Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
मनोरंजन

राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार जीतने पर खुश हूं : बी प्राक

बी प्राक ने 67वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों में अपने गीत 'तेरी मिट्टी' के लिए बेस्ट प्लेबैक सिंगर का खिताब जीता है।

गीत 'तेरी मिट्टी' के लिए बेस्ट प्लेबैक सिंगर का खिताब जीता है।(wikimedia commons)

67वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों में कई प्रतिभाशाली लोगों को पुरस्कारों से नवाजा गया एसे में बी प्राक ने 67वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों में अपने गीत 'तेरी मिट्टी' के लिए बेस्ट प्लेबैक सिंगर का खिताब जीता है। उन्होंने और भी विजेताओं के साथ इस पल को साझा किया है ये उनके लिए खास पल रहा। गायक ने अपनी बड़ी जीत के बारे में कहा, "यह साल बहुत अच्छा रहा है। लेकिन सबसे ज्यादा यह पुरस्कार जीतने का पल खास हैं। मैं बहुत खुश हूं। मुझे लगता है कि मैं बहुत खुशनसीब हूं कि हमने एक टीम के साथ ऐसा गीत बनाया जो हमारे राष्ट्र के लिए गौरव के साथ गूंजता है।"

साथ हि वह कहते हैं कि इस पल को वह कभी नहीं भूलेंगे। "आज का दिन मेरे करियर के लिए अनमोल दिन है उन्होंने कहा। हर कलाकार चाहता है कि उसकी सराहना की जाए और राष्ट्रीय पुरस्कार से बड़ा सम्मान कोई नहीं हो सकता।"

 \u092b\u093f\u0932\u094d\u092e \u0915\u0947\u0938\u0930\u0940 2019 की फिल्म केसरी का मुख्य आकर्षण था(wikimedia commons)




आप को बता दे कि तेरी मिट्टी बी प्राक के गीत को भारत के नागरिक बहुत उल्लास के साथ गाते हैं क्योंकि यह उन्हें देश की खातिर बलिदान हुए सैनिकों की याद दिलाता है। मनोज मुंतशिर द्वारा लिखा गया गाना और अरको द्वारा रचित 2019 की फिल्म केसरी का मुख्य आकर्षण था।

यह भी पढ़ें :परेश रावल : अश्लील कॉमेडी का समर्थन नहीं किया मैंने कभी भी

67वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों की घोषणा मार्च 2021 में की गई थी। हाल ही में उनका समापन किया गया क्योंकि उन्होंने हमारे सिनेमा में प्रतिभा को सम्मानित किया और उनका जश्न मनाया। आप को बता दे किबी प्राक के अलावा, मनोज बाजपेयी, रजनीकांत, धनुष, कंगना रनौत और विजय सेतुपति जैसे बड़े फिल्म कलाकारों को भारतीय सिनेमा में उनके काम के लिए सम्मानित किया गया है।(आईएएनएस-PS)

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें!

Popular

अमेरिका अफगानिस्तान में आतंकी ठिकानों के खिलाफ कर सकता है रूस की धरती का इस्तेमाल।(VOA)

By: एसपीएस पन्नू

आतंकवाद के खिलाफ अपने युद्ध में, अमेरिका तालिबान के नियंत्रण वाले अफगानिस्तान में ठिकानों को निशाना बनाने के लिए मध्य एशिया में रूस के ठिकानों का इस्तेमाल कर सकता है, जहां आईएसआईएस-के और अल कायदा के अवशेष जैसे आतंकवादी समूह अभी भी सक्रिय हैं।

अमेरिका उन देशों के साथ बातचीत कर रहा है जो अफगानिस्तान की सीमा पर 'क्षितिज के ऊपर' आतंकवाद विरोधी अभियानों के आवास के बारे में बात कर रहे हैं, जो अमेरिकी सेना को तालिबान-नियंत्रित राष्ट्र में अधिक आसानी से सर्वेक्षण करने और लक्ष्य पर हमला करने की अनुमति देगा, अमेरिकी समाचार पोर्टल पोलिटिको ने सीनेटरों का हवाला देते हुए रिपोर्ट किया है जो एक में शामिल हुए थे। इस सप्ताह पेंटागन के नेताओं के साथ वगीर्कृत सुनवाई। उन्होंने कहा कि उन साइटों में उन देशों में रूस द्वारा चलाए जा रहे ठिकाने शामिल हो सकते हैं।

सीनेट की सशस्त्र सेवा समिति के समक्ष मंगलवार को सार्वजनिक रूप से गवाही देने के बाद, सेना के शीर्ष अधिकारियों की तिकड़ी ने बंद दरवाजों के पीछे सांसदों को ताजिकिस्तान, उज्बेकिस्तान, किर्गिस्तान और अन्य की सरकारों के साथ होने वाली चर्चाओं के बारे में जानकारी दी, सीनेटरों ने पोलिटिको को बताया।

मंगलवार को सांसदों के सामने यह खुलासा रक्षा सचिव लॉयड ऑस्टिन ने स्वीकार किया कि अमेरिका ने रूस से मध्य एशिया में रूसी सैन्य ठिकानों पर अमेरिकी आतंकवाद विरोधी अभियानों की मेजबानी करने के लिए राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन से एक प्रस्ताव के बारे में 'स्पष्टीकरण' के लिए कहा है।

Keep Reading Show less
रूसी सरकार ने स्पुतनिक-5 वैक्सीन के निर्माण में भारत की मदद मांगी है। (सांकेतिक चित्र, Pixabay)

रूसी सरकार ने स्पुतनिक-5 वैक्सीन के निर्माण में भारत की मदद मांगी है। इसके साथ ही रूस ने वैक्सीन के तीसरे चरण के परीक्षण में भी भारत से मदद का आह्वान किया है। एक शीर्ष अधिकारी ने मंगलवार को यह जानकारी दी। रूस ने कोरोना वैक्सीन ‘स्पुतनिक-5’ का पहला बैच अपने नागरिकों के लिए जारी कर दिया है। इस वैक्सीन को गैमलेया नेशनल रिसर्च सेंटर ऑफ एपिडेमियोलॉजी एंड माइक्रोबायोलॉजी और रूसी डायरेक्ट इनवेस्टमेंट फंड (आरडीआईएफ) द्वारा विकसित किया गया है, जिसे 11 अगस्त को पंजीकृत किया गया था।

यह भी पढ़ें: कोरोना जैसी आपदा को अवसर में बदलने के लिए खुलेआम हो रही धोखाधड़ी

Keep Reading Show less
हाइपरसोनिक मिसाइल, भारत (RMO India, Twitter)

By: सुमित कुमार सिंह

भारत ने हाइपरसोनिक मिसाइल तकनीक का सफलतापूर्वक परीक्षण किया है, जो हवा में आवाज की गति से छह गुना तेज गति से दूरी तय करने में सक्षम है।

Keep reading... Show less