Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
राजनीति

कुछ राजनितिक पार्टियां और संगठन आंबेडकर के लिए "गलत सम्मान" दिखाते हैं- मायावती

बसपा सुप्रीमो मायावती ने सोमवार को एक कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए अन्य राजनितिक पार्टियों पर दलितों के लिए "गलत सम्मान" दिखने का आरोप लगाया है।

मायावती (Wikimedia Commons)

5 राज्यों के चुनाव जैसे-जैसे पास आ रहे हैं वैसे-वैसे राजनितिक दल चुनाव जीतने के लिए अपनी-अपनी रणनीति बना रहे हैं। सोमवार को नंबर बसपा(Bahujan Samaaj Party) अध्यक्ष मायावती का था जिन्होंने दलितों का मुद्दा उठाकर अपना पारम्परिक वोटबैंक साधने की कोशिश की।

देश के संविधान के निर्माता बाबासाहेब अंबेडकर(Bhimrao Ambedkar) की 65वीं पुण्यतिथि पर पत्रकारों से बात करते हुए उन्होंने दो अन्य राज्यों में विधानसभा चुनावों के लिए अपनी पार्टी की योजनाओं को भी साझा किया।


उन्होंने कहा, "उत्तराखंड में, बसपा अपने दम पर और पंजाब में शिरोमणि अकाली दल के साथ गठबंधन में सभी सीटों पर चुनाव लड़ेगी," उन्होंने विश्वास जताया कि उनकी पार्टी उत्तराखंड में बेहतर प्रदर्शन करेगी और पंजाब में एक मजबूत गठबंधन सरकार बनाएगी।

बीआर अंबेडकर को श्रद्धांजलि देते हुए उन्होंने कहा कि उन्होंने कई कठिनाइयों का सामना किया, लेकिन अपना पूरा जीवन दलित और वंचित वर्गों को अपने पैरों पर खड़ा करने के लिए समर्पित कर दिया।

उन्होंने आरोप लगाया कि देश में ऐसी कई संकीर्ण और जातिवादी मानसिकता वाली पार्टियां और संगठन हैं जिन्होंने हमेशा अंबेडकर के लिए "गलत सम्मान"(False Respect) दिखाते हुए मानवीय दृष्टिकोण का विरोध किया है। उत्तर प्रदेश की पूर्व मुख्यमंत्री ने भाजपा और अन्य दलों पर दलितों को संविधान में निहित उनके कानूनी अधिकारों का पूरा लाभ नहीं देने का आरोप लगाया।

mayawati, bahujan samaaj party, votebank politics मायावती की पार्टी 2014 के लोकसभा चुनाव के बाद देश के अन्य चुनावों में अब तक ज़्यादा अच्छा प्रदर्शन नहीं किया है फिर भी मायावती आगामी पांच राज्यों के चुनावों में अच्छा प्रदर्शन करने दम भर रही हैं। (Wikimedia Commons)

मायावती ने बिना नाम लिए हुए भीम आर्मी के प्रमुख व आजाद समाज पार्टी के मुखिया चन्द्रशेखर(Chandrashekhar) पर हमला बोला और कहा कि सड़कों पर उतरने से नहीं सत्ता परिवर्तन से संविधान बचेगा। उन्होने कहा कि संविधान के अनुसार सरकारें नहीं चलने का एकमात्र उपाय उन्हें सत्ता से बाहर कर देना है। तभी आप संविधान के अनुसार काम कर सकते हैं। सड़कों पर आने से काम नहीं चलेगा, सत्ता बदलने से काम नहीं चलेगा। सत्ता परिवर्तन होगा तो संविधान की रक्षा होगी। बाबासाहेब अंबेडकर के विरोधी लोग सत्ता में हैं तो हम क्या कर लेंगे।

उन्होंने अखिलेश यादव के नेतृत्व वाली समाजवादी पार्टी पर भी हमला बोलते हुए कहा, "लोग जानते हैं कि उनके शासनकाल में गुंडागर्दी और माफिया चरम पर थे।"
उन्होंने सत्तारूढ़ भाजपा पर निशाना साधते हुए कहा कि पार्टी के दावों के विपरीत, राज्य में कमजोर वर्गों के खिलाफ हर रोज अत्याचार की खबरें आती हैं।
उन्होंने कहा कि बाबासाहेब अम्बेडकर ने "इन वर्गों को कानूनी अधिकार दिए, लेकिन केंद्र और राज्य सरकारों की जातिवादी मानसिकता के कारण, उन्हें इन अधिकारों का पूरा लाभ नहीं मिल सका"।

उन्होंने कहा, "बसपा का मुख्य लक्ष्य अंबेडकर के समतामूलक समाज के विचार और स्वाभिमान के अभियान को आगे बढ़ाना है और इसे कम करके नहीं आंका जाना चाहिए। यह कारवां न रुकने वाला है और न झुकने वाला है।"

यह भी पढ़ें- अलर्ट पर अयोध्या!

