Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
मनोरंजन

कंगना ने लॉन्च किया फिल्म 'धाकड़' का पोस्टर

मैंने जो कुछ भी किया है वह 'धाकड़' है। अपने घर से भागने से लेकर अब तक मैं सभी 'धाकड़' चीजें करती रहती हूं : कंगना रनौत

कंगना ने लॉन्च किया फिल्म 'धाकड़' का पोस्टर [Wikimedia Commons]

अपने तीखे अंदाज और रोमांचक किरदारों के लिए अक्सर सुर्ख़ियों में रहने वाली कंगना रनौत ने मंगलवार को एक कार्यक्रम में फिल्म 'धाकड़' के पोस्टर को व्यक्तिगत रूप से लॉन्च किया और पत्रकारों के प्रश्नों का जवाब दिया।

बॉलीवुड में अपने संघर्षों के बारे में बताते हुए कंगना ने कहा कि मुझे लगता है कि मैंने जो कुछ भी किया है वह 'धाकड़' है। अपने घर से भागने से लेकर अब तक मैं सभी 'धाकड़' चीजें करती रहती हूं। अब मैं यह 'धाकड़' फिल्म कर रही हूं और मुझे उम्मीद है कि दर्शक इसे पसंद करेंगे।


इसपर जब एक पत्रकार ने उनकी तुलना अर्नोल्ड श्वार्जऩेगर से की तो कंगना ने इसकी प्रशंसा की और उन्होंने बड़ी चतुराई से इसका जवाब भी दिया।

फिल्म धाकड़ के बारे में बताते हुए कंगना ने कहा की यह बॉलीवुड की पहली महिला केंद्रित जासूसी थ्रिलर है। वह आभारी हैं कि उन्हें अपनी फिल्मों में रोमांचक किरदार निभाने को मिले। कंगना ने कहा ,'' मैं इसे लेकर वास्तव में खुश हूं। मैं खुद को भाग्यशाली मानती हूं कि मैं एक ऐसे चरित्र को चित्रित करने में सक्षम हूं जो अच्छे एक्शन दृश्य करता है। मैं अपने निर्देशक रजनीश घई को धन्यवाद देती हूं जिन्होंने मुझ पर विश्वास किया और मुझे यह मौका दिया।'''

यह भी पढ़ें : अनुष्का ने अपनी बहादुर और साहसी दिखने का श्रेय अपनी बेटी वामिका को दिया

दरअसल फिल्म में कंगना एजेंट अग्नि की भूमिका में दिखेंगी जो बाल तस्करी और महिलाओं के शोषण के दोहरे खतरे का सामना करती है। फिल्म की ख़ास बात यह है की इसमें स्टंट एक अंतर्राष्ट्रीय टीम द्वारा डिजाइन किए गए हैं। साथ ही पुरस्कार विजेता जापानी छायाकार टेटसुओ नागाटा ने कैमरावर्क किया है जो कई हॉलीवुड एक्शन फिल्मों में काम कर चुके। (आईएएनएस )

Input: IANS; Edited By: Manisha Singh

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें!

Popular

केंद्रीय विज्ञान और प्रौद्योगिकी और पृथ्वी विज्ञान राज्यमंत्री जितेंद्र सिंह (Wikimedia commons)

केंद्रीय विज्ञान और प्रौद्योगिकी और पृथ्वी विज्ञान राज्यमंत्री जितेंद्र सिंह ने सोमवार को कहा कि नीली अर्थव्यवस्था भारत जैसे तटीय देशों के लिए सामाजिक लाभ के लिए जिम्मेदारी से समुद्र के संसाधनों का उपयोग करने का एक विशाल सामाजिक-आर्थिक अवसर है। सिंह ने कहा, "भारत की नीली अर्थव्यवस्था को राष्ट्रीय अर्थव्यवस्था के एक उपसमूह के रूप में समझा जाता है, जिसमें देश के कानूनी अधिकार क्षेत्र के भीतर समुद्री और तटवर्ती तटीय क्षेत्रों में एक संपूर्ण महासागर संसाधन प्रणाली और मानव निर्मित आर्थिक बुनियादी ढांचा शामिल है। यह उन वस्तुओं और सेवाओं के उत्पादन में सहायता करता है जिनका स्पष्ट रूप से आर्थिक विकास, पर्यावरणीय स्थिरता और राष्ट्रीय सुरक्षा के साथ संबंध हैं।"

पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय द्वारा यहां आयोजित 'आजादी का अमृत महोत्सव' सप्ताह के उद्घाटन सत्र में सिंह ने 'अनुसंधान प्रौद्योगिकी और स्टार्टअप की भूमिका' पर एक संवाद सत्र को संबोधित करते हुए कहा, "भारत के महासागर हमारे खजाने हैं और इसलिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा शुरू किया गया 'डीप ओशन मिशन' नीली अर्थव्यवस्था को समृद्ध करने के लिए विभिन्न संसाधनों का उपयोग करने के लिए एक और क्षितिज की शुरुआत करता है।"

\u0938\u092e\u0941\u0926\u094d\u0930\u0940 \u0924\u091f समुद्री तट का दृश्य(Wikimedia commons)

Keep Reading Show less

जर्मन और अमेरिकी वैज्ञानिक को सायन विज्ञान में 2021 के नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया। (IANS)

जर्मन और अमेरिकी संस्थानों के वैज्ञानिकों को एक नया उपकरण विकसित करने के लिए बुधवार को रसायन विज्ञान में 2021 के नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया, जो अणुओं के निर्माण में क्रांति लाएगा। लिस्ट और मैकमिलन ने आणविक निर्माण के लिए एक सटीक नया उपकरण विकसित किया जिसे ऑर्गेनोकैटलिसिस कहा जाता है। रॉयल स्वीडिश एकेडमी ऑफ साइंसेज ने मैक्स-प्लैंक-इंस्टीट्यूट फर कोहलेनफोर्सचुंग (मैक्स प्लैंक इंस्टीट्यूट फॉर कोल रिसर्च), जर्मनी के मुल्हेम एन डेर रुहर और प्रिंसटन यूनिवर्सिटी के ब्रिटिश मूल के डेविड डब्ल्यूसी मैकमिलन से 'असममित ऑर्गेनोकैटलिसिस के विकास' के लिए बेंजामिन लिस्ट को सम्मानित किया था।

कई शोध क्षेत्र और उद्योग रसायनज्ञों की अणुओं के निर्माण की क्षमता पर भरोसा करते हैं जो लचीला और टिकाऊ सामग्री बना सकते हैं, बैटरी में ऊर्जा स्टोर कर सकते हैं या बीमारियों की प्रगति को रोक सकते हैं। इसके काम करने के लिए एक उत्प्रेरक की आवश्यकता होती है। ये ऐसे पदार्थ हैं जो प्रतिक्रिया में भाग लिए बिना रासायनिक प्रतिक्रियाओं को नियंत्रित और तेज करते हैं।

Keep Reading Show less

भारत का रास्ट्रीय ध्वज (pixabay )

भारत देश की जनसंख्या लगभग 135 करोड़ हैं जिसमें से भारत में ग्रामीण लगभग 35 करोड़ महिलाएं हैं। जैसे ही गांवों से पुरुष नौकरी की तलाश में शहरों की ओर रुख करते हैं, तो अपने और अपने परिवार की देखभाल करने के लिए यह महिलाएं पीछे रह जाती हैं। कैसे ये महिलाएं नवीन और टिकाऊ प्रौद्योगिकियों की मदद से अपने परिवार के लिए आय उत्पन्न कर सकती हैं अब, यह सामाजिक वैज्ञानिकों की एक टीम ने एक पेपर लिखा है । सामाजिक वैज्ञानिक चोको वल्लियप्पा और डॉ निर्मलेश के संपत कुमार ने स्प्रिंगर नेचर स्विटजरलैंड एजी द्वारा 'स्मार्ट विलेज-ब्रिजिंग द ग्लोबल अर्बन-रूरल' पर 511 पन्नों के खंड में 'ग्रामीण भारतीय गांवों में मूल्य संवर्धन के लिए उपयुक्त विभाजित तकनीक' शीर्षक से एक पेपर लिखा है।

शोधकर्ताओं के अनुसार, एक बार समस्याओं की पहचान ग्रामीण समुदायों में हो जाने के बाद, उन पर नवीन विज्ञान और प्रौद्योगिकी (एसएंडटी) विधियों को लागू किया जा सकता है।अपने समुदायों के भीतर रहकर ग्रामीण महिलाओं को आय उत्पन्न करने में मदद मिलती है।
लेखकों ने बताया कि 1990 के दशक के बाद से महिला कर्मचारियों की संख्या में 10 प्रतिशत की गिरावट आई है, जिसमें आज केवल 20 प्रतिशत महिलाएं ही लाभकारी रूप से कार्यरत हैं।

\u0917\u094d\u0930\u093e\u092e\u0940\u0923 \u092e\u0939\u093f\u0932\u093e अपने समुदायों के भीतर रहकर ग्रामीण महिलाओं को आय उत्पन्न करने में मदद मिलती है।(pixabay)

Keep reading... Show less