Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×

जाने सभी आईपीएल टीमों के रिटेन खिलाड़ियों के नाम

आईपीएल मेगा नीलामी से पहले बीसीसीआई ने मंगलवार को रिटेंशन लिस्ट जारी की। इस लिस्ट की माने तो विराट कोहली, रोहित शर्मा और एमएस धोनी को मंगलवार को उनकी संबंधित फ्रेंचाइजी रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर, मुंबई इंडियंस और चेन्नई सुपर किंग्स ने बरकरार रखा।

बीसीसीआई ने जारी की रिटेंशन लिस्ट। (File photo)

आईपीएल(IPL) मेगा नीलामी से पहले बीसीसीआई(BCCI) ने मंगलवार को रिटेंशन लिस्ट(Retention List) जारी। इस लिस्ट की माने तो विराट कोहली, रोहित शर्मा और एमएस धोनी को मंगलवार को उनकी संबंधित फ्रेंचाइजी रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर, मुंबई इंडियंस और चेन्नई सुपर किंग्स ने बरकरार रखा। जबकि केएल राहुल, राशिद खान और हार्दिक पांड्या उन बड़े नामों में शामिल हैं, जिन्हें उनकी फ्रेंचाइजी ने बरकरार नहीं रखा है। ये तीन खिलाड़ी - अन्य खिलाड़ियों के साथ अब पूल में होंगे, जिसमें से दो नई आईपीएल टीमों, अहमदाबाद और लखनऊ के पास तीन-तीन (2 भारतीय, 1 विदेशी) होंगे।

वही बात विदेशी खिलाड़ियों की करे तो उनमें ग्लेन मैक्सवेल, जोस बटलर, सुनील नरेन, आंद्रे रसेल और एनरिक नॉर्टजे को बरकरार रखा गया है। मुंबई इंडियंस के लिए ऑलराउंडर कीरोन पोलार्ड को चुना है, जबकि चेन्नई सुपर किंग्स में सैम कुरेन, फाफ डु प्लेसिस और ड्वेन ब्रावो की पसंद पर मोइन अली को चुना गया।



रिटेंशन लिस्ट(Retention List) - किस टीम ने किस खिलाड़ी पर जताया है भरोसा?

सीएसके(Csk) : रवींद्र जडेजा (16 करोड़), एमएस धोनी (12 करोड़), मोईन अली (8 करोड़), रुतुराज गायकवाड़ (6 करोड़)

केकेआर(KKR) : आंद्रे रसेल (12 करोड़, 16 करोड़ पर्स से कटेंगे), वरुण चक्रवर्ती (8 करोड़, 12 करोड़ पर्स से कटेंगे), वेंकटेश अय्यर (8 करोड़), सुनील नरेन (6 करोड़)

एसआरएच(Srh) : केन विलियम्सन (14 करोड़), अब्दुल समद (4 करोड़), उमरान मलिक (4 करोड़)

एमआई(MI) : रोहित शर्मा (16 करोड़), जसप्रीत बुमराह (12 करोड़), सूर्यकुमार यादव (8 करोड़), कीरोन पोलार्ड (6 करोड़)

आरसीबी(RCB) : विराट कोहली (15 करोड़), ग्लेन मैक्सवेल (11 करोड़), मोहम्मद सिराज (7 करोड़)

डीसी(DC) : ऋषभ पंत (16 करोड़), अक्षर पटेल (9 करोड़, 12 करोड़ पर्स से कटेंगे), पृथ्वी शॉ (7.5 करोड़, 8 करोड़ पर्स से कटेंगे), एनरिक नॉर्टजे (6.5 करोड़)

आरआर(RR) : संजू सैमसन (14 करोड़), जोस बटलर (10 करोड़), यशस्वी जायसवाल (4 करोड़)

यह भी पढ़े - किसान आंदोलन के कारण हुआ है करोड़ों का घाटा!