उन्होंने कहा कि कुछ संगठन अपने स्वार्थ के लिए आंबेडकर के आंदोलन को कमजोर करने में लगे हैं, खासकर दलितों, आदिवासियों, पिछड़े वर्गों और अन्य हाशिए के वर्गों के वोटों को विभाजित करके, उन्होंने कहा।

Input-IANS ; Edited By- Saksham Nagar

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें

Popular

एजाज पटेल ने झटके 10 विकेट (Twitter)

भारत-न्यूजीलैंड(Ind vs nz) के बीच दूसरा टेस्ट मैच मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम(Wankhede Stadium) में खेला जा रहा है। लेकिन मुंबई में जन्मे एक भारतवंशी कीवी खिलाड़ी एजाज पटेल(Ajaz Patel) ने मुकाबले के दूसरे दिन पूरी भारतीय टीम को अकेले दम पर वापस पवेलियन भेज दिया। अब टेस्ट क्रिकेट(Test Cricket) के इतिहास में एजाज पटेल तीसरे ऐसे खिलाड़ी बन गए हैं जिन्होंने 22 साल बाद एक पारी में 10 विकेट झटके हैं। उनके अलावा इंग्लैंड के खिलाड़ी जिम लेकर और भारत के दिग्गज गेंदबाज अनिल कुंबले ने ये कारनामा कर दिखाया था।

एजाज(Ejaz Patel) पहले ऐसे गेंदबाज हैं जिन्होंने विदेशी जमीन पर 10/119 के अपने आंकड़ों के साथ, पटेल इंग्लैंड के जिम लेकर (1956) और भारत के अनिल कुंबले(Anil Kumble) (1999) के बाद तीसरे ऐसे खिलाड़ी बन गए हैं जिन्होंने विरोधी टीम को अकेले ही आउट कर दिया। लेकर ने 26 जुलाई, 1956 को ओल्ड ट्रैफर्ड में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 10/53 का, जबकि कुंबले ने 4 फरवरी, 1999 को नई दिल्ली के फिरोजशाह कोटला मैदान में पाकिस्तान के खिलाफ 10/74 का रिकॉर्ड दर्ज किया था।

Keep Reading Show less

कड़ी मेहनत और द्राढ़ता से खिलाड़ियों को फॉर्म में वापस आने में मदद मिलती है- कोहली (file photo)


भारतीय कप्तान विराट कोहली(Virat Kohli) ने गुरुवार को वर्चुअल प्रेस कॉन्फ्रेंस(press conference) करी। इस प्रेस कॉन्फ्रेंस के दौरान कोहली ने कहा है कि न्यूजीलैंड के खिलाफ शुक्रवार से यहां वानखेड़े स्टेडियम(Wankhede Stadium) में शुरू हो रहे दूसरे टेस्ट के लिए टीम में बदलाव के बारे में कड़ा फैसला लेना बहुत मुश्किल नहीं होगा। वह खिलाड़ी और टीम की आवश्यकताओं के बारे में अच्छे से जानते हैं, जो मैच में निर्णय लेने में एक बड़ी भूमिका निभाएंगे।

विराट कोहली(Virat Kohli) ने कहा, "आपको स्पष्ट रूप से उस स्थिति को समझना होगा जहां टीम को रखा गया है। आपको यह समझना होगा कि खिलाड़ी कहां खड़ा है, आपको परिस्थितियों को समझना होगा और आपको अच्छी तरह से संवाद करना होगा। टीम में विश्वास करना मुश्किल नहीं है। टीम के खिलाड़ियों को एक-दूसरे पर भरोसा है और वे समझते हैं कि टीम की स्थिति और जरूरत के हिसाब से फैसला लिया जाएगा।"

Keep Reading Show less

बीसीसीआई ने जारी की रिटेंशन लिस्ट। (File photo)

आईपीएल(IPL) मेगा नीलामी से पहले बीसीसीआई(BCCI) ने मंगलवार को रिटेंशन लिस्ट(Retention List) जारी। इस लिस्ट की माने तो विराट कोहली, रोहित शर्मा और एमएस धोनी को मंगलवार को उनकी संबंधित फ्रेंचाइजी रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर, मुंबई इंडियंस और चेन्नई सुपर किंग्स ने बरकरार रखा। जबकि केएल राहुल, राशिद खान और हार्दिक पांड्या उन बड़े नामों में शामिल हैं, जिन्हें उनकी फ्रेंचाइजी ने बरकरार नहीं रखा है। ये तीन खिलाड़ी - अन्य खिलाड़ियों के साथ अब पूल में होंगे, जिसमें से दो नई आईपीएल टीमों, अहमदाबाद और लखनऊ के पास तीन-तीन (2 भारतीय, 1 विदेशी) होंगे।

वही बात विदेशी खिलाड़ियों की करे तो उनमें ग्लेन मैक्सवेल, जोस बटलर, सुनील नरेन, आंद्रे रसेल और एनरिक नॉर्टजे को बरकरार रखा गया है। मुंबई इंडियंस के लिए ऑलराउंडर कीरोन पोलार्ड को चुना है, जबकि चेन्नई सुपर किंग्स में सैम कुरेन, फाफ डु प्लेसिस और ड्वेन ब्रावो की पसंद पर मोइन अली को चुना गया।

Keep reading... Show less