Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
टेक्नोलॉजी

'संभावित रूप से हानिकारक' कंटेंट की विजिबिलिटी को कम करेगा इंस्टाग्राम

मेटा के स्वामित्व वाला फोटो-शेयरिंग प्लेटफॉर्म इंस्टाग्राम अपने ऐप में 'संभावित रूप से हानिकारक' कंटेंट को कम दिखाई देने के लिए नए कदम उठा रहा है।

'संभावित रूप से हानिकारक' कंटेंट की विजिबिलिटी को कम करेगा इंस्टाग्राम (Wikimedia Commons)

मेटा(Meta) के स्वामित्व वाला फोटो-शेयरिंग प्लेटफॉर्म इंस्टाग्राम (Instagram) अपने ऐप में 'संभावित रूप से हानिकारक' कंटेंट को कम दिखाई देने के लिए नए कदम उठा रहा है। एनगैजेट की रिपोर्ट के अनुसार, कंपनी ने कहा कि यूजर्स के फीड और स्टोरीज में पोस्ट करने के तरीके को सशक्त करने वाला एल्गोरिदम अब ऐसे कंटेंट को प्राथमिकता देगा, जिसमें 'बदमाशी, अभद्र भाषा या हिंसा भड़काने वाली सामग्री हो सकती है।'

इंस्टाग्राम के नियम पहले से ही इस प्रकार की अधिकांश सामग्री को प्रतिबंधित करते हैं, जबकि परिवर्तन सीमा रेखा पोस्ट या कंटेंट को प्रभावित कर सकता है जो अभी तक ऐप के मॉडरेटर तक नहीं पहुंची है। कंपनी ने एक अपडेट में बताया, "यह समझने के लिए कि क्या कोई चीज हमारे नियमों को तोड़ सकती है, हम चीजों को देखेंगे जैसे कि कैप्शन एक कैप्शन के समान है जो पहले हमारे नियमों को तोड़ता था।"


Instagram, Meta, Social Media, \u0907\u0902\u0938\u094d\u091f\u093e\u0917\u094d\u0930\u093e\u092e, \u092e\u0947\u091f\u093e 'संभावित रूप से हानिकारक' कंटेंट की विजिबिलिटी को कम करेगा इंस्टाग्राम (Wikimedia Commons)


अब तक, इंस्टाग्राम ने ऐप के सार्वजनिक-सामना वाले हिस्सों से संभावित आपत्तिजनक कंटेंट को छिपाने की कोशिश की है, जैसे कि एक्सप्लोर लेकिन यह नहीं बदला है कि इस प्रकार की सामग्री पोस्ट करने वाले खातों का पालन करने वाले यूजर्स के लिए यह कैसा दिखता है। लेटेस्ट परिवर्तन का अर्थ है कि 'समान' वाली पोस्ट जिन्हें पहले हटा दिया गया है, वे विजिटर्स को भी बहुत कम दिखाई देंगी। मेटा के एक प्रवक्ता ने पुष्टि की कि 'संभावित रूप से हानिकारक' पोस्ट अभी भी अंतत: हटाए जा सकते हैं यदि पोस्ट अपने सामुदायिक दिशानिर्देशों को तोड़ती है।

यह भी पढ़ें - नेताजी के पास था भारत की वित्तीय और आर्थिक मजबूती का एक विजन : डॉ. अनीता बोस फाफ

अपडेट 2020 में इसी तरह के बदलाव का अनुसरण करता है जब इंस्टाग्राम ने डाउन-रैंकिंग अकाउंट शुरू किया, जिसमें गलत सूचना साझा की गई थी, जिसे फैक्ट-चेकर्स ने खारिज कर दिया था। इस बदलाव के विपरीत, हालांकि, इंस्टाग्राम ने कहा कि लेटेस्ट नीति केवल व्यक्तिगत पोस्ट को प्रभावित करेगी और 'कुल खातों को नहीं'। (आईएएनएस - AS)

Popular

भारत में बढ़ रही है फोल्डेबल स्मार्टफोन की बिक्री!(Wikimedia Commons)

भारत(India) में 2021 में फोल्डेबल स्मार्टफोन(Foldable Smartphone) की बिक्री में 638 प्रतिशत की भारी उछाल देखने को मिल सकती है और इनके 2022 में रिकॉर्ड 3 लाख यूनिट की बिक्री को छूने की उम्मीद है। बुधवार को एक नई रिपोर्ट में इसकी जानकारी दी गई। फोल्डेबल स्मार्टफोन का राजस्व (Revenue) अगले साल 60 प्रतिशत बढ़ने की उम्मीद है, जो उद्योग के लिए 3,200 करोड़ रुपये में अनुवाद करता है।

Samsung galaxy z, Foldable Smartphones सैमसंग के लिए फोल्डेबल स्मार्टफोन की बिक्री से राजस्व में होगी वृद्धि! (Wikimedia Commons)

Keep Reading Show less

CAG रिपोर्ट के अनुसार देबत्तर ढेंकनाल की सबसे ज्यादा 4,030.78 एकड़ जमीन पर कब्जा है। [IANS]