पीबीकेएस(PBKS) : मयंक अग्रवाल (12 करोड़, 14 करोड़ पर्स से कटेंगे), अर्शदीप सिंह (4 करोड़)

input : आईएएनएस ; Edited by Lakshya Gupta

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें/

Popular

आईपीयू की 143वीं असेम्बली बैठक में भारत की दिया कुमारी ने रखा भारत का पक्ष।(सांकेतिक चित्र, Pixabay)

अंतर-संसदीय संघ आईपीयू की 143वीं असेम्बली बैठक में बाल यौन शोषण और दुर्व्यवहार से जुड़े मुद्दे पर भारतीय महिला संसदों के दल ने हिस्सा लिया। स्पेन के मैड्रिड में आईपीयू की 143वीं असेंबली के दौरान आयोजित महिला सांसद पूनम बेन मादाम और दीयाकुमारी के फोरम के 32वें सत्र को संबोधित किया।

इस दौरान सांसद दीयाकुमारी ने कहा कि जहां सूचना और संचार प्रौद्योगिकी (आईसीटी) अवसरों के नए रास्ते खोलती है, वहीं वे बच्चों के यौन शोषण और दुर्व्यवहार सहित चुनौतियों, खतरों और हिंसा के नए रूपों को भी जन्म देती हैं। भारत में ऑनलाइन बाल यौन शोषण और दुर्व्यवहार से निपटने के लिए कड़े उपाय हैं।

सांसद दीया ने कहा कि भारत ने वर्ष 2000 में सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम बनाया था और समय-समय पर इसमें संशोधन किया है। यह अश्लील सामग्री को इलेक्ट्रॉनिक रूप में प्रकाशित करने और प्रसारित करने पर रोक लगाता है और अधिनियम के विभिन्न वर्गों में उल्लंघन के लिए दंडात्मक प्रावधान भी निर्धारित करता है। उन्होंने आईटी इंटरमीडियरीज गाइडलाइंस रूल्स, 2011 के साथ-साथ पॉक्सो एक्ट पर भी विचार व्यक्त किये। भारतीय दल ने कहा कि केवल कानूनी प्रावधान और उनका सख्ती से क्रियान्वयन ही काफी नहीं है, ऑनलाइन यौन शोषण से बच्चों को बचाने के लिए विशेष नीतियों की आवश्यकता है।

अंतर-संसदीय संघ आईपीयू की 143वीं असेम्बली में भारत का दल।(IANS)

Keep Reading Show less

फ्रांस के पादरीयों का काला कारनामा आया सामने!

अपनी तथाकथित आधुनिकता के कारण भारत की गरीब जनता का धर्मांतरण कराने वाले पादरीयों की सच्चाई आज सामने आ गई है। जिसकी शुरुआत फ्रांस से हुई है। फ्रांस में कैथोलिक चर्च में जांच के लिए एक स्वतंत्र आयोग गठित किया गया था, अब आप लोगों के मन में यह प्रश्न यह उठ रहा होगा ,किस चीज की जांच के लिए और क्यों यह आयोग बना? दरअसल फ्रांस में बर्नार्ड प्रीनैट नाम का एक पादरी हुआ करता था जिसने कई बच्चियों के साथ यौन शोषण किया ,जब यह खबर फैल गई तो इन्हीं के जैसे कई और पादरीयों को पकड़ने के लिए एक स्वतंत्र आयोग की मांग उठने लगी। जिसके बाद एक स्वतंत्र आयोग जांच के लिए बना। जिसकी रिपोर्ट 5 अक्टूबर 2021 को आई। यह रिपोर्ट 2500 पन्नों की है जो यह बताती है, उन सफेद वस्त्र पहनने वालों का चरित्र कितना मैला है। इस रिपोर्ट से यह पता चला है कि साल 1950 के बाद से लेकर 2020 तक चर्च के भीतर पादरि, अधिकारी व अन्य लोगों ने मिलकर लगभग चार लाख बच्चों का यौन शोषण किया है।

जांच करने वाले आयोग ने एक बयान में कहा है, "इतने सारे जीवन बर्बाद होते देख हम शर्मिंदा और नाराज हैं हम जानते हैं कि पीड़ितों से माफी की आशा भी करने में अभी एक लंबा समय लगेगा"। इस रिपोर्ट पर पोप फ्रांसिस ने कहा है कि वह यह जानकर बहुत आहत हैं और पीड़ितों के प्रति दुख का भाव है साथ ही उन्होंने पीड़ितों की हिम्मत की सराहना भी की है। पोप फ्रांसिस के बयान से साफ समझ आ रहा है कि वह इस घटना से पल्ला झाड़ना चाहते हैं! इसके अलावा एक प्रश्न और,यह सब जो घटनाएं होती रही क्या उसके बारे में जरा सी भी भनक पोप फ्रांसिस को नहीं हुई होगी? फिर तो यह वही बात हो गई कि रेनकोट पहनकर बाथरूम में नहाना।

Keep Reading Show less