Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
मनोरंजन

राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार जीतने पर खुश हूं : बी प्राक

बी प्राक ने 67वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों में अपने गीत 'तेरी मिट्टी' के लिए बेस्ट प्लेबैक सिंगर का खिताब जीता है।

गीत 'तेरी मिट्टी' के लिए बेस्ट प्लेबैक सिंगर का खिताब जीता है।(wikimedia commons)

67वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों में कई प्रतिभाशाली लोगों को पुरस्कारों से नवाजा गया एसे में बी प्राक ने 67वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों में अपने गीत 'तेरी मिट्टी' के लिए बेस्ट प्लेबैक सिंगर का खिताब जीता है। उन्होंने और भी विजेताओं के साथ इस पल को साझा किया है ये उनके लिए खास पल रहा। गायक ने अपनी बड़ी जीत के बारे में कहा, "यह साल बहुत अच्छा रहा है। लेकिन सबसे ज्यादा यह पुरस्कार जीतने का पल खास हैं। मैं बहुत खुश हूं। मुझे लगता है कि मैं बहुत खुशनसीब हूं कि हमने एक टीम के साथ ऐसा गीत बनाया जो हमारे राष्ट्र के लिए गौरव के साथ गूंजता है।"

साथ हि वह कहते हैं कि इस पल को वह कभी नहीं भूलेंगे। "आज का दिन मेरे करियर के लिए अनमोल दिन है उन्होंने कहा। हर कलाकार चाहता है कि उसकी सराहना की जाए और राष्ट्रीय पुरस्कार से बड़ा सम्मान कोई नहीं हो सकता।"

 \u092b\u093f\u0932\u094d\u092e \u0915\u0947\u0938\u0930\u0940 2019 की फिल्म केसरी का मुख्य आकर्षण था(wikimedia commons)




आप को बता दे कि तेरी मिट्टी बी प्राक के गीत को भारत के नागरिक बहुत उल्लास के साथ गाते हैं क्योंकि यह उन्हें देश की खातिर बलिदान हुए सैनिकों की याद दिलाता है। मनोज मुंतशिर द्वारा लिखा गया गाना और अरको द्वारा रचित 2019 की फिल्म केसरी का मुख्य आकर्षण था।

यह भी पढ़ें :परेश रावल : अश्लील कॉमेडी का समर्थन नहीं किया मैंने कभी भी

67वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों की घोषणा मार्च 2021 में की गई थी। हाल ही में उनका समापन किया गया क्योंकि उन्होंने हमारे सिनेमा में प्रतिभा को सम्मानित किया और उनका जश्न मनाया। आप को बता दे किबी प्राक के अलावा, मनोज बाजपेयी, रजनीकांत, धनुष, कंगना रनौत और विजय सेतुपति जैसे बड़े फिल्म कलाकारों को भारतीय सिनेमा में उनके काम के लिए सम्मानित किया गया है।(आईएएनएस-PS)

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें!

Popular

निहंग सिख समाज को गुरु की फौज भी कहा जाता है।(NewsGram Hindi)

बीते कुछ दिनों से मीडिया से लेकर सोशल मीडिया तक आपने "निहंग सिख" शब्द को कई बार सुना होगा। आज हम आपको इन्हीं निहंग सिख का भूतकाल और वर्तमान बताएंगे।

निहंग शब्द का वास्तविक अर्थ क्या है, इसके पीछे भी काफी भेद है। कुछ इतिहासकार निहंग को एक फारसी शब्द मानते है जिसका अर्थ मगरमच्छ होता है। कहा जाता है, यह नाम मुगलों ने दिया था क्योंकि सिख लड़ाके युद्ध में मगरमच्छ की तरह युद्ध करते थे। मुगलों का मानना था कि जिस तरह पानी में मगरमच्छ को हराना मुश्किल है उसी प्रकार युद्ध में निहंगों को हराना आसान नहीं है। इसके अलावा यह भी कहा जाता है कि निहंग, संस्कृत शब्द निशंक से लिया गया है जिसका अर्थ जिसे कोई शंका न हो, कोई डर न हो, मोह न हो। निहंग शब्द का इस्तेमाल श्री गुरु ग्रन्थ साहिब में भी हुआ है। यहां इस शब्द का अर्थ निडर और बेसब्र बताया गया है।

Keep Reading Show less

निहंग सिखों ने दलित लखबीर सिंह की हत्या कर जारी किया था वीडियो (Wikimedia commons)

केंद्र सरकार द्वारा लाए गए तीनों कृषि कानून के विरोध में दिल्ली के बॉर्डरों पर बैठे किसान हटने का नाम नहीं ले रहे हैं। इसी बीच एक ऐसी खबर आई है जो अत्यंत शर्मनाक हैं। और उससे भी शर्मनाक यह है कि हत्या करने का वीडियो बनाया गया और उसे जारी भी किया गया। आप सबको याद होगा एक समय होता था जब आईएसआईएस जैसे आतंकी संगठन हत्या करने का वीडियो बनाकर जारी करते थे और हत्या करने की जिम्मेदारी भी लेते थे इसी तरह के कृत करने की कोशिश हमारे देश भारत में हुई है। अगर इसे अभी नहीं रोका गया तो ऐसी वारदातें और बढ़ सकती हैं।

अब आपको विस्तार से पूरी घटना बताते हैं। शुक्रवार को सिंधु बॉर्डर पर 35 साल के युवक जिसका नाम लखबीर सिंह है उसका मृत शव मिला। वह एक दलित मजदूर था। लखबीर सिंह की हत्या इतनी बर्बरता से की गई थी कि उसका एक हाथ और एक पैर कटा हुआ पाया गया और सबसे जरूरी बात यह की शव संयुक्त किसान मोर्चा के मंच के पास से मिला था। जिस कारण किसान आंदोलन और किसान नेताओ का कटघरे में खड़े होना तो तय हैं।

Keep Reading Show less

नवजोत सिद्धू ने लिखा सोनिया को पत्र (Wikimedia Commons)

कांग्रेस पार्टी में घमासान मचा हुआ है। खासकर पंजाब में जहां से अक्सर राज्य सरकार और प्रदेश अध्यक्ष नवजोत सिद्धू के बीच मनमुटाव की ख़बरें आती रहती हैं। कहा जा रहा है की सिद्धू पार्टी से बगावत करने के चरम पर हैं।

इस बीच कांग्रेस नेता राहुल गांधी से मुलाकात करने के कुछ समय बाद ही 15 अक्टूबर को सिद्धू ने पार्टी प्रमुख सोनिया गांधी को एक पत्र लिखा और उसे सार्वजनिक कर दिया। इस पत्र में सिद्धू ने बेअदबी के मामलों में न्याय, राज्य की नशीली दवाओं के खतरे, कृषि मुद्दों, रोजगार के अवसरों, रेत खनन और पिछड़े वर्गों के कल्याण के बारे में बात की।

Keep reading... Show less