भारत के नियंत्रक और महालेखा परीक्षक (CAG) ने मार्च 2020 के समाप्त हुए वर्ष के लिए सामान्य और सामाजिक क्षेत्र पर अपनी नवीनतम रिपोर्ट में कहा कि ओडिशा में छह मंदिरों (temples) की 4,500 एकड़ से अधिक भूमि पर अतिक्रमण है। CAG ने राज्य के 13 मंदिरों (temples) के अभिलेखों का लेखा-जोखा किया और पाया कि इन मंदिरों की कुल 12,767.679 एकड़ भूमि में से केवल 5,749.464 एकड़ (45.03 प्रतिशत) उनके कब्जे में थी और 35.28 प्रतिशत भूमि अतिक्रमण के तहत थी।

रिपोर्ट के अनुसार देबत्तर ढेंकनाल की सबसे ज्यादा 4,030.78 एकड़ जमीन पर कब्जा है। इसी तरह जगन्नाथ बल्लव मठ की 296.664 एकड़, ठाकुर महल की 139.330 एकड़, श्री लिंगराज मंदिर की 36.370 एकड़, मां मंगला मंदिर की 0.070 एकड़ और मां समलेश्वरी मंदिर की 0.657 एकड़ जमीन पर कब्जा है।

शेष सात ऑडिट किए गए मंदिरों (temples) में, चार मामलों में किसी भी भूमि पर अतिक्रमण (Land Encroachment) नहीं पाया गया है, जबकि तीन अन्य धार्मिक संस्थानों (RI) के पास डेटा नहीं है। CAG ने कहा कि जबकि केवल चार आरआई के पास उनकी सभी भूमि संपत्तियों का कब्जा था, दो आरआई (मां मंगला और मां सरला मंदिर) को जमीन की संपत्ति के कब्जे की सीमा के बारे में पूरी जानकारी नहीं थी।

इसमें बताया गया, "आगे, तीन क्षेत्रीय संस्थाओं के संबंध में भू-संपत्ति के अतिक्रमण की सीमा का भी पता नहीं था। इसलिए, 7,018.215 एकड़ भूमि संबंधित सात क्षेत्रीय संस्थाओं के कब्जे में नहीं थी।"

इसके अलावा, हालांकि श्री लिंगराज मंदिर के पास राज्य भर में जमीन-जायदाद की संपत्ति है, यह केवल भुवनेश्वर शहर से संबंधित कब्जे और अतिक्रमण के बारे में जानता था। अन्य स्थानों पर भूमि के स्वामित्व और अतिक्रमण की जानकारी मंदिर प्रशासन को नहीं थी।

यह भी पढ़ें : गुरुग्राम में मुस्लिमों ने फिर पढ़ा खुले में नमाज

कार्यकारी अधिकारी, श्री लिंगराज मंदिर ने लेखापरीक्षा को सूचित किया कि भुवनेश्वर में 69.423 एकड़ भूमि में से 36.370 एकड़ भूमि पर कब्जा है। (आईएएनएस)

Keep Reading Show less

एप्पल वॉच, सांकेतिक चित्र (Pixabay)

एप्पल (Apple) ने हाल ही में वॉच सीरीज 7 लाइनअप लॉन्च किया था और अब कंपनी वॉच एसई का एक अपडेटेड वर्जन लॉन्च करने की तैयारी कर रही है, जिसे वॉच एसई 2 नाम दिया जा सकता है। मैकरियूमर्स की रिपोर्ट के अनुसार, 'पावर ऑन' न्यूजलेटर के लेटेस्ट संस्करण में मार्क गुरमन ने कहा कि अगले साल एप्पल वॉच एसई के लिए एप्पल वॉच सीरीज 8 के साथ एक अपडेट लॉन्च कर सकता है।

एप्पल वॉच एसई 2 (Apple watch SE2) मूल एसई मॉडल के अनुरूप होगा जिसे वर्ष 2020 में लॉन्च किया गया था।

मूल एप्पल वॉच एसई 2 (Apple watch SE2)में नियमित एप्पल वॉच मॉडल के समान डिजाइन हैं, लेकिन कुछ उन्नत सुविधाओं की कमी है जिसमें हमेशा ऑन डिस्प्ले, ब्लड ऑक्सीजन सेंसर और ईसीजी कार्यक्षमता शामिल है।

इसके अलावा, एप्पल (Apple) स्पोर्ट्स एथलीटों के उद्देश्य से एक पूरी तरह से नई एप्पल वॉच की भी योजना बना रहा है। इसमें एक 'रग्गेडाइज्ड' डिजाइन होगा जिसमें एक ऐसा केस हो सकता है जो खरोंच, डेंट, फॉल्स और बहुत कुछ के लिए अधिक प्रतिरोधी हो।

इस बीच, एप्पल वॉच 8 को सेंसर विभाग में भी कुछ मेजर केपेबिलिटी अपग्रेड्स मिलने की उम्मीद है।

यह भी पढ़ें : यूट्यूब पर देखने को मिला अजूबा, इंसानी शक्लें बनाता दिखा रोबोट

एप्पल के आपूर्तिकर्ता कथित तौर पर एप्पल वॉच सीरीज 8 में नेक्स्ट जनरेशन के सेंसर के लिए पुर्जे विकसित कर रहे हैं जो यूजर्स को उनके ब्लड शुगर के स्तर को मापने की अनुमति देगा।

वर्तमान में, क्यूपर्टिनो आधारित टेक दिग्गज के पास स्मार्टवॉच के तीन लाइनअप एप्पल वॉच सीरीज 7, एप्पल वॉच सीरीज 3 और एप्पल वॉच एसई हैं। (आईएएनएस)

Keep reading... Show less