Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
मनोरंजन

कंगना ने लॉन्च किया फिल्म 'धाकड़' का पोस्टर

मैंने जो कुछ भी किया है वह 'धाकड़' है। अपने घर से भागने से लेकर अब तक मैं सभी 'धाकड़' चीजें करती रहती हूं : कंगना रनौत

कंगना ने लॉन्च किया फिल्म 'धाकड़' का पोस्टर [Wikimedia Commons]

अपने तीखे अंदाज और रोमांचक किरदारों के लिए अक्सर सुर्ख़ियों में रहने वाली कंगना रनौत ने मंगलवार को एक कार्यक्रम में फिल्म 'धाकड़' के पोस्टर को व्यक्तिगत रूप से लॉन्च किया और पत्रकारों के प्रश्नों का जवाब दिया।

बॉलीवुड में अपने संघर्षों के बारे में बताते हुए कंगना ने कहा कि मुझे लगता है कि मैंने जो कुछ भी किया है वह 'धाकड़' है। अपने घर से भागने से लेकर अब तक मैं सभी 'धाकड़' चीजें करती रहती हूं। अब मैं यह 'धाकड़' फिल्म कर रही हूं और मुझे उम्मीद है कि दर्शक इसे पसंद करेंगे।


इसपर जब एक पत्रकार ने उनकी तुलना अर्नोल्ड श्वार्जऩेगर से की तो कंगना ने इसकी प्रशंसा की और उन्होंने बड़ी चतुराई से इसका जवाब भी दिया।

फिल्म धाकड़ के बारे में बताते हुए कंगना ने कहा की यह बॉलीवुड की पहली महिला केंद्रित जासूसी थ्रिलर है। वह आभारी हैं कि उन्हें अपनी फिल्मों में रोमांचक किरदार निभाने को मिले। कंगना ने कहा ,'' मैं इसे लेकर वास्तव में खुश हूं। मैं खुद को भाग्यशाली मानती हूं कि मैं एक ऐसे चरित्र को चित्रित करने में सक्षम हूं जो अच्छे एक्शन दृश्य करता है। मैं अपने निर्देशक रजनीश घई को धन्यवाद देती हूं जिन्होंने मुझ पर विश्वास किया और मुझे यह मौका दिया।'''

यह भी पढ़ें : अनुष्का ने अपनी बहादुर और साहसी दिखने का श्रेय अपनी बेटी वामिका को दिया

दरअसल फिल्म में कंगना एजेंट अग्नि की भूमिका में दिखेंगी जो बाल तस्करी और महिलाओं के शोषण के दोहरे खतरे का सामना करती है। फिल्म की ख़ास बात यह है की इसमें स्टंट एक अंतर्राष्ट्रीय टीम द्वारा डिजाइन किए गए हैं। साथ ही पुरस्कार विजेता जापानी छायाकार टेटसुओ नागाटा ने कैमरावर्क किया है जो कई हॉलीवुड एक्शन फिल्मों में काम कर चुके। (आईएएनएस )

Input: IANS; Edited By: Manisha Singh

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें!

Popular

स्टेट बैंक ऑफ इंडिया से रहस्यमय परिस्थितियों में 60 लाख रुपये निकाल लिए गए।(Wikimedia Commons)

नागरवाला मामला या नागरवाला कांड एक भारतीय धोखाधड़ी के मामले को संदर्भित करता है। यह कांड 24 मई 1971 कि सुबह स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के संसद मार्च ब्रांच में हुआ था। चीफ कैसियर वेद प्रकाश मल्होत्रा के सामने रखा फोन अचानक बचता है फोन की दूसरी ओर से एक व्यक्ति ने अपना परिचय देते हुए कहा कि वह प्रधानमंत्री के कार्यालय से प्रधानमंत्री के प्रधान सचिव पी एन हकसर बोल रहे हैं उन्होंने आगे कहा कि प्रधानमंत्री को बांग्लादेश में गुप्त अभियान के लिए 60 लाख रुपए की जरूरत है, उन्होंने वेद प्रकाश मल्होत्रा को निर्देश दिए कि वह बैंक से 60 लाख रुपए निकाले और बैंक से थोड़ी दूर संसद मार्ग पर ही बाइबल भवन के पास खड़े एक व्यक्ति को पकड़ा दे, और यह सारी रकम ₹100 के नोटों में होनी चाहिए।

आगे प्रधानमंत्री के कार्यालय से प्रधानमंत्री के प्रधान सचिव हक्सर ने मल्होत्रा से कहा कि "लीजिए प्रधानमंत्री से बात कीजिए" उसके कुछ सेकंड बाद, श्रीमती गांधी लाइन पर आईं और उन्होंने मल्होत्रा से कहा कि आप वह पैसे लेकर खुद बाइबल भवन पर आइए वहां एक शख्स आप से मिलेगा। उन्होंने कहा कि वे उस व्यक्ति को पैसे दें जो उनके पास कोड वर्ड: "बांग्लादेश का बाबू" के साथ संपर्क करेगा। आपको उसके जवाब में "बार-एट-लॉ" कहना होगा, और फिर पूरी राशि आप उस व्यक्ति को दे दें। "जैसा आप चाहते हैं, माताजी," मल्होत्रा ने उत्तर दिया।

Keep Reading Show less
नरेंद्र मोदी, प्रधानमंत्री (फ़ाइल फोटो, PIB)

प्रधानमंत्री नरेद्र मोदी आगामी नौ सितंबर को वर्चुअल कार्यक्रम के माध्यम से स्ट्रीट वेंडर्स से स्व-निधि येाजना पर संवाद करने वाले हैं। इस दौरान मध्य प्रदेश् के स्ट्रीट वेंडर्स अपनी आत्मनिर्भरता की दास्तां प्रधानमंत्री मोदी से साझा करेंगे। आधिकारिक तौर पर दी गई जानकारी के अनुसार, मध्यप्रदेश में कोविड-19 की मुश्किल घड़ी में प्रधानमंत्री स्व-निधि योजना में एक लाख 15 हजार छोटे-छोटे व्यापारियों को व्यवसाय उन्नयन के लिए ऋण दिया गया। इन्हें कुल 115 करोड़ रूपए की राशि मंजूर की गई। इस योजना के तहत सिर्फ तीन हफ्ते में 8 लाख 78 हजार पंजीयन किए गए। मध्यप्रदेश देश में योजना के क्रियान्वयन में अव्वल है।

यह भी पढ़ें: चुनावी संदर्भ में डोनाल्ड ट्रंप ने नरेंद्र मोदी के समर्थन का किया दावा

Keep Reading Show less
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी(फ़ाइल फोटो, PIB)

By: नवनीत मिश्र

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को ‘मन की बात’ रेडियो कार्यक्रम के दौरान छह अहम मुद्दे उठाए। उन्होंने देश में खिलौना इंडस्ट्री को बढ़ाने की वकालत की तो पर्यावरण संरक्षण पर भी जोर दिया। आजादी के गुमनाम नायकों को याद करने की बात कही तो कोरोना काल में शिक्षकों के महत्व को भी बताया।

Keep reading... Show less