनी अधिकार दिए, लेकिन केंद्र और राज्य सरकारों की जातिवादी मानसिकता के कारण, उन्हें इन अधिकारों का पूरा लाभ नहीं मिल सका"।

उन्होंने कहा, "बसपा का मुख्य लक्ष्य अंबेडकर के समतामूलक समाज के विचार और स्वाभिमान के अभियान को आगे बढ़ाना है और इसे कम करके नहीं आंका जाना चाहिए। यह कारवां न रुकने वाला है और न झुकने वाला है।"

यह भी पढ़ें- अलर्ट पर अयोध्या!

उन्होंने कहा कि कुछ संगठन अपने स्वार्थ के लिए आंबेडकर के आंदोलन को कमजोर करने में लगे हैं, खासकर दलितों, आदिवासियों, पिछड़े वर्गों और अन्य हाशिए के वर्गों के वोटों को विभाजित करके, उन्होंने कहा।

Input-IANS ; Edited By- Saksham Nagar

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें

Popular

पंजाबी सिंगर मूसेवाला कांग्रेस में हुए शामिल। [IANS]

अपने एक गाने में हिंसा और बंदूक संस्कृति को बढ़ावा देने के आरोप में गिरफ्तार मशहूर पंजाबी गायक सिद्धू मूसेवाला (Sidhu Moose Wala) शुक्रवार को पंजाब कांग्रेस (Congress) में शामिल हो गए। वह मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी (Charanjit Singh Channi) और प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) की मौजूदगी में पार्टी में शामिल हुए।

इस समारोह के दौरान सिद्धू ने मूसेवाला को यूथ आइकॉन बताया।

सिद्धू (Navjot Singh Sidhu) ने मीडिया से कहा, "सिद्धू मूसेवाला हमारे परिवार में शामिल हो रहे हैं। मैं उनका कांग्रेस में स्वागत करता हूं।"

मूसेवाला को 'बड़ा कलाकार' बताते हुए चन्नी ने कहा कि अपनी कड़ी मेहनत से उन्होंने लाखों लोगों का दिल जीता है।

Keep Reading Show less

प्रशांत किशोर (Twitter, Prashant Kishor)

मशहूर चुनावी रणनीतिकार और कैंपेन मैनेजर प्रशांत किशोर(Prashant Kishor) ने एक बार फिर से सुर्खियों में है। वैसे भी पिछले कुछ समय से प्रशांत किशोर लगातार कांग्रेस पार्टी(Congress party) पर, एक के बाद एक विरोधी बयानबाजी कर रहे हैं। गुरुवार को एक बार फिर प्रशांत किशोर ने कहा कि जो पार्टी पिछले 10 सालों में 90 फीसदी चुनाव हार चुकी है वह विपक्ष का नेतृत्व कैसे कर सकती है, क्या पार्टी में किसी एक व्यक्ति (राहुल गांधी) का कोई दैवीय अधिकार है?

प्रशांत किशोर(Prashant Kishor)ने ट्वीट कर कहा, ''कांग्रेस जिस विचार और स्थान (विशेष वर्ग) का प्रतिनिधित्व करती है, वो एक मजबूत विपक्ष के लिए बेहद अहम है। लेकिन इसके लिये कांग्रेस नेतृत्व को व्यक्तिगत तौर पर कोई दैवीय अधिकार नहीं है, वो भी तब जब पार्टी पिछले 10 सालों में 90 फीसदी चुनावों में हार चुकी है। विपक्ष के नेतृत्व का फैसला लोकतांत्रिक तरीके से होना चाहिए..''

Keep Reading Show less

विपक्ष के 12 सांसदों को राज्यसभा से निलंबित।(Wikimedia Commons)

संसद के शीतकालीन सत्र के पहले ही दिन विपक्ष के 12 सांसदों को राज्यसभा(Rajya Sabha) से निलंबित(Suspended) किया गया है। अब ये 12 सांसद संपूर्ण सत्र के दौरान सदन नहीं आ पाएंगे। निलंबित सांसद कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस, भाकपा, माकपा और शिवसेना से हैं। अब आप लोग सोच रहे होंगे संसद का आज पहला दिन और इन सांसदो को पहले दिन ही क्यों निष्कासित कर दिया गया?

इस मामले की शुरुआत शीतकालीन सत्र से नहीं बल्कि मानसून सत्र से होती है। दरअसल, राज्यसभा(Rajya Sabha) ने 11 अगस्त को संसद के मानसून सत्र के दौरान सदन में हंगामा करने वाले 12 सांसदों को सोमवार को संसद के पूरे शीतकालीन सत्र के लिए निलंबित कर दिया। ये वही सांसद हैं, जिन्होंने पिछले सत्र में किसान आंदोलन(Farmer Protest) अन्य कई मुद्दों को लेकर संसद के उच्च सदन(Rajya Sabha) में खूब हंगामा किया था। इन सांसदों पर कार्रवाई की मांग की गई थी जिस पर राज्यसभा के सभापति एम. वेंकैया नायडू को फैसला लेना था।

Keep reading... Show less