Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
देश

भारत के पास है बाल यौन शोषण और दुर्व्यवहार से निपटने के उपाय

सांसद पूनम बेन मादाम और दीयाकुमारी के फोरम के 32वें सत्र को संबोधित किया और कहा कि भारत में ऑनलाइन बाल यौन शोषण और दुर्व्यवहार से निपटने के लिए कड़े उपाय हैं।

आईपीयू की 143वीं असेम्बली बैठक में भारत की दिया कुमारी ने रखा भारत का पक्ष।(सांकेतिक चित्र, Pixabay)

अंतर-संसदीय संघ आईपीयू की 143वीं असेम्बली बैठक में बाल यौन शोषण और दुर्व्यवहार से जुड़े मुद्दे पर भारतीय महिला संसदों के दल ने हिस्सा लिया। स्पेन के मैड्रिड में आईपीयू की 143वीं असेंबली के दौरान आयोजित महिला सांसद पूनम बेन मादाम और दीयाकुमारी के फोरम के 32वें सत्र को संबोधित किया।

इस दौरान सांसद दीयाकुमारी ने कहा कि जहां सूचना और संचार प्रौद्योगिकी (आईसीटी) अवसरों के नए रास्ते खोलती है, वहीं वे बच्चों के यौन शोषण और दुर्व्यवहार सहित चुनौतियों, खतरों और हिंसा के नए रूपों को भी जन्म देती हैं। भारत में ऑनलाइन बाल यौन शोषण और दुर्व्यवहार से निपटने के लिए कड़े उपाय हैं।

सांसद दीया ने कहा कि भारत ने वर्ष 2000 में सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम बनाया था और समय-समय पर इसमें संशोधन किया है। यह अश्लील सामग्री को इलेक्ट्रॉनिक रूप में प्रकाशित करने और प्रसारित करने पर रोक लगाता है और अधिनियम के विभिन्न वर्गों में उल्लंघन के लिए दंडात्मक प्रावधान भी निर्धारित करता है। उन्होंने आईटी इंटरमीडियरीज गाइडलाइंस रूल्स, 2011 के साथ-साथ पॉक्सो एक्ट पर भी विचार व्यक्त किये। भारतीय दल ने कहा कि केवल कानूनी प्रावधान और उनका सख्ती से क्रियान्वयन ही काफी नहीं है, ऑनलाइन यौन शोषण से बच्चों को बचाने के लिए विशेष नीतियों की आवश्यकता है।

अंतर-संसदीय संघ आईपीयू की 143वीं असेम्बली में भारत का दल।(IANS)




सांसदों ने लड़कियों और लड़कों की विभिन्न जरूरतों को समझने के महत्व पर भी विस्तार से बताया। इन चुनौतीपूर्ण परिस्थितियों में युवा लड़कियों की अनूठी स्थिति के प्रति हमारा दृष्टिकोण संवेदनशील होना चाहिए। बच्चों के साथ-साथ उनके माता-पिता तथा घर और स्कूलों दोनों जगह पर जागरूकता पैदा की जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि अ²श्य दुश्मन से उनकी रक्षा के लिए नए सहयोगी ²ष्टिकोण तैयार किए जाने चाहिए।

बैठक से पूर्व भारतीय राजदूत द्वारा आयोजित शिष्टाचार भोज में भी दोनों सांसद शामिल हुईं। इस दौरान अंतर-संसदीय संघ आईपीयू की 143वीं असेम्बली बैठक के लिए स्पेन पहुंची सांसद दीयाकुमारी के साथ ही भारतीय संसदीय दल के स्वागत में भारतीय राजदूत संजय वर्मा एवं संगीता माता वर्मा के द्वारा असेम्बली बैठक से पूर्व शिष्टाचार रात्रि भोज आयोजित किया गया।

यह भी पढ़ें: दुनिया भर में हर तीन में से एक महिला ने मनोवैज्ञानिक, यौन और शारीरिक हिंसा का अनुभव किया है

भारतीय दल में सांसद दीयाकुमारी, भर्तुहरी महताब, संजय जायसवाल, पूनम बेन मादाम, विष्णु दयाल राम एवं शश्मित पात्रा भी मौजूद रहे।

गौरतलब है कि अंतर-संसदीय संघ राष्ट्रीय संसदों का एक अंतरराष्ट्रीय संगठन है। इसका मूल उद्देश्य अपने सदस्य देशों के मध्य लोकतांत्रिक शासन, जवाबदेही और सहयोग को बढ़ावा देना है। अन्य मामलों में विधायिकाओं के बीच लैंगिक समानता को आगे बढ़ाना, राजनीतिक क्षेत्र में युवाओं की भागीदारी को सशक्त बनाना और सतत विकास कार्य शामिल हैं।(आईएएनएस-SHM)

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें!

Popular

भारत में मध्य प्रदेश राज्य के रायसेन ज़िले में स्थित सांची स्तूप एक विश्वप्रसिद्ध बौद्ध स्मारक है | (Wikimedia Commons)

भारत में मध्य प्रदेश राज्य के रायसेन ज़िले में स्थित सांची स्तूप एक विश्वप्रसिद्ध बौद्ध स्मारक है | यहाँ देश विदेश से कई पर्यटक घुमने फिरने या इस स्तूप की वास्तुकला को देखने आते हैं| अगर बात करे इसके निर्माण की तो यह स्तूप का निर्माण मोर्य वंश के महान शासक सम्राट अशोक ने तीसरी शताब्दी ई.पू में कराया था | सांची के स्तूप में भगवान बुद्ध के अवशेष पाये जाते हैं | इसलिए यह जगह बहुत महान है | साथ ही सांची के स्तूप को बौद्ध अध्ययन एवं बौद्ध शिक्षा के प्रचार प्रसार के लिए केंद्र के रूप में इसका निर्माण किया गया था | साँची के स्तूप को युनेस्को द्वारा 'विश्व विरासत स्थल' का दर्जा प्राप्त है| वर्ष 1989 में इसे भारत की और से 'विश्व विरासत स्थल' सूचि में शामिल किया गया | आप को बता दे कि साँची का स्तूप भोपाल से 46 किमी. और विदिशा से लगभग 10 किमी. की दूरी पर स्थित है | सांची मध्य प्रदेश के रायसेन ज़िले में स्थित एक छोटा सा गाँव है। इस साँची स्तूप को प्रेम, शांति, विश्वास और साहस का प्रतीक भी माना जाता है। सांची स्तूप और उसके आस पास चारों तरफ बने बड़े द्वार और साथ ही उन पर की गई मूर्तिकारी नक्काशी भारत की प्राचीन वास्तुकला तथा मूर्तिकला में सर्वोत्तम स्थानों में एक है। बोद्ध धर्म में अभिलेख का प्रचलन है तथा सांची से मिलने वाले अभिलेखों में इस स्थान को 'काकनादबोट' नाम से बतया गया है।
बनावट में सांची स्तूप का व्यास 36.5 मीटर और इसकी ऊंचाई लगभग 21.64 मीटर है | वास्तव में यह सम्राट अशोक की विरासत है, सम्राट अशोक बौद्ध धर्म का पालन करने लगे थे और वो बोद्ध हो चुके थे, इसलिए सांची स्तूप को बौद्ध धर्म से जोड़कर देखा जाता है।

\u0905\u0936\u094b\u0915 \u0938\u094d\u0924\u0902\u092d साँची में स्थित अशोक स्तंभ (Wikimedia Commons)

Keep Reading Show less