Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
मनोरंजन

कंगना ने लॉन्च किया फिल्म 'धाकड़' का पोस्टर

मैंने जो कुछ भी किया है वह 'धाकड़' है। अपने घर से भागने से लेकर अब तक मैं सभी 'धाकड़' चीजें करती रहती हूं : कंगना रनौत

कंगना ने लॉन्च किया फिल्म 'धाकड़' का पोस्टर [Wikimedia Commons]

अपने तीखे अंदाज और रोमांचक किरदारों के लिए अक्सर सुर्ख़ियों में रहने वाली कंगना रनौत ने मंगलवार को एक कार्यक्रम में फिल्म 'धाकड़' के पोस्टर को व्यक्तिगत रूप से लॉन्च किया और पत्रकारों के प्रश्नों का जवाब दिया।

बॉलीवुड में अपने संघर्षों के बारे में बताते हुए कंगना ने कहा कि मुझे लगता है कि मैंने जो कुछ भी किया है वह 'धाकड़' है। अपने घर से भागने से लेकर अब तक मैं सभी 'धाकड़' चीजें करती रहती हूं। अब मैं यह 'धाकड़' फिल्म कर रही हूं और मुझे उम्मीद है कि दर्शक इसे पसंद करेंगे।


इसपर जब एक पत्रकार ने उनकी तुलना अर्नोल्ड श्वार्जऩेगर से की तो कंगना ने इसकी प्रशंसा की और उन्होंने बड़ी चतुराई से इसका जवाब भी दिया।

फिल्म धाकड़ के बारे में बताते हुए कंगना ने कहा की यह बॉलीवुड की पहली महिला केंद्रित जासूसी थ्रिलर है। वह आभारी हैं कि उन्हें अपनी फिल्मों में रोमांचक किरदार निभाने को मिले। कंगना ने कहा ,'' मैं इसे लेकर वास्तव में खुश हूं। मैं खुद को भाग्यशाली मानती हूं कि मैं एक ऐसे चरित्र को चित्रित करने में सक्षम हूं जो अच्छे एक्शन दृश्य करता है। मैं अपने निर्देशक रजनीश घई को धन्यवाद देती हूं जिन्होंने मुझ पर विश्वास किया और मुझे यह मौका दिया।'''

यह भी पढ़ें : अनुष्का ने अपनी बहादुर और साहसी दिखने का श्रेय अपनी बेटी वामिका को दिया

दरअसल फिल्म में कंगना एजेंट अग्नि की भूमिका में दिखेंगी जो बाल तस्करी और महिलाओं के शोषण के दोहरे खतरे का सामना करती है। फिल्म की ख़ास बात यह है की इसमें स्टंट एक अंतर्राष्ट्रीय टीम द्वारा डिजाइन किए गए हैं। साथ ही पुरस्कार विजेता जापानी छायाकार टेटसुओ नागाटा ने कैमरावर्क किया है जो कई हॉलीवुड एक्शन फिल्मों में काम कर चुके। (आईएएनएस )

Input: IANS; Edited By: Manisha Singh

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें!

Popular

हिंदुत्व की रक्षा भी है जरूरी। (wikimedia commons)

भारत एक ऐसा देश है जिसने अनेक धर्मों , संस्कृतियां और विचारों को अपने अंदर समेट रखा है। सभी की आस्थाओं को साथ लेकर चलने वाला अपना ये देश आज कहीं न कहीं अपने मूल धर्म हिंदुत्व को भूलता जा रहा है। प्रत्येक धर्म को समान अधिकार प्रदान करते करते अपने स्वदेशी हिन्दुओं को उनके मूल अधिकारों से वंचित कर दिया है। हमारा भारतीय संविधान बहुसंख्यक हिन्दुओं को उन अधिकारों से वंचित करता है जो अल्पसंख्यक गैर -हिन्दुओं को दिए हैं।

हालाँकि हिन्दुओं के पास पूर्ण राजनितिक अधिकार हैं परन्तु अल्पसंख्यकों की तुलना में उन्हें राज्य के हस्तक्षेप के बिना अपने शिक्षण संस्थान चलाने की स्वतंत्रता नहीं है। राज्य सरकारें अधिक से अधिक हिंदू मंदिरों और उनकी संपत्तियों का राष्ट्रीयकरण करती रही हैं जबकि मस्जिदों और चर्चों को उनके धर्मों पर छोड़ दिया जाता है। इसका उदाहरण हाल ही में उत्तराखंड सरकार द्वारा 50 से अधिक चारधाम मंदिरों का राष्ट्रीयकरण है।यह अनुमान है कि 1,00,000 से अधिक हिंदू मंदिरों के साथ-साथ उनकी लाखों एकड़ भूमि, उनकी लाखों करोड़ की चल संपत्ति और हजारों करोड़ की वार्षिक आय का राज्य सरकारों द्वारा राष्ट्रीयकरण किया गया है।

Keep Reading Show less

 विश्व हिंदू परिषद (वीएचपी) ने सोशल मीडिया पर एक वीडियो सर्कुलेट किया है, जिसमें ‘अयोध्या में राम मंदिर के लिए संघर्ष’ को दिखाया गया है। ‘श्री राम जन्मभूमि विजय गाथा’ शीर्षक वाला 13 मिनट का वीडियो अयोध्या में राम मंदिर के लिए संघर्ष की शुरुआत 1528 से शुरू होता है जब मंदिर को कथित रूप से मुगल शासक बाबर द्वारा गिरा दिया गया था, इसमें 1992 में बाबरी मस्जिद के विध्वंस को भी दिखाया गया है और राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद विवाद मामले में सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद 2020 में मंदिर के लिए निर्माण को भी दर्शाया गया है।

वीएचपी के प्रवक्ता विनोद बंसल ने कहा, “वृत्तचित्र का निर्माण अभिनेता और निर्देशक चंद्र प्रकाश द्विवेदी द्वारा किया गया है। लेकिन उन्होंने वृत्तचित्र की क्रेडिट में अपना नाम नहीं दिया है। उन्होंने इसे भगवान राम की सेवा के रूप में बनाया है।”

Keep Reading Show less

माघ मेले के 5 क्षेत्रों में अपने शिविर लगा रहे संतों ने अपने भक्तों की संख्या को सीमित कर दिया है। कोविड के लिए सुरक्षा प्रोटोकॉल का पालन करने में जिला प्रशासन की मदद करने और सोशल डिस्टेंसिंग सुनिश्चित करने के लिए यह कदम उठाया गया है। स्वामी विनायक बाबा ने कहा, “मैंने केवल 200 अनुयायियों को शिविर में रहने की अनुमति दी है। साथ ही सोशल डिस्टेंसिंग का सख्ती से पालन सुनिश्चित करने के लिए कहा है। जबकि पहले शिविर में करीब 2,000 अनुयायी रहते थे। हमने सैनिटाइटर और मास्क के लिए एक विशेष काउंटर भी बनाया है। एक टीम भी बनाई है जो यहां आने वाले श्रद्धालुओं और तीर्थर्यात्रियों की थर्मल स्कैनर से स्क्रीनिंग करेगा और यह सुनिश्चित करेगा कि वे मास्क पहनें और सैनिटाइटर का उपयोग करें।”

अधिकांश आश्रमों ने अपने परिसर के अंदर तीर्थयात्रियों की आवाजाही की निगरानी के लिए सीसीटीवी नेटवर्क लगाया है।

Keep reading... Show less