Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×

चेन्नई एयरपोर्ट पर लोग अधिक आरटीपीसीआर टेस्ट चार्ज से परेशान

'हिंडलैब्स'(Hindlabs) जो एक 'मिनी रत्न'(Mini Ratna) है, प्रति यात्री 3,400 रुपये चार्ज कर रही है और रिपोर्ट देने में लंबा समय ले रही है।

चेन्नई इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर यात्री आरटीपीसीआर टेस्ट के ज़्यादा दाम से परेशान दिखे। (Pixabay)

भारत सरकार की कंपनी, 'हिंडलैब्स'(Hindlabs) जो एक 'मिनी रत्न'(Mini Ratna) है, प्रति यात्री 3,400 रुपये चार्ज कर रही है और रिपोर्ट देने में लंबा समय ले रही है।

चेन्नई के एक ट्रैवल एजेंट और दुबई के लिए लगातार उड़ान भरने वाले सुरजीत शिवानंदन ने एक समाचार एजेंसी को बताया, "मेरे जैसे लोगों के लिए जो काम के उद्देश्य से दुबई की यात्रा करते हैं, यह इतना मुश्किल नहीं है और खर्च कर सकता है, लेकिन मैंने कई सामान्य मजदूरों को देखा है जो पैसे की व्यवस्था के लिए स्तंभ से पोस्ट तक चलने वाले वेतन के रूप में एक छोटा सा पैसा।"


इसके अलावा अधिकांश यात्रियों को रैपिड पीसीआर परीक्षण(Rapid PCR Test) के बारे में कोई जानकारी नहीं है और उन्हें हवाई अड्डे पर पहुंचने पर परीक्षण के बारे में सूचित किया जाता है, कई यात्रियों ने कहा।

थूथुकुडी के रहने वाले और पहली बार दुबई की यात्रा करने वाले एक निर्माण श्रमिक शाहजहां ने कहा कि चेन्नई हवाई अड्डे(Chennai Airport) पर यह एक बुरा सपना था।

chennai international airport, hindlabs, rtpcr test हिन्दलैब्स (Pixabay)

शाहजहाँ ने कहा, "यह मेरे लिए एक दुखद दिन था। मेरे पास जॉब वीजा, हवाई अड्डे की यात्रा और अन्य आकस्मिक खर्चों की व्यवस्था के लिए मेरे पास लगभग सभी पैसे खर्च किए गए थे। हवाई अड्डे पर पहुंचने पर ही मुझे पता चला कि रैपिड पीसीआर परीक्षण और मेरे पास परीक्षण के लिए पैसे नहीं थे। सौभाग्य से मैं प्रस्थान से सात घंटे पहले पहुंच गया और अपने गृह नगर से पैसे की व्यवस्था की और परीक्षा दी।"

सरकार द्वारा नियंत्रित कंपनी द्वारा वसूले जाने वाले उच्च दरों ने यात्रियों को परेशान किया है।

यह भी पढ़ें- वे लोग जिन्होंने उत्कृष्टता का एक नया उदाहरण पेश कर खड़ा लिया एक विशिष्ट संसथान

साउथ इंडियन ट्रैवल एजेंट्स एसोसिएशन(South Indian Travel Agents Association) के महासचिव, वेणुगोपाल कृष्ण ने एक समाचार एजेंसी को बताया, "तमिलनाडु सरकार को इस मामले में तुरंत हस्तक्षेप करना चाहिए और दरों को कम करने की जरूरत है। इसके अलावा, यात्रा करने वाले सभी यात्रियों को एक उचित जागरूकता दी जानी चाहिए। यूएई को रैपिड पीसीआर टेस्ट और इसकी वर्तमान दरों पर ताकि यात्री तैयार होकर पहुंचें।

Input-IANS ; Edited By- Saksham Nagar

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें

Popular

इंद्रेश कुमार, मुस्लिम राष्ट्रीय मंच के मुख्य संरक्षक और वरिष्ठ संघ नेता । [Wikimedia Commons]

मुस्लिम राष्ट्रीय मंच के मुख्य संरक्षक और वरिष्ठ संघ नेता इंद्रेश कुमार (Indresh Kumar) ने देश के उलेमाओं से कहा कि मदरसे में सिर्फ दीनी और मजहबी तालीम न दें, बल्कि स्किल डेवलपमेंट, कंप्यूटर शिक्षा और दूसरी सभी तालीम भी दें। उन्होंने सीएए और एनआरसी की हिमायत की और विश्वास दिलाया कि दूसरे देशों के सताए अल्पसंख्यकों को भारत की नागरिकता दी जाएगी। साथ ही साथ उन्होंने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान को अपनी सीमा में रहने की नसीहत दी।

अयोध्या में श्रीराम मंदिर निर्माण की निंदा करने पर इमरान खान की कड़ी आलोचना करते हुए वरिष्ठ संघ नेता ने कहा कि दुनिया के मुसलमानों के लिए क्या अयोध्या राम मंदिर समस्या है?

इंद्रेश कुमार (Indresh Kumar) ने कहा कि मदरसे अपनी जमीन को सिर्फ पढ़ाई तक ही सीमित रखें। मदरसों में गैर-कानूनी कामों को बढ़ावा देकर चंद लोग पूरे इस्लाम का नाम खराब करने की कोशिश करते हैं। ऐसे लोगों पर सख्ती की जरूरत है, ताकि ये दहशतगर्द इस्लाम, मुसलमान, मुल्क व मिल्लत का नाम न खराब कर सकें।

वरिष्ठ आरएसएस नेता ने शिक्षा पर जोर देते हुए कहा, "माता-पिता एवं अभिभावकों को चाहिए कि वे भले ही आधे पेट खाएं, लेकिन अपने नौनिहालों को बेहतरीन शिक्षा दें। उन्हें देशभक्ति और वतन के शहीदों की कहानियां भी बचपन से सुनाएं, ताकि अगली पीढ़ी हमारी गुजरी हुई पीढ़ी और गुजरे हुए कल की इज्जत करते हुए अपना भविष्य रोशन बनाए।"

इमरान खान ने अयोध्या में श्रीराम मंदिर निर्माण की निंदा की थी। संघ नेता ने इसका जवाब देते हुए कहा कि दुनिया के मुसलमानों के लिए क्या अयोध्या राम मंदिर समस्या है? आप भारत के आंतरिक मामलों में दखल देने में इतनी दिलचस्पी क्यों रखते हैं? हिंदू दुनिया में जहां कहीं भी रहते हैं, उस देश के कानूनों के मुताबिक रहते हैं।

Keep Reading Show less

अयोध्या में रोज़गार बढ़ाने के लिए औद्योगिक गलियारे होंगे स्थापित। (Unsplash)

उत्तर प्रदेश(Uttar Pradesh) में योगी आदित्यनाथ सरकार(Yogi Adityanath Government) अयोध्या विकास प्राधिकरण(Ayodhya Development Association) के अधिकार क्षेत्र के 65 किमी परिधि के भीतर लखनऊ-फैजाबाद-गोरखपुर चार-लेन राष्ट्रीय राजमार्ग के दोनों किनारों पर औद्योगिक गलियारे स्थापित कर रही है। 100 एकड़ में फैला उद्योग केंद्र, अयोध्या मास्टर प्लान -2031 का हिस्सा बनेगा, जिसे एडीए द्वारा तैयार किया जा रहा है।

एडीए के उपाध्यक्ष विशाल सिंह के मुताबिक, अगले महीने मास्टर प्लान को अंतिम रूप दिए जाने की उम्मीद है और इसे राज्य सरकार की मंजूरी के लिए भेजा जाएगा।

अन्य विकास परियोजनाओं के विपरीत, एडीए किसानों से भूमि का अधिग्रहण नहीं करेगा। उन्होंने कहा कि उद्योगपति सीधे भूमि मालिकों से भूखंड खरीदेंगे और एडीए बुनियादी ढांचा प्रदान करेगा। औद्योगिक केंद्र 100 एकड़ के क्षेत्र को कवर करेगा।

Keep Reading Show less

ट्रस्ट का प्रयास है कि दिसंबर, 2023 तक मंदिर को भक्तों के लिए खोल दिया जाए-विहिप नेता गोपाल(Wikimedia commons)

दीपावली के इस पावन अवसर पर राम भक्तों के लिए खुशखबरी आई है। खुशखबरी यह है कि वर्ष 2023 तक सभी राम भक्तों अपने राम लला की पूजा अर्चना भव्य राम मंदिर में कर सकते हैं। दरअसल,श्रीराम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय के सहयोगी के तौर पर मंदिर निर्माण का कार्य देख रहे विश्व हिंदू परिषद के केंद्रीय सह मंत्री गोपाल ने आईएएनएस को बताया कि मंदिर की बुनियाद का कार्य लगभग पूरा होने जा रहा हैं, अभी डेढ़ मीटर राफ्ट का कार्य तेजी से चल रहा है और अगले 15 दिनों में यह कार्य संपन्न हो जाएगा और इसी के साथ मंदिर की नींव के निर्माण का कार्य इसी महीने (नवंबर) में पूरा हो जाएगा। उन्होंने बताया कि ट्रस्ट का प्रयास है कि दिसंबर, 2023 तक मंदिर को भक्तों के लिए खोल दिया जाए, उससे पहले मंदिर निर्माण का कार्य संपन्न कर भगवान को वहां विराजमान करने का लक्ष्य है।

मंदिर निर्माण का कार्य देख रहे विहिप नेता ने आईएएनएस को बताया कि मंदिर के नींव भरने का काम पूरा करने के बाद मिर्जापुर और बेंगलुरु ग्रेनाइट के काम को शुरू किया जाएगा। नींव के निर्माण कार्य की जानकारी देते हुए उन्होंने बताया कि इसमें 40 फीट की गहराई तक काम हुआ है। वहां से मिट्टी को निकाला गया है और राफ्ट का काम पूरा होने के साथ ही नींव का काम संपन्न हो जाएगा।

Keep reading... Show